अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन में बाबाश्री का ब्लागिंग नशा मुक्ति शिविर


अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर  प्रथम पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर द्वितीय पोस्ट 

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन के ब्रह्म-कालीन  सत्र में आपका स्वागत है. बाबाश्री ताऊ महाराज के पास इस सम्मेलन  में एक नई विकट स्थिति खडी हो गई है. अनेकों महिलाएं और पुरूष भक्त,  बाबाश्री के पास यह शिकायत करने आये कि इस ब्लागिंग की वजह से उनके घर बार तबाह हो रहे हैं. बाबा श्री ताऊ सरकार  ने उनको सलाह दी कि वे अपनी रिपोर्ट ताऊगंज थाने में दर्ज कराएं जहां से बाबा श्री जांच करवायेंगे. 

शिकायत करने वालों ने ब्लागिंग का नशा लगाने के लिये निम्न लोगों पर नामजद रिपोर्ट लिखाई है. जिनमें 
हकीम समीरलालप्रोफ़ेसर राज भाटिया,  प्रोफ़ेसर सतीश सक्सेनाडा. अरविंद मिश्र डा. अली सैयद
प्रोफ़ेसर आशीष खंडेलवालडा. पंकज मिश्राडा. रूपचंद्र शाश्त्रीप्रोफ़ेसर फ़ुरसतिया, डा. ज्ञान दत्त पाण्डे
प्रोफ़ेसर संजय बेंगानी  डा. ललित शर्माडा. दरालडा. प्रवीण पाण्डेडा. काजलकुमार

डा. खुशदीप सहगल,  प्रोफ़ेसर अजय कुमार  झाप्रोफ़ेसर भारतीय नागरिक - Indian-Citizen
प्रोफ़ेसर शिवकुमार मिश्र , डा. नीरज गोस्वामीडा. जे. सी. फ़िलीप शाश्त्री, डा. सतीश पंचम,
प्रोफ़ेसर दिलीप कवठेकर


डा. महफ़ूज अली, डा. दिनेशराय  द्विवेदीप्रोफ़ेसर बी. एस. पाबलाडा. सीमा गुप्ता,  प्रोफ़ेसर सुमन,
 प्रोफ़ेसर वाणी शर्माप्रोफ़ेसर रचनाडा. शेफ़ाली पाण्डेडा. मोनिका शर्माप्रोफ़ेसर अंशुमाला,
डा. एम.ए.शर्मा ’सेहर’  प्रोफ़ेसर संगीता स्वरूपडा. स्नेहा गुप्ताप्रोफ़ेसर लवली कुमारी,
डा. विनीता यशस्वी,  डा. बालकिशनडा. अनुराग आर्यप्रोफ़ेसर सलिल वर्मा, डा. घुघूति बासूती,
डा. अनिता कुमार,  प्रोफ़ेसर अभिषेक ओझा,


डा. संध्या शर्माप्रोफ़ेसर अंतर सोहिलडा. विवेक सिंह, डा. निर्मला कपिला, डा. लावण्या शाह,
डा. धीरेंद्र सिंह भदौरियाडा. पूरन खंडेलवालप्रोफ़ेसर दिगंबर नासवाडा. देवेंद्र पांडेय,
प्रोफ़ेसर संजय कुमार भास्करप्रोफ़ेसर युनुस खान, डा. मनोज मिश्र, प्रोफ़ेसर प्रवीण त्रिवेदी,
डा. गोतम राजऋषी, डा. पूजा उपाध्याय, प्रोफ़ेसर रंजना भाटिया,


डा. योगिंद्र मौदगिल,  डा. अविनाश वाचस्पतिप्रोफ़ेसर अनुराग शर्माडा. राजीव तनेजा,
प्रोफ़ेसर जी. के. अवधियाप्रोफ़ेसर पी.एन. सुब्रमनियनडा. रतन सिंह शेखावतप्रोफ़ेसर प्रतिभा सक्सेना,
डा. विभा रानी श्रीवास्तवप्रोफ़ेसर पी. सी. गोदियाल,  प्रोफ़ेसर विजय कुमार सप्पात्तिडा. गिरीश बिल्लोरे
प्रोफ़ेसर महेंद्र मिश्र


रायरत्न प्रोफ़ेसर बवाल,  डा. रश्मि रविजाप्रोफ़ेसर वीरेंद्र कुमार शर्माप्रोफ़ेसर रेखा श्रीवास्तव
प्रोफ़ेसर रणधीर सिंह सुमनडा. सुज्ञप्रोफ़ेसर पं. डी. के. शर्मा वत्स”,  डा. सोमेश सक्सेनाडा. राहुल सिंह,
प्रोफ़ेसर नीरज जाटडा. केवलरामडा. गगन शर्मा, डा. राजेंद्र कुमार, डा. शिवम मिश्रा, प्रोफ़ेसर गिरजेश राव,

