Powered by Blogger.

"दो और दो पांच" में दबंग हीरो डा. अरविंद मिश्र

रामप्यारी ने आजकल ताऊ टीवी का काम संभालना शुरू कर दिया है. उसी की पहल पर ब्लाग सेलेब्रीटीज से "दो और दो पांच" खेलने का यह प्रोग्राम शुरू किया गया है. दो और दो पांच में, ब्लॉग सेलिब्रिटीज  से निवेदन है कि वे सवाल के जवाब कुछ चटपटे रखें ताकि ब्लोगर साथियों का मनोरंजन भी हो , इस प्रोग्राम का मकसद  सिर्फ़  हंसना हंसाना सीखना है. प्रतिभागियों  द्वारा दिये गये जवाबों का  गंभीर या वास्तविक  अर्थ निकालने की कोशिश न करे और हलके फुल्के मजाक का आनंद लें !   इस एपिसोड में  रामप्यारे का  "हां या ना " कालम जोडा गया है सिर्फ़   मनोरंजन के लिये, 
ब्लाग सेलेब्रीटीज को रूबरू पकडना बहुत ही मुश्किल होता है, नेट पर तो जब चाहे तब पकड लिजीये.....पर रामप्यारी भी कोई कम नही है.  रामप्यारी ने सबसे पहले 2 + 2 = 5 का खेल शुरू किया  सतीश सक्सेना के साथ, इसके बाद सवाल जवाब किये हरकीरत ’हीर’ ,  काजल कुमार  और संगीता स्वरूप  (गीत)  के  साथ.   और आज तो रामप्यारी के चक्कर में चढ गये अरविंद मिश्र......बस तो फ़िर क्या था....हो गया गेम शुरू..  फ़िलहाल आप  बिना ब्रेक  देखिये अटपटे सवालों के चटपटे जवाब... सीधे...ताऊ और रामप्यारी की अरविंद मिश्र से  दो और दो पांच.....


ताऊ और रामप्यारी के साथ "दो और दो पांच खेलते" डा. अरविंद मिश्र 
 (कैमरामैन - रामप्यारे)



सवाल ताऊ के जवाब  डा. अरविंद मिश्र  के यानि 2 + 2 = 5

ताऊ : आपसे सबसे ज्यादा दुखी कौन है?
जवाब : खुद मैं अपने से ही, दूसरा कोई क्यों होगा?

ताऊ. आप आखिरी बार कब रोये थे?
जवाब : आपको इतना भी नही पता कि मैं  होली पर फ़ूट फ़ूट कर मन ही मन रोया था,   जब आपने  मुझसे डांस करवाया था.

ताऊ : कल रात को आपने कौन सी सब्जी खायी थी?
जवाब : करेमुआ का साग विथ मक्खन मार के, आपने भी तो खाया था कि नही?

ताऊ : आपकी किस आदत से आपकी पत्नि ज्यादा परेशान है?
जवाब : ब्लागिंग और रोज न नहाने से, जैसे आपसे ताई रहती है कि नही?

ताऊ. : कौन सा ट्रेफ़िक रुल आप सबसे ज्यादा तोडते हैं?
जवाब : वन वे इंट्री, जैसे आप तोडते हैं.

ताऊ. : अगले जन्म मे आप क्या बनना चाहेंगे?
जवाब : एक ब्लागरा

ताऊ : इसकी कोई खास वजह?
जवाब : ये तो तुम खुद भी जानते हो ताऊ.

ताऊ : एक चुटकला सुनाइये.
जवाब : ब्रेकिंग न्यूज :घाघरा (एक नदी, एक पहनावा ) खतरे के निशान से ऊपर.

ताऊ : अढाई और पोने चार कितने होते हैं?
जवाब : गणित बेहद कमजोर है ताऊ....वैसे इन्हें मिलाकर ताऊ का लठ्ठ बन सकता है जो ताई के पास रहता है.

ताऊ : धर्मपत्नि से आखिरी बार डांट कब खायी थी?
जवाब : पहली बार का याद है बस, बाकी का हिसाब नही रखा.

