Powered by Blogger.

"वर्तमानकालीन ब्लाग धर्म में आपकी महती भूमिका"


प्रिय श्रोताओं, मैं रामप्यारे आज की शाम के सत्र में आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा की आप जानते हैं ताऊ टीवी द्वारा अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन - 2013 आहुत किया गया है. इस सम्मेलन के उदघाटन सत्र में सर्वप्रथम  "महान ब्लाग धर्म गुरू बाबा ताऊराम डमरू वाले"  के प्रवचन  होंगे. आज का विषय है "वर्तमानकालीन  ब्लाग धर्म में आपकी महती भूमिका" .

सबसे पहले  "ब्लाग धर्म गुरू  बाबा ताऊराम  डमरू वाले" के  स्वागत में   एक भजन संध्या का आयोजन किया गया है जिसमें  हारमोनियम बजाते हुये  ताऊ  वंदना प्रस्तुत करेंगे प्रसिद्ध भजन सम्राट श्री सतीश सक्सेना, उनके साथ तबले पर संगत करेंगे बेचैनों की बेचैन आत्मा महान ब्लाग-तबला वादक श्री देवेंद्र पाण्डेय और ढोलक बजा रहे हैं महान यायावार ढोलक वादक श्री ललित शर्मा




अब श्री सतीश सक्सेना प्रस्तुत कर रहे हैं श्री ताऊ वंदना......


जय ताऊ देवा !
ॐ जय ताऊ देवा 
भूत प्रेत सब भागे 
नाम सुमर लेवा !

चतुरबुदधि का मालिक 
हर धंधा करता !
भ्रष्टाचार भगा कर 
निज जेवें भरता !


जिसके पीछे पड़ता 
त्राहि त्राहि करता  
सुबह शाम ताई से 
रोज़ खूब पिटता ! 

जाके गुण जो गावै 
चमचापति बनता 
नोट खूब घर बरसै 
कष्ट नही पाता। 

ऊँ जय ताऊ देवा

अब  "ब्लाग धर्म गुरू  बाबा ताऊराम  डमरू वाले"  अपना प्रवचन देंगे.....


प्यारे भक्तजनों...आपको हमारा अरबी अरबी आशीर्वाद. वैसे तो हम ऊल्लू टेढा करने तक ही सीमित रहते हैं हमें किसी की भलाई बुराई में कोई दिलचस्पी नही रहती. पर आयोजकों के निवेदन और आपका कल्याण करने के लिये हम यहां पधारे हैं.

हमें कहा गया है कि हम आपको  "वर्तमानकालीन  ब्लाग धर्म में आपकी महती भूमिका" विषय पर कुछ कहें पर इस पर कहने जैसा कुछ नही है. धर्म और खासकर ब्लाग धर्म के लिये आपको नित्य प्रति एक काम अवश्य करना चाहिये, वो यह कि रोज सुबह उठकर हमारे बैंक अकाऊंट में अपनी श्रद्धा अनुसार दक्षिणा ट्रांसफ़र करवाना चाहिये. इससे आपके सब ब्लाग पाप दूर हो जायेंगे.

इसके अलावा हमसे गुरू दीक्षा ग्रहण करके अपना परलोक सुधारना चाहिये. हम जो गुरू मंत्र आपको देंगे उससे आप समय आने पर अपने ब्लाग सहित सीधे अपने कर्मों के अनुसार नरक या स्वर्ग में जायेंगे. यह शक्ति सिर्फ़ और सिर्फ़  हमारे द्वारा दिये गये गुरू मंत्र में ही है. हमारे मंत्र में इतनी शक्ति है कि उसके जाप से आप हैलीकाप्टर  दुर्घटना में भी बच जायेंगे. जिसका चमत्कार आप देख ही चुके हैं कि कैसे हैलीकाप्टर के गिरने के बावजूद भी हमारा बाल  बांका नही हुआ.

इसके अलावा आप निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें.

1. ब्लाग पर धन (टिप्पणी) कमाने के लिये हमेशा उल्टा ज्यादा और सीधा कम लिखें. अपनी भडास ज्यादा से ज्यादा निकालें इससे आपका दिमाग ताजा रहेगा और सामने वाले का खराब.

2.  कोई भी काम की बात ब्लाग पोस्ट पर ना लिखें. याद रखिये कि कोई भी ब्लागर आपकी पोस्ट  नही पढता. एक सरसरी निगाह डालकर एवम  दूसरे की टिप्पणियां देखकर "तूने मेरी खुजाई मैं तेरी खुजा देता हूं" की तर्ज पर टिप्पणी ठोक कर  चलता बनता है.

3.  अब आता हूं आज के मुख्य विषय  "वर्तमानकालीन  ब्लाग धर्म में आपकी महती भूमिका" पर. मेरा यह मानना है कि ब्लागिंग वापस उसी दौर में पहुंच चुकी है जहां से पाषाण युग शुरू हुआ था. चहुंओर एक उदासी छाई हुई है.  अधिकतर पोस्ट सूनी मांग जैसी पडी हैं.  इसके लिये आप हमारे बैंक अकाऊंट में जितनी ज्यादा से ज्यादा रकम भिजवायेंगे उतनी ही आपकी पोस्ट पर टिप्पणियां आने की संभावना बढ जायेगी.

