Powered by Blogger.

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन के छठे सत्र में पुस्तक विमोचन एवम बाबाश्री दर्शन



अंतर्राष्ट्रीय  ब्लागर सम्मेलन पर चतुर्थ पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर पंचम पोस्ट



अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन के छठे  सत्र में आपका स्वागत है. आज के सत्र में   ताऊ सद साहित्य प्रकाशन  की आठ   पुस्तकों का विमोचन किया जायेगा. तदुपरांत समानुपाति भाव से   आपका कल्याण करने हेतु आपको  यथा शक्ति ज्यादा से ज्यादा चढावा बाबा जी के श्री चरणों में अर्पित करने का मौका दिया जायेगा. चढावे के समानुपाति भाव से   आप सभी भक्तजनों को बाबाजी से आशीर्वाद लेने का अवसर भी  दिया जायेगा.  

निष्णांत ब्लागर्स  द्वारा लिखित नई पुस्तकों का मूल्य एवम संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :-

1. ब्लाग टिप्पणी उपनिषद : महाराज खुरपेचिया विरचित इस ग्रंथ को बहुत ही सहज और सरल भाषा में लिखा गया है. टिप्पणी तंत्र की कोई ऐसी विधा नही है जो इस अनुपम और परम पावन ग्रंथ में ना लिखी गई हो. यों तो खुरपेंचिया महाराज द्वारा विरचित अनेकों ग्रंथों का विभिन्न विद्वानों ने अपने अपने विवेक अनुसार टीका लिखी है लेकिन यह पुस्तक सार रूप में लिखी गई है इसलिये इसका नाम भी ब्लाग टिप्पणी उपनिषद रखा गया है. टिप्पणियों के मूल्यांकन से लेकर उनके प्रकार व धाराओं पर प्रयाप्त खोज बीन के बाद यह ग्रंथ इस रूप में आपके सामने है. जो कोई भक्त सुबह शाम इस परम पावन उपनिषद का सुबह शाम पठन पाठन और श्रवण मनन करेगा उसकी समस्त टिप्पणी विषयक एवम सांसारिक बाधायें दूर होने की ग्यारंटी दी जाती है. सीमित मात्रा में उपलब्ध, शीघ्रता पूर्वक अपना आर्डर बुक करें. 


लेखिका : डा. श्रीमती अजीत गुप्ता
कीमत : 4,155/- मात्र
*****

2. सफ़ल चर्चाकार कैसे बनें? : खुरपेचिया महाराज ने चर्चाकार कैसे बनें, इस विषय  पर कहीं भी विस्तृत रोशनी नही डाली है पर विद्वान लेखिका ने अपने अंतर्ज्ञान से चर्चाकार विषय की बारीकियां खोजी और फ़लस्वरूप यह अनमोल ग्रंथ आपके हाथ में है. सफ़ल चर्चाकार बनने के क्या फ़ायदे हैं? कैसे बने सफ़ल चर्चाकार? यह सब गूढ बातें इस ग्रंथ की विषय वस्तु हैं.  ब्लाग जगत में आज तक जितने भी सफ़ल चर्चाकार हुये हैं उन सबका यह अति परम पावन और पूज्य ग्रंथ है. सभी चर्चाकार सुबह शाम इस ग्रंथ का पठन पाठन और पूजा आरती करते हैं, उसी के बदौलत आज वे चर्चाकार के रूप में ब्लागजगत में स्थापित होकर नाम और दाम कमा रहे हैं. आप भी यह मौका मत चूकिये, सीमित पुस्तके हीं शेष हैं, शीघ्रतापूर्वक अपना आर्डर बुक करवाएं. 


