Powered by Blogger.

बाबा जी के चरणों में अरबी अरबी परणाम !


बाबा ताऊश्री के पास भक्त जनों की भीड हर समागम में बढती ही जा रही है. यूं तो दुनियां में हर वस्तु का अनुपात बराबर ही होता है. इस नियम का पृकृति में भी अपवाद नही है. पर भक्त जन सुख को तो महसूस नही कर पाते और दुख आते ही बाबाश्री ताऊ महाराज को परेशान करने चले आते हैं. अब बाबाश्री ताऊ महाराज निहायत ही नरम दिल और दुखियों की सेवा करना अपना फ़र्ज समझते हैं. ऊपर वाले से बाबाश्री का डायरेक्ट संपर्क है और भगवान भी उनकी बात नही टाल सकता.


बाबा ताऊश्री 675 वें समागम में किरपा बांटते हुये


ताऊ बाबाश्री का 675 वां समागम


ताऊ बाबाश्री - भक्त जनों, आप लोगों का अपार समूह देखकर हमें बडा आनंद आता है. हम आपका आभारी हूं कि आप हमें अपने दुख दूर करने का मौका देते हैं. ईश्वर की कृपा से आप हमेशा दुखों में घिरे रहें क्योंकि आपके दुखों की वजह से ही ये हमारा आश्रम फ़लता फ़ूलता रहेगा...और हमें खुशी हो रही है कि आज आप 675 वें समागम में शिरकत कर रहे हैं. आप में से किसी को अपने अनुभव बांटने हों तो माईक पर आ जायें....

 सतीश सक्सेना - ताऊ बाबा के चरणों में अरबी अरबी परणाम.... 

ताऊ बाबाश्री - भक्त, ये कोटि कोटि परणाम तो सुना था पर ये अरबी अरबी परणाम ..क्या होता है? कहीं तुम अरबी की भाजी तो नही ले आये हो? तुम्हें पता है कि हमें अरबी की भाजी से गैस हो जाती है? 

सतीश सक्सेना - ताऊश्री, ये अरबी की भाजी नही...जैसे कोटि कोटि परणाम यानि करोड करोड परणाम...वैसे ही अरबी अरबी यानि एक सौ करोड...परणाम... 

ताऊ बाबाश्री - वाह भक्त..वाह. हम तुम्हारी श्रद्धा और परणाम से विशेष रूप से प्रसन्न हुये.... अब तुम अपने अनुभव यहां उपस्थित भक्तों को बताओ और कल सुबह हमारे मार्निंग वाक के समय आश्रम के गार्डन में मुलाकात करना...वहां हम तुम पर विशेष किरपा करेंगे. 

सतीश सक्सेना - बाबाजी के चरणों में अरबी अरबी परणाम करते हुये मैं बताना चाहुंगा कि बाबाजी आपकी किरपा से मेरे सर पर बाल आगये हैं...बाबा जी पहले मैं इसी वजह से बहुत दुखी रहता था...बाबाजी....आपके कहे अनुसार मैने सिर्फ़ पांच अमावस्या को "ताऊ छछूंदर तेल" आपकी बतायी विधी से पूजा करके लगाया...और मेरा पूरा सर बालों से लहलहा उठा...बाबाजी आपके चरणों में पुन: अरबी अरबी परणाम.... 

अब माईक मिस समीरा टेढी के हाथ में थमाया गया...और मिस टेढी ने बोलना शुरू किया - बाबाजी के चरणों में अरबी अरबी वंदन....बाबा जी आपने मुझे सात काली अमावस बिना नहाये सुबह से दोपहर तक सोमरस पान करने का कहा था...बाबाजी मैने ऐसा करना शुरू किया....और तीन अमावस में ही चमत्कार हो गया और सात अमावस ऐसा करने के बाद तो...बाबा जी..क्या बताऊं.....मेरे को कुछ भी दुख तकलीफ़ नही रही....बाबा जी अब एक तकलीफ़ है....मुझे भूख बहुत जोरों से लगने लगी है..... 

ताऊ बाबाश्री - बालिके...भूख लगना तो अच्छी बात है....खाओ पीओ..तंदरूस्त रहो... 

मिस टेढी - बाबाश्री...वो वाली भूख नही....बाबाजी... 

ताऊ बाबाश्री - फ़िर कौन सी वाली भूख....कहीं गलत सलत भूख तो नही लग रही है बालिके तुमको? 

