Powered by Blogger.

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन - 2013 के विचारणीय बिंदु


यह जानकारी देते हुये अत्यंत हर्ष हो रहा है कि  अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन - 2013 के शुभारंभ सत्र की शुरूआत  डमरू वाले बाबाश्री ताऊ महाराज की विशेष वंदना और उनके संबोधन से हो चुकी हैं. 





देश विदेश के नामचीन ब्लागरों ने अपनी प्रविष्ठियां करवा ली हैं. जो भी ब्लागर भाई अभी तक अपना नामांकन नही करवा पाये हैं वो तुरंत करवा लें. आज का यह बुलेटिन खास  इसी बारे में नियमों की जानकारी देने के लिये प्रसारित किया जा रहा है. 

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन - 2013 के विचारणीय विषय और सत्र निम्नानुसार रहेंगे.

1. प्रथम  सत्र की शुरूआत में  डमरू वाले बाबाश्री ताऊ महाराज ब्लागिंग के पाषाण कालखंड से वर्तमान काल   तक के  इतिहास पर विशेष जानकारी देंगे. उनके भाषण का सीधा लाभ अनुपस्थित श्रोताओं को मिल सके इसके लिये बाबाश्री ने मोबाईल से भी प्रसारण की अनुमति दे दी है.  





इस शुभ अवसर पर  ताऊ प्रकाशन के  सद साहित्य का पुनर्विमोचन किया जाकर यह विक्रय के लिये उपलब्ध करवाया जायेगा. आप चाहे तों एडवांस बुकिंग भी करवा सकते हैं. बहुत ही सीमित प्रतियां उपलब्ध हैं.  विक्रय मूल्य अगली पोस्ट मे जारी किये जायेंगे.

2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिये सदी का महानायक ब्लागर सम्मान दिया जायेगा. जिसके लिये आपको  पांच ब्लागरों का नाम सुझाना है.  नाम तय होने के बाद वोटिंग प्रक्रिया शुरू होगी.

3. हिंदी ब्लाग लेखन से अधिकतर ब्लागर फ़ेसबुक की तरफ़ पलायन कर चुके हैं. इस पलायन को रोकने के लिये हिंदी ब्लागिंग बचाओ कमेटी के सुझाव अनुसार सिर फ़ुटोव्वल बहुत अहम मानी गई है. अत: सिर फ़ुटोव्वल के सुझाव सादर आमंत्रित किये जाते हैं. जिसका भी इस विषय में विशेष सहयोग और सुझाव होगा उसे दशाब्धि ब्लागर शिरोमणी के सम्मान से नवाजा जायेगा. 

कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में यह सुझाया है कि मौज लेने से ब्लागिंग का बेडा गर्क हुआ है अत: मौज लेने से ही यह बेडा वापस सुधार पर आ सकता है. क्योंकि जहां चीज गुम हुई है वहीं पर मिलने की संभावना है. अत:  मौज लेने के शालीन  तरीके सुझाने वाले ब्लागर को वर्ष 2013  का खुरपेंचिया ब्लागर शिरोमणी सम्मान दिया जायेगा. 

4. हिंदी ब्लागिंग में अब सिर्फ़ नाम के ही मठ बचे हैं और उनके शिष्य तो ना के बराबर बचे हैं. अत: नये मठाधीशों को अपने मठ स्थापित करने के लिये लायसेंस जारी किये जायेंगे. जो भी ब्लागर अपना मठ स्थापित करना चाहता हो उसे लायसेंस लेने के लिये बोली लगानी होगी. सबसे अधिक बोली लगाने  वाले ब्लागरों को ही लायसेंस जारी किये जायेंगे. बोली प्रक्रिया में कोई घोटाला ना हो इसके लिये एक निगरानी कमेटी का चुनाव भी इसी सम्मेलन में होगा लेकिन समिति के अध्यक्ष ताऊ श्री ही रहेंगे क्योंकि दूध की रखवाली बाबा की बिल्ली रामप्यारी ही कर सकती है.

5. पुराने मठों के मठाधीशों को अब यदि अपने मठ चलाने हैं तो तुरंत अपने लायसेंस रिन्यू करवाने होंगे. यदि कोई बिना लायसेंस के मठ चलाता पाया गया तो उस मठाधीश पर सख्त कानून सम्मत कार्र्वाई की जायेगी.  रिन्य़ुअल फ़ीस का मामला भी सम्मेलन के मुद्दों में रखा गया है.

6. कमेटी की सिफ़ारिश अनुसार जो भी ब्लागर फ़ेसबुक से वापस ब्लागिंग में लौटेगा उसे रियायती दर पर  मठ स्थापित करने की छूट दी जायेगी जैसे विशेष औद्योगिक क्षेत्र में उद्योग लगाने पर सरकारें बिजली पानी और टेक्स छूट प्रदान करती हैं.

7. उपस्थित ब्लागरों के रहने ठहरने और खाने पीने का इंतजाम होटल-ताऊ-पैलेस में किया गया है. जहां लेपटोप और वाईफ़ाई सुविधा मुफ़्त प्रदान की जायेगी.

