Powered by Blogger.

प्रेमी प्रेमिका, दूध और शक्कर, डायबिटीज





1.
प्रेमी प्रेमिका
दूध और शक्कर
डायबिटीज


2.
पति व पत्नि
होते ही बच्चे चार
लठ्ठमलठ्ठा



3.
धणी लुगाई
गाडी के दो पहिये
पूर्व पश्चिम


4.
ब्लाग जगत
सच जीवन जैसा
क्षण भंगुर


5.
जिंदगी सौदा
कुछ लिया ना दिया
विदा हो गये



23 comments:

  1. हाइकू लिखना भी एक अच्छी मेंटल एक्सार्सिज है।

    ReplyDelete
  2. आज तो ताऊ गंभीर लग रहा है ...
    किसी कविसम्मेलन से न्योता तो नहीं मिल गया ??
    धाँसू हाइकू !!

    ReplyDelete
  3. जिंदगी सौदा
    कुछ लिया ना दिया
    विदा हो गये

    Khoob Kaha....

    ReplyDelete
  4. जय जवान जय किसान जय हिन्द - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. बिना किराया
    जिंदगी है सफ़र
    लम्बी दूरी का...

    ReplyDelete
  6. जिंदगी सौदा
    कुछ लिया ना दिया
    विदा हो गये
    -बहुत उम्दा~!

    सभी हायकू अलग -अलग रंग लिए हैं ,अच्छे लगे यह अंत वाला खास लगा.

    ReplyDelete
  7. हाइकू बहुत अव्च्चे लिखे हैं |क्या बताएँगे हाइकू और क्षणिका में क्या अंतर होता है |
    आशा

    ReplyDelete
  8. @ Asha Saxena ji


    हाईकू और क्षणिकाओं  के बारे में आप अल्पना वर्मा जी की इस पोस्ट से जानकारी प्राप्त कर सकती हैं.



    रामराम.

    ReplyDelete
  9. वाह, क्या बात है, कम शब्द, गहन संबंध..

    ReplyDelete
  10. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार (12-1-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  11. पति व पत्नि
    होते ही बच्चे चार
    लठ्ठमलठ्ठा

    सत्य कहा ...
    सभी हाइकू मस्त है !

    ReplyDelete
  12. ताऊ काहे विदेशी हाइकु के पीछे लठ्ठ लेकर पड गए हो, अपनी शैली में ही लिखो भाई।

    ReplyDelete
  13. सच्चाई से रु-बी-रु कराते ताऊ जी कम शब्दों में !
    आभार!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-12-2013) को (मोटे अनाज हमेशा अच्छे) चर्चा मंच-1123 पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  15. सभी हाइकु बहुत बढ़ियाँ
    :-)

    ReplyDelete
  16. ताउ डाट इन
    मस्ताने का अड्डा
    प्यारा लागेँ ।
    [आप आये दिन हायकु लिखने पर उतर आये अब लगता हैँ हमेँ भी कमेँट के लिए हाइकु सिखना होगा अभी उपर जो लिखा वो ठीक हैँ ना ]

    ReplyDelete
  17. कुछ लेना न कुछ देना ,फिर भी ...
    ताऊ साहित्यकार होने लगे हैं , पहले से ही है , अब दिखने लगे हैं!!

    ReplyDelete
  18. राम राम ताऊ ...
    आजकल हाइकू पेल फाहे हो ... ठीक ठाक तो है सब ... हा हा ...
    लोहड़ी की बधाई ...

    ReplyDelete
  19. ताऊ जी , आपके तायकू बढ़िया लगे... :)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  20. जिंदगी सौदा
    कुछ लिया ना दिया
    विदा हो गये

    साक्षात सत्य

    ReplyDelete
  21. पति व पत्नि
    होते ही बच्चे चार
    लठ्ठमलठ्ठा
    वाकई :) मकर संक्राति की मंगलमय कामनाये !

    ReplyDelete
  22. क्या बात है ताऊ जी :)बडी दिमागी कसरत हो रही है आज कल

    ReplyDelete