ताऊ : कौन से कलर के जूते फ़ोकट मे भी नही पहनना चाहेंगे?
जवाब : इतना भी नही पता आपको? वही लाल कलर जिसे देखकर सांड चमकता है.

ताऊ : लिपस्टिक का कौन सा कलर आपको आकर्षित करता है?
जवाब : जो वे लगाती हैं .... अब 'वे' के बारे में मत पूछियेगा.

ताऊ : फ़िर भी मालूम तो पडे कि ये ’वे’ कौन हैं?
जवाब : क्यों, आपका इरादा क्या मेरा घर तुडवाने का है?

ताऊ : खुद अपने आप की एक खराब आदत कौन सी है?
जवाब : कोई भी एक अच्छी हो तो  एक खराब  बताऊँ.

ताऊ : अपने मुंह मियामिठ्ठू बनिये
जवाब : यानि तोता बन जाऊं?

ताऊ : हर्ज क्या है?
जवाब : जाईये पहले मुझे  एक तोती लाकर दिजीये.

ताऊ : .ऐसा ब्लागर जिससे आपको जलन होती हो और क्यों?
जवाब : अनूप शुक्ला क्योंकि उन्होंने बार बार मेरी बनती बिगाड़ी है,  मगर  अब नहीं होती क्योंकि अब उनकी खुद की  गाडी बिगड़ी हुयी है.

ताऊ : ऐसा गाना, जिसका हीरो आप अपने आपको समझने लगते हों?
जवाब : ये सवाल पूछा है मेरे मन का ताऊ, बस ... तेरे मेरे मिलन की ये रैना

ताऊ : ऐसा एक शब्द जिससे आप चिढ जाओ?
जवाब : गुरु

ताऊ : गुरू घंटाल क्यों नहीं?
जवाब : क्योंकि घंटा बजने लगता है.

ताऊ : पसंदीदा अभिनेत्री?
जवाब : यूं तो अनेकों हैं  मगर ब्लॉग जगत की एक.... उनके आगे सब पानी भरती हैं...सब फीकी

ताऊ : नाम भी बता देते उनका?
जवाब : क्यों...? मेरी शांति से आपको कोई तकलीफ़ है?

ताऊ : पसंदीदा ब्लागर?
जवाब : ताऊ रामपुरिया.

ताऊ : क्यों...दूसरा कोई क्यों नहीं?
जवाब : वनमानुष की शक्ल में भी उसमें कुछ खास बात है...

ताऊ : फ़ेवरिट गायक
जवाब : आपकी प्रिय समीरा टेढी यानि   समीर लाल -जिन्हें हर जन्म में बस एक बार सुना जा सकता है इस जन्म को धन्य कर चुका हूँ :-)

ताऊ : पसंदीदा लेखक
जवाब : डेज्मांड मोरिस

ताऊ : ब्लागर ताऊ की इमेज आपके दिमाग में क्या है?
जवाब : एक जवान वनमानुष की

ताऊ - ब्लागर्स के लिये कोई मेसेज देना चाहेंगे?
जवाब - क्यों नही?   सब मिल जुल ब्लागिंग को हराभरा रखें!  क्या मरघटों जैसी खामोशी लिये हुए हैं -कुछ तो ताऊ से सीखिए.

ताऊ : तो धन्यवाद मिश्र जी ..अब फ़टाफ़ट राऊंड के लिये तैयार हो जाईये. रामप्यारी तैयार है अपने सवाल दागने के लिये..... ठीक है?

अरविंद मिश्र  : ठीक है ताऊ . मैं तैयार हूं.

अब रामप्यारी का फ़टाफ़ट राऊंड शुरु होता है. 

रामप्यारी : हां तो अरविंद  अंकल...आप तैयार हैं फ़टाफ़ट खेलने के लिये?
अरविंद मिश्र - रामप्यारी तैयार नही भी हूं,  तो तुम कौनसा मुझको बख्शने वाली हो? चलो खेल शुरू करो.