मिस टेढी - नही बाबाश्री...मेरी टिप्पणियों की भूख बढ गई है...कितनी भी टिप्पणी आयें पर मेरी इच्छा भरती ही नही है...  

ताऊ बाबाश्री - अच्छा अच्छा....एक काम करो..हमारे ताऊ बैंक के अकांऊंट नम्बर 000420 में पचास हजार डालर जमा करा दो..उससे हम तुम्हें एक "भूख मिटाओ यंत्र" बनाकर भिजवायेंगे... 

मिस टेढी - बाबाजी के चरणों में अरबी अरबी परणाम...बाबाजी कल ही करवा दूंगी... 

ताऊ बाबाश्री - और हां बालिके, कल सुबह सतीश सक्सेना के साथ हमारे आश्रम के गार्डन में दर्शन करने आना, हम तुम्हें वहीं पर भूख मिटाने की कुछ विशेष विधियां सिंखायेंगे... 

मिस टेढी - जी बाबाश्री... 

ताऊ बाबाश्री भक्तों को संबोधित करते हुये बोले - प्यारे भक्त जनों, हमारे रहते हुये मेरे प्यारे देशवासियों का दुख मैं नही देख सकता. यूं तो हमको चीन, जापान, रूस, अमेरिका व इंगलैंड आदि देशों से उनकी जनता के दुख दर्द मिटाने के लिए आमंत्रण मिलते रह्ते हैं पर हम सबसे पहले अपने देशवासियों के दुख दर्द मिटायेंगे....और इसके लिये हम  "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ"  शुरू करने जा रहे हैं....इस यज्ञ में जो भी भाग लेगा उसे भविष्य में  कभी कोई कष्ट नही होगा. यह यज्ञ अलग अलग दिन अलग अलग केटेगरी अनुसार कराया जायेगा. निराशा से बचने के लिये अपनी सीट तुरंत बुक करवा लेवे. इस पोस्ट के आखिर में संपूर्ण डिटेल दी गई है.


 
बाबा ताऊश्री मिस टेढी को गले लगाकर आशीर्वाद देते हुये!


अगले दिन सतीश सक्सेना और मिस टेढी ने बाबाश्री से सुबह आश्रम में जाकर भेंट की जहां बाबाश्री ने सतीश सक्सेना को आशीर्वाद देते हुये  "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ"  की जिम्मेदारियां संभालने का काम सौंपा और मिस टेढी को गले लगाकर "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" के रजिस्ट्रेशन का काम संभालने का कार्यभार सौंपा.

 "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" 

 *"सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" मे भाग लेने के लिये रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है. 

रजिस्ट्रेशन की तीन श्रेणियां रहेगी. 

प्रथम श्रेणी की फ़ीस रूपये 21000/- मात्र 

 द्वितीय श्रेणी की फ़ीस रूपये 16000/- मात्र 

 तृतीय श्रेणि की फ़ीस रूपये 11000/- मात्र 

सीटों की उपलब्धता हमारी वेवसाईट से जांच कर अग्रिम बुकिंग करालें...

कुछ ही सीमित तारीखों में सीटे उपलब्ध हैं. 

फ़ीस का अग्रिम भुगतान हमारे  ताऊ बैंक अकाऊंट नं.  000420  में करवा कर अपना एंट्री पास प्राप्त कर लेवें.


"सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" में भाग लेकर इस जीवन के सभी कष्टों से हमेशा के लिये मुक्ति पाईये!

38 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (28-07-2012) के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    शिष्ट आचरण से सदा, अंकित करना भाव।।

    ReplyDelete
  2. ताऊ बाबाश्री के चरणों में अरबी अरबी परणाम
    मैनें 21000 रुपये पिछले महिने जमा करा दिये थे, लेकिन अभी तक एन्ट्री पास नहीं मिला :)

    ReplyDelete
  3. बाबा जी , कुछ तो है जो आपकी कृपा फिर आने लगी है .
    जय कृपालु बाबा !

    ReplyDelete
  4. खरबी खरबी परणाम बाबा :)

    ReplyDelete
  5. @ अब बाबाश्री ताऊ महाराज निहायत ही नरम दिल और दुखियों की सेवा करना अपना फ़र्ज समझते हैं. ऊपर वाले से बाबाश्री का डायरेक्ट संपर्क है और भगवान भी उनकी बात नही टाल सकता.

