Powered by Blogger.

"वाह वाह ताऊ क्या लात है?" में श्री सतीश सक्सेना

हाय...अंक्ल्स...आंटीज... भैयाज एंड  दीदीज...मैं मिस रामप्यारी,  "ताऊ टीवी फ़ोडके चैनल" के होली कार्यक्रम "वाह वाह ताऊ क्या लात है?"  में  अपने कैमरामैन रामप्यारे के साथ आपका बादाम बजा लाती हूं. आप सोच रहे होंगे कि ये  मिस रामप्यारी अचानक कहां से आ टपकी? तो चिंता मत किजिये मैं दिमाग खाने और फ़ालतू बकवास करने का  हाई डिग्री कोर्स करने विदेश गई थी जहां से अपना कोर्स पूरा करके वापस आ गई हूं. अब मैं अक्सर आपका दिमाग खाती ही रहुंगी. 
वैसे तो लोग कहते हैं कि मिस. रामप्यारी को चूहे खाने में बहुत मजा आता है पर सच बताऊं,  मुझे जो मजा लोगों का  दिमाग  खाने में  आता है ना...उससे ज्यादा स्वाद  किसी और चीज में नही आता...और अब तो मैने इसमे बिलायती डिग्री भी हासिल कर ली है.  पर आप घबराईये मत, आज मैं आपका दिमाग  नही खाते हुये  सीधे  लिये चलती हुं "वाह वाह ताऊ क्या लात है?" कार्यक्रम में.....

आज के कार्यक्रम की शुरूआत कर रहे हैं मशहूर ब्लागर और मार्मिक गीतकर. श्री सतीश सक्सेना अंकल....आईये अंकल...और माईक थामकर....सर्व प्रथम  गुरू घंटालों की आरती उतार कर कार्यक्रम का फ़नाफ़िल्ला कर दिजिये.......


प्यारे ब्लागर साथियों,  "ताऊ टीवी फ़ोडके चैनल" के "वाह वाह ताऊ क्या लात है? कार्यक्रम में आने से पहले ही एंटी भांग डोज लेकर आया हूं....इसीलिये  ताऊ टीवी की स्वागत परंपरा में  भांग के पांच  गिलास खींचने के बाद भी सही सलामत हूं और  होली के विभिन्न रंग लिये एक रचना पेश कर रहा हूं....दाद दिजियेगा...... सुनिये...


नमन करूं ,
गुरु घंटालों को !
पाओं छुऊँ , 
भूतनियों  के !
ताऊ चालीसा को पढ़ते,खेलें  ब्लोगिंग होली है !  
आओ छींटें मारे, रंग के,  बुरा न मानो होली है !

गुरु है, गुड से 
चेला शक्कर 
गुरु के अली 
पटाये जाकर  ! 
गुरु भाई से राज पूंछकर, गुरु की गैया, दुह ली है !
तीखे तीरंदाज़ ,सह्रदय , रंग मिज़ाज  त्रिवेदी हैं !  

ब्लोगिंग करते 
सब चलता है !
कुछ भी लिखदो 
सब छपता है !
जिनको कहीं न सुनने वाले,यहाँ पर बजतीं ताली हैं !
यहाँ पन्त जी और  मैथिली , अक्सर भरते पानी  हैं !

चार कोस पे 
पानी बदले ,
आठ कोस  
पर   बानी  !
देसी बानी,पढ़ी न जानी , अर्थ  अनर्थ  पहेली है  !!
किसके कपडे साफ़ बचे हैं,किसकी रंगत गोरी है ! 

कचरा लिख दो ,
कूड़ा लिख दो !
कुछ ना आये ,
कविता लिख दो 
कवि बैठे हैं, माथा पकडे , कविता  कैसी  हो ली  है !
एक पंक्ति में,दो शब्दों की, माला  लगती सोणी है !

कापी कर ले 
जुगत  भिडाले  
ब्लोगर बनकर  
नाम कमा  ले ,
मधुर गीत की बातें अब तो , बात पुरानी हो ली है !
ताऊ ने हाइकू लिखमारा,शिकी की गागर फोड़ी है ! 
 
अधर्म करते 
धर्म सिखाते  
बड़े रसीले ,
शीर्षक लिखते  !
नज़र बचाके ,कैसे उसने ,दूध में गोली, घोली है !  
नया मुखौटा लगा के देखो,पीठ में मारी गोली है !