रामप्यारी का फ़टाफ़ट राऊंड अरविंद मिश्र के साथ

रामप्यारी :  बताईये कि आपको क्या पसंद है? - जीन्स वाली या साडी वाली?
जवाब : जीन्स वाली

रामप्यारी : पर जीन्स वाली ही क्यों?
जवाब : क्योंकि कपडे धोने का खर्च कम आता है

रामप्यारी - हिल स्टेशन या समुद्र तट?
जवाब : समुद्र तट

रामप्यारी : हिल स्टेशन क्यों नहीं?
जवाब : समुद्र के खारे पानी में नहाने का आनंद अलग ही है जो हिल स्टेशन के ठंडे झरनों में नही, क्योंकि मुझे ठंडे पानी से नहाने में यों भी मजा नही आता.

रामप्यारी - ट्रेन का सफ़र, बस का सफ़र या हवाईजहाज का?
जवाब : ट्रेन का सफ़र

रामप्यारी - पुस्तक पढना या फ़िल्म देखना?
जवाब : पुस्तक पढना

रामप्यारी - सलमान खान या आमिर खान?
जवाब : दोनों नहीं

रामप्यारी : फ़िर कौन सा हीरो पसंद है?
जवाब : रामप्यारी इतना भी नही जानती कि जब मैं ही खुद हीरो हूं तो दूसरों को क्यॊं पसंद करूंगा?

रामप्यारी : वाह अंकल, आप कब से हीरो बन गये? कौन सी फ़िल्म आ रही है?
जवाब : रामप्यारी...तू ताऊ टीवी का फ़िल्म स्पेशल नही देखती क्या? मेरी आने वाली फ़िल्म "" रामप्यारी प्रोडक्शन" की है जिसका नाम है "दिल के अरमाँ आसमाँ में उड गये"...DABANG - 2013


रामप्यारी : अंकल....फ़िर तो आपकी पसंद की हीरोईन भी  कैटरीना कैफ़ या करीना कपूर ना होकर  सोनाक्षी ही होगी?
जवाब : नही मेरी पसंदीदा अभिनेत्री है  कैटरीना कैफ़

रामप्यारी - कारों में हैचबैक या सेडोन?
जवाब : दोनों के बारे में पता नहीं यह काम मेरे ड्राईवर का है.

रामप्यारी - मेक अप वाली या बिना मेक अप वाली
जवाब : बिना मेक अप वाली

रामप्यारी - मिरिंडा, पेप्सी या रूहफ़्जा?
जवाब : मिरिंडा

रामप्यारी - गांव या शहर
जवाब : गांव

रामप्यारी - लैंड लाईन या मोबाईल
जवाब : मोबाईल

रामप्यारी - स्प्लिट एसी या विंडो एसी
जवाब : स्प्लिट एसी

रामप्यारी - लेप टोप या डेस्कटोप
जवाब : डेस्कटोप

रामप्यारी - ब्लेक एंड व्हाईट फ़ोटो या कलर फ़ोटो
जवाब : कभी कलर कभी ब्लेक एंड व्हाईट

रामप्यारी - ज्वाईंट फ़मिली या न्युक्लियर्फ़ेमिली?
जवाब : ज्वाईंट फ़मिली

रामप्यारी - कांच की चूडियां या मेटल की?
जवाब : मेटल की ताकि मौके बेमौके टूट न जायं

रामप्यारी - शिफ़ोन की साडी या काटन की?
जवाब : काटन की.

रामप्यारी - चश्मा या कांटेक्ट लैंस?
जवाब : कांटेक्ट बना रहना चाहिये.

रामप्यारी - नौकरी या बिजनैस?
जवाब : दोनों नहीं

रामप्यारी - प्यार शादी के पहले या बाद?
जवाब : दोनों में क्या बुराई है? अपनी अपनी जगह दोनों चलते रहें.

रामप्यारी - ताऊ की बकबक या रामप्यारी की चकचक?
जवाब : दोनों ही चकाचक

रामप्यारी - धन्यवाद अरविंद अंकल, अब हां या ना राऊंड के लिये आपको रामप्यारे के हवाले कर रही हूं.
जवाब - चलो...जब इतना झेल लिया तो अब रामप्यारे ही क्य़ूं पीछे रहे...? चल आजा रामप्यारे...तू भी शुरू हो जा......

