Powered by Blogger.

बीमार पडना नेमत है जी भर के बीमार पडिये !

सौ नेमतों की एक नेमत है बीमार पडना. अब ताऊ को कहीं ना जाना हो तो तुरंत बीमार पड जाता है. पिछले सालों में कितने ही ब्लागर सम्मेलनों के न्योते आये, कईयों ने तो सम्मान तक देना पहले से ही आफ़र कर दिया था कि ताऊ बस आप तो चले आवो, आपको सदी का महानतम सम्मान  "उल्टी खोपडी टेढी अक्ल" सम्मान से नवाज देंगे.

ताऊ का  बीमार पडने का फ़ार्मुला बडा अचूक है जो उसके हर जगह काम आता है. ताऊ किसी उलटे सीधे धंधे यानि चोरी डकैती बेईमानी, जालसाजी में पकडाते ही बीमार पड जाता है और हवालात की बजाये सीधे उसे हास्पीटल में भर्ती करवाना पडता है. पुलिस भी बेचारी क्या करे? उसे ताऊ के माल की वजह से  ताऊ सचमुच का बीमार नजर आता है और तरस खाकर उसे लाक अप में ना डालते हुये सीधे किसी अस्पताल के एयरकंडीशंड वार्ड में दाखिल करवाना पडता है.

नेता गिरी में भी ताऊ के यही हाल है. जहां ताऊ को लगता है कि इस सम्मेलन में  किसी के पक्ष में खडा होना ही पडेगा तो तुरंत ताऊ को हार्ट अटेक आ जाता है और तुरंत हास्पीटल में भर्ती का बहाना...पार्टी गई तेल लेने.  अभी गोवा सम्मेलन में तो ताऊ के इस फ़ार्मुले को कईयों ने आजमाया. यानि बीमार पडना नेमत है जी भर के बीमार पडिये और मजे में रहिये.

ताऊ ने सीधे कभी भी,  किसी को भी आने से  मना नही किया पर ऐन वक्त पर बीमार जरूर  पड गया. ताऊ के पास बीमार पड जाने वाला हथियार जो है. मजाल है जो कभी  यह हथियार कहीं भी फ़ेल हुआ हो?  अब सामने वाला भी क्या करे? बीमार को बुलवा कर अपना फ़ंक्शन कौन  खराब करवाये?

पर एक  किस्सा इसका अपवाद जरूर है जब ताऊ  के बीमार पडने  का फ़ार्मुला काम नहीं आया. हुआ यूं था कि  अभी दो साल पहले समीर लाल जी के छोटे बेटे आशु  की दिल्ली में शादी थी. समीर लाल जी ने निमंत्रण पत्र तो काफ़ी पहले ही भिजवा दिया था. एक महिने पहले ही फ़ोन करके भी याद दिलाया कि ताऊ शादी में आना है. ताऊ ने अपनी आदत मुताबिक कहा कि आप बेफ़िक्र रहिये मैं पहुंच जाऊंगा. ताऊ के पास तो बीमार पडने वाला अचूक फ़ार्मुला है सो किसी को मना कभी नही करता.

उसी फ़ोन पर समीर जी ने ताऊ से इसी मसले पर राय मांगी कि यार ताऊ मैने एक सम्मेलन में जाने की हां भर दी है और  मुझे वहां जाना नहीं है, वो लोग मानेंगे भी नही, क्या करूं?  ताऊ  बोला -  इसमे इतना चिंतित होने की क्या बात है?  जिस दिन सम्मेलन है उस दिन सुबह आयोजकों को फ़ोन कर दीजिये कि साहब मेरी बडी इच्छा थी आप लोगों से सम्मेलन में भेंट  करने की. पर क्या करूं  मुझे  आज सुबह सुबह ही ये कमबख्त   लूज मोशन हो गये हैं, ये जबलपुरिया पानी आजकल कुछ ठीक नही लग रहा है.  मैं क्षमा चाहता हूं और सम्मेलन की सफ़लता की शुभकामनाएं देता हूं.

ताऊ के मुंह से ये नायाब फ़ुल प्रूफ़  फ़ार्मुला सुनते ही समीर जी तो उछल पडे और बोले - वाह ताऊ, तुमने तो मेरी सारी चिंता दूर कर दी, मान गये तुमको, चेला हो तो ऐसा, अपने गुरू का खूब नाम रोशन करोगे.