लेखिका : डा. संध्या शर्मा
कीमत : 2,955/- मात्र
*****


3.प्रकाशक से पुस्तक छपवाने के 243 अचूक नुस्खे : यह इस पुस्तक की द्वितीय आवृति है, पहले यह पुस्तक जब छपी थी तब यह जन सामान्य को उपलब्ध नही हो सकी थी. क्योंकि प्रकाशकों के कार्टेल ने इस पुस्तक की सभी कापियां बाजार से खरीदवा कर उन्हें भूमिगत कर दिया  था. इस पुस्तक में विद्वान लेखिका ने सभी लेखकों को सफ़लता पूर्वक  यह समझाने की कोशीश की है कि लेखकगण अपने आपको प्रकाशकों के शोषण से कैसे बचाएं? अपनी रायल्टी की उचित राशि किस तरीके से प्राप्त करें? किन्हीं भी विवादों की स्थिति में कानून का सहारा कैसे लें? प्रकाशकों की मनमानी से कैसे बचें? शीघ्रता करें, यह पुस्तक हमने यों तो यथेष्ठ मात्रा में छपावायी है पर हमें लगता है कि प्रकाशक गण अपने निज धर्म  का पालन करते हुये पूर्नुवासार इस पुस्तक को गायब करवा सकते हैं. तुरंत आर्डर करके इस पुस्तक को अभी प्राप्त करें, वैसे हम भी प्रकाशक हैं और अपने धर्म का पालन करना शाश्त्र सम्मत है.   


लेखिका :  प्रोफ़ेसर अंशुमाला
कीमत : 3,455/- मात्र
*****


4. श्री ब्लाग - भारत पुराण : यह पुस्तक अपने आप में एक अनुपम ग्रंथ हैं. खुरपेंचिया महाराज विरचित सूत्रों को सुलझाते हुये विद्वान लेखिका ने इस पुराण को बहुत ही सहज और जन भाषा में लिखा है. यह पुराण पाषानयुगीन ब्लाग यात्रा से आधुनिककालीन ब्लाग यात्रा  तक का एक अदभुत समन्वय करते हुये  आपको सीधे शिखर की ऊंचाईयों का बोध करवाता है.  आपने अभी तक तो महाराज खुरपेचिया का नाम ही सुना होगा. इस श्री ब्लागपुराण में आप उनकी आत्मा से सीधे संवाद स्थापित कर सकते हैं. ब्लाग पुराण का एक एक अध्याय कल्याणमय है. इस पुराण के पठन पाठन और मनन श्रवण से समस्त भय विकार पीडा दूर होकर ब्लागोन्नति के शिखर पर पहुंचने की पक्की ग्यारंटी दी जाती है.  शीघ्रता करें वर्ना इस परम पावन ग्रंथ से आपको वंचित होना पड सकता है. मात्र कुछ ही प्रतियां उपलब्ध हैं.


लेखिका : डा. रश्मि रविजा
कीमत : 3,355/- मात्र
*****



5. ब्लागर भविष्य चिंतामणी : अपने आपमें अदभुत और परम  मनोहारी ग्रंथ का नाम है "ब्लागर भविष्य चिंतामणी". ब्लाग संसार की आने वाली तमाम परेशानियों का हल मय उपाय के बताया गया है. आपको इस क्षेत्र की ऐसी अनोखी पुस्तक कहीं नही मिलेगी. सभी को भविष्य जानने की जिज्ञासा होती है. ब्लाग का भविष्य क्या था? क्या है? और क्या होगा? यह तीनों कालों की जिज्ञासा शांत करने वाला अदभुत ग्रंथ है. इस पुस्तक की एक और विशेषता है कि यह सिर्फ़ तीनों कालों की भविष्यवाणी ही नही करती बल्कि उनके सफ़ल  उपाय इलाज टोने टोटके सहित बताती है. विद्वान लेखिका ने   पुस्तक में समस्त ब्लाग पूजा मंत्रों का सार व उपाय बताते हुये इसे बहुत ही सरल गम्य बना दिया है. आज ही तुरंत आर्डर करें, एक बार चूके कि फ़िर मौका नहीं मिलेगा.