हां या ना राऊंड विद रामप्यारे

रामप्यारे - नमस्कार....डाक्टर मिश्र जी...
अरविंद मिश्र - अरे यार रामप्यारे....तू तो गधा होकर भी बडी तमीज से नमस्कार कर रहा है? क्या बात है सब खैरियत तो है?

रामप्यारे - क्या बताऊं मिश्र जी...आजकल मेरा ब्लाग बंद पडा है इसलिये यहां ताऊ टीवी में नौकरी बजानी पड रही है....अच्छा तो अब हां या ना राऊंड के सवाल शुरू करता हूं....सिर्फ़ हां या ना...
अरविंद मिश्र - ठीक है भाई...बोल

रामप्यारे  -  क्या आप की पत्नी आज भी आप को लल्लू और पप्पू बुलाती है?
अरविंद मिश्र -  लल्लू और पप्पू काहे बुलायेगी? हमरा नाम नही है क्या?

रामप्यारे - मिश्रजी मैने सफ़ाई नही मांगी... जवाब में सिर्फ़ हां या ना.... तो फ़िर वो जरूर ए जी कहकर बुलाती होंगी?
अरविंद मिश्र - हां

सवाल- बॉस के घर सुबह दूध पहुँचाना बंद कर दिया?
अरविंद मिश्र - हम काहे पहुंचायेंगे? उनका दूधवाला देता होगा....

रामप्यारे - मिश्र जी सिर्फ़ हां या ना....
अरविंद मिश्र - ना

रामप्यारे - मतलब पहले पहुंचाते रहे होंगे?
अरविंद मिश्र - ना

रामप्यारे -  पडोसी की पत्नी आज भी खुबसूरत दिखती है आप को?
अरविंद मिश्र - खूबसूरत होगी तब ना खूबसूरत दिखेगी...

रामप्यारे - मिश्र जी ये हां या ना राऊंड है....
अरविंद मिश्र - ना

रामप्यारे - इसका मतलब पहले खूबसूरत दिखती रही होगी?
अरविंद मिश्र - अरे तेरे को बोला ना ...ना...ना....ना...और कितनी बार बोलूं?

रामप्यारे  - शादी से पहले किसी से प्रेम किया था या नही?
जवाब - ना

रामप्यारे - तो फ़िर शादी के बाद किया होगा?
अरविंद मिश्र - चल कर भी लिया तो क्या नाम पूछेगा अब?

रामप्यारे - सिर्फ़ - हां या ना.
अरविंद मिश्र - हां पत्नि से...

रामप्यारे - प्रेम भी किया तो पत्नि से? पहले कोई मिली नही या इच्छा ही नही हुई?
अरविंद मिश्र - रामप्यारे, तू निरा गधा ही है, ये तेरा हां या ना राऊंड है तो इस सवाल का जवाब कैसे दूं?

रामप्यारे - अच्छा छोडिये, यह बताईये कि  पिताजी आज भी छड़ी से ही पीटते है
अरविंद मिश्र - काहे?

रामप्यारे - मिश्र जी, सिर्फ़ हां या ना.
अरविंद मिश्र - ना.

रामप्यारे - इसका मतलब पहले पीटते होंगे?
अरविंद मिश्र - तेरा दिमाग खराब है क्या रामप्यारे? ये क्या सवाल पूछ रहा है?

रामप्यारे - मिश्रजी, मैने पूछा, पहले पीटते थे? हां या ना?
अरविंद मिश्र - ना

रामप्यारे -  दिमाग के डाक्टर से इलाज बंद करा दिया
अरविंद मिश्र - हमरा क्या दिमागवा खराब समझे हो तुम? हम काहे उससे इलाज करवायेंगे?

रामप्यारे - सिर्फ़ हां या ना?
अरविंद मिश्र - ये  तुम प्रभु चावला बन गये हो क्या? तुम उल्टा सीधा सवाल पूछ रहे हो? हां कहूं तो इसका मतलब मैं पागल हूं और इलाज करवा रहा हूं, यदि ना कहुं तो इसका मतलब पहले पागलपन का इलाज करवा रहा था.....बुडबक कहीं का....