दो दिन बाद समीरलाल जी का वापस  फ़ोन आया कि ताऊ मुझे ऐसा क्यों लगता है कि तुमने  मुझे जो फ़ार्मुला दिया है वह मुझ पर नही आजमावोगे? तुम ऐन वक्त पर बीमार पडने का बहाना तो नही मारोगे? लगता है तुमने अभी तक टिकट भी बुक नही करवायें होंगे.   ताऊ ने हंसकर कहा कि इरादा तो यही था पर अब आपने पकड लिया है तो ठीक है.

समीर जी बोले नही मुझे विश्वास नही है, तुम्हारी खोपडी जबरदस्त रूप से उल्टी है, तुम्हारे पास कुछ और भी फ़ार्मुला होगा, मैं टिकट करवाकर भिजवाता हूं. ताऊ बोला - अब आप चिंता मत किजीये, टिकट मैं करवा रहा हूं. जब तक उनको टिकट की स्केन कापी नही भेजी तब तक समीर जी याद दिलाते रहे. और इस तरह ताऊ दिल्ली में इस शादी की वजह से  पहली बार किसी ब्लागर कुंभ में शरीक हुआ जहां अनेक गणमान्य ब्लागर्स से मुलाकात हुई.

उस समय गूजर आंदोलन चल रहा था सो रेल्वे सहित एयर ट्रेफ़िक भी गडबडाया हुआ था.  रात को ढाई बजे कोहरे में जैसे तैसे फ़्लाईट लैंड हुई, किसी तरह दिल्ली की कडकडाती सर्दी में होटल पहूंचे जहां शादी की पहली रात होने वाला संगीत समारोह चल रहा था. गेट पर ही समीरलाल जी मिले, देखते ही दोनों गुरू चेले गले मिल गये, इसमे परिचय की जरूरत ही नही लगी. पीछे पीछे साधना भाभी जी भी आ गई और समीर जी ने पूछा कि इन्हें पहचानती हो क्या? छूटते ही भाभी जी बोली - ये ताऊ के अलावा और कोई नही हो सकता. ताऊ ने सोचा कि शायद इन्होने क्राईम पेट्रोल का मोस्ट वांटेड कार्यक्रम वाला  ताऊ एपीसोड  देखा हुआ है.

अंदर नृत्य संगीत के कार्यक्रम में सब डांस कर रहे थे. एक जवान कपल काफ़ी देर से डांस कर रहा था और बहुत ही खूबसूरती से. ताऊ की नजरें  उन पर टिक गई. समीर जी ने धीरे से बताया कि ये दिगंबर नासवा दंपति हैं.  थोडी देर बाद श्रीमती और श्री दिगंबर नासवा आकर हमारे और समीर जी के साथ बैठ गये. हमारे बारे में  समीर जी ने उनसे  पूछा कि इन्हें जानते हो क्या? नासवा जी मना कर दिया. ताऊ ने चैन  की सांस ली की चलो ये तो क्राईम पेट्रोल नही देखते वर्ना झंझट खडी हो जाती. नासवा जी को हमारा परिचय देने के पहले हमने उन्हें ताऊ पहेली की तरह कई  क्ल्यू दिये पर उनको नहीं पहचानना था सो नही पहचाना. आखिर समीर जी ने काफ़ी मजे लेकर परिचय कराया और सारी रात गप्पें चलती रही. अगले दिन की रिपोर्टिंग अगले भाग में, जब गणमान्य ब्लागर्स से मुलाकात का सौभाग्य मिला.

(शेष अगले भाग में...)



57 comments:

  1. bat to tab hai jab aap sabhi bloggars se swayam ru-b-ru ho jayen aur ye bimari ka bahan kahin aur rakhkar aa jayen

    ReplyDelete
    Replies
    1. शालिनी जी ,
      यह मामला बहुत गंभीर नहीं है :)
      ताऊ बस ताऊ है ..

      Delete
    2. हा हा हा....शालिनी जी ये तो डाक्टर दराल से पूछना पडेगा.:)

      रामराम.

      Delete
    3. सतिश जी आप सही कह रहे हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  2. चुनाव सभा होती नहीं बिना वक्ता
    ताऊ पड़े बीमार ये हो नहीं सकता
    गोआ एपिसोड से यह साबित हो गया कि ताऊगिरी की मान्यता देशभर में बढ़ती जा रही है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बीमार पडने का नाटक गोवा में दिख गया ना?:)

      रामराम.

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज सोमवार (10-06-2013) को सबकी गुज़ारिश :चर्चामंच 1271 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शाश्त्री जी.

      रामराम.

      Delete
  4. बहुत इंटरेस्टिंग स्टोरी अच्छा लगा पढ़ कर धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  5. ताऊ अपना परिचय आप दे रहे , अद्भुत आख्यान :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ को फिर आप पहचाने नहीं ...

      Delete
    2. वाणी जी, अभी तो अगले एपीसोड में राज खुलेगा.:)

      रामराम.

      Delete
    3. हा हा हा....सतीश जी आप तो ताऊ के पास ही रहते हैं, रोज सुबह शाम मिलते हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  6. गोवा एपिसोड में जितने लोगों ने ताऊ फार्मूला अपनाया उन्हें फार्मूले की रोयल्टी का नोटिस भेज दीजिये ताऊ श्री :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. रायल्टी का क्या नोटिस भेंजे? ताऊ की खुद की ही बैण्ड बज गयी.:)

      रामराम.

      Delete
  7. बढ़िया व्यंग्य .... बीमार पड़ने पर नमो नमो का जाप करें :):)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही सलाह दी आपने, अब नमो नमो के जाप करने के अलावा कुछ बचा भी नही है.:)

      रामराम.

      Delete
  8. ताऊ किसी उलटे सीधे धंधे यानि चोरी डकैती बेईमानी, जालसाजी में पकडाते ही बीमार पड जाता है और हवालात की बजाये सीधे उसे हास्पीटल में भर्ती करवाना पडता है. पुलिस भी बेचारी क्या करे? उसे ताऊ के माल की वजह से ताऊ सचमुच का बीमार नजर आता है और तरस खाकर उसे लाक अप में ना डालते हुये सीधे किसी अस्पताल के एयरकंडीशंड वार्ड में दाखिल करवाना पडता है.

    यह बिल्कुल सही कथन है, जितने भी ताऊ किसी जुर्म में पकडाते हैं वो सीधे बीमार पडकर पुलिस को सेट करके अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं। बहुत ही सटीक व्यंग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. तिवारी साहब क्या करें? हमारी पुलिस इतनी दयालू जो है.:)

      रामराम.

      Delete
  9. बी जे पी भी अब ताऊ के रास्ते चल पडी है। लगता है इसका भी बंटाधार होना तय है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. BJP का चाहे जो हो पर ताउ का बंटाधार तो हो ही गया है.:)

      रामराम.

      Delete
  10. ताऊ तेरी माया तू ही जाने, तू कहां गया या नही गया? तुम्हारी फ़ितरत देखते हुये लगता है कि तुम कहीं नही गये, समीर जी को भी तुमने गोली ही दी होगी।:)

    लेबल में "सफ़ेद झूंठ" का लेबल लगा है सो तेरी किसी बात का यकीन करना मुश्किल है कि तुम झूंठ बोल रहे हो या सच?

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा....अगले एपीसोड का इंतजार किजीये, पानी का दूध और दूध का पानी हो जायेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  11. @ सौ नेमतों की एक नेमत है बीमार पडना.
    अचूक नुस्खा है अपनाया हुआ है कई बार, बहुत बढ़िया मजेदार लगी पोस्ट :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, बिल्कुल फ़ुल प्रूफ़ नुस्खा है तभी तो यहां सबको बताया है.:)

      रामराम.

      Delete
  12. धीरे धीरे कई राज़ खुल रहे हैं.....
    जिज्ञासा बरकरार है.....
    :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु जी, बस अगले एपीसोड में पानी का दूध और दूध का पानी हुआ ही समझिये.:)

      रामराम.

      Delete
  13. अपने को बचाने के लिए बीमारी का बहाना बनाना अचूक नुस्खा है,,,बढ़िया मजेदार पोस्ट :,,,
    recent post : मैनें अपने कल को देखा,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार धीरेंद्र जी.

