अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन में अत्यंत दुर्लभ पुस्तकों का विमोचन



अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर  प्रथम पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर द्वितीय पोस्ट 

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन पर तृतीय पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय  ब्लागर सम्मेलन पर चतुर्थ पोस्ट

अंतर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन के पंचम  सत्र में आपका स्वागत है. आज के सत्र में सबसे पहले  ताऊ सद साहित्य प्रकाशन  की  पुस्तकों का विमोचन किया जायेगा. तदुपरांत  आप सभी भक्तजनों को बाबाजी से आशीर्वाद लेने का अवसर दिया जायेगा जिससे कि आप अपनी यथा शक्ति ज्यादा से ज्यादा चढावा बाबा जी के श्री चरणों में अर्पित कर सकें. ध्यान रहे कि चढावे के समानुपाति भाव से आपका कल्याण किया जायेगा.

निष्णांत ब्लागर्स  द्वारा लिखित नई पुस्तकों का मूल्य एवम संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :-

1. ब्लाग टिप्पणी प्रबोधिनी :  यह ग्रंथ महाभारत काल में रचा गया था. इसकी भाषा अत्यंत क्लिष्ठ होने के कारण यह जन सामान्य से अभी तक दूर ही रहा है. विद्वान लेखिका ने अपने अथक परिश्रम और ज्ञान की वजह से इस परम मनोहारी और कल्याणकारी ग्रंथ को सहज भाषा में लिखा है. इस ग्रंथ के पठन पाठन से आपकी सभी टिप्पणी संबंधित जिज्ञासाएं दूर होंगी. टिप्पणी  के कितने प्रकार के रहस्य हैं?  अधिकतम टिप्पणियां कैसे प्राप्त  की जाये? आटोमेटिक टिप्पणियां कैसे की जायें? इस ब्लाग टिप्पणी प्रबोधिनी पुस्तक के श्रवण मनन से समस्त प्रकार के क्लेश दूर हो कर आपका ब्लाग सुख समृद्धि, टिप्पणी और पोस्ट धन से मालामाल हो जाने की ग्यारंटी दी जाती है. शीघ्रता करें, सीमित स्टाक उपलब्ध है, पछताना ना पडे.



कीमत :  3,955/- मात्र
*****

2. ब्लाग पोस्टोपनिषद :  इस ग्रंथ की रचना महान ब्लागर शिरोमणी खुरपेंचिया द्वारा 420 BC में की गई थी. विद्वान लेखिका ने अपने सुक्ष्म ज्ञान से इस ग्रंथ के भेद जन सामान्य के लिये खोल कर रख दिये है. इस उपनिषद के नित्य पाठ किये बगैर कोई भी ब्लागर यदि ब्लागिंग करता है तो पाप का भागी होकर अपना जीवन खराब करता है. अत: तुरंत यह परम पवित्र पुस्तक खरीद कर नित्य पाठ करें और अपने ब्लागिंग जीवन को धन्य करें. इस पुस्तक के  पास रहने से  समस्त ब्लाग पाप दूर होकर आप परम मोक्ष के अधिकारी बनेंगे, इस बात की ग्यारंटी दी जाती है. सीमित स्टाक ही शेष है, तुरंत खरीदें.


कीमत :  3,455/- मात्र
*****

3. ब्लागिंग का वर्तमान संक्रमण काल :  आजकल ब्लागिंग में चारों तरफ़ सूनापन फ़ैला  है, कहीं कोई हाहाकार करने वाला भी नही है. ज्यादातर  ब्लागर अब फ़ेसबुकिये हो गये हैं. यह ब्लागिंग का संक्रमण काल चल रहा है. विद्वान लेखिका ने इस संक्रमण काल पर अपने ज्ञान और तथ्यों के आधार पर रोशनी डाली है. हर ब्लागर के कल्याण के लिये  यह एक अनुपम ग्रंथ है. ब्लागिंग के सूने पन की वजह से आपके दिल में जो बेचैनी छाई हुई है, उस बेचैनी का हल आपको इस पुस्तक को पढने के बाद मिलेगा. बहुत ही सीमित स्टाक बचा है, ज्यादातर प्रतिया लाईब्रेरीज वालों ने बुक करवा ली हैं, कहीं पछताना ना पडे. तुरंत आर्डर किजिये.  

