Powered by Blogger.

भले साकी न दे, ताले बिना एक मयकदा दे दे !



वक्त इक मौज का दरिया है, आता है चला जाता 
ले   मौज तू दुनिया की, गुजरा समय  नहीं आता !
                              *****

खुदा से चार दिन लेकर ,  तेरी औकात ही क्या है  ?  
अगर कट जाएँ मौजों में, भला सौगात ही क्या है !
                              *****  

मज़े हैं जिंदगानी के,कि जब तक सांस चलती है 
जिन्हें लेना है मौजें वे,     भगे हालात से कब हैं !
                             *****

वह मांगते सौ साल , अपनी  उम्र के, रब से
हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे ! 
                            *****

अँधेरी रात में मौला , मेरे  दामन में  कुछ दे दे !
भले साकी न दे, ताले बिना एक मयकदा दे दे !  

72 comments:

  1. वक्त इक मौज का दरिया है, आता है चला जाता
    ले मौज तू दुनिया की, गुजरा समय नहीं आता !
    हम तो मौज लिए बिना एक पल भी गुजरने नहीं देते अब दुनिया की वही जाने हमें पता नहीं !

    ReplyDelete
  2. खुदा से चार दिन लेकर , तेरी औकात ही क्या है ?
    अगर कट जाएँ मौजों में, भला सौगात ही क्या है !
    जीवन के ये चार दिन ,इससे बड़ा उपहार कोई हो नहीं सकता !

    ReplyDelete
  3. मज़े हैं जिंदगानी के,कि जब तक सांस चलती है
    जिन्हें लेना है मौजें वे, भगे हालात से कब हैं !
    हम तो हर हाल में डट कर खड़े है ,भागे नहीं हालातों से जागे !

    ReplyDelete
  4. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    सौ सालसे अधिक एक खुबसूरत लम्हा काफी है
    जो अभी है यही है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने सभी शेरों का वास्तविक मर्म समझा है, बहुत आभार.

      रामराम.

      Delete
  5. अँधेरी रात में मौला , मेरे दामन में कुछ दे दे !
    भले साकी न दे, ताले बिना एक मयकदा दे दे !
    याने की चौबीस घंटे खुला रहे ? वाह आप तो पियक्कड़
    लगते है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. और क्या ऐसा वैसा समझ रखा है ...

      Delete
    2. सुमन जी, हम पक्के पियक्कड हैं, ऐसी वैसी नही पीते, ऊपर वाले की पीते हैं जिसका नशा कभी उतरता ही नही है.:)

      रामराम.

      Delete
  6. उस प्रतियोगिता का क्या होगा :) ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आगे आगे देखिये होता है क्या ??

      Delete
    2. ताऊ की प्रतियोगिताएं समय अनुसार चलती हैं, अब से सब गुप्त रूप से होंगी क्योंकि एक प्रतियोगिता "अंतरार्ष्ट्रीय ब्लोगर शिरोमणि" तो सतीश जी ने आज ही हाईजैक कर ली है.:)

      रामराम.

      Delete
  7. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे ! waah

    ReplyDelete
  8. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    एक खूबसूरत लम्‍हे की क्‍या बात है .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  9. आनंद आ गया ताऊ, नयी विधा में ।

    ReplyDelete
  10. खुदा से चार दिन लेकर , तेरी औकात ही क्या है ?
    अगर कट जाएँ मौजों में, भला सौगात ही क्या है !

    वाह ! यही जिंदगी का सार है।
    बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार डाक्टर साहब.

      रामराम.

      Delete
  11. Replies
    1. आभार शेखावत जी.

      रामराम.

      Delete
  12. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    वाह वाह....दाद कबूल करें...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार...आभार अनु जी.

      रामराम.

      Delete
  13. Replies
    1. आभार अनुराग जी.

      रामराम.

      Delete
  14. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    सुन्दर भाव ...सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार अनुपमा जी.

      रामराम.

      Delete
  15. लम्हा न आया जो चाहा,
    हर लम्हा जिन्दगी कर दे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा प्रवीण जी, आभार.

      रामराम.

      Delete
  16. वाह! ताऊ भाई जी वाह! सही कहा..
    वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सलुजा साहब.

      रामराम.

      Delete
  17. ताऊ यार ,
    मौजां ही मौजां !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा..आपकी मेहरवानी है.

      रामराम.

      Delete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (14-06-2013) के "मौसम आयेंगें.... मौसम जायेंगें...." (चर्चा मंचःअंक-1275) पर भी होगी!
    सादर...!
    रविकर जी अभी व्यस्त हैं, इसलिए मंगलवार की चर्चा मैंने ही लगाई है।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शाश्त्री जी.

      रामराम.

      Delete
  19. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    क्या बात है!
    बहुत खूब .सभी शेर अच्छे लगे..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार अल्पना जी.

      रामराम.

      Delete
  20. हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    ला-जवाब!!

    ReplyDelete
  21. मज़े हैं जिंदगानी के,कि जब तक सांस चलती है
    जिन्हें लेना है मौजें वे,भगे हालात से कब हैं !
    - विभिन्न पात्रों के रोल और एक जीवन -कोई भाग कर जायेगा तो कहाँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार प्रतिभा जी.

      रामराम.

      Delete

  22. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    गहरा ,उम्दा !

    ReplyDelete
  23. वक्त इक मौज का दरिया है, आता है चला जाता
    ले मौज तू दुनिया की, गुजरा समय नहीं आता !

    हर एक शेर लाजवाब ....
    साभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शिवनाथ जी.

      रामराम.

      Delete
  24. ये ताऊ ने लिखा है ...मन्ने पूरा डाउट है , ताऊ नहीं कोई बहरूपिया है :)
    गज़ब !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा...अभी तक ताऊ के पास चोर, उठाईगिरा, डाकू, बेईमान, फ़रेबी जैसी ही डिग्रियां थी आपने तो एक और डिग्री से नवाज दिया. अब से ताऊ चोर, उठाईगिरा, डाकू, बेईमान, फ़रेबी के अलावा बहरूपिया भी कहलायेगा.:)

      यानि अब "ताऊ CUDBF" की जगह "ताऊ CUDBFR" हो गया है.आभारी हूं यह डिग्री पाकर, कृपया सर्टीफ़िकेट जल्दी भिजवाईयेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  25. ताऊ आप सिरियस कबसे हो गए ? वैसे पांचो शेर चुराने लायक है. लेकिन आपकी शायरी ने हमारे दिल चुरा लिया.
    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार कालीपद जी.

      रामराम.

      Delete
  26. ताऊ ऊ ऊ..
    वह चाबी मुझे दे दे !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. चाबी? कौन सी चाबी? चाबी गुम हो गई है.:)

      रामराम.

      Delete
  27. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    *****
    बस एक लम्हा काफी है ..... बहुत खूबसूरत गज़ल .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार संगीता जी.

      रामराम.

      Delete
  28. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    ...लाज़वाब!

    ReplyDelete
  29. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    *****

    अँधेरी रात में मौला , मेरे दामन में कुछ दे दे !
    भले साकी न दे, ताले बिना एक मयकदा दे दे !

    क्या गुजारिश है .शुक्रिया आपकी बेहतरीन पोस्ट का ,टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  30. अँधेरी रात में मौला , मेरे दामन में कुछ दे दे !
    भले साकी न दे, ताले बिना एक मयकदा दे दे ! ------

    वाह ये हुई न कुछ मन की बात
    काश ऐसा हो जाये
    राम कसम मजा आ जाये
    बहुत खूब भाई जी
    सादर

    ReplyDelete
  31. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे ! ..

    वाह क्या बात है ताऊ श्री ... सच तो यही है .. की एक लम्हा जीवन का खूब्रूरत हो जाए तो उसकी यादें काफी होती हैं उम्र भर के लिए ...
    नया अंदाज़ रंग ला रहा है ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार दिगंबर जी.

      रामराम.

      Delete
  32. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !
    kya baat hai ham to kaayal hain aapke lekhan men ab ghaayal ho gaye nazm0n se

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रमाकांत जी.

      रामराम.

      Delete
  33. शुक्रिया आपकी टिपण्णी का इस सुन्दर बंदिश ने मन मोह लिया रागबद्ध कर लिया .

    ReplyDelete
  34. वह मांगते सौ साल , अपनी उम्र के, रब से
    हमें रब खूबसूरत एक लम्हा ही,अता कर दे !

    Waah..Lajawab...Ghazab

    ReplyDelete
  35. आपके दोहे बहुत अच्छे लगे, ताउजी :)

    ReplyDelete
  36. kahane ko to maikhanon me mai bahut hai .
    lekin maikashi ka maja to tab hai jb koyee tishngi mita de.

    ReplyDelete