      रामराम.

      Delete
  14. बीमार पड़ने का ताऊ फार्मूला डॉक्टरों के बड़े काम का है। तभी तो नर्सिंग होम फुल रहते हैं।
    ताऊ के लिए एक सम्मान करोडपति डॉक्टरों की ओर से भी निश्चित हो गया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सावधान ..
      ताऊ आपको अपनी टोपी पहनाने के चक्कर में है !

      Delete
    2. डा. दराल साहब, क्या करें ताऊ तो दयालू है शुरू से ही.:)

      रामराम.

      Delete
    3. सतीश जी, यानि ताऊ खुद ताऊ को ही टोपी पहनायेगा?:)
      रामराम.

      Delete
  15. यह गोली देने के पीछे भी कोई चालाकी है ??
    ताऊ मैं भी वहीँ था , तुम कहीं डॉ दराल ही तो नहीं थे यार ...??

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब तो सारे घराती-बाराती शक के दायरे में आ रहे हैं ...

      Delete
    2. सतिश जी, आप तो कयामत की नजर रखते हैं.:)

      रामराम.

      Delete
    3. अनुराग जी, लगता है ये ताऊ सरे कुओं में पडा है.:)

      रामराम.

      Delete
  16. अच्छा उस शादी में ताऊ भी शामिल था ! हमें तो पता ही नहीं चला वर्ना एक फोटो तो खींच ही लेते।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभी भी कैमरा आपके हाथ में ही है.:)

      रामराम.

      Delete
  17. कभी -कभी अपने ही दांव उलटे पड़ जाते हैं खासकर जहाँ गुरु -चेले दोनों ही तेज़ दिमाग हों.
    ..
    विवाह समारोह की अगली रिपोर्ट का इंतज़ार रहेगा.
    ताऊ के साथ ताई नहीं गईं थी क्या?उनका ज़िक्र ही नहीं है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमेशा चेला ही गुरू को निपटाते आया है क्योंकि यही प्रकृति का शाश्वत नियम है.

      विवाह समारोह में ताई भी साथ थी, सब कुछ अगले एपीसोड में मालूम पडेगा.

      रामराम.

      Delete
  18. "ताऊ, तुमने चेले होकर भी गुरू को आखिर चकमा दे ही दिया और हम इंतजार ही करते रह गये".:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा....ताऊ और ताई दोनों आये थे आपने पहचाना नही तो कोई क्या करे? भले ही आप डाक्टर दराल साहब से पूछ लिजीये.:)

      रामराम.

      Delete
  19. अगले भाग का बेसब्री से इंतजार है

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस जल्दी ही आपकी ख्वाहिश पूरी करने की कोशीश की जायेगी, आभार.

      रामराम.

      Delete
  20. पहले एक चरित्र हुआ करता था लाल बुझक्कड़,जिसके लिये कहा जाता था - 'बूझै बूझै लाल बुझक्कड़ और न बूझे कोय'.
    आजकल पता नहीं कहाँ ग़ायब है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा...सही कहा आपने, आभार.

      रामराम.

      Delete
  21. ताऊ तू सच्‍चा है या समीर लाल जी सच्‍चे हैं, बता। अगर तू शादी में पहुंचा होता तो ब्रेकिंग न्‍यूज ना बणती! सच सच बता माजरा क्‍या है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब हम क्या करें? इस बात का फ़ैसला तो समीरलाल जी और डाक्टर दराल पर ही निर्भर करता है. उन दोनों में क्या समझौता हुआ है ये हमें क्या मालूम?:)

      रामराम.

      Delete
  22. ताऊ श्री बहुत मजाकिया हैं भई ... शादी में जब मिलते थे हम सपने में ही रहते थे ... सुबह हुई ताऊ गायब ... इस अपना रहस्य रहस्य ही बानाए हुए हैं अब तक ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा....तो ताऊ से सपने में ही मिल लिये आप?:)

      रामराम.

      Delete
  23. आगले एपिसोड में ताऊ का भंडाफ़ोड… :)

    ReplyDelete
  24. मुझे भी निमंत्रण मिला होता तो जरुर ताऊ का मुखारविंद देख धन्य हो गए होते

    ReplyDelete