8. सम्मेलन के सांध्य कालीन सत्र में विचार विमर्श के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा. इन सांस्कृतिक कार्यक्रमों में नाच, गाना, भजन, कव्वाली और लोक नत्य विशेष आकर्षण का केंद्र होंगे. जो भी इन कार्यक्रमों में अपनी प्रस्तुति देना चाहे वो निर्धारित फ़ीस जमा करवा के अपनी बुकिंग करवा लेंवे.

9. उपरोक्त मुद्दों के अलावा आप कोई विषय विचारार्थ रखवाना चाहते हों तो मि. रामप्यारे से rampyare74@gmail.com पर संपर्क करें.

10. किसी भी शंका के समाधान के लिये, बुकिंग के लिये, रूम रिजर्वेशन इत्यादि के लिये भी श्री रामप्यारे जी से rampyare74@gmail.com पर ही संपर्क करें. 

   

25 comments:

  1. ताऊ राम-राम...!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (01-05-2013) बुधवासरीय चर्चा --- 1231 ...... हवा में बहे एक अनकहा पैगाम ....कुछ सार्थक पहलू में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. ताऊ, बाहर एक दुकान भी लगवा लो जिसमें आप के खोजे तमाम नुस्खे बेचे जायेंगे और हां पहले इस बात का फैसला हो जाये कि पुरुस्कार देने किसे हैं फिर नामिनेशन करवाया जाये.

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लोगिंग का गिरा हुआ किला ताऊ महाराज के नेतृत्व में फिर से उठ खड़ा होगा। अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के बाद अंतर्ग्रहीय ब्लॉगर सम्मेलन भी आयोजित हो जिसमें मंगल और अमंगल ग्रहों के हिन्दी ब्लॉगर पार्थिव ब्लॉगरों के कंधे से कंधा मिलाकर एक दूसरे को भाषण-इंटरव्यू वगैरह दें ...

    ReplyDelete
  4. ताऊ ...
    क्या बात है, तेरी लिखी किताबों की
    कसम हिंदी ब्लोगिंग की तुझे गुरू बना, जो यह पुस्तकें पढ़ ले वह अपने आपको ब्लोगिंग मठाधीश तुरंत बना पायेगा !

    चिटठा रोगों के शर्तिया इलाज़ की ताऊ फार्मेसी निर्मित दवाओं की लिस्ट और चाहिए बाबा बामदेव भी फेल हैं तेरे आगे !

    ब्लोगिंग मास्टर कैसा हो
    अपने ताऊ, जैसा हो !
    शीशा सबको रोज़ दिखाए
    गुरु घंटालों जैसा हो !




    ReplyDelete
  5. ब्लॉग्गिंग के सरे गुर सिखा देगीं ये पुस्तकें..... और जो बिंदु प्रस्तुत लिए हैं उनके तो क्या कहने ....

    ReplyDelete
  6. हम तो पुस्तकों के शीर्षक देख मुग्ध हैं, कैसे लिखें इन किताबों पर समीक्षा।

    ReplyDelete
  7. हा हा हा हाहा ...शब्द नहीं है कुछ कहने को

    ReplyDelete
  8. जो भी ब्लागर फ़ेसबुक से वापस ब्लागिंग में लौटेगा उसे रियायती दर पर मठ स्थापित करने की छूट दी जायेगी,,,इस पर अमल होना चाहिए

    RECENT POST: मधुशाला,

    ReplyDelete
  9. वाह ! मजेदार रहेगा यह ब्लॉग सम्मलेन !!

    ReplyDelete
  10. हम तो किताबें देख के ही मुग्ध हैं.

    ReplyDelete
  11. वह ... इतना ज्ञान उपलब्ध है .... हम तो वैसे ही परेशान हो रहे थे .... हमारा नाम अभी लिखवाते हैं ...

    ReplyDelete
  12. वाह!बेहद रोचक.
    ब्लोगर देश स्थिति वैसे ही नाज़ुक बनी है देखें इन उपायों से कुछ इलाज हो सकेगा या नहीं!
    -------
    किताबों के नाम ही इतने जबरदस्त हैं कि उनके भीतर क्या होगा अंदाजा लगाया जा सकता है.
    बाबा ताऊ महाराज का ही एक नाम सुझाए देते हैं.पाँच में से बचे चार वो ज़रा सोच कर बताते हैं.
    ---
    वैसे...अगर ये सब लिखा हुआ '' बिंदु मात्र'' हैं तो भाषण /परिचर्चा/बहस आदि कैसी होगी?

    ReplyDelete
  13. इस महान सम्मान समारोह की दर्शक दीर्घा के 'पास' ज़ारी कब होंगे?या केवल लाईव टेलीकास्ट होगा?

    ReplyDelete
  14. हा हा हा .....बहुत सटीक लट्ठ प्रहार हुआ है ताऊ का इस बार ....

    ReplyDelete
  15. ताऊ सा ये सारा कमाल राज योग का है .अपने आत्म स्वरूप को पहचान शिव की याद में बैठने का है .एक ही मूल मन्त्र है :

    हमसो सोहम (सोऽहं )-हम ही देवता थे फिर हम ही देवता बनेंगे .पुजारी से पूज्य बनेगें .

