Powered by Blogger.

ताऊ तरही कम गरही कवि सम्मेलन - २०११ में महाकवियित्री मिस समीरा टेढी

प्यारे श्रोताओं, मैं रामप्यारे ताऊ तरही कम गरही सम्मेलन में आप सबका स्वागत करता हुं. आज इस सम्मेलन में महान चनाकारी कविकारी, कहानीकारी, व्यंगकारी और सब कारियों की कारी महान विदुषी मिस समीरा टेढी अपनी रचना प्रस्तुत कर रही हैं. मिस टेढी के एक और हुनर से हम आपको आज रूबरू करवा रहे हैं ...वो एक महान और प्रख्यात गायिका भी हैं सो उनकी रचना का आनंद आप स्वयं उनकी आवाज में भी ले सकते हैं, नीचे उनका पाड कास्ट भी लगाया है.

आप जानते हैं कि मिस समीरा टेढी जरा मूडी और मनचली हैं वो उनको सीधे आन एयर करने का खतरा मोल नही लिया जा सकता और मिस रामप्यारी आज कैट स्केन के लिये उपलब्ध नही है, अत: आज मिस समीरा टेढी के साथ आन लाईन एडिटिंग मैं स्वयम रामप्यारे कर रहा हूं. तो आईये समीरा जी...अपनी रचना प्रस्तुत किजिये.

प्यारे भाईयो और बहनो, आप सबको होली की हार्दिक शुभकामनाएं, होली का मौका तो अब आया है मगर इसके पहले प्रवीण पाण्डेय का गीत ’मगन होके बहती है, जीवन की लहरी’ उनकी आवाज में ऐसा मन में रचा बसा कि साथ ही नहीं छोड़ रहा, अपने प्रिय का प्रभाव मान रही हूँ इसे और उस पर यह महाराज ताऊश्री के गरही मुशायरे.. का आमंत्रण स्वीकार किया है तो गाना तो पड़ेगा मगर प्रभाव तो वही रहेगा जो मन में रच बस गया है..जरा देखिये, एक कोशिश होली गरही मुशायरे की पेशकश की:

गरही सम्मेलन में कविता पाठ करते हुये मिस समीरा टेढी
एवम
आन लाईन एडिटिंग करते श्री रामप्यारे




शशी रंग लगाती, निधि रंग लगाती,
होली में मिलके सभी रंग लगाती...
रहे सोचते हम असर हो जहाँ पर
होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

उसे डाल पानी, भिगा कर के भागे
यही ख्वाब लेकर सुबह को थे जागे
ऐसे ये मौका मिले फिर कहाँ पर
होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

फिर भी सजी थालियों में मिठाई
यहाँ पर भी खाई, वहाँ पर भी खाई
छक कर के सूता हमने वहाँ पर
होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

इधर पर वो नाचे उधर पर वो गाये
हम भी ठूमकते रहे मदमदाये
चलो, अब चलें और सोयें नहा कर
होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

-मिस समीरा टेढी ’समीर’
बुरा न मानो होली है!!

अब ताऊश्री के गरही मुशायरे की अगली रेवडी दी गई है श्री ललित शर्मा को...
(अगले अंक में)

25 comments:

  1. वाह रामप्यारे ! मजा आ गया " ताऊ तरही कम गरही सम्मेलन" में प्रस्तुत रचनाएँ सुनकर :)

    ReplyDelete
  2. शशि , निधि रंग लगाती ...
    बढ़िया है !

    ReplyDelete
  3. दे रहया सै रोज ताऊ
    ले रहया सै मोज ताऊ

    गोझ भर कै रेवड़ी की
    बाँट रहया सै डोज ताऊ

    लट्ठ ताई का सहारा
    या सै जर्मन खोज ताऊ

    कर रही गुणगान तेरा
    ब्लागरों की फोज ताऊ
    chahen to iska upyog tippani box ki jagah post me karen

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चल रहा है यह रंगारंग मुशायरा ! शुभकामनायें ताऊ !

    ReplyDelete
  5. ताउश्री के रंग,होली के संग ,मस्त ho gaya मन,कर दिया सभी को दंग.सुन सुन के कविता
    चढ गयी है भंग,गज़ब का है ताऊ तुम्हारा ये ढंग.
    बुझे बुझे यार भी हो गए सब चंग.
    होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  6. आदरणीय ताऊ जी राम राम
    केवल राम की तरफ से
    मिस समीर रेड्डी की कविता भी आनंददायक और सार्थक है ...कल तो और भी आनंद आएगा ..ललित जी की रचना पढने का में तो अभी से इन्तजार कर रहा हूँ

    ReplyDelete
  7. तरही कम गरही ..बढ़िया सम्मलेन ..

    ReplyDelete
  8. इतने जब रंग लगायेंगे,
    पहचान कहाँ से आयेंगे,
    गर कहीं किसी न पूँछ दिया,
    जो नाम तो क्या बतलायेंगे?

    नाम आज एक चढ़ता फेम,
    पूछ रहा सब, व्हाट्स द नेम,
    शीला की जवानी तब तो,
    मुक्त कण्ठ से गायेंगे।
    इतने जब रंग लगायेंगे।

    ReplyDelete
  9. waah waah ,

    होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

    waah kya baat hai ..

    holi ki saaaarrrrrrrrrrrrrrrrrrrr

    rango se bhari badhayi ho

    ReplyDelete
  10. रामप्यारे जी आपकी आवाज में मिस समीरा टेढी को सुनना अच्छा लगा :)

    राम-राम

    ReplyDelete
  11. वाकई, बहुत ग़ज़ब का लिखते हैं आप...

    ReplyDelete
  12. आदरणीय ताऊ जी राम राम
    .............बढ़िया सम्मलेन

    ReplyDelete
  13. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  14. ....बहुत ही मजा आ गया...होली मुबारक हो...ताउ, ताई, समीरा टेढी और उपस्थित विशाल ताउगण!..हं, हं..हा, हा........

    ReplyDelete
  15. इधर पर वो नाचे उधर पर वो गाये
    हम भी ठूमकते रहे मदमदाये
    चलो, अब चलें और सोयें नहा कर
    होली मने क्यूँ न नित दिन यहाँ पर...

    वाह वाह ... होली का नशा आख़िर चॅड ही गाया ...
    मज़ा आ गया ...

    ReplyDelete
  16. गरही मुशायरे के क्या कहने………रंग जम गया है।

    ReplyDelete
  17. BAHUT DINO BAAD ANA HUAA IDHAR ...PAR SARTHAK RAHA ...MAJEDAAR SAMMELAN :))

    TAAUJI EVAM SABHEE MITRON KO NAMASKAAR

    ReplyDelete
  18. टेढ़ीजी की सीधी कविता दिल को लगे लुभाय.

    ReplyDelete
  19. ताऊ तरही कम गरही सम्मेलन" वाह र्ते ताऊ यह तो बहुत अच्छी प्रस्तुति !! धन्यवाद

    ReplyDelete
  20. अभी तो पढ़कर ही काम चलाना पड़ रहा है धन्यवाद साउंड कार्ड का :)
    सुंदर है नि:संदेह.

    ReplyDelete
  21. हा हा!! मिस समीरा टेढ़ी का ड्रेस डिज़ाईनर कौन है ताऊ???

    ReplyDelete
  22. आप को और आप के परिवार में सभी को होली की ढेरों शुभकामनाएँ .
    सादर,
    अल्पना

    ReplyDelete