लेखिका : प्रोफ़ेसर अंशुमाला
कीमत : 4,755/- मात्र
*****



6. ब्लाग पीडा शमन गुटिका : यह  एक बहुत ही  अनुपम और लोक कल्याणकारी ग्रंथ है जिसे आपको अपने घर में अवश्य स्थापित करना चाहिये. हर प्रकार की पीडा भय ताप का निवारण करने वाला एक अदभुत ग्रंथ, जो परम विद्वान लेखिका ने लोक परोपकारी भावना से लिखकर सहज सुलभ बना दिया है. महाराज खुरपेचिया के गूढ श्लोकों का सटीक भावार्थ करके यह अदभुत ग्रंथ लिखा गया है. किसी भी तरह ब्लागिक व सांसारिक भय ताप पीडा अनुभव करने पर इस ग्रंथ का केवल पठन पाठन ही मुक्ति कारक है.  विशेष परिस्थितियों मे जरूरत अनुसार झाड फ़ूंक के समस्त मंत्र और उनके तरीके भी बता दिये हैं. ऐसा पहली बार हुआ है कि इतने गूढ ज्ञान का भेद जनता के कल्याणार्थ खोल दिया गया है बिना किसी निजी स्वार्थ के. इस परम मनोहारी ग्रंथ को खरीदने के लिये तुरंत आर्डर करें, सिर्फ़ गिनी चुनी प्रतियां शेष हैं.


लेखिका : डा. हरकीरत ’हीर’
कीमत : 4,155/- मात्र
*****


7. इदं न त्वम ब्लागर : हे ब्लागर, ये तुम  नही हो...क्यों बेकार की चिंता करते हो? तुम्हारे आने से पहले बःई यह ब्लाग संसार यहीं था और तुम्हारे जाने के बाद भी यहीं रहेगा. बेकार की चिंता ना कर, टिप्पणी का भय लालच मोह मद छोड...और ब्लाग पोस्ट लिखता रह, तेरा कल्याण होगा. यह इस पुस्तक का एक वाक्यांश भर है. इस पुस्तक को ब्लाग संसार में महागीता की उपाधि प्राप्त है. सभी ब्लागरों को यह अनुपम ग्रंथ परम वंदनीय है. इस ग्रंथ के घर में होने मात्र से समस्त पीडा दूर होती है.  जो भी इस ग्रंथ का पठन पाठन करेगा उसकी समस्त पीडा विकार, भय ताप दूर होने की ग्यारंटी दी जाती है. बस कुछ ही प्रतियां बची हैं, अभी की अभी आर्डर करें जिससे पछताना ना पडे.

लेखिका : प्रोफ़ेसर अंजू (अनु) चौधरी
कीमत : 3,955/- मात्र
*****

8. ब्लागिंग में छायावाद का प्रभाव : यह एक बहुत ही गहन खोज बीन के बाद लिखा गया ग्रंथ है. ब्लागिंग में छायावाद का प्रभाव कब आया? क्यूं आया? और कब तक रहेगा? इन समस्त विषयों पर विद्वान लेखिका ने गहन खोजबीन के बाद यह पुस्तक लिखी है. पुस्तक अपने आपमें छायावाद पर एक डाक्यूमैंट है जिसे आप अवश्य पढना चाहेंगे. ब्लागिंग में छायावाद के प्रभाव से मलिनता छा गई है, ब्लाग संसार के  सभी वाशिंदे निष्प्राण से हो गये हैं, क्या यह छायावाद का प्रभाव है? कैसे दूर होगा छायावाद का प्रभाव? किसने फ़ैलाया ब्लागजगत में यह छायावाद? क्या छायावादी युग से निकलकर ब्लाग संसार अब भक्तिकाल की  ओर बढेगा या रीतिकाल की ओर? अति महत्व पूर्ण और पठनीय ग्रंथ. इस ग्रंथ के पठन पाठन और मनन श्रवण से आपकी समस्त इच्छाओं की पुर्ति की ग्यारंटी दी जाती है. पुस्तक खरीदने हेतु तुरंत आर्डर करें क्योंकि इस पुस्तक की अधिकतम प्रतियां  विश्वविद्यालयों और स्कूल कालेजों ने अग्रिम बुक करवा ली हैं. हाथ आया मौका जाने ना दें वर्ना पछताना पडेगा. 


लेखिका : डा. वंदना गुप्ता
कीमत : 3,444/- मात्र
*****


आज की सभी किताबों का संपूर्ण सेट एक साथ खरीदने वाले भक्तों को बाबाश्री विशेष दर्शन देकर आने वाली पूर्णमासी पर  एक विशेष साधना करवायेंगे जिससे आपके समस्त कष्ट दूर होकर धन धान्य की विशेष प्राप्ति होने की ग्यारंटी दी जाती है.

