एक गौरैया, फ़ुदकती थी यहां, अब कहां है




1
एक गौरैया
फ़ुदकती थी यहां
कहां है अब 


2
सीता व राम
परिणय के बाद
जूझते रहे


3
शिव शंकर
महा औघड दानी
स्वयं बेघर


4
राधा व कृष्ण
बिना किसी बंधन
एक हो गये


5

कदंब भोज
गोपियों संग रास
महाभारत


Comments

  1. हर दौर के अलग-अलग हाइकु ...बहुत बढिया

    ReplyDelete
  2. ग़ज़ब !
    आधुनिक सोच।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. सबकी एक कहानी है,
    सुनकर आज सुनानी है।

    ReplyDelete
  4. ब्लॉगर ताऊ का नया अंदाज़ भी बढ़िया है ...

    ReplyDelete
  5. देश के 64वें गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-01-2013) के चर्चा मंच-1137 (सोन चिरैया अब कहाँ है…?) पर भी होगी!
    सूचनार्थ... सादर!

    ReplyDelete
  6. वाह! ताऊ जी वाह! एक से बढ़ कर एक ...
    फिर भी मेरी पसंद ..
    शिव शंकर
    महा औघड दानी
    स्वयं बेघर
    वाह! राम-राम जी !

    ReplyDelete
  7. गणतंत्र दिवस २६/०१/२०१३ विशेष ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. सभी हायकू बहुत अच्छे हैं।

    गौरय्या हमारे यहाँ तो कई सारी आती हैं।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया हायकू....
    लाजवाब!!
    गणतंत्र की बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !!

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  10. सुंदर हाइकु ...गौरया तो सच में खो गयी.....

    ReplyDelete
  11. सभी एक से एक सुन्दर
    पर खास यह है ....
    सीता व राम
    परिणय के बाद
    झूजते रहे

    राधा व कृष्ण
    बिना किसी बंधन
    एक हो गये

    सटीक ...

    ReplyDelete
  12. कितना दुःख कहे
    मन कल्पित
    अंदर दबायेँ हैँ ।

    ReplyDelete
  13. शहर में तो गौरैया के दर्शन दुर्लभ होते जा रहे हैं ..
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  14. बढ़िया हाइकु .... राम कृष्ण शिव सबको समेट लिया ।

    ReplyDelete
  15. सीता व राम
    परिणय के बाद
    जूझते रहे

    वो ही क्या जूझे , सभी जूझते है :)

    ReplyDelete
  16. अब ये ब्लाग सीधे-सीधे ही सीरियस होने लगा है

    ReplyDelete
  17. भई राम राम ... हाइकू पे हाथ मजबूत हो रहा है ताऊ श्री ...
    राम राम ...

    ReplyDelete
  18. ताऊ जी को सदर प्रणाम ,अच्छे हायकू अलग अलग विषयवस्तु नए दृष्टिकोण के साथ ,बहुत बहुत साधुवाद

    ReplyDelete
  19. सही कहा। कहाँ फुदकती है गौरेया।
    कृपया मेरे लेख "एक जानकारी गौरेया के बारे में" को भी पढ़े।
    ब्लॉग का नाम :- गौरेया
    ब्लॉग का पता :- gaureya.blogspot.com

    अगर हो सके तो, गौरेया संरक्षण के लिए "गौरेया" ब्लॉग को फॉलो करे। धन्यवाद।

    ReplyDelete

Post a Comment