रामप्यारे - मिश्रजी, आप तो  नाराज होने लगे, बताईये  हां या ना?
अरविंद मिश्र - मैं ताऊ से कहकर तुझे नौकरी से निकलवा दूंगा गधे कहीं के....जा नही देना इसका जवाब मुझे.


रामप्यारे -  अच्छा मिश्र जी, एक  आखिरी सवाल.... क्या आप के पास दिमाग नहीं है?
अरविंद मिश्र - तेरी ऐसी की तैसी रामप्यारे की....दोनों ही जवाबों में जो तेरी मर्जी हो वही सिद्ध करवाना चाहता है तू? बडा प्रभु चावला बन रहा है....जा भाग मुझे नही देना जवाब.....

अरविंद मिश्र सोचने लगे... हे भगवान ये रामप्यारे गधा तो कहीं से कहीं नही लगता? जरूर  नकली गधा ही होगा.....इसीलिये गधा सम्मेलन भी सफ़लता पूर्वक करवा लेता है.....

तो दोस्तों यह थी ताऊ,  रामप्यारी और रामप्यारे  के साथ  डा. अरविंद मिश्र  की दो और दो पांच....अगली बार  हम किसी और ब्लाग सेलेब्रीटी के साथ खेलेंगे दो और दो पांच....तब तक मस्त रहिये.

52 comments:

  1. ब्रेकिंग न्यूज :घाघरा (एक नदी, एक पहनावा ) खतरे के निशान से ऊपर...

    ब्रेकिंग न्यूज़ : डॉ अरविंद मिश्र पर मुकदमा दर्ज़...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शायद बाढ का खतरा अभी टला नही है.:)

      रामराम.

      Delete
    2. सही में, ब्रेकिंग न्यूज तो वाह वाह

      Delete
    3. बाढ़ का खतरा बना ही हुआ है कोई उपाय बताया जाय! :-)

      Delete
  2. वाह जी वाह, और अरविन्द जी ने चुटकिला तो बहुतैइ धाँसू सुनाया !

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. हूँ बोले तो अमृता जी ?

      Delete
  4. मजा आ गया ताऊ ! अरविन्द जी जैसे लोगों से रोज पाला पड़नें लगा तो आप और आपकी रामप्यारी ,रामप्यारे सभी सवाल पूछने से पहले सौ बार सोचेंगे क्योंकि आज अरविन्द जी नें सबको चित कर दिया ! इसके लिए अरविन्द जी को भी बधाई जिन्होनें पहली बार नहले पर दहला मार ही दिया !

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग अभिनेत्री --- हा हा हा हा हा !अब तो हमें भी उत्सुकता होने लगी है. राजसी विचार भी आने लगे हैं. :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. राजसी विचारों को खुलकर अभिव्यक्त किजीये ना.:)

      रामराम.

      Delete
    2. पहले उत्सुकता का निवारण कीजिये। :)

      Delete
    3. आपकी उत्सुकता का निवारण मिश्र जी या सतीश जी ही कर सकते हैं.:)

      रामराम.

      Delete
    4. यह खुलासा अगर कोई कर सकता है तो वह है ताऊ -टरकाओ मत ताऊ !

      Delete
  6. क्या बात है ? मिश्र जी ने ने रामप्यारी के सवालों के ज़वाब बड़ी शराफत से दिए हैं ! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मिश्र जी हैं ही शरीफ़ इंसान.

      रामराम.

      Delete
  7. Bahut majedar. kya baat, kya andaz, bahut khoob...

    ReplyDelete
  8. राम प्यारे ने हिला दिया भाई को , इंटरव्यू की जगह लगता है पुरानी दुश्मनी का हिसाब चुकता कर रहा हो..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश जी आप तो रामप्यारे की असलियत जानते ही हैं, मिश्र जी ने कौन सी कमी छोड दी रामप्यारे के साथ?:)

      रामराम.

      Delete
  9. बहुत बढ़िया आनन्द आ गया......
    दबंग का पोस्टर भी अच्छा ...

    ReplyDelete
  10. बड़ा जबरदस्त फेवर किया गया है अरविन्द मिश्र को ..