    अब लगता है ब्लोगर्स का कल्याण होने ही वाला है, सारे ब्लोगर्स से निवेदन है कि बावा के आश्रम में आने से पहले, बटुआ घर छोड़ कर ही आया करे !

    ReplyDelete
  6. हम तो अरबी नहीं फारसी प्रणाम बोलते ताऊ ! किन्तु परन्तु लेकिन बट बोला नहीं, नहीं तो लोग कहेंगे की बाबा प्रणाम ले फारसी और बेचे तेल |
    बाबा जी सीधे धंधे पानी की बात करती हूं आप के समागम के बाहर पिपले मैंगो बेचती हूं अपने भक्त जनों से कहे की मेरे पिपले मैंगो खाये तो सभी कष्ट दूर हो जायेंगे , प्राफिट से आप का भी हिस्सा मिल जावेगा |

    ReplyDelete
  7. Tau shree mujhe to back door entry de dena ... Kiski sifarish chalti hai .. Ye to bata do ...

    ReplyDelete
  8. रोचक..:)

    बाबा ताऊश्री के पास सब का इलाज है!
    अरबी-खरबी प्रणाम.

    ReplyDelete
  9. ताऊ जी कुछ कंसेशन कर देते
    तो अपना धंदा भी चल जाता
    कुछ लोगों को फंसा कर
    कमीशन बना कर आपके लिये
    मैं भी ले आता
    आप तो डुबकी लगा रहे हैं
    मेरे भी हाथ में एक
    आद लोटा आ जाता
    आपका क्या जाता
    सोच के बता दीजियेगा
    समझ में आ जाये
    मेरे लिये एक काउंटर
    कहीं पर डलवा दीजियेगा !!!

    ReplyDelete
  10. 'मिस टेढी को गले लगाकर "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" के रजिस्ट्रेशन का काम संभालने का कार्यभार सौंपा'


    यानी कि रजिस्ट्रेशन करवाने वालों को मिस समीरा टेढी से गले मिलने का अवसर भी मिलेगा? :)

    राम राम

    ReplyDelete
  11. 'मिस टेढी को गले लगाकर "सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ" के रजिस्ट्रेशन का काम संभालने का कार्यभार सौंपा'


    यानी कि रजिस्ट्रेशन करवाने वालों को मिस समीरा टेढी से गले मिलने का अवसर भी मिलेगा? :)

    राम राम

    ReplyDelete
  12. बेहद सटीक लिखा ताऊ महाराज आपने। आजकल एक किरपा वाले बाबा की दुकान कमजोर पडी तो एक दूसरे बिना दाढी वाले बाबा कष्ट मिटावो यज्ञ करवा कर भोली भाली जनता को लूट रहे हैं। आपका चोट करने का अपना अंदाज है, किसी को खबर भी नही होती कि किस पर चोट कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  13. बेहद सटीक लिखा ताऊ महाराज आपने। आजकल एक किरपा वाले बाबा की दुकान कमजोर पडी तो एक दूसरे बिना दाढी वाले बाबा कष्ट मिटावो यज्ञ करवा कर भोली भाली जनता को लूट रहे हैं। आपका चोट करने का अपना अंदाज है, किसी को खबर भी नही होती कि किस पर चोट कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  14. बाबाजी अरबों अरब प्रणाम ... बाबाजी यहाँ पर टिप्पणी खाऊ बढ़ गए हैं और खा खाकर मुटा रहे हैं . बाबाजी हमकों भी टिप्पणी पचाने का कोई मूल मन्त्र बताइए ... आपकी कृपा से हमारा ब्लॉग बिना टिप्पणी के चल रहा है ....

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  16. ताऊ जी , नमस्कार .
    आप थे कहाँ इतने दिन . हम तो आपके दरस को तरस गये है ..
    अब अच्छा लगा आपको देख कर और पढकर.

    मैं भी यज्ञ में शामिल होना चाहता हूँ. लेकिन धन की कमी है . आप को मैं सिर्फ अपनी कुछ कविताएं ही भेंट कर सकता हूँ.

    इसे ही दक्षिणा मानकर हमें अपना चेला मान लीजिए .

    नमस्कार
    आपका
    विजय

    ReplyDelete
  17. लाजवाब...आपके लेखन का चुटीलापन लाजवाब है...
    खरबी खरबी परणाम...

