Powered by Blogger.

छिछोरापन, टंगडी खींच युद्ध, मौज अपनी





1
छिछोरापन
टंगडी खींच युद्ध
मौज अपनी


2
बदतमीज
आशिक जमाने में
संस्कार कहाँ


3
लैला मजनूं
मुश्किल में युगल
पंच निर्णय


4
चुभती ठंड
बसंत का मौसम
तपते प्रेमी


5
तू मेरी जान
दो से हो गये चार
होश में आए



16 comments:


  1. बड़ा छिछोरा ताऊ आया
    रंग लगाये, होली है !

    बदतमीज़ हैं आशिक ताऊ
    संस्कार की होली है !

    लैला मजनू पढता ताऊ !
    यही तो प्यारे होली है !

    चुभती ठंडक के मौसम में
    तपता प्रेमी ताऊ है !

    एक बार में जन्मे छः हैं !
    बात न माने ताऊ है!

    ताई रोये, देख फसल को !
    बुरा न मानो होली है!


    ReplyDelete
  2. बढ़िया विषय-

    ताल, लताड़
    वेलेंटाइनी हाल
    घर जंजाल ||

    आभार आदरणीय ||

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर हाइकू.

    ReplyDelete
  4. :)) रोचक हाईकु ... ताऊ जी !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह सटीक हाइकू ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    सभी हाइकू बहुत धारदार हैं!

    ReplyDelete
  7. वेलेंटाइन और बसंत साथ साथ -- बहुत बढ़िया रंग।

    ReplyDelete
  8. सटीक .... मौजूदा परिवेश में...

    ReplyDelete
  9. वाह ताउजी

    ज़माने बाद ....
    ये भी शुरू कर दिया ......
    उम्दा !!

    नमस्कार भी
    ज़माने बाद :)















    ReplyDelete
  10. वाह!
    बसंत का असर दिख रहा है तायकू सॉरी..हायकू स्पेशल पर.
    बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  11. बढिया है ....आजकल हाइकु ही हाइकु है :)))

    ReplyDelete