गुरुजन  बैठे  ,
आस लगाये !
इतना लिखा 
न कोई आये !
नज़र  न आये  कोई भौजी  ,किससे खेले ? होली है  !
कुछ आहट दरवाजे आई,कहीं तो पायल छनकी है !

ब्लू लेवल की 
बोतल आई ,
नई कार 
बीबी भी लायी
बाबू जी का, टूटा चश्मा ,माँ की साडी आनी है  !
समय ने, बूढ़े आंसू देखे,यही तो प्यारे होली है !

 हौंसला अफ़्जाई का शुक्रिया साथियों....आपकी वंस मोर...वंस मोर की आवाज मुझ तक आ रही है...पर क्या करूं...मुझे  लगता है कि होली की भांग के पांचवें गिलास का असर हो रहा है...अत: इसी के साथ विदा चाहुंगा...आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक....ब्रेक....ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक....ब्रेक....ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक....ब्रेक....ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक....ब्रेक....ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक....

ब्रेक के बाद आपका स्वागत है...ताऊ टीवी के नृत्य संगीत  कार्यक्रम  "नाच मेरी बुलबुल" प्रतियोगिता की पिछली महफ़िल में  हरियाणा का  मशहूर "ठेका नृत्य" प्रस्तुत किया था  मिस. दराला  ने ....और संगत की थी ...ब्लागिस्तान के मशहूर ठेका नृत्य सम्राट  श्री सतीश महाराज  और बोतल तोड नृत्य सम्राट श्री समीर महाराज...  ने,



आज की  "नाच मेरी बुलबुल" प्रतियोगिता में ब्लागिस्तान की मशहूर चोटी तोड डांस की मल्लिका सुश्री सतीशा देवी पेश करने जा रही हैं "दो चोटी तोड डांस".....दर्शकों दिल थाम कर बैठिये और मजा लिजिये सुश्री सतीशा देवी के  "दो चोटी तोड डांस"  का.......


चोटी नृत्य में सुश्री अजया देवी, सुश्री रूपा देवी, सुश्री सतीशा देवी,
सुश्री दिगंबरा देवी और सुश्री काजल देवी

ब्लागिस्तान की मशहूर नृत्यांनाएं.....मटका तोड  डांसर सुश्री अजया देवीबेलन तोड डांसर सुश्री रूपा देवीचिमटा तोड डांसर सुश्री दिगंबरा देवी और हुजूर दिल थाम के देखिये ...दिल तोडू लठ्ठ डांस की मल्लिका सुश्री काजल देवी को... जो आज सुश्री सतीशा देवी के साथ संगत कर रही हैं.......... 

ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक......ब्रेक...ब्रेक...ब्रेक..  

अब हम एक दीर्घ विराम लेते हैं और कुछ समय पश्चात लौटेंगे....तब तक आप  कहीं भी कुछ भी... करके  लौट  आईयेगा...तब तक के लिये मिस रामप्यारी की रामराम..........

(शेष भाग अगले अंक में....)




34 comments:

  1. हा हा हा ! होली का सतीश छाप बढ़िया गीत।
    अब तो बस ताऊ ताई की जोड़ी देखनी है, होली में ।

    ReplyDelete
  2. बढ़िीया व्यंग्य!
    ताऊ राम-राम...!
    अब तो लगने लगा है कि होली आ ही गयी है!

    ReplyDelete
  3. हा हा हा हा हा जय हो ताऊ जी , आपके आने से होली होली सी लगने लगी है कसम से रंगों का असर अब पक्का चढेगा ये यकीन है , मेन आइटम डांसर तो लिल्लन टाप लग री है ताऊ ..कमरिया करे लपालप ..लिल्लन टाप लागेलू टाईप से ..अगले एपिसोड का इंतज़ार है :)

    ReplyDelete
  4. jai Ram ji ki .....
    holi ki hardik shubhkamnaye....
    ......jai ho tau maharaj ki.....

    ReplyDelete
  5. अब जमेगी महफिल होली की ... जय हो ताऊ आपकी जय हो !


    आज की ब्लॉग बुलेटिन आम आदमी का अंतिम भोज - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. बड़ी झमाझम रिपोर्टिंग है गाना है डांस है सब कुछ है ...

    ReplyDelete
  7. वाह ताऊ वाह, चोटी तोड डांस में तो आनंद आगया, सारी ही नृत्यांगनाएं मंजी हुई हैं.:)

    ReplyDelete
  8. वाह ताऊ वाह, चोटी तोड डांस में तो आनंद आगया, सारी ही नृत्यांगनाएं मंजी हुई हैं.:)

    ReplyDelete
  9. और रामप्यारी भी अब तो हाई डिपलोमा करके आ गई है...लगता है फ़िर नई धमाल कमाल करेगी.