डा. अशोक सलुजाडा. सुशील बाकलीवाल,  प्रोफ़ेसर दीपक बाबाडा. पदम सिंह,   डा. कविता रावत
प्रोफ़ेसर अर्चना चाव जी,  डा. अनु..अनुलता ,   प्रोफ़ेसर अंजू (अनु) चौधुरीडा. अजीत गुप्ता
डा. अनिताप्रोफ़ेसर स्वपन्न मंजूषा ’अदा’डा. हरकीरत ’हीर’प्रोफ़ेसर राजेश कुमारीडा. वंदना गुप्ता
डा. मिस शरद सिंहप्रोफ़ेसर संगीता पुरीडा. सोनल रस्तोगीडा. सुनीता शानुडा. शिखा वार्ष्णेय
प्रोफ़ेसर रानी विशालडा. संजय झा, व   डा. संतोष त्रिवेदी (शेष नाम अगले सत्र में.... ) 
सहित कुल 420 लोगों के नाम हैं.  

इन सब पर आरोप है कि इनमें से कुछ लोगों  ने तो दूसरों को ब्लागिंग का नशा लगाया और खुद चलते बने या नाममात्र की ब्लागिंग करते हैं और बाकी के लोग रसूखदार और पैसे वाले हैं जिनको कमाने की आवश्यकता नही है.

इनमें भी सभी शिकायत कर्ताओं ने  डा. अल्पना वर्मा व प्रोफ़ेसर ताऊ रामपुरिया पर बेहद गंभीर और संगीन आरोप लगाये हैं कि इन दोनों ने पहेलियों की श्रंखला चलाकर लोगों को ब्लागिंग के नशे का आदी बनाया है. 

इन सब लोगों के खिलाफ़ गंभीर संज्ञान लेते हुये  ताऊ सरकार ने तुरंत  कारण बताओ नोटिस जारी करते हुये उनको कोर्ट में नियत दिनांक और नियत समय पर हाजिर होने का आदेश दिया है. जो भी ब्लागिंग करते हों और  जिनके नाम ऊपर छूट गये वो  एक बार आकर ताऊगंज थाने के नोटिस बोर्ड पर चेक करलें कि उनके खिलाफ़ आरोप है या नही. 

एक महिला सुश्री समीरा टेढी ने लगभग रोते हुये कहा कि बाबाश्री उपरोक्त लोगों ने मेरे घर वाले को ब्लागिंग का ऐसा नशा लगाया कि वो बीबी बच्चे सब भूल गया है. दिन रात लेपटोप पर खिटपिट करता रहता है. कुछ बोलो तो काट खाने को दौडता है. उसके आफ़िस से भी वार्निंग मिल चुकी है कि काम में मन नही लगता तो नौकरी छोड दो. अब बाबा जी आप बताईये कि मैं अपने  5/6 बच्चों को कैसे पालूं?

बाबा श्री ताऊ महाराज ने  दिलासा देते हुये तुरंत मिस समीरा टेढी को गुप्तज्ञान देकर नशे से मुक्ति के उपाय व टोटके बताये. मिस टेढी ने बाबा श्री के चरण छूते हुये आभार माना और खुशी से रोते हुये बताया कि कैसे बाबाश्री के चमत्कार से उनके घर वाले का इस नशे से छुटकारा हो गया और अब वो हंसी खुशी अपने घर परिवार व कामधंधे में मस्त हैं. ब्लागिंग से तौबा कर ली है. कभी कभार एकाध चार छह लाईन की कविता नुमा पोस्ट ही डालता है. टिप्पणी सम्राट की उपाधि से तौबा करली है. कभी कभार फ़ेसबुक पर जरूर मुंह मार लेता है.

बाबाश्री ने  अगले सत्र में एक नशा मुक्ति शिविर लगाने का आदेश दिया जहां ब्लागिंग के नशे से लोगों को निजात दिलाई जायेगी. तो कल  सुबह के सत्र में यह ब्लागिंग नशा मुक्ति शिविर आयोजित किया गया है. 


नशा मुक्ति शिविर में मिस समीरा टेढी को आशीर्वाद देते हुये बाबा श्री ताऊ महाराज

इस ब्लागिंग नशा मुक्ति शिविर में भाग लेने के इच्छुक जन Rs. 5,100/- जमा करवा कर  अपना रजिस्ट्रेशन करवा लेवें. नियम व कायदे कानून इस प्रकार हैं.

1 अपने घर से एक पानी की खाली बोतल लायें, उसमें अभिमंत्रित जल भरकर बाबाश्री अपने हाथ से देंगे जिसकी कीमत होगी सिर्फ़ रूपये 1100/- प्रति बोतल.

2. शिविर  बाबाश्री के ताऊ बाग में लगेगा जहां की एंट्री फ़ीस होगी सिर्फ़ Rs. 11,000/- मात्र.

3. बाबाश्री के यहां से एक स्विस गद्दा खरीदना होगा जिस पर लेटते ही ब्लागिंग की याद नही आयेगी. गद्दे की कीमत होगी सिर्फ़ Rs. 27,000/- मात्र.