कीमत :  3,755/- मात्र
*****

4. त्वं किं करोति ब्लागर: - महाराज खुरपेचिया विरचित यह ग्रंथ पहली बार इस रूप में आपके सामने है. विद्वान लेखिका ने अथक खोज बीन के बाद खुरपेचिया महाराज के ग्रंथ की बारीकियां समझायी है. ब्लागर के क्या कर्तव्य हैं? ब्लागिंग कैसे करनी चाहिये? अनामी पोस्ट के कितने प्रकार के भेद हैं? अनामी का पता कौन से मंत्र से लगाया जाये? इत्यादि समस्त बातों और मंत्रों सहित उनका उपाय इस अनुपम ग्रंथ में दिया गया है. इस पुस्तक की कुछेक प्रतियां ही शेष हैं. यदि आप इसे खरीदने से चूक गये तो आपका यह ब्लागर जन्म तो व्यर्थ ही समझिये. अत: तुरंत आर्डर करके अपने जन्म को सार्थक किजिये. इस पुस्तक के नित्य पाठ करने से समस्त दोषों की शांति होने की ग्यारंटी दी जाती है.

कीमत :  3,655/- मात्र
*****

5. ब्लाग चिंता चुडामणी : यह पुस्तक एक अनुपम ग्रंथ है जो पाली भाषा में खुरपेचिया महाराज ने रचा था. आज तक इस ग्रंथ की एक भी प्रति किसी के पास नही है. विद्वान लेखिका ने बहुत ही मेहनत और मनोयोग से महाराज खुरपेचियां के दांव पेंच इस पुस्तक में सहज भाषा में लिखे हैं. इस ग्रंथ के पठन पाठन और मनन श्रवण से समस्त प्रकार की चिंताएं और मन के विकार दूर होते हैं.  ब्लाग और दैनिक जीवन में कोई परेशानी नही आती. इस ग्रंथ का सुबह शाम पाठ करने से ब्लागिंग की वजह से घर में होने वाली खिचखिच की  शांति होती है. आज और अभी यह ग्रंथ खरीदिये और ब्लाग चिंता से मुक्त हो जाईये. सिर्फ़ चंद प्रतियां ही शेष हैं. जल्दी किजिये.

कीमत :  3,455/- मात्र
*****

6. ब्लाग भैरव टिप्पणी पूर्ति गुटिका:  एक ऐसी पुस्तक, जिसका हर ब्लागर को बेसब्री से इंतजार था. इस पुस्तक की जितनी तारीफ़ की जाये वह कम पडेगी. इस पावन ग्रंथ के पठन पाठन से आपकी सभी तरह की टिप्पणी समस्या दूर होती है. आपकी ब्लाग पोस्ट टिप्पणियों से महक उठेगी. इस पुस्तक में दिये गये अति प्राचीन मंत्रों को सिद्ध कर लेने के बाद आप बिना लेपटोप, बिना  नेट कनेक्शन के भी सिर्फ़ अपने मनोबल द्वारा किसी भी ब्लाग पर अपनी मनचाही  टिप्पणी कर सकते हैं. यह पुरातन मंत्रों की अनुपम गुटिका है जिसे आप तुरंत प्राप्त करना चाहेंगे.  सभी टिप्पणी मंत्रों को सिद्ध करने की सरल विधी इसी ग्रंथ मे दी गई है. इस पुस्तक के अंदर ही आपको ब्लाग भैरव देवता का चित्र भी मिलेगा, जिसके सामने बैठकर आपको मंत्र सिद्ध करने हैं.  मंत्रो को सिद्ध करने के लिये  पूजा पाठ एवम अन्य सामग्री आप निर्धारित मूल्य पर ताऊ प्रकाशन के आफ़िस से प्राप्त कर सकते हैं. अत्यंत ही सीमित स्टाक उपलब्ध है. इस अवसर को हाथ से जाने मत दिजिये. ऐसे मौके बार बार नही आते. तुरंत आर्डर करें.   

