Powered by Blogger.

बहु बेटियां, गांव की अमानत, अब ना रही






(1)
 बहु बेटियां
गांव की अमानत
अब ना रही


(2)
 सर्द हवाएं
लू जैसा एहसास
जमाना कैसा


(3)
मेरा भारत
गांव और शहर
जुदा हो गये


(4)
 बालीवुड में
बहस बलात्कार की
खुद में झांको


(5)
 सोप ओपेरा
ऊल्लू जैसे देखते
बौराए लोग


25 comments:

  1. करंट अफेयर्स और आपके हाइकु -- माशाल्लाह क्या बात है !
    एकदम टॉप क्लास।

    ReplyDelete
  2. ताऊ कमाल कर दिया, हाईकु ने धमाल कर दिया।

    ReplyDelete
  3. स्वयं से पृथक जीवनशैली देख रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर हाइकू

    ReplyDelete
  5. वाह वाह ... शशक्त ... सामयिक ... प्रभावी ... सच का पुट लिए हुवे ...
    राम राम जी ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सटीक और बहुत कुछ समेटे हैं यह तीन-तीन लाइनाँ!

    ReplyDelete
  7. लाज़वाब और सार्थक हाइकु...

    ReplyDelete
  8. सभी हाइकू सटीक लगे !

    ReplyDelete
  9. .बहुत सुन्दर हाईकू
    नई पोस्ट :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. वाह आपका अधिकार तो केवल गद्य पर ही नहीं है

    ReplyDelete
  11. तीन तीन पंक्तियों में

    सारी बातें कह दी गई

    हैं .....वाकई कमाल का धमाल

    ReplyDelete


  12. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥



    हाइकु ?
    ...और ताऊ के लिखे हुए ?!
    नए साल के नए रंग दिखने लगे हैं ...
    :)

    बालीवुड में
    बहस बलात्कार की
    खुद में झांको

    वाह ! वाऽह ! वाऽऽह !
    क्या बात है !

    आदरणीय ताऊ जी
    राम राम !

    ताऊ ग़ज़ब !
    लिखे बेहतरीन...
    सारे हाइकु !


    ऐसे ही सुंदर , सार्थक , श्रेष्ठ सृजन के साथ ब्लॉग पर प्रगट होते रहें …

    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete
  13. गांव चौबारे छूटे तो सभ्‍यता भी छूट गयी।

    ReplyDelete
  14. ताऊ के सदाबहार हास्य से जुदा संवेदनाओं से भरी सहज स्वाभाविक प्रतिक्रिया!

    ReplyDelete
  15. एक टिप्‍पणी पूर्व में भी लिखी थी, लेकिन कहीं दिखायी नहीं दे रही। ताऊ क्‍या घोटाला है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. घोटाला तो सरकार करती हैँ ..वो भी तब ! जब चुनाव जित जाती हैँ ।

      Delete
  16. घोटाला तो सरकार करती हैँ ..वो भी तब ! जब चुनाव जित जाती हैँ ।

    ReplyDelete
  17. सभी हायकू गहन अर्थ लिये हुए हैं.
    बहुत अच्छे हैं.

    ReplyDelete
  18. भारत के गाँव फिर क्या पहले जैसे रहें है
    पहले जैसे अब कोई बात है ही नहीं

    ReplyDelete