 ॐ हास्यम हास्यम हास्यम.



ताऊ सद साहित्य की पुस्तकें खरीदने के पहले यह डिस्कलेमर अवश्य पढ लें.

डिस्क्लेमर : हमारी कोई ब्रांच नही है.
पुस्तके संपूर्ण अग्रिम पर ही भेजी जाती हैं.
इन पुस्तकों को किसी भी रुप मे कापी करने की सख्त मनाही है.
बिका हुआ माल किसी भी कीमत पर वापस नही होगा.
इन पुस्तकों में दिये गये फ़ार्मुले अपनी रिस्क पर ट्राई करें,  प्रकाशक या लेखक इसके लिये जिम्मेदार नही होंगे.

यह पोस्ट शुद्ध मनोरंजन के लिये लिखी गई है. कोई भी सज्जन दिल-दिमाग, कलेजे-जिगर पर ना ले  क्योंकि आजकल लू चल रही है. ताऊ प्रकाशन की पुस्तकों  को  पढने की वजह से कोई बीमार पड गया तो  हमारी किसी भी तरह की कॊई जिम्मेदारी नही होगी. 

ह पोस्ट किसी को किसी भी रूप मे छोटा या बडा  दिखाने के लिये नही लिखी गई है सिर्फ़ मनोरंजन,  मनोरंजन और सिर्फ़ मनोरंजन के लिये लिखी गई है. फ़िर भी किसी को ऐतराज हो तो उसका नाम हटा दिया जायेगा.

40 comments:

  1. ताऊ हम तो ताऊ सद साहित्य प्रकाशन के कायल हो गए !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पढते रहिये, ज्ञान चक्षु खुल जायेंगे.:)

      रामराम.

      Delete
    2. आपको समझने का प्रत्न करते ही ज्ञान चक्षु खुलने लगे गुरु....

      Delete
  2. बढ़िया मेहनत कर रहे हो ताऊ ..
    दूकान खूब जमेगी

    ताऊ सद्साहित्य ...
    या ताऊ भ्रष्ट साहित्य

    बिका हुआ माल किसी कीमत पर बापिस न होगा ..
    कूड़े को खरीदेगा कौन ?

    ब्लोगर लेखक बनें न बने मगर
    ताऊ तो प्रकाशक बन ही गया है !

    भगवान् भला करे, नाम कमाने, भागते हुए बेचारे ब्लोगर लेखकों का ...
    ताऊ जिंदाबाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभकामनाओं के लिये धन्यवाद.

      ताऊ सद्साहित्य को ताऊ भ्रष्ट साहित्य मत कहिये वर्ना पाप और दंड दोनों के भागी होंगे और प्रकाशक बिरादरी आपका बायकाट भी कर सकती है.:)

      बिका हुआ माल कहीं भी वापस नही होता. माल की कद्र कद्रदान ही कर सकता है.:)

      भगवान से भला करवाने के लिये धन्यवाद और आभार.

      रामराम.

      Delete
  3. ताउ जे अच्छी बात नईं
    सारी महिला लेखिकाओं की कृतियों एक साथ विमोचन..
    अरे देखना कोई छूटे न जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आदेश सर माथे.

      रामराम

      Delete
  4. सभी लेखिकाओं को नमन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका नमन पहुंचा देंगे.:)

      रामराम.

      Delete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    अब शायद पुरुष ब्लॉगरों की प्रकाशित पुस्तकों का भी नम्बर लगने वाला होगा।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (19-05-2013) के मंजिल को हँसी-खेल समझना न परिन्दों : चर्चा मंच- 1249 मयंक का कोना पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस अगले लाट में लग जायेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  6. धडा धड पुस्तके छप रही है, हाथों हाथ बिक रही है
    पडोसी प्रकाशक परेशान है, ताऊ सद साहित्य
    प्रकाशन महान है ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. पडौसियों का काम ही जलना है.:)

      रामराम.