4. बाबाश्री सार्वजनिक रूप से सबको मंच पर आकर दर्शन देंगे वो भी बिल्कुल मुफ़्त पर हां यदि आप बाबाश्री से निजी मुलाकात करने के इच्छुक हों तो कृपया अग्रिम अपाईंटमैंट ले लें. निजी मुलाकत के लिये फ़ीस होगी सिर्फ़ Rs. 11,000/- मात्र.

5. इसी सत्र में  ताऊ प्रकाशन द्वारा प्रकाशित एवम  डा. सीमा गुप्ता लिखित  पुस्तक "ब्लागिंग नशा मुक्ति गुटिका" का बाबाश्री विमोचन करेंगे. 

6. शिविर में भाग लेने वाले प्रत्येक सदस्य को "ब्लागिंग नशा मुक्ति गुटिका"   पुस्तक मूल्य  Rs. 3,350/- की   बिल्कुल मुफ़्त दी जायेगी. शिविर में डा. सीमा गुप्ता का इस विषय पर विशेष व्याख्यान भी होगा.

जो भक्त गण शिविर में भाग ना ले रहें हों वो यह पुस्तक ताऊ प्रकाशन से मूल्य चुकाकर  प्राप्त कर सकते हैं.

 "ब्लागिंग नशा मुक्ति गुटिका" यह एक ऐसी पुस्तक है जो हर घर में होनी ही चाहिये, क्योंकि आजकल इंटरनेट की अबाध सेवाएं मिल रही हैं. इस माहौल में किसी को भी ब्लागिंग का नशा लग सकता है. यह पुस्तक घर में रहेगी तो आप समय रहते इसके दुष्प्रभावों से बच सकेंगे. इस पुस्तक में विशेष रूप से यह बताया गया है कि यदि पति ब्लागिंग के नशे  का शिकार हो तो क्या करना चाहिये और पत्नि ब्लागिंग के नशे की शिकार हो तो क्या करना चाहिये. बिना पुस्तक को पढे आप यह नही जान पायेंगे. यदि एक ही फ़ार्मुला आपने दोनों पर  लगाया तो बहुत ज्यादा नुक्सान हो सकता है. पुस्तक के गुणों के आगे इसकी कीमत कुछ भी नही है. इस गुटिका के पठन पाठन और मनन श्रवण से सब कष्ट दूर होने की गारंटी दी जाती है.  तुरंत आर्डर करें....सीमित स्टाक ही बचा है.



कीमत : 3,350/- मात्र
*****
कल के सत्र में कुछ और पुस्तकों का विमोचन होने के बाद लोकनृत्य और काव्य संध्या होगी, इच्छुक जन अपना रजिस्ट्रेशन करवा लेवें.


डिस्क्लेमर : हमारी कोई ब्रांच नही है.पुस्तके संपूर्ण अग्रिम पर ही भेजी जाती हैं.इन पुस्तकों को किसी भी रुप मे कापी करने की सख्त मनाही है.बिका हुआ माल किसी भी कीमत पर वापस नही होगा.इन पुस्तकों में दिये गये फ़ार्मुले अपनी रिस्क पर ट्राई करें. प्रकाशक या लेखक इसके लिये जिम्मेदार नही होंगे.

यह पोस्ट शुद्ध मनोरंजन के लिये लिखी गई है. कोई भी सज्जन दिल-दिमाग, कलेजे-जिगर पर ना ले क्योंकि आजकल लू चल रही है. ताऊ प्रकाशन की पुस्तकों  को  पढने की वजह से कोई बीमार पड गया तो हमारी किसी भी तरह की कॊई जिम्मेदारी नही होगी. यह पोस्ट किसी को किसी भी रूप मे छोटा या बडा दिखाने के लिये नही लिखी गई है सिर्फ़ मनोरंजन,  मनोरंजन और सिर्फ़ मनोरंजन के लिये लिखी गई है. फ़िर भी किसी को ऐतराज हो तो उसका नाम हटा दिया जायेगा.

ॐ ब्लागदेवताभ्यो नम:
अनामी नम:
बेनामी नम:
मारीचाय नम:
सूर्पनखाए नम:
सर्व अलाने-फलाने देवताभ्यो नम:
ॐ........सर्वे भवन्तु  सुखिनां विनोदप्रियां
तमसोर्मां हास्यगमय
ॐ हास्यम हास्यम हास्यम.


Comments

  1. अरे बाप रे! मेरे खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज हुई है....??? बार डर लग रहा है. अब क्या होगा मेरा...
    ताऊ जी कोर्ट में कब हाज़िर होना है? आपने दिन और समय तो बताया ही नहीं...?

    ReplyDelete
    Replies
    1. समय और दिनांक ताऊ कोर्ट द्वारा भेजे नोटिस में देखें.

      रामराम.

      Delete
  2. ताऊगंज थाने में मेरे खिलाफ रिपोर्ट की जानकारी देने के लिए शुक्रिया,,,,,किसने मेरे खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई है मेल दवारा जानकारी देने की कृपा करे,बड़ी मेहरबानी होगी,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसके लिये नोटिस मिलने तक इंतजार करें.

      रामराम.