    -डॉ अरविन्द मिश्र को रामप्यारे से भी इंटरव्यू करवाया
    -पुलिस इन्स्पेक्टर की बढ़िया वर्दी पहनाई
    -रामप्यारे के जवाब भी हाँ और न में नहीं छापे गए

    देख लूंगा ताऊ तुझे भी ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश जी आप संघर्ष करो, आप खुद अपने साथ हैं...

      जय हिंद...

      Delete
    2. मुझे लग रहा है ताऊ डॉ पर जाल डाल रहा है, और अरविन्द पटाये में जल्दी आते हैं !

      Delete
    3. हा हा हा......ये सब रामप्यारे का किया धरा है.:)

      रामराम.

      Delete
    4. रामप्यारी से शराफ़त -- रामप्यारे आफ़त !

      Delete
    5. सतीश (बड़े ) भाई!
      भाई जलते जलाते क्यों है -आपका हक़ हकूक तो सुरक्षित है -खुदा कसम उधर तो नज़र भी नहीं उठाई !
      मेरा तो मेरे पास महफूज रहे !

      Delete
  11. क्या बात है आनन्द आ गया... ताऊ

    ReplyDelete
  12. ब्लॉग जगत में अरविन्द मिश्र जी का बिनधास्त लिखने का
    अपना एक अंदाज है वही दिख रहा है उनके जवाब देने में भी, :)
    मजेदार लगे सभी जवाब !

    ReplyDelete
  13. मज़ेदार रहा दो और दो पाँच का यह एपिसोड .
    आखिर में ...:):))...रामप्यारे के सवाल -जवाब ने आखिरकार अरविन्द जी को मात दे ही दी!
    ब्लॉगजगत में मशहूर हैं कि डॉ.अरविन्द जी का दिमाग चाचा चौधरी से तेज़ चलता है वो रामप्यारे का राज़ जानकार ही दम लेंगे कि वो कौन है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने तो एक पुरानी याद दिल दी -अब वो मलाल छोडिये न :-)

      Delete
  14. कितनी शराफत से जवाब दिए हैं सभी ... आनंद आ गया ...

    ReplyDelete
  15. शुभकामनायें-
    बढ़िया

    ReplyDelete
  16. ताऊ जी आपने अरविन्द मिश्र जी जैसे सीधे सरल मानुष को सवाल कर फंसा लिया क्या बात है

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ और अरविन्द दोनों टक्कर के हैं रमाकांत जी ..

      Delete
  17. दो और दो पाँच प्रोग्राम काफी पसंद आया
    मजेदार और मनोरंजक
    आभार ताऊ आपका !

    ReplyDelete
  18. रामप्यारे - सिर्फ़ हां या ना?
    अरविंद मिश्र - ये तुम प्रभु चावला बन गये हो क्या? तुम उल्टा सीधा सवाल पूछ रहे हो? हां कहूं तो इसका मतलब मैं पागल हूं और इलाज करवा रहा हूं, यदि ना कहुं तो इसका मतलब पहले पागलपन का इलाज करवा रहा था.....बुडबक कहीं का....

    बहुत खूब ताऊ सा अरविन्द डा (दा )अरे ये दा हिंदी वाला है बोले तो भाई /भाईसाहब /भैयन ऊ पी वाला

    ReplyDelete
  19. मालूम था ऐसे ही जवाब आने है !

    ReplyDelete
  20. तनिक इत्मीनान से आते हैं तब बताते है रामप्यारे को .....सतीश जी बड़े भाई हैं तब मुझसे रकाबत रखते हैं :-(

    ReplyDelete
    Replies
    1. यहाँ मामला जलन का है भाई, जो आपके मामले में स्वाभाविक है...
      :)

      Delete
  21. बहुत बढ़िया आनन्द आ गया...

    ReplyDelete
  22. करेमुआ को खड़ी बोली में क्या कहते हैं?

    ReplyDelete
    Replies
    1. मालूम नहीं अनुराग जी मगर करेमुआ पर्याप्त है !

      Delete
  23. थक जाने के बाद आपके ब्लॉग से अच्छा और कुछ नहीं होता जहाँ आनंद ही आनंद हो

    ReplyDelete
  24. आपकी इस प्रस्तुति को शुभारंभ : हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 1 अगस्त से 5 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete