Powered by Blogger.

कौन कहता है कि भेजे में विचार नही आते?

ताऊ टीवी फ़ोडके चैनल के भक्ति और सांस्कृतिक कार्यक्रम में मैं रामप्यारे आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. प्रिय दर्शकों, आज के भंक्ति कार्यक्रम में हम आपको बाबाश्री ताऊ  रासलीला मंडल दवारा आयोजित कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखायेंगे



ब्लाग सत्संग में किरपा बांटने जाते हुये महान सांसारिक बाबाओं के बाबा राज बाबा व ताऊ बाबा

.इस कार्यक्रम में    महान सांसारिक बाबा श्री ताऊ महाराज का प्रवचन होगा और इस कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे जर्मनी वाले बाबाओं के बाबा श्री राज महाराज. उसके बाद बाबा भक्तों द्वारा रासलीला का मंचन किया जायेगा.  .


अब बाबाश्री ताऊ महाराज आप पर किरपा बरसाने वाले वचन कहेंगे, आईये बाबाश्री....

ब्लाग भक्तों को प्रवचन व किरपा बांटते हुये ताऊ बाबाश्री महाराज

प्रिय भक्त जनों, हमें मालूम है कि आप इन दिनों बडी मुश्किल में फ़ंसे हैं. भक्त जनों मुश्किलों से डरना नही चाहिये. मुश्किलें इंसान को या तो तोड देती हैं या जोड देती हैं. भक्त जनों आपसे निवेदन है कि इस ब्लाग संक्रमण काल में आप एक दूसरे से जुडे रहें, टूटे नही. जल्द ही सुनहरा युग आने वाला है.

ब्लाग भक्त जनों आप यह समझ लें कि आने वाले  कल  का दिन  हमेशा ही एक नया दिन लेकर आता है. इसलिये परेशान ना हों, नये दिन का स्वागत उत्साह से करने के लिये तैयार रहें.

आप लोग नाहक ही फ़ेसबुक से डर रहे हैं, मेरा निवेदन है कि उससे डरने के बजाये उसे जान लें तो आपका डर स्वत: ही  निकल जायेगा. फ़ेसबुक कभी भी ब्लागिंग का स्थानापन्न नही हो सकती. जैसे भोजन में विभिन्न स्वाद वाले व्यंजन होते हैं इसी तरह ये भी अभिव्यक्ति के विभिन्न माध्यम हैं अत:  निर्र्थक डर मन से निकाल दें एवम बाबाश्री के वचनों पर विश्वास करके अपने काम में लगे रहें.

आप लोग जबरन ही एक दूसरे पर दोषारोपण करते रहते हैं, यह अच्छी बात नही है. जिसकी भी गलती हो उसे तुरंत माफ़ी मांग लेनी चाहिये. जितनी देर करेंगे, माफ़ी मांगना उतना ही कठिन हो जायेगा.

ब्लाग भक्त जनों, सत्कार्य में दान देने से कभी धन घटता नही है इसलिये बाबाश्री के दानकोष में मुक्त हस्त से दान देवें और अन्य ब्लाग भक्तों को नियमित रूप से और खुले दिल से टिप्पणी दान करते रहें. इन दोनों कार्यों को आप करते रहे तो बाबाश्री की किरपा से  आपका इहलोक व परलोक सुधर जायेगा.

कुछ भक्त जन टिप्पणी देने में बहुत कंजूसी करते हैं. कुछ तो आई हुई टिप्पणी के बदले में भी टिप्पणी दान नही करते. यह अति निंदनीय और घोर पाप की श्रेणी में आता है. जैसे शादी विवाह में व्यवहार लौटाया जाता है उसी अनुरूप यह कार्य भी करते रहने से स्वर्गिक आनंद की प्राप्ति होती है.

भक्त जनों, नियमित पोस्ट लेखन क्रिया चालू रहनी चाहिये. कई ब्लाग भक्त कहते हैं कि कई बार उनके पास विचारों का टोटा हो जाता है, यह सब आलस्य की निशानी है. भक्त जनों.....अब आखिर में सभी भक्त जन  बाबा वंदना करेंगे. उसके बाद आज का भक्ति प्रवचन कार्यक्रम यहीं समाप्त करेंगे. सब मेरे साथ गाईये....

कौन कहता है कि भेजे में विचार नही आते
जरा की बोर्ड  उठा कर, तो देखो यारो

बाबाओं को दान करने से बडा पुण्य होता है
जरा जेब खाली करके,  तो देखो यारो

दूसरों का फ़ालूदा बनाना बडा आसां है
कभी खुद का भी तमाशा बनाके,  तो देखो यारो

दूसरों को दगा देने में आनंद बडा आता है
कभी खुद भी धोखा खाकर,  तो देखो यारो

पडोसी का  चांद बडा प्यारा लगता है
कभी घर के  चांद  को भी,  तो देखो यारो

दूसरों की टिप्पणियों से जलते क्यों हों
बिना चाहत के टिप्पणी करके,  तो देखो यारों

अब आप काफ़ी बोर हो चुके होंगे अत: अब आपके लिये रासलीला का आयोजन किया गया है. आज की रासलीला  में डा. दरालमिस समीरा टेढी एवम सतीश सक्सेना की रास लीला  का आनंद लीजीये जो बाबा  भक्ति में डूबकर रासलीला करेंगे.


बाबाश्री  रासलीला मंडल

बाबाश्री रासलीला मंडल के परम भक्त डा. दराल, मिस समीरा टेढी एवन सतीश सक्सेना 


विशेष निवेदन:-

1.मुक्त हस्त से दान पेटिका में दान का रूपया डाल कर अपना जन्म सफ़ल कीजिये.

2. सभी कष्टों से  शर्तिया छुटकारा दिलाया जाता है.

3. बाबाश्री से मुलाकात का  अग्रिम समय तय कर लें, अग्रिम समय लिये बिना मुलाकत नही हो सकेगी.

4. फ़ीस अग्रिम रूप से जमा करायें.

5. बाबाश्री आपके शहर में कौन कौन सी तारीखों को रहेंगे, इसकी संपूर्ण जानकारी के लिये  हमारी वेब साईट पर लागिन    करें.

32 comments:

  1. ha-ha-ha क्षमा ताऊ क्योंकि अपना हस्त मुक्त नहीं है, बीबी का थामा हुआ है :)

    ReplyDelete
  2. वैसे अपने ये भाटिया साहब तो ब्लॉग छोड़कर जर्मनी में ही राम गए, पता नहीं कहाँ गायब है? बहुत समय से ब्लोग जगत पर नहीं दिखे ! अभी कल ही इन्हें याद कर हंस रहा था जब इनके ब्लॉग की वो पुराणी पोस्ट पढ़ रहा था जिसमे इन्होने कहा था कि महिलायें पुरुषों की बराबरी नहीं कर सकती।

    ReplyDelete
  3. बाबा श्री ताऊ महाराज हमारा तो इहलोक और परलोक सुधरने की की गारंटी तो आपनें ले ही ली है !!

    ReplyDelete
  4. बाबाश्री की फीस कितनी है , यह तो बताया नहीं।
    रासलीला के डांस में दबंगी का अहसास है।

    ReplyDelete
  5. @ प्रिय भक्त जनों, हमें मालूम है कि आप इन दिनों बडी मुश्किल में फ़ंसे हैं. भक्त जनों मुश्किलों से डरना नही चाहिये. मुश्किलें इंसान को या तो तोड देती हैं या जोड देती हैं. भक्त जनों आपसे निवेदन है कि इस ब्लाग संक्रमण काल में आप एक दूसरे से जुडे रहें, टूटे नही. जल्द ही सुनहरा युग आने वाला है.
    क्या सच में ? काफी आशावादी लगते है बाबा :)

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया मजेदार पोस्ट , खासकर मुझे बाबा जी की वंदना अच्छी लगी
    पडोसी का चांद बडा प्यारा लगता है
    कभी घर के चांद को भी, तो देखो यारो
    मस्त है ...:)

    ReplyDelete
  7. सही बात है, लोग फ़ेसबुक से ख़ाम्‍ख्‍वाह यू डरे बैठे हैं जैसे कि‍सी पकौड़ी वाले की दुकान के बगल में दूसरा पकौड़ी वाला आ बैठा हो :-)

    ReplyDelete
  8. रासलीला के डांस मजेदार मजेदार पोस्ट....मस्त है ताऊ

    ReplyDelete
  9. जय ताऊ बाबाश्री महाराज की!

    ReplyDelete
  10. बाबाओं को दान करने से बडा पुण्य होता है
    जरा जेब खाली करके, तो देखो यारो


    जिन्दाबाद बाबा श्री...जय हो!!

    ReplyDelete
  11. ताऊ महाराज की जय हो :)

    ReplyDelete
  12. tau bahut jugadu hai, bheedh jutane ke liye duniya ki behtareen 'Cheer Girls' ka intzam kiya hai...

    Jai Hind...