      Delete
  3. बाबाश्री ताऊ जी ,शिविर का लेखा जोखा ठीक रखना ,आपकी नशा उतारने आई ,टी वाले आने वाले है
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    lateast post मैं कौन हूँ ?
    latest post परम्परा

    ReplyDelete

  4. और जो भी हो..
    आपने ब्लोगरों को महान विद्वान् अवश्य बना दिया महाराज ...
    कोई भी तो प्रोफ़ेसर और डॉक्टर से कम है ही नहीं ..
    जय हो प्रभु
    अब तो तेरे द्वार पर भीड़ उमड़ेगी ..
    इस देश में पहले ही क्या कमी थी अब यह बाबा ब्लोगिंग बीमारी ठीक करने निकले हैं ..
    धन्य है तेरा गुरु
    उर धन्य हैं ब्लोगर जिनका कल्याण होना तय है
    :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. सतीश जी कोई भी ब्लागर अपनी पसंद की विधा का सर्वश्रेष्ठ देता है चाहे छुटका हो या बडका. और अपने विषय का सर्वश्रेष्ठ होने पर ही उसे डाक्टर या प्रोफ़ेसर कहा जाता है. इस नाते भले ही उसके पास कोई अधिकारिक डिग्री ना हो तब भी हर ब्लागर डाक्टर या प्रोफ़ेसर ही होता है यहां डाक्टर से मतलब औषधि चिकित्सक नही बल्कि पी.एच.डी से है.

      हम ब्लाग पंचायत में एक प्रस्ताव रखने वाले हैं कि अब से रूल बदला जाये और "ब्लागर xyz" की जगह "डाक्टर या प्रोफ़ेसर xyz" संबोधन दिया जाये.:)

      रामराम.

      Delete
    2. ओहो...डॉ.की उपाधि पी एच डी वाली है?खबर मिली है कि कुछ ने इस उपाधि मिलने के तुरंत बाद से 'क्लिनिक' खोल लिए हैं..कुछ ने तो 'ओपरेशन' भी शुरू कर दिए हैं!
      अब ताऊ मंडली की खैर नहीं!

      Delete
    3. ओहो...डॉ.की उपाधि पी एच डी वाली है?खबर मिली है कि कुछ ने इस उपाधि मिलने के तुरंत बाद से 'क्लिनिक' खोल लिए हैं..कुछ ने तो 'ओपरेशन' भी शुरू कर दिए हैं!
      अब ताऊ मंडली की खैर नहीं!

      Delete
  5. बाबा किस दिन से आना है नशा मुक्ति के लिये, सजा ठीक होने के पहले होगी कि बाद में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. समय और दिनांक की सूचना नोटिस से मिल जायेगी. सजा का मजा तो ठीक होने के बाद ही मिलना चाहिये.:)

      रामराम.

      Delete
    2. यह नशा मुक्ति शिविर कहाँ लग रहा है , यह हम तो जानते हैं तात श्री। लेकिन इस भोली भाली ब्लॉगर जनता को भी सूचित कर कृतार्थ करें। :)

      Delete
    3. पोस्ट में ही लिखा है, शिविर ताऊ बाग, ताऊगंज में लगेगा.:)

      रामराम.

      Delete

    4. और यह ताऊ बाग़ , ताऊगंज कहाँ है ? :)


      Delete
    5. सीधा सा रास्ता है कनाट प्लेस पर अंबादीप बिल्डिंग की दाहिनी तरफ़ से गोल गोल चलना शुरू किजीये, एक घंटा चलते रहिये फ़िर वहां सामने ही आपको ताऊ बाग का बडा सा बोर्ड दिखेगा और भक्तों की आवाजाही देखते ही समझ में आ जायेगा कि यही है ताऊ बाबा का आश्रम, किसी से पूछने की जरूरत भी नही पडेगी.

      रामराम.

      Delete
  6. गजब की प्रस्‍तुति !!

    ReplyDelete
  7. लम्बी सूची है फंसने वालों की...... :) सीमाजी की किताब तो बेस्टसेलर होने वाली है

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभी तो और भी चौंकाने वाले नाम आयेंगे.:)

      रामराम.

      Delete
  8. यानी मुकदमा चलेगा
    चलेगा तो पक्के में जब नामज़द रपट लिखाई है ताऊ मन्ने तो तय कर लिया हूं जज को ब्लाग के फ़ायदे इत्ते गिनाऊंगा कै वो फ़ैसला हमारे माफ़िक देगा - उमर क़ैद देगा एक एक पी सी एक कमरा, और मुफ़्त का नेट कनेक्शन

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब देखिये आगे आगे होता है क्या? ईश्वर करे आपकी इच्छा पूरी हो.:)

      रामराम.

      Delete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    ताऊ मेरी भी तो किताब ताऊछापाखाना में प्रकाशनाधीन है। उसका भी उल्लेख कर दीजिए ना...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (05-05-2013) आ गये नेता नंगे: चर्चा मंच 1235 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी पुस्तक प्रिंटिंग में है, जब तक आप खर्चे के पैसे तो भिजवा दिजीये. प्रिंटर रोज तगादे मार रहा है.:)

      रामराम.

      Delete
  10. नशा मुक्ति केंद्र और यह संगीन आरोप .....!!!

    ReplyDelete
  11. मैं एक एडवोकेट करना चाहता हूँ ......महिला हो तो बेहतर ..क्योंकि वे अच्छी लायर होती हैं ! इच्छुक कृपया ताऊ से बिना मिले मुझसे सीधे संपर्क करे ! तत्काल अजाइन्मेनट का वादा !मामला संगीन लग रहा है !
    डॉ सीमा गुप्ता की किताब वाकई कारगर होगी क्योकि यह खुद उनके अनुभव की देन है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुमन जी से संपर्क कर लिजीये उनके घर में ही वकील हैं, आपके साथ शायद फ़ीस में भी रियायत हो जायेगी.:)

      सीमा जी के बारे में आपने बिल्कुल सही कहा.:)

      रामराम.

      Delete
    2. लेकिन मिश्र जी को महिला वकील चाहिए !

      Delete
    3. मिश्र जी की यह शर्त नही है. वे कह रहे हैं कि महिला हो तो अच्छा, क्योंकि महिलाएं अच्छी वकील होती हैं. आपके घर में वकील हैं तो मिश्र जी की दलील को आप भी तो ठीक तरह से समझा पायेंगी?

      रामराम

      Delete
    4. जरा फ़ीस इनकी तगड़ी है सोच लीजिये तब तक मै वकील साहब को नाश्ता देकर आती हूँ
      नहीं तो मेरी ब्लोगिंग छुडवा देंगे :)

      Delete
    5. मिश्र जी का इशारा समझिए .... महिलाएं अच्छी वकील होती हैं या लायर :):)

      Delete
  12. अग्रिम जमानत आवेदन स्‍टोर खुल सकने की संभावना बनती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने बढिया आईडिया दिया, इससे भी कमाई की जा सकती है.:)

      रामराम.

      Delete
  13. सबको प्रोफेसर डाक्टर बना दिया आपने पता नहीं कैसे लाते है इतने सारे आइडिया लिखने के,
    मजा आ गया पढ़कर ! ब्लागिंग का नशा लगाने का मुझपर भी आरोप लगा है वैसे मुझे डरने की कोई जरुरत नहीं है घर में ही वकील है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरविंद मिश्र जी को भी वकील की जरूरत है पर यदि वे हमारे खिलाफ़ कुछ करवायें तो ध्यान रखियेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  14. प्रोफेसर होने के नाते बता रही हूँ इस नशे के फायदे ही फायदे है ....
    "एक मित्र दुसरे मित्र से कह रहा था, यार आजकल घर में बड़ी शांति रहती है दुसरे मित्र ने कहा क्यों भाभी जी मायके गई है क्या ? नहीं आजकल वह ब्लोगिंग करने लगी है" !

    ReplyDelete
  15. तब पति बॉस का गुस्सा घर आकर पत्नी पर उतारता था आज कल ब्लॉग पर सारी भडास उतारता है ! पत्नी पति का गुस्सा बच्चों पर उतारती थी लेकिन आज गुस्सा उतारने को ब्लॉग पर सारी सुविधा है ! बच्चे मम्मी पापा का गुस्सा अपने पुस्तकों पर खिलोनों पर उतारते थे आज ब्लॉग पर उतार सकते है अब बताओ नशे के फायदे है की नुकसान ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बात से लगता है कि आपके घर में वकील नही ब्लकि आप स्वयं ही वकील हैं? आपके तर्क ने हमारा तो मुंह बंद कर दिया.इसका क्या जबाव दें?

      रामराम.

      Delete
  16. जय हो ताऊ महाराज की ..हम फ़ौरन शिविर की ओर कूच करते हैं महाराज :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिविर आपके बिना सूना सूना सा है जल्दी लौट आईये. आपकी पुस्तक का विमोचन भी अभी बाकी है.

      रामराम.

      Delete
  17. हा हा तो जे बात है हम तो कारण बताओ नोटिस का जबाब आपको बड्डे के माध्यम से भिजवा चुके हैं ... कृपया अपना गोपनीय रिकार्ड खंगालने का कष्ट करें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बड्डे तो खुद गायब हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  18. बाबा!! हम तो खुद पीडित है बाबा, इस संगत में पडकर मदहोश हो गए थे, बाबा!! हम तो खुद शांति की तलाश में आए थे,बाबा!! शांति खोजते खोजते कहाँ तक पहुँच गए,बाबा!! पीडित पर ही पीडक का आरोप लग गया,बाबा!!अब आपकी शरण में आए है,बाबा!! उद्धार कीजिए,बाबा!!किरपा बरसाईए,बाबा!!बहुत गरीब हूँ,बाबा!!केस लडने को ढेला नहीं है,बाबा!! आपका शुल्क चुकाने को फूटीकौडी नहीं है,बाबा!! पहले तो 70-80 की साप्ताहिक कमाई हो जाती थी, बाबा!! अब 10-12 के भी फांके है,बाबा!! इस से अधिक तो कर्ज चुकाने में चली जाती है,बाबा!! खुराक भी महंगी हो गई बाबा!! मैं भी बंधाण छोडना चाहता हूँ बाबा, किरपा कीजिए बाबा!!!!! :‌‌( :( :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुज्ञ जी, बस बाबा का यह शिविर अटेंड कर लिजीये फ़िर किरपा छप्पर फ़ाड कर बरसेगी. धन तो हाथ का मैल है थोडा सतीश जी से ले लिजिये फ़िर किरपा बरसने के बाद उनको लौटा दिजीयेगा.:)

      रामराम.

      Delete

    2. सुज्ञ जी ,
      बाबा से धन किरपा की गुहार करते ही , बाबा की छाती इन्द्रिय जाग जाती है और सारी किरपा भुला दी जात्ती है...
      किरपा के लिए धन किसी और से लेकर बाबा को दे दो बस्स ...
      यह सारे संसार का ताऊ बनने की क्षमता रखता है आपने अभी इनके सारे हथकंडे देखे नहीं हैं ...
      क्या गुण नहीं हैं इनके पास ..???

      Delete
    3. अब बोलो बाबा!! अब किस राह जाऊँ, बाबा!!

      Delete
    4. सुज्ञ जी, आप सतीश जी की बातों मे आगये तो आपका बंटाधार ही समझिये. सतीश जी उधार नही देना चाहते इसलिए बाबा के खिलाफ़ उल्टा सीधा लिख रहे हैं.

      आपको बाबाश्री की किरपा चाहिये तो बंदोबस्त कर लिजिये. हम तो यही कहेंगे कि
      "मामेकं (बाबा ताऊश्री) शरणं व्रज".
      ॐ हास्यम हास्यम हास्यम.

      रामराम.

      Delete
  19. लगता है इस महाशिविर से जो कमाई होने वाली है , उससे ताऊ महाराज एक ब्लॉगिंग कोचिंग इंस्टीच्युट खोलने वाले हैं जहाँ ब्लॉगिंग के इच्छुक नौसिखियों को ब्लौगिंग के गुर सिखाये जायेंगे ताकि इस विधा में निपुण होकर वे जीविका उपार्जन कर सकें। बस फीस थोड़ी ज्यादा होगी , आखिर यहाँ से पास होने वाले सारे डॉक्टर और प्रोफ़ेसर ही होंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही कहा आपने, सीधे ही डाक्टर या प्रोफ़ेसर की डिग्री मिलेगी, फ़िर जीविका उपार्जन में क्या दिक्कत आनी है? वैसे ज्यादातर को तो बाबा मंडली में ही जाब मिल जायेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  20. बहुत लोग हैं नशा करने वाले, शिविर बहुत जरूरी है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसीलिये तो यह किरपा शिविर लगाया है.:)

      रामराम.

      Delete
  21. ताऊ आपकी जय हो ! हमें किसी तरह कोर्ट कचहरी के चक्कर से बचा लीजिए क्योंकि इनसे बहुत डर लगता है ! हमारा इरादा तो ताऊ ब्लोगिंग नशा मुक्ति शिविर में आनें का था लेकिन ताऊ कि भारी भरकम फीस देखकर हमारा ब्लोगिंग का नशा तो ऐसा उतरा कि अब चढ़ने का नाम ही नहीं ले रहा है इसलिए ताऊ अब तो ब्लोगिंग का नशा चढाने का शिविर लगाइए ! उसमें आना पड़ेगा !!

    ReplyDelete
  22. क्या बात !क्या बात !क्या बात !हम तो कुमारब्रह्मा बन गए घर तोड़क चिठ्ठियाए(ब्लोगियाए ) लोगों में हमारा भी नाम .

    ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  23. ताऊजी,

    जैसा कि आपको विदित ही है कि आजकल भांजे-भतीजे देश में बड़ा गज़ब ढा रहे है...भारत की सारी रेल को ही सुसरी जेब में रखना चाहते हैं...मैं भी आपका भतीजा हूं, इसलिए आपके नाम से इऩ सभी फंसने वाले ब्लॉगर्स से दस करोड़ में डील तय कर ली है...अब सभी ये रकम इकट्ठी करने के लिए इल्ले से लगे हैं...आते ही अपना कमीशन काट कर रकम आपके चरणों में पेश कर दूंगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies

    1. कसम खुदा की ...
      ताऊ के चेले भी मामूली नहीं ..
      :)

      Delete
    2. ये हुई ना बात. ताऊ के असली भतीजे होने का सबूत दे दिया. नाम रोशन कर दिया ताऊ का. कलेजे में ठंडक पडगी भतीजे खुशदीप.

      बेखटके वसूली करे जावो आखिर अभी साल भर ताऊगिरी (सरकार) हमारी है. विपक्ष कुछ बोल नही सकता क्योंकि कहीं कहीं (राज्यों में) हम भी विपक्षी हैं.

      हमारी सब सेटिंग है. और एक बात का ध्यान रखना अगली डील के पैसे डबल कर देना क्या पता अगले चुनाव में अपनी ताऊगिरी रहे ना रहे. डरने या चिंता की जरूरत नही है.