लेखिका :  डा. अनिता
कीमत :  3,350/- मात्र
*****



7. ब्लाग बकरे बक बक रे :  मौज लेने वाली विधा का यह एक  अदभुत और अनुपम  ग्रंथ हैं जो सिद्ध तंत्र मंत्र की कलाओं से भरा पडा है, आसान विधी से सिद्ध होने वाले मंत्रों और विधियों सहित अन्यत्र अप्राप्य दुर्लभ ग्रंथ, जो सिर्फ़ हमारे यहीं पर उपलब्ध है.  ब्लाग बकरे कैसे मौज लेते हैं?  कैसे आप बकरे को बकरा बनाकर खुद का भला करना चाहते हैं पर विधि गलत हुई तो आप स्वयं बकरा बन सकते हैं. स्वयं बकरा बनने से बचने के लिये ही यह अनुपम ग्रंथ लिखा गया है.  यह आप इस अनुपम ग्रंथ को पढकर ही जान पायेंगे. बिना मौज लिये ब्लागर का जीवन बेकार बकरे का जीवन है. जिसे कोई भी हलाल करने की सोच सकता है.  अपना जीवन व्यर्थ मत जाने दिजीये.  इस पुस्तक की रचना विशेष आपको बकरा बनने से रोकने को  ध्यान में रख कर ही की गई है. पुस्तक अपने आपमें एक अनमोल खजाना है जो आपकी जबान को बक बक करने की आदत से निजात दिलाकर आपको मौज लेने  में प्रवीण बना देगी. यदि आप मौज  समझना चाहते है, मौज में लिखना सीखना चाहते  है,  या फ़िर मौज लेना चाहते  है तो यह अनुपम ग्रंथ आपके लिये ही है. शीघ्रता किजीये, सीमित मात्रा में ही स्टाक बचा है. तुरंत आर्डर करें. 

कीमत :  3,955/- मात्र
*****


आज की सभी किताबों का संपूर्ण सेट एक साथ खरीदने वाले भक्तों को बाबाश्री विशेष दर्शन देकर आने वाली पूर्णमासी पर  एक विशेष साधना करवायेंगे जिससे आपके समस्त कष्ट दूर होकर धन धान्य की विशेष प्राप्ति होने की ग्यारंटी दी जाती है.

 ॐ हास्यम हास्यम हास्यम.



ताऊ सद साहित्य की पुस्तकें खरीदने के पहले यह डिस्कलेमर अवश्य पढ लें.

डिस्क्लेमर : हमारी कोई ब्रांच नही है.
पुस्तके संपूर्ण अग्रिम पर ही भेजी जाती हैं.
इन पुस्तकों को किसी भी रुप मे कापी करने की सख्त मनाही है.
बिका हुआ माल किसी भी कीमत पर वापस नही होगा.
इन पुस्तकों में दिये गये फ़ार्मुले अपनी रिस्क पर ट्राई करें,  प्रकाशक या लेखक इसके लिये जिम्मेदार नही होंगे.

यह पोस्ट शुद्ध मनोरंजन के लिये लिखी गई है. कोई भी सज्जन दिल-दिमाग, कलेजे-जिगर पर ना ले  क्योंकि आजकल लू चल रही है. ताऊ प्रकाशन की पुस्तकों  को  पढने की वजह से कोई बीमार पड गया तो  हमारी किसी भी तरह की कॊई जिम्मेदारी नही होगी. 

ह पोस्ट किसी को किसी भी रूप मे छोटा या बडा  दिखाने के लिये नही लिखी गई है सिर्फ़ मनोरंजन,  मनोरंजन और सिर्फ़ मनोरंजन के लिये लिखी गई है. फ़िर भी किसी को ऐतराज हो तो उसका नाम हटा दिया जायेगा.

Comments

  1. अरे ताऊ जी .... आपने तो हमारी किताब भी छपवा दी ! ये काम तो हम कभी ना कर पाते ...! आपका बहुत-बहुत आभार ! :-)
    हम जल्दी से कुछ पैसे ... मतलब रुपये जमा करके फिर ये सारे ग्रन्थ खरीदेंगे ! तब तक के लिए हमें उधार दे दीजिये ना प्लीज़ ... :))
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभी उधार की बात कहां से आगयी? सारा स्टाक खत्म हो चुका है. अगले बार छपेगा तब देखा जायेगा.:)

      रामराम.