    शिवोहम नहीं है यानी मैं स्वयं शिव नहीं हूँ शिव तो परम आत्मा है .जिसकी अपार ज्योति ,असीम गुण कभी छीजते नहीं है .हम आत्मा छीजती हैं .छीजते छीजते सतो प्रधान (सत युग)से तमो -प्रधान कलयुग (लौह युग )में चले आते हैं अपना दिव्य स्वरूप गंवाकर रावण बन जाते हैं .इस समय पूरी दुनिया ही लंका है (एक श्री लंका ही नहीं है )रावण का राज्य है पूरी दुनिया पर .

    इस समय सृष्टि तमोप्रधान हो गई है सारी कायनात गंधाने लगी है .हमारी ,हवा ,पानी, मिट्टी ,धरती ,आकाश सभी तो विकार ग्रस्त हो बेहद की प्रदूषित हैं .काया में फिर प्रदूषण क्यों नहीं आयेगा जो इन्हीं पञ्च तत्वों का जमा जोड़ है गठबंधन है गठ्बंधनिया प्रदूषित सरकारों की तरह .

    इसी समय शिव शक्तियां भी पृथ्वी पर अवतरित हैं .इसी घोर कलयुग में शिव का अवतरण हो चुका है .कोई उसे पहचान रहा है कोई नहीं भी .अविश्वास से भरा हुआ भय भीत है चलते फिरते जो पहचान नहीं रहा है .

    काया का बाजा बजाना अपने बस में करके कर्मयोगी बनो .हर कर्म शिव की याद में रहते करो .कर्मेन्द्रियाँ शुभ कर्म करने के लिए ही मिली हैं .सन्यासी बन हट योग में बैठने के लिए नहीं .

    यह राजयोग है आत्मा का शिव से (निराकार शिव परमात्मा )से पलक झपकते ही कनेक्ट होना है .यही ज्ञान और कर्म /भक्ति योग है .

    ॐ शान्ति .

    ताऊ सा आपका बहुत बहुत शुक्रिया इस पोस्ट को गुनने का .हौसला अफजाई करने का .

    ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  16. ब्लोगिंग को नया कलेवर नए आयाम देती पोस्ट .ब्लोगरीय तंज से भरपूर .नामचीन ब्लोगरों को पानी पिलाती हुई पोस्ट .

    हमसो सोऽहं (सोहम )-हम ही श्रेष्ठ ब्लोगर थे हम फिर से श्रेष्ठ ब्लोगर बनेगे .मुख चिठ्ठा (फेस बुक )छोड़ चिठ्ठे की और लौटेंगें .

    ॐ शान्ति .दूर करो ब्लोगर भ्रान्ति .

    ReplyDelete
  17. बढ़िया पोस्ट है ताऊ जी,
    आज दिनभर व्यस्त रही इसलिए देर से टिप्पणी कर रही हूँ !

    ReplyDelete
  18. फेसबुक ने सच ही हिन्दी ब्लोगिंग की दशा खराब कर रखी है .... लौटने वालों को कुछ तो रियायत मिलेगी ... ताऊ प्रकाशन की पुस्तकें बहुत जोरदार हैं .... मजमून क्या होगा यह सोच रही हूँ :):)

    ReplyDelete
  19. क्या बात है, यह पोस्ट तो ब्लॉगर्स को एकदम से सक्रिय बना देगी...बहुत सारे काम सुझा दिए हैं.
    अब पहले किताबें पढ़ ली जाएँ फिर सुझाव भेजे जायेंगे

    ReplyDelete
  20. फेसबुक से तलाक लेने वालों के लिए कुछ विशेष पुरस्कार भी होना चहिये.

    ReplyDelete
  21. फेसबुक से तलाक लेने वालों के लिए कुछ विशेष पुरस्कार भी होना चहिये.

    ReplyDelete
  22. ब्लॉगिंग को विलुप्त होने से ताऊ ही बचा सकता है। वैसे ताऊ लाइब्रेरी खोलकर अच्छा किया। आने वाली नस्लें इसे रेफरेंस के लिए इस्तेमाल तो कर सकेंगी।

    ReplyDelete
  23. ब्लोगिंग में इसी प्रकार का व्यंग्य विनोद और तंज चाहिए ..पलायान तभी रुकेगा .बढ़िया पोस्ट शुक्रिया आपकी निरंतर टिप्पणियों का .

    ReplyDelete
  24. ताऊ जी! क्षमा कीजिएगा! हम तो बहुत दिनों से ऑनलाइन ही नहीं आ पाए! ना ही ब्लॉग में लिखने के लिए ना ही फ़ेसबुक पर! कुछ अत्यधिक व्यस्तता के कारण तथा कुछ तबीयत नहीं ठीक होने के कारण ! :( हमारी एप्लीकशन अभी ले लीजिए प्लीज़!:-)
    और इतनी ढेर सारी सुंदर पुस्तकें... क्या फ्री में बँट रहीं हैं ???:):P
    ~सादर!!

    ReplyDelete