      रामराम.

      Delete
    3. सक्रिय मंत्रियों को एक-एक भांजा सीबीआई में भी ढूंढना चाहिए ...

      Delete
    4. जगत-ताऊ के भतीजे जगत जीत लेंगे

      Delete
  24. ताऊजी,

    जैसा कि आपको विदित ही है कि आजकल भांजे-भतीजे देश में बड़ा गज़ब ढा रहे है...भारत की सारी रेल को ही सुसरी जेब में रखना चाहते हैं...मैं भी आपका भतीजा हूं, इसलिए आपके नाम से इऩ सभी फंसने वाले ब्लॉगर्स से दस करोड़ में डील तय कर ली है...अब सभी ये रकम इकट्ठी करने के लिए इल्ले से लगे हैं...आते ही अपना कमीशन काट कर रकम आपके चरणों में पेश कर दूंगा...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये हुई ना बात. ताऊ के असली भतीजे होने का सबूत दे दिया. नाम रोशन कर दिया ताऊ का. कलेजे में ठंडक पडगी भतीजे खुशदीप.

      बेखटके वसूली करे जावो आखिर अभी साल भर ताऊगिरी (सरकार) हमारी है. विपक्ष कुछ बोल नही सकता क्योंकि कहीं कहीं (राज्यों में) हम भी विपक्षी हैं.

      हमारी सब सेटिंग है. और एक बात का ध्यान रखना अगली डील के पैसे डबल कर देना क्या पता अगले चुनाव में अपनी ताऊगिरी रहे ना रहे. डरने या चिंता की जरूरत नही है.

      रामराम.

      Delete
  25. बहुत ही सुन्‍दर लेख
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  26. कोकेन और अफीम से ,गांजे और चरस से भले तेज़ असरदार हो ब्लोगिंग नशा है जनहितार्थ ,स्वान्त सुखाय .हम तो इसे सात्विक नशा ही कहेंगे .

    ॐ शान्ति .शुक्रिया आपका शिव बाबा की पोस्ट्स पर .

    ReplyDelete
  27. ताऊ जी, हमें ठीक से समझ नहीं आया... :((( ये किस बात का आरोप है? और हमारा नाम तो नहीं है ना? इसमें शायद डॉ अनीता कपूर वाली अनिता जी हैं! है ना? कृपया ये बात clear कर दीजिए.. आपका आभार होगा ! और हमारा भार ज़रा हल्का होगा... :)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने नाम पर click करके देख लिजीये.:)

      रामराम.

      Delete
  28. ये तो गज़ब का आईडिया है.
    सभी डॉक्टर प्रोफ़ेसर हैं यहाँ बड़ी ही समृद्ध दिख रही है हिंदी ब्लॉग्गिंग!
    हम पर जो संगीन ज़ुर्म लगा है उसके लिए अग्रिम जमानत करवानी ही पड़ेगी..रामप्यारे वकील तो है ही पास में!
    वैसे ताऊ पहेली दोबारा शुरू हो जाए तो ब्लॉग्गिंग में चहल -पहल होना तय है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा है रामप्यारे का भी धंधा चल निकलेगा, आजकल बेरोजगारी में घूम रहा है.:)

      पहेली का ख्याल बुरा नही है.

      रामराम.

      Delete
  29. ताऊ फक्कड़ बैंक में भेजा है जी हमने चेक!
    --
    बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए आभार...!
    --
    सुखद सलोने सपनों में खोइए..!
    ज़िन्दगी का भार प्यार से ढोइए...!!
    शुभ रात्रि ....!

    ReplyDelete
  30. लोग तो पानी पी-पी कर फँसते गये - कुएँ में भाँग(ब्लागिंग की)घोली किसने?

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिभा जी, हमारे यहां एक बगीची में जहां बाबा साधु फ़क्कड लोग ठहरते हैं वहां एक भांग वाला कुआ है. उसी कुएं के पानी से भांग घुटती है. रोज शाम को वहां भांग ठंडाई घुटती है. पता नही कैसे परंपरा पडी कि हर भंगेडी भांग पीने से पहले एक गोली उस कुंए में डालता है और यह माना जाता है कि इसके पानी में भी तगडा भांग का नशा है.

      शायद ऐसा ही कुछ यहां हुआ है. सभी ब्लाग भक्तों ने एक एक पोस्ट डाली और धीरे धीरे यह ब्लाग-भांग के हुये का निर्माण होगया.:)

      रामराम.

      Delete
  31. ताऊ आप नशा कब से करने लगे
    ऐसी खबर एक ब्‍लॉग पर आई है

    ReplyDelete
    Replies
    1. अविनाश जी, दास बगीची के कुये की भांग पी ली थी उसके बाद यह शौक चढ गया.:)

      रामराम.

      Delete
  32. हा हा!! ताऊ तेरी कहाणी....:) ॐ ब्लागदेवताभ्यो नम:

    ReplyDelete
    Replies
    1. हकीम साहब आप कहां हो?:)

      रामराम.