    ReplyDelete
  10. और रामप्यारी भी अब तो हाई डिपलोमा करके आ गई है...लगता है फ़िर नई धमाल कमाल करेगी.

    ReplyDelete
  11. रामप्यारी हमारा माथा मत खाना...खाना है तो चूहे खा या फ़िर वहीं तेरे ताऊ टीवी स्टुडियो में बेलन तोडू...चिमटा तोडू...आंटियों का माथा खा.:)

    ReplyDelete
  12. ये तो अजब गजब होली धमाल है ताऊ...हमको भी डांस आता है, मैं भी आऊं क्या?

    ReplyDelete
  13. होली का आनन्द पूर्ण मिल रहा है।

    ReplyDelete
  14. जहाँ होली की ऐसी रंगारंग महफ़िल हो, नाच गाना,मस्ती की भांग पीने पीलाने वाले हो तो मन पर खुमारी छाएगी ही:)
    सच में ताऊ जी, जीवन उन गंभीर लोगों के लिए नहीं है आप जैसे चंद जिंदादिलों के लिए है ...!

    ReplyDelete
  15. होली का चढ़ने लगा, धीरे-धीरे रंग।
    ताऊ के संसार में, बहुत निराले ढंग।।
    --
    आपकी इस पोस्ट की चर्चा आज 16-03-2013 के चर्चा मंच पर भी है!

    ReplyDelete
  16. ...चूनर सरकी होली में
    धोती खुल गई होली में ।
    ताऊ-ताई लिए बाल्टी
    भंग पी रहे होली में।।:)

    ReplyDelete
  17. आनन्द आनन्द आनन्द :-)

    ReplyDelete
  18. नमन करूं ,
    गुरु घंटालों को !
    पाओं छुऊँ ,
    भूतनियों के !
    ताऊ चालीसा को पढ़ते,खेलें ब्लोगिंग होली है !
    आओ छींटें मारे, रंग के, बुरा न मानो होली है !

    हां-हा-हा-हा।।। अग्रिम शुभकामनये ताऊ ! :)

    ReplyDelete
  19. je baat......mahfil to itthe jame hain............


    holinam.

    ReplyDelete

  20. अब तो होली के अवसर पर ही आपस में मिलना और हंसना रह गया है !

    लोगों के पास हंसने का समय ही नहीं रहा है !हँसते हुओं को देख त्योरियां चढ़ाने वालों की कमी नहीं !

    हास्य व्यंग्य से ब्लॉग जगत में होली की शुरुआत करने हेतु बधाई ताऊ !

    ReplyDelete
  21. हा-हा-हा
    मजा आ गया

    हमें भी चढने लगी है

    प्रणाम

    ReplyDelete
  22. बढ़िया है आदरणीय--
    आभार आपका ||-

    ReplyDelete
  23. हा हा ... होली का गजब खेल शुरू हो गया है ... मज़ा आ गया ताऊ श्री ...
    छोटी डांस तो अभी शुरू हुआ है ... आगे क्या होने वाला है ...

    ReplyDelete
  24. रामप्यारी विदेश से लौटी है....असर दिख रहा है...गुड!वैरी गुड रामप्यारी!कीप इट अप!
    ----------
    सतीश जी ने ब्लॉग्गिंग करने वालों को खूब समझा है!
    होली के बहाने बढ़िया कटाक्ष!
    रोचक .

    ReplyDelete
  25. होली का रंगा रंग त्यौहार आप सब को मुबारक हो ,,शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  26. bahut badhiya rang ka nasha chha raha hai......

    ReplyDelete
  27. हा हा हा... होली का ये रंग हमने पहली बार देखा...
    समझ नहीं आ रहा...किसकी तारीफ़ करें...किसकी नहीं.... :-) :P
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  28. हा हा हा... होली का ये रंग हमने पहली बार देखा...
    समझ नहीं आ रहा...किसकी तारीफ़ करें...किसकी नहीं.... :-) :P
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  29. ताऊ टी.वी. के इस सालाना उत्सव के आल टाईम चैंपियन हैं हमारे सतीश भाईजी, संवेदनशील और सज्जन जन।

    ताऊ को राम राम पहुँचे और सतीश भाईजी को सलाम।

    ReplyDelete