    ReplyDelete
  18. बढिया हैं ...सबने कुछ ना कुछ मांग ही लिया बाबा के दरबार से ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  19. रोचक प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  20. :):) रजिस्ट्रेशन के लिए पैसे का जुगाड़ ही सबसे बड़ा कष्ट है

    ReplyDelete
  21. बाबा जी , ये इक्कीस हजारी कमेन्ट हैं , रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के बदले .

    ReplyDelete
  22. शानदार... चुटीला... आनंद आ गया...
    अरबी खरबी प्रणाम...
    सादर.

    ReplyDelete
  23. ताऊ जी , आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए पहले तो क्षमा चाहता हूँ. कुछ ऐसी व्यस्तताएं रहीं के मुझे ब्लॉग जगत से दूर रहना पड़ा...अब इस हर्जाने की भरपाई आपकी सभी पुरानी रचनाएँ पढ़ कर करूँगा....कमेन्ट भले सब पर न कर पाऊं लेकिन पढूंगा जरूर

    आपके बताये अकाउंट में फ्राड बैंक का चैक भेज दिया है...आप चैक कर लें...

    नीरज

    ReplyDelete
  24. ताऊ जी , आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए पहले तो क्षमा चाहता हूँ. कुछ ऐसी व्यस्तताएं रहीं के मुझे ब्लॉग जगत से दूर रहना पड़ा...अब इस हर्जाने की भरपाई आपकी सभी पुरानी रचनाएँ पढ़ कर करूँगा....कमेन्ट भले सब पर न कर पाऊं लेकिन पढूंगा जरूर

    आपके बताये अकाउंट में फ्राड बैंक का चैक भेज दिया है...आप चैक कर लें...

    नीरज

    ReplyDelete
  25. बाबा ताऊश्री को शंख शंख प्रणाम. ....... मै आपके समागम में अवश्य आऊँगा किन्तु बाबा जी मेरे ब्लॉग पर कमेन्ट भी नहीं आ रहे हैं और न ही फोल्लोवर बढ़ रहे हैं . कोई उपाय बताएं।

    ReplyDelete
  26. बाबा ताऊश्री को शंख शंख प्रणाम. ....... मै आपके समागम में अवश्य आऊँगा किन्तु बाबा जी मेरे ब्लॉग पर कमेन्ट भी नहीं आ रहे हैं और न ही फोल्लोवर बढ़ रहे हैं . कोई उपाय बताएं।

    ReplyDelete
  27. बहुत ही आवश्यक है यह यज्ञ महाराज..

    ReplyDelete
  28. Tau maharaj ki hamesha hi jai ho ..
    Ye aapki kirpa ka hi chakkar hai ki log timpani ak karte hain or aapke paas do do aa rahi hain .maan gaye aap ko bhi or aap ki kirpa ko bhi....

    ReplyDelete
  29. बाबा जी के चरणों में अरबी अरबी परणाम !

    ReplyDelete
  30. अरबी अरबी परणाम

    मिस समीरा टेढी पर तो जबरदस्त कृपा बरसाते नजर आ रहे हैं तस्वीर में..हा हा!!

    अरबी अरबी परणाम

    ReplyDelete
  31. आप वापस आ गए तो अब कृपा भी आ ही जाएगी।

    ReplyDelete
  32. सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ"...?

    बाबा जी हीर प्रसन्न हुई ...
    क्योंकि सबसे ज्यादा दुखी तो हीर ही रहती है ....:))

    बाबा जी सुना है 'मिस टेढ़ी' अपने प्रिय ब्लोगरों को कुछ मुफ्त के पास बाँट रही है
    देखते हैं अगर मिल गया तो जरुर आयेंगे ....
    अगर न भी मिला तो भी कोशिश तो रहेगी भीड़ में घुस आने की .....:))

    ReplyDelete
  33. इस गलत सलत भूख का भी जवाब नहीं. बड़ों बड़ों को खड़ा कर देती है...

    ReplyDelete
  34. सर्व कष्ट मिटावो यज्ञ kam se kam baba ke kasht to mita hi dega.
    ............
    कितनी बदल रही है हिन्‍दी !

    ReplyDelete
  35. स्वतन्त्रता दिवस की बहुत-बहुत ............शुभकामनाएँ.........
    .............जयहिन्द............
    ............वन्दे मातरम्..........







    ReplyDelete