      Delete
  7. हमारी पुस्‍तक का इतना मूल्‍य आपने लगाया है हम तो धन्‍य हो गए।

    ReplyDelete
  8. हमें तो ब्लॉगिंग में ताऊवाद के प्रभाव पर पुस्तक लिखनी है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नेकी और पूछ पूछ? अति शीघ्र लिख डालिये.:)

      रामराम.

      Delete
  9. छा गया है ये नया ताऊ प्रकाशन ... तहलका मचा हुआ है प्रनत मीडिया में इस प्रकाशन का ...

    ReplyDelete
  10. नित नयी पुस्तकें ...इतना ज्ञान बिखरा पड़ा है ....सभी लेखिकाओं को नमन । ताऊ प्रकाशन दिन दूना और रात चौगुना बढ़े :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके आशीर्वचनों के लिये आभार.

      रामराम.

      Delete
  11. ब्लॉगर प्रकाशन रामपुर ताऊ पुरिया,खंड उत्तरा के सभी प्रकाशन ज़ोरदार हैं .बधाई .

    ReplyDelete
  12. आज ही आबू रोड (राजस्थान )ब्रह्माकुमारीज़ ईश्वरीय विश्वविद्यालय का पांच दिनी योग शिविर संपन्न करके मुंबई लौटा हूँ .वहां के शिक्षाएं (पाठ ,क्लास नोट्स )मेरे पास कलम बद्ध हैं जिन्हें आगामी पोस्ट्स में आप पढियेगा .आपकी ताज़ा टिपण्णी का शुक्रिया .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके अनुभवों की प्रतिक्षा रहेगी.

      रामराम.

      Delete
  13. पठनीय और संग्रहनीय पुस्तकों की सूचि के लिए आपको प्रणाम

    ReplyDelete
  14. वाह!एक और बढ़िया संकलन.
    ब्लॉगजगत के ज्ञानवर्धन हेतु इतनी सामग्री उपलब्ध कराने हेतु एक नोबल पुरस्कार सदी के महाप्रकाशक ताऊ जी को मिलना तय है !:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभकामनाओं के लिये धन्यवाद और आभार.

      रामराम.

      Delete
  15. ब्लाग-तंत्र का यह साधना मार्ग अनेक सिद्धों को उत्पन्न करेगा - आशान्वित हूँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. नये ब्लाग साधक आयें और ब्लागिंग में अपना योगदान करें, इसी आशा के साथ यह कवायद जारी है.

      रामराम.

      Delete
  16. समस्त लेखिकाओं को नमन - प्रणाम...ताऊ प्रकाशन फेमस हो गया.

    ReplyDelete
    Replies

    1. ताऊ को चढाने में आप ही जिम्मेदार हैं ,सारी जमात को ही भ्रष्ट बना दिया ...

      अच्छे भले गंभीर लेखक लेखिकाएं भी नहीं बचे , अभी तो किताबे बिक रहीं हैं , कुछ दिनों में गंजापन का शर्तिया इलाज़ शुरू होगा , और आपके काले बालों का रहस्य डुगडुगी बजा कर दिखाया जायेगा !

      अब इसे नीचे उतार कर दिखाओ !

      Delete
  17. एक से बढ़कर एक शानदार पुस्तक |
    ताऊ प्रकाशन का भी कोई जबाब नहीं !

    ReplyDelete
  18. हा हा हा हा हा ...जिस बात का डर था वही हुआ
    हम भी घसीटे में आ ही गए ताऊ जी ...बहुत ही बढिया
    राम राम .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जिस बात से डर लगता है वह जरूर होती है.:) आभार.

      रामराम

      Delete
  19. लो पता न था की दुबई जा कर भाई को राखी बाधने के जे फायदे होंगे , एक की जगह दो किताबे बाजार में है :)
    ताऊ बैंक एकाउंट नंबर मेल कर दे रही हूँ , उम्मीद है हिसाब किताब के पक्के होगे :))

    ReplyDelete
  20. अब ताऊ जैसा भाइ हो तो क्या ये भी ना होगा?:)

    रामराम.

    ReplyDelete