    ReplyDelete
  13. ऐसे ही किरपा बटती रहे ताऊ बाबा :-)

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  15. ताऊ कुछ पाने के लिए कुछ खर्चना भी पड़ता है , मोटा दान चाहिए तो अपना आश्रम जरा पञ्च सितारा बनाइये , उसमे जिम स्पा के साथ योगा आदि की व्यवस्था कीजिये, रहने के लिए हर सुविधा युक्त कमरे बनवाइए और ये गरीब भारतीयों से उनकी जमींन हड़प उन्हें छोडिये, जब ठुमके लगाने के लिए भी विदेशियों को चुना है तो दान के लिए भी विदेशियों एन आर आइयो को पकडिये , सोचो तो बड़ा सोचो ताऊ ।

    ReplyDelete
  16. कौन कहता है कि भेजे में विचार नही आते,
    खूब आते हैं मगर भेजे से बाहर नहीं आते। :)

    ReplyDelete
  17. वाह ताऊ मजा आ गया पढ़ कर , आज पूरा दिन अच्छे से हस भी नही पाया था, लेकिन रासलीला पढ़कर खूब हँसा, दिल बहुत हल्का हो गया , आपका बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  18. कभी खुद का तमाशा बना कर देखो ....
    ताऊ के भेजे में विचार ही विचार हैं , दो चार विचार शेयर कर दिए , जिसको लेना है ले ले !
    बढ़िया है !

    ReplyDelete
  19. वाह बाबाजी वाह। टिप्‍पणी तो हम वैसे भी दान करते ही रहे हैं। आगे भी करते रहेंगे।

    ReplyDelete
  20. बाबा बड़े गहरे शेर लिख दिए। बेमिसाल ...विशेष निवेदन भी कम खतरनाक नहीं है। निर्मल बाबा तो त्राहि माम कर रहे होंगे ....उनका क्या होगा अब ताउजी ? समीरजी से कितनी मेहनत करा दी इस रोल के लिए ...डा दाराल सलमान खान और सतीश भाई रजनीकांत। आप तो ताउजी जो करा दें वो कम है ......हाहा . सादर

    ReplyDelete
  21. :) टिप्पणी करें बिना आशा के?वो भी ब्लोगजगत में..!नेक ख्याल है.
    निर्मूल'बाबा के पद्चिन्हों पर चल रहे हैं लगता है ताऊ बाबा.

    ReplyDelete
  22. :)))
    एक लंबी छुट्टी के बाद आना हुआ हमारा ताऊ जी..! अब आने के बाद दूसरे काम मुँह खोले खड़े हैं...
    आपकी पोस्ट्स को सही में मिस किया...~आज बहुत समय बाद फिर से मुस्कुराहट आई....

    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  23. ताऊ बाबा और राज बाबा को कोटि-कोटि प्रणाम
    बाबा मैं पहले ब्लॉग पढता था तो मेरी इच्छा थी कि मेरा भी एक ब्लॉग हो। लेकिन मुझे पता भी नहीं था कि ब्लॉग क्या होता है, कैसे बनता है।
    बाबा आज आपकी कृपा से मेरे 4-4 ब्लॉग हैं।

    बाबा मुझपर और मेरे ब्लॉग परिवार पर ऐसे ही कृपा और अपना हाथ बनाये रखना।
    बाबा की जय हो

    ReplyDelete
  24. वाह बाबाजी वाह, बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,अभार।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,अभार।....

    ReplyDelete
  26. सदा की तरह ताऊ-नामा बड़ा काम का
    जो अपनाएगा वो न रहेगा कभी बे-नाम का ....
    ताऊ(भाई जी) स्वस्थ रहे यूँ ही खुशियाँ बांटते रहे!

    ReplyDelete
  27. सार्थक ज्ञान देती पोस्ट :):)

    ReplyDelete
  28. सच है, कीबोर्ड पर हाथ धरते ही शब्द झरझराने लगते हैं।

    ReplyDelete
  29. दूसरों का फालूदा बनाना बडा आसां है
    कभी खुद का भी तमाशा बनाके, तो देखो यारो,

    औरों से छिनने में मजा आता है
    कभी अपना भी कुछ गंवा के तो देखों !

    लाजवाब , मजा आ गया, आपको बधाई !

    ReplyDelete
  30. दूसरों का फालूदा बनाना बडा आसां है
    कभी खुद का भी तमाशा बनाके, तो देखो यारो,

    औरों से छिनने में मजा आता है
    कभी अपना भी कुछ गंवा के तो देखों !

    लाजवाब , मजा आ गया, आपको बधाई !

    ReplyDelete