4. अब आते हैं टेक्नीकल बात पर. ब्लाग पोस्ट का धन तो टिप्पणियां ही होती हैं. अत: अपने कमेंट बाक्स में प्रत्युतर का आप्शन अवश्य लगालें और अधिक से अधिक प्रत्युत्तर देवें. प्रति टिप्पणी बाबा को दक्षिणा भेंट देते रहेंगे तो आपको दिन दूनी रात चौगुनी टिप्पणियां मिलती रहेंगी. दक्षिणा भेंट मिलती रहेगी तो   बाबा अपनी प्रत्युत्तर टिप्पणी टीम के द्वारा आपकी पोस्ट को गुलजार करवा देंगे.

ब्लाग भक्तगणों, हम कभी भी मिथ्या नही बोलते यदि हम मिथ्या बोलते हों तो परमात्मा आप सबके ब्लाग टिप्पणी सहित डिलीट कर दे. अब तो रामराम बोलना पडेगा ना....

ब्रेक...ब्रैक....ब्रैक......ब्रेक...ब्रैक....ब्रैक......ब्रेक...ब्रैक....ब्रैक......

 ब्लागिंग में नई जान फ़ूंकने और सभी ब्लागर्स  की राय जानने के लिये    अंतर्राष्ट्रीय हिंदी ब्लागर सम्मेलन - 2013 के अगले सत्र में लंच के बाद विचार विमर्श होगा. अब आप सभी लोग डिनर के लिये पधारे और अपने अपने शयन कक्षों में जाकर विश्राम करें.


23 comments:

  1. अच्छा प्रस्तुति ताऊ ,व्यंग के साथ मनोरंजन अच्छा लगा

    latest postजीवन संध्या
    latest post परम्परा

    ReplyDelete
  2. हा हा हा हा!!! वाह! लाजवाब लेखन | आनंदमय और बहुत ही सुन्दर, सुखद अभिव्यक्ति विचारों की | पढ़कर प्रसन्नता हुई और खूब हंसी भी आई ताऊ जी | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  3. @इसके अलावा आप निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें....

    ध्यान अवश्य दिया है पर अमल करना मेरे लिए तो
    बड़ा मुश्किल है :(
    मस्त लगी पोस्ट !

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग जगत का सूक्ष्म अवलोकन .... :):)

    ReplyDelete
  5. बहुत ही मनोरंजक प्रस्तुति,जी हो ताऊ की.

    ReplyDelete
  6. बातें तो सारी कमाल की और ध्यान रखने वाली हैं :)

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया,मस्त प्रस्तुति मजा आ गया !!!

    Recent post: तुम्हारा चेहरा ,

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग धर्म पर प्रवचन अत्यंत लाभकारी रहा.

    ReplyDelete
  9. बढ़िया व्यंग्य विनोद साथ ही ब्लागिंग में सन्नाटा शमशानी वाह क्या बात है और मोर्फिंग का तो ज़वाब ही नहीं है क्या फोटो शॉप दिखया लगाया है .

    ReplyDelete
  10. वंदना का मजा आ गया ओर मस्ती तो धमाल है ही ... बाकी हम तो खुजाते ही रहते हैं ... हा हा ..

    ReplyDelete
  11. पोस्ट बिना पढ़े सुमन जी की टिप्पणी देख काम चला रहा हूँ ...

    ताऊ टिप्पणियों का अकाल है मगर देकर जा रहा हूँ , मेहरवानी कर सारी टिप्पणियों का पैसा , भजन गाने के मेहनताने के साथ , जल्दी भिजवाना !

    पंडित जी व् पाण्डेय जी की आवभगत में शाम कुछ ज्यादा ही खर्च हुआ है !वे दोनों बिना मूड बने संगत करने को तैयार ही नहीं थे !

    अब तेरे खजाने के सहारे हैं ताऊ...


    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार के "रेवडियाँ ले लो रेवडियाँ" (चर्चा मंच-1230) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  13. :) हा! हा! हा!
    बहुत ही मज़ेदार.
    ऐसा ब्लोगोप्देश तो तो सिर्फ ताऊ जी ही दे सकते हैं.प्रवचन सुन कर धन्य हुए.
    इस तरह के अनमोल प्रवचन हेतु एक दिन निर्धारित कर दें.


    ReplyDelete
  14. जय हो, जय हो, ज्ञान का सम्मान हो।

    ReplyDelete
  15. बोल ताइपति ताऊचन्द्र जी की जय ! :)

    ReplyDelete
  16. जय हो ...ज्ञान की बाते ज्ञात हुई

    ReplyDelete
  17. नया रूपक तत्व लिए आई है यह बढ़िया रचना .

    ReplyDelete
  18. नया रूपक तत्व लिए आई है यह बढ़िया रचना .

    ReplyDelete
  19. जिसके पीछे पड़ता
    त्राहि त्राहि करता
    सुबह शाम ताई से
    रोज़ खूब पिटता ! .हो-हो ...ऐसा क्या!
    .. .बहुत खूब मनोरजक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete