Powered by Blogger.

ताऊ की कार मक्खियों के दहेज में

कल IPL का मैच देखने जाना था तो कई महीनों से धूल फांकती कार की सुध ली। स्टेडियम जाते समय कार में चार पांच मक्खियां को आपस मे बात करते सुना। शायद ये एक आदर्श मक्खियों का परिवार होगा।  पहली वाली अपने मोबाइल को दोनों हाथों में दबाए की बोर्ड को जोरों से दबाए जा रही थी तो दूसरी इयरफोन कान में लगाये झूमे जा रही थी जैसे उसमे माताजी आगई हों।
तीसरी वाली ने पहली से कहा - अरे बहुत देर से देख रही हूं तू फोन छोड़ ही नही रही है, ला अब मुझे देदे, बस बहुत होगया, मेरा ब्वायफ्रेंड चैट के लिए कबसे फ्री के हॉटस्पॉट पर इंतजार करता होगा। और उसने झट से अपना फोन उसके हाथ से खींच लिया और अपने वाले को चैट पर लेने लगी। शायद नेट कनेक्शन कमजोर रहा होगा तो उसने फोन लगा कर बोला - जानू ये तुमने जो फोन दिया है ना इसमें नेट ढंग से नही चलता। मुझे ना... तुम वो 4G वाला फोन दिला दो।

 
 उधर इसका ब्वायफ्रेंड जो कि एक दुबला पतला कॉकरोच था उसकी आवाज आई - तुमको नए फोन की सूझ रही है और यहां धंधा पानी मन्दा चल रहा है ऊपर से सरकार का सफाई अभियान चल रहा है, जान बचाने के लाले पड़े हुए हैं, कहीं कुछ खाने छिपने को सीलन भरी वातानुकूलित जगह नही मिल रही है।
इस पर मक्खी छोरी भड़क गई और बोली - जा आज से अपनी दोस्ती खत्म... तू अपनी देखभाल नही कर सकता तो मेरी क्या करेगा? तेरे से अच्छी तो मैं हूँ जो ताऊ की कार में जगह बनाली। ताऊ ना कभी बाहर से कार पर कपड़ा मारता है और ना अंदर से। बस एकदम 5 स्टार में रह रहे हैं आराम से।

चौथी मक्खी जो शायद पहली व दूसरी की अम्मा रही होगी वो धीरे से बोली - अरी ओ नाशपीटी, जरा धीरे बोल,  कहीं ताऊ ने सुन लिया तो कार सर्विस पर डाल देगा और रोओगी अपनी किस्मत को।
पहली मक्खी बोली - अरी अम्मा, तू भी बहुत भोली है, ताऊ ने पैदा होने से लेकर आज तक अपनी प्रोफाइल फोटो तो बदली नही वो क्या खाक कार की सर्विस करवाएगा?

तभी उस मक्खी छोरी का ब्वायफ्रेंड कॉकरोच भी वहां आ पहुंचा। वो बेचारा शायद दोस्ती टूटने की गीदड़ भभकी की वजह से डरकर सर पे टांगे लटकाए चला आया होगा। उसको आते ही मक्खी अम्मा ने एक बून्द पानी पिलाया और बोली -  देखो बेटा, हमारे पास भगवान का दिया सब कुछ है, ये 5 स्टार घर है जिसमे गर्मी के लिये ये बीच का हिस्सा है और सर्दी के लिये आगे का हीटर वाला इंजन रूम है।  अब तो तुम दोनों शादी कर ही लो। रहने की फिक्र मत करो। ताऊ की कार की डिक्की में तुम दोनों अपना घर बसा लेना और इसे हमारी तरफ से दहेज समझ लेना। मक्खी छोरी और कॉकरोच दोनों प्रसन्न मुद्रा में डिक्की का मुआयना करने चले गए।

0 comments:

Post a Comment