      Delete
  33. हे भगवान , कहाँ मैं लिखने पढने के चक्कर में ब्लॉग्गिंग कर रहा था और कहाँ आज मेरी रपट हो गयी है ,
    हे ताऊ , अब तो आपका ही सहारा है .. जय हो . जय हो . जय हो ...!!

    वैसे ब्लॉग्गिंग एक महामारी थी , फिर नशा हो गयी ..इस शिविर को अटेंड करना ही होंगा ..

    ReplyDelete
  34. इस शिविर की सीटे फ़ुल हो चुकी हैं, अगले में ट्राई किजियेगा.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  35. ताऊ जी आपकी पोस्ट तो बढिया होती ही है ...उस से ज्यादा मज़ा यहाँ के कमेंट्स पढ़ने में आता है

    राम राम !!!!!!!

    ReplyDelete
  36. कोई खोखा लगा सकता हूं इस सम्मलेन के बाहर ...
    जम के कमाई होने वाली है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. नही, बाहर खोखे सिर्फ़ बाबाजी के ही लगेंगे सब सामानों के.:)

      रामराम.

      Delete
  37. ओह, वकील तय पड़ेगा.... उसे भी बोतले से कम नहीं चाहिए....

    ReplyDelete
  38. सबको इतनी बड़ी-बड़ी डिग्री मिल गई हैं हमे नहीं लगता अब कोई भी इन आरोपों से डरने वाला है...:)... बहुत बढ़िया पोस्ट ...राम-राम

    ReplyDelete

  39. ये ब्लागिंग मेरे दिल की जुबां है .....शुक्रिया आपकी उत्प्रेरक टिप्पणियों का .घोड़े से घास न छीनो ताऊ ......कुछ करियो रे ........कुछ करियो .......ब्लोगिंग को ज़िंदा रखियो ........इस तोते की जान ब्लोगिंग में है इस से ब्लोगिंग न हरियो रे ....

    ReplyDelete
  40. ब्लोगिंग का नशा तो हमें लगा हुआ है ॥भला हम किसी को क्या नशा लगाएंगे :):) बिलकुल फर्जी शिकायत की है जिसने भी की है .... पर ताऊ ... आपने तो नाम ले कर फंसा ही दिया ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब ये जवाब तो आप ताऊ कर्ट मे ही दिजीयेगा, पहले कोई वकील नियत कर लिजीये.:)

      रामराम

      Delete
  41. वाह ! ताऊ महाराज वाह !!
    शिविर में "ताऊ किरपा" बरसाने की फ़ीस नहीं लिखी "ताऊ किरपा पाओ, ब्लॉग रोगों से मुक्ति पाओ"

    ReplyDelete
  42. वाह ताऊ जी मेरे नाम पर भी रपट है,बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!श्रमसाध्य कार्य.

    ReplyDelete
  43. बाप रे बाप ताऊ, पूरे चार सौ बीस लोग! चलो अब किरपा मिलने लगेगी ताऊ बाबा की.

    ReplyDelete
  44. बाप रे बाप, पूरे चार सौ बीस. चलो जी, अब ताऊ बाबा की किरपा मिलने लगेगी. जय हो ताऊ बाबा की.

    ReplyDelete
  45. ताऊ जी , ठन ठन गोपाल है , सब नशेबाजी चला गया . अब ताऊ गंज पहुँचने के लिए किराए का इंतजाम बाबा की लोक सहायता निधि से करने की कृपा कीजिये . जब फाँस ही दिए हो तो कुछ तो दया करनी होगी .

    अब ये भी देखना है की ४२० अंक हिस्से में आता है .

    ReplyDelete
  46. अव्व्व्व्व ताउजी

    अब मैंने क्या किया ?....contempt ऑफ़ कोर्ट ...हाहा ......पर चलेगा ....हाँ आप पर और अल्पना जी पर लगे आरोप पर मेरी भी मुहर ....:))

    सादर

    ReplyDelete
  47. अव्व्व्व्व ताउजी

    अब मैंने क्या किया ?....contempt ऑफ़ कोर्ट ...हाहा ......पर चलेगा ....हाँ आप पर और अल्पना जी पर लगे आरोप पर मेरी भी मुहर ....:))

    सादर

    ReplyDelete
  48. ha ha ha ha taau ji ab hisab kitab bhi ho jaye , kitni kitab biki???

    :)

    ReplyDelete
  49. भले ही कचहरी की नोटिस हो भेजी, ख़बर तो रखी है मेरे दोस्तों ने
    सुकूं आ गया है मेरे दिल को अब तो, नज़र तो रखी है मेरे दोस्तों ने
    शुक्रिया ताउ जी! बेमिसाल प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  50. रे ताऊ काहे लोगों को डरा रहा है, ऐसे छोटे-मोटे केसों को हल करने के लिए तुझे अधिकृत कर रखा है। कुछ ले-देकर मामला ठण्‍डा कर लें। लेने-देने के लिए तेरे पास लठ्ठ तो है ही।

    ReplyDelete

Post a Comment