प्याज का अथाह भँडार और ध्यान कुटिया मेँ इलाज्

बाबाश्री ताऊ महाराज ने अनेकोँ दिनोँ के मौन व्रत के बाद आज साँध्य सत्सँग मेँ  भक्तोँ का दुख दर्द दूर करने हेतु दुकान लगा रखी थी. जिनके दुख दर्द ज्यादा पुराने थे उन भक्तोँ को अमावस की रात ध्यान कुटिया मेँ आकर इलाज करवाने का आदेश दिया. जिनके छोटे मोटे दुख थे उनको हाथोँहाथ वहीँ ठीक कर दिया.



सभी भक्तोँ ने बाबाश्री ताऊ महाराज की जय बोलते हुये अपने अपने दुखडे सुनाये. एक भक्त ने महँगाई का रोना रोया जिसमे भी प्याज के आँसु ज्यादा थे  और बस बाबाश्री ने तुरँत ही ध्यान मग्न होते हुये कुछ देर बाद घोषणा कर डाली कि सतीश सक्सेना के आफिस से 30 फुट साढे चार इँच दक्षिण और 22 फुट 9 इँच 2 सूत पश्चिम दिशा मेँ प्याज का अथाह भँडार है. उस जगह खुदाई करने पर इतना बडा प्याज का भँडार मिलेगा कि समस्त भारत के लोग बरसोँ तक प्याज ही प्याज खाते रहेँ तो भी कमी नही होगी.

बाबाश्री ताऊ महाराज के भक्तोँ कि खुशी का आरपार ना रहा, सभी सोचने लगे की अब तो जी भर कर प्याज खा सकेँगे.

जनता ने बाबाश्री ताऊ महाराज की जय बोलते हुये कीर्तन शुरु कर दिया और उधर बाबा के सेवादारोँ ने अमावस को ध्यान कुटिया मेँ इलाज करवाने की व्यवस्था शुरु कर दी.

Comments

  1. वाह बाबश्री ताऊ महाराज के दोनों हाथों में लड्डू
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete
  2. परिणाम के इन्तजार तक अंधविश्वास कैसे कहे …कौन जाने प्याज निकल ही जाए :)

    ReplyDelete
  3. बाबाश्री ताउ महाराज की जय हो, तो आप मौन व्रत धारण किये थे इतने दिन ? मै समझ रही थी
    आप एक हजार टन सोने की खुदाई का अभियान जहाँ पर चल रहा है वहां चाय,समोसे की दुकान खुलवाने के चक्कर में गए होंगे, वैसे आपके सभी प्रोडक्ट अच्छे दामों में बिकने के चान्सेस है वहां ताऊ जी, सोच लीजिये :)

    ReplyDelete
  4. @ सतीश सक्सेना के आफिस से 30 फुट साढे चार इँच दक्षिण और 22 फुट 9 इँच 2 सूत पश्चिम दिशा मेँ प्याज का अथाह भँडार है. उस जगह खुदाइ करने पर इतना बडा प्याज का भँडार मिलेगा कि समस्त भारत के लोग बरसोँ तक प्याज ही प्याज खाते रहे तो भी कमी नही होगी.
    अब देखिये मिडिया,पुलिस जनता कैसे उमड़ पड़ती है प्याज देखने यहाँ भी प्याज खुदाई अभियान
    चलेगा सबसे पहले सतीश जी पहुँचते ही होंगे उनके नजदीक जो है !

    ReplyDelete
  5. ताऊ आज यह आधी-अधूरी सी पोस्‍ट क्‍यों है?

    ReplyDelete
  6. बहुत बड़ी चिंता दूर कर दी बाबाजी .... :)

    ReplyDelete
  7. धन्य हो ताऊ महाराज !!
    राम राम !!

    ReplyDelete
  8. हमारी नज़र तो बाबा के खजाने पर है महाराज , प्याज कहाँ मुकाबला कर पायेगा !
    जय हो !!

    ReplyDelete
  9. हा हा ... ओर बाबा ताऊ महाराज को वर्तमान सरकार ने अपना चुनावी संगठन का कर्ट धर्ता बना दिया ... जय हो प्याज बाबा की ...

    ReplyDelete
  10. हम तो यही सोच रहे हैं कि ताऊ महाराज अचानक मौनी बाबा क्यों बन गए !

    ReplyDelete
  11. वाह! ताऊ महाराज ने भी ध्यान से जान लिया कि देश का सारा प्याज कहाँ छुपा है ..
    सतीश जी के ऑफिस के आसपास खुदाई शुरू हो गयी होगी.

    अब तक प्यारेलाल रिपोर्टिंग के लिए पहुँच गया होगा,

    ReplyDelete
  12. खेत में इतनी खुदाई करके प्याज ही बो देना था।

    ReplyDelete
  13. मौन व्रत टूटने से एक आनंद की लहर दौड़ पड़ी है.. आशा है कि इस लहर को और उफान मिलेगा..

    ReplyDelete
  14. दुखियों का दुःख दूर करने के लिए ....शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  16. हा हा हा हा....आहा ..ताउजी ,साथ में सतीश जी के ऑफिस का पता भी लिखना चाहिए था न...

    ReplyDelete
  17. मुझे लगता है, अब बाबाश्री ताऊ महाराज के आदेशानुसार खुदाई में प्‍याजों के अलावा, प्‍याज का एक बरगदनुमा पेड़ भी मि‍लेगा जि‍सपर इतने लगेंगे कि‍ कृषीमंत्री पूरी दुनि‍या में एक्‍पोर्ट भी कर पाएंगे और जमाखोरों के गोदाम भी भर जाया करेंगे. ये पेड़ कभी मरेगा भी नहीं

    ReplyDelete
  18. बिलकुल सही ताऊ जी... अभी कुछ दिन यही समां बंधा था देश में ....

    ReplyDelete
  19. वाह ! ताऊ महाराज !!
    जनता की नब्ज पहचानते है आप गुरुदेव !
    इसलिए सोने की जगह प्याज के खजाने मिलने की घोषणा की :)

    ReplyDelete
  20. क्या बात गुरु आज तो गागर में सागर भर दिनो!

    उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले में डौंडिया खेड़ा गाँव के एक खंडहरनुमा किले में सोने की खोज में जुटी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) की टीम को आठ दिन की खुदाई के बाद कुछ लोहे की कीलें, चूड़ियों के टुकड़े और मिट्टी के चूल्हे मिले हैं.

    ReplyDelete
  21. :):) बढ़िया व्यंग्य ..... अब टीके तो खुदाई बंद हो गयी होगी .... प्याज़ भी मिट्टी बन गयी होगी ।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। आभार आपकी टिप्पणियों का।

    ReplyDelete
  23. प्याज़ का क्या कहें, कुछ बाबाओं ने तो देश की जड़ें खोदने में राजनेताओं को भी मात दे रहे हैं।

    ReplyDelete
  24. आज कल तो बाबाओं से डर ही लगता है ....:))

    ReplyDelete

Post a Comment