      Delete
  2. बाबाजी को चढावा अर्पित कर, सभी पुस्तकों का संपूर्ण सेट अभी आर्डर कर खरीद लेते है
    ताकि, बाबाजी दर्शन देकर कृपा दृष्टी सदा बनाये रखे :)
    मस्त है पोस्ट ....सभी पुस्तकों के नाम जबरदस्त है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. संपूर्ण सेट खरीदकर के अध्ययन मनन के बाद किरपा होना अटल है.:)

      रामराम.

      Delete
  3. महिलाओं के योगदान को ताऊ जी ने स्वीकारा .......और यह अति दुर्लभ ग्रन्थ उनके प्रकाशन से सामने आये ......!!! आप सबको बधाई .....!!!

    ReplyDelete
  4. पढ़ कर आनन्द आ रहा है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आनंद के लिये ही यह बरसात हो रही है.:)

      रामराम.

      Delete
  5. आज की ब्लॉग बुलेटिन १० मई, मैनपुरी और कैफ़ी साहब - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. हमको बंसल साहब की तरह बकरा नही बनना.:) एक प्रति शेफ़ाली पांडे जी की किताब की भिजवाईये जिससे तंत्र मंत्र सीखकर हम अपनी गर्दन बचा सकें। आजकल बुरी तरह फ़ंसे हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बकरों के चक्कर में पडोगे तो गर्दन ही फ़ंसेगी.:)

      रामराम

      Delete
  7. हमको बंसल साहब की तरह बकरा नही बनना.:) एक प्रति शेफ़ाली पांडे जी की किताब की भिजवाईये जिससे तंत्र मंत्र सीखकर हम अपनी गर्दन बचा सकें। आजकल बुरी तरह फ़ंसे हैं।

    ReplyDelete
  8. पुस्तक की वीपी भेज देना ताऊ। आते से ही छुडा लेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. VPP सुविधा उपलब्ध नहीं है.:)

      रामराम.

      Delete
  9. इन पुस्तकों में दिये गये फ़ार्मुले अपनी रिस्क पर ट्राई करें, प्रकाशक या लेखक इसके लिये जिम्मेदार नही होंगे.

    यह लिख कर चिंता से उबार दिया ..... टिप्पणी सच ही अलग अलग किस्म की होती हैं .... पाठक गण इस पुस्तक को ज़रूर मंगायें :):)बाकी तो ताऊ जाने

    रोचक पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ प्रकाशन अपने साथ साथ अपने लेखकों के हित का भी बहुत ख्याल रखता है.:)

      रामराम.

      Delete
  10. पैकेज डील बताओ सारी ग्रंथों की एक साथ... :) बेहतरीन!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब क्या पेकेज डील बतायें? सारा स्टाक खत्म हो चुका है.:)

      रामराम.

      Delete
  11. ब्लॉग्गिंग की दुनिया में इतिहास रचने जैसी हैं आपकी ये निर्मल हास्य लिए पोस्ट्स , बाकि किताबें तो एक से बढ़कर एक छाप रहे हैं

    ReplyDelete
  12. शेफाली जी और संगीता पुरी जी की किताब की १०० प्रतियाँ भिजवा दिजीये.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने आर्डर में देर करदी, सारा स्टाक बिक चुका है.:)

      रामराम.

      Delete
  13. ब्लॉग जगत का कल्याण अब ताऊ के कर-कमलों से ही संभव है। जय ताऊ, जय ताऊगिरी!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ताऊ तो जगत कल्याण के लिये ही जन्म लेते हैं.:)

      रामराम.

      Delete
  14. ब्लॉग जगत का कल्याण अब ताऊ के कर-कमलों से ही संभव है। जय ताऊ, जय ताऊगिरी!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (12-05-2013) मातृ दिवस विशेष चर्चा : चर्चा मंच १२४२ में "मयंक का कोना" पर भी है!
    मातृदिवस की शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  16. जय हो ताऊ :):)..ब्लॉग्गिंग सफल कर दित्ती :):).

    ReplyDelete
  17. ताऊ श्री मज़ा आ रहा है ... भई इतनी सारी किताबें एक साथ ... हमारे तो साल भर का कोटा हो गया ...

    ReplyDelete
  18. संग्रहनीय स्टाक है,अभी खरीदने का मन बना ही रहा था की स्टाक खत्म की सूचना मिली.अगली बार जल्दी से लाइन लगाएंगे,आभार.

    ReplyDelete
  19. भाई लठ्ठ गाढ़ दिए ताऊ नै .राम राम ताऊ सा !

    ReplyDelete
  20. घर बार बेच कर पोरा सेट खरीदने की तैयारी मेरा एक पड़ोसी कर रहह है !
    बहुत ही अच्छा व्यंग्य है !लगता है कि सहच मच का विज्ञापन है !!

    ReplyDelete
  21. समझ नहीं आ रहा , किस का ऑर्डर करें , किस का नहीं। ताऊ, अपनी पसंद की पुस्तक मुफ्त में भेज दो , समीक्षा के लिए। :)

    ReplyDelete
  22. जय हो ताउ ब्लोगजगत के सारे कच्चे चिट्ठे खोल रहे हो :)

    ReplyDelete
  23. ताऊ, ये भी ध्यान रखना कि नक्काल न आ जायें. सबसे पुराने और असली ताऊ प्रकाशन की किताबें लेकर.

    ReplyDelete
  24. वाह वाह क्‍या बात है .... ..
    आपकी लाइब्रेरी में मेरी भी पुस्‍तक शामिल हो गयी ..
    आपका बहुत बहुत आभार !!

    ReplyDelete
  25. ताऊ, हर समस्या पर ग्रंथ उपलब्ध है, धन्य है ये लेखक जो ब्लॉग पिपासुओं के हितवर्धन की सोचते है. आपका कल्याणकर्म विद्युताक्षरों में लिखा जाएगा.:)

    ReplyDelete
  26. ओहो !!

    किताबों के रेट तो आकाश छूने लगे .....सब माल बाद मैं मुझे दे दिजेयेगा ताऊ जी ....वो जमा करूंगी न ....स्विस बैंक मैं .....आप निश्चिंत रहिएगा .....और इसी तरह शानदार पुस्तकें प्रकाशित करते रहें ...हमारे पास बेहद शानदार ब्लोगर्स हैं।

    cheers !!

    ReplyDelete
  27. ओहो!!

    किताबों के रेट तो आकाश छूने लगे .....सब माल बाद मैं मुझे दे दिजेयेगा ताऊ जी ....वो जमा करूंगी न ....स्विस बैंक मैं .....आप निश्चिंत रहिएगा .....और इसी तरह शानदार पुस्तकें प्रकाशित करते रहें ...हमारे पास बेहद शानदार ब्लोगर्स हैं।

    Cheers !!

    ReplyDelete
  28. सभी को बहुत - बहुत बधाई...:)

    ReplyDelete
  29. सभी को बहुत - बहुत बधाई...:)

    ReplyDelete
  30. शुक्रिया आपकी प्रासंगिक सद्य टिप्पणियों का .

    ReplyDelete

  31. पुस्तकों के दाम कम क्या निशुल्क रखो .ब्लागिंग ने इन्हें अपेंडिक्स बनाके छोड़ दिया है .वेस्टि -जीयल ओर्गेन मात्र .

    ReplyDelete
  32. रॉयल्टी के बदले ये किताबें खरीद लेंगे !
    सभी लेखिकाओं को बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  33. आपके ब्‍लाग को पढकर शरीर में स्‍फूर्ति का अनुभव होता है ताउ आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  34. वाह,पुस्तकों के नाम पढ़ कर ही ज्ञान-चक्षु खुले जा रहे हैं -पारंगत रचयिताओं और सिद्ध परमाचार्य ताऊ महाराज को बधाई !

    ReplyDelete
  35. सभी लेखिकाओं को बधाई ....साथ ही ताऊ रामपुरिया जी को साधुवाद जो जगत कल्याण के साथ ब्लॉगर्स का भी कल्याण कर रहे हैं....

    ReplyDelete
  36. ताऊ रामपुरिया जी आपकी कल्पनाशीलता अद्भुत है...
    आपको सादर नमन...

    ReplyDelete

Post a Comment