Powered by Blogger.

ब्लाग भौजी सुंदरी प्रतियोगिता - 2011 शुरू

होली साल में एक बार ही आती है. इसके जाते ही "फ़िर वही रामदयाल और वही गधेडी" बचा रह जाता है. हमारे कहने का मतलब है कि होली पर्व भी जीवन का एक चक्र है. हमारे शास्त्रों में ध्यान की जो प्रक्रियाएं बताई गई है उसमे स्व से मिलन की एक प्रक्रिया स्थूल से सुक्ष्म की तरफ़ लौटना भी है. और अगर किसी ने इसका अभ्यास किया हो तो यह बडे काम की चीज है. शायद इस तथ्य को श्री राकेश कुमार जी ज्यादा अच्छे तरीके से समझा सकेंगे.

इसी प्रक्रिया के तहत अगर हम होली को साल के एक मास की बजाये मास में एक दिन पर ले आयें, फ़िर एक दिन यानि चौबीस घंटे में से एक घंटे पर ले आयें तो चमत्कार घटित हो सकता है. और रोज होली मनाई जा सकती है. जीवन की इतनी भागदौड और आपाधापी में हम तो एक दिन में ये एक घंटा आराम से निकाल लेते हैं और रोज होलियाना मूड में रहते हैं. भले ही इसकी कीमत हमें दो चार लठ्ठ खाकर चुकाना पडती है. और यूं भी श्री प्रवीण पाण्डेय ने घोषित कर ही दिया है कि पिटना भी भाग्य बढ़ाता है सो भाईयो आप भी राज भाटिया से लठ्ठ मंगाकर भौजाईयों को यानि अपनी अपनी लुगाईयों को पकडा दिजिये और रोज होली मना कर, उनसे पिट कर अपना भाग्य बढवाते रहिये. इसमें हर्ज भी क्या है? आपका भाग्य बढेगा, भौजाईयों का अहम संतुष्ट होगा कि सदियों से उन पर होते आये अत्याचार का बदला चुक रहा है और घर में शांति भी बनी रहेगी.

वैसे ये होली (हास्य) के किटाणु सभी के अंदर चौबीसों घंटे ही मौजूद रहते है पर कुछ सज्जन या दुर्जन लोग जबरदस्ती मुंह फ़ुलाकर ऊपर से गंभीरता का मुल्लम्मा चढा लेते हैं जैसे सारे दुनियां जहान को उन्हीं को चलाना है. हमारे बारे में भी लोग यहां वहां कहते फ़िरते हैं कि जब देखो...हा..हा..ठी..ठी..करता रहता है. जानवरों के साथ रहते रहते, ताई के लठ्ठों से पिट पिट कर, भाग्य बढवा कर ताऊ भी जानवर जैसा ही हो गया है. उसे शर्म भी नही आती.

पर भाईयों और भौजाईयो...कसम खुदा कि..हम इतने जंगली नही हैं. ये अलग बात है कि सुबह शाम लठ्ठ से पिट पिट कर हमारी बुद्धि कुछ कुंद और निर्मल जरूर हो गई है. होली की भांग कुछ ज्यादा चढ गई थी. ताई के लठ्ठों से भी नही उतरी. आराम से घर में पडे थे. पर रिश्तेदारी की एक उम्रदराज अम्मा जी काफ़ी लंबी बीमारी के बाद देवलोक गमन कर गई और उनकी शवयात्रा में जाना जरूरी था. सो चले गये. आप जानते ही हैं कि श्मसान में श्मसान वैराज्ञ तो हर किसी को व्यापत होता है फ़िर ताऊ क्या चीज है.

दाह संस्कार से वापसी में लौटते हुये :-

मेरे आगे आगे एक टिरिक का बच्चा (आटो) जा रिया था
पीछे पीछे मैं वैराज्ञ में डूबा श्मसान से वापस आ रिया था

ट्रक के बच्चे के पीछे लिखा था :-

कीचड से खेलोगे तो धोना भी पडेगा
करोगे अगर शादी तो रोना भी पडेगा

धतूरे के पेड़ से धतूरा ही मिलेगा
आम खाने को आम बोना भी पड़ेगा.

जो ढूंढते विकास परमाणुओं के खेल में
उन्हें जिन्दगी के नाम को खोना भी पडेगा

जो तानते रहें हैं जंगल कांक्रिट के उनको
भूकंप और सुनामी के साये में सोना भी पड़ेगा

समझायें चलो आज इन सिरफिरे आकाओं को
करनी का असर हर हाल में ढोना भी पड़ेगा

घर पहुंचते २ मन उदास होगया, मन में आया कि पता नही कब हमारा देश भी जापान हो जाये, क्योंकि हमने भी पूरा इंतजाम विनाश का कर रखा है सो क्यों ना इस क्षण भंगुर संसार में जब तक अपना जीवन है उसमे होली मनाते रहे?

भैस के केडे को कंघा चोटी करके स्कूल भेजने के लिये तैयार करती ताई

इधर होली बीती थी कि ताई थोडी होलियाना मूड से बाहर निकली, घर बार की सुध आई, भैंसों को चारा पानी भी ठीक से नही दिया गया था सो उसने भैंसो को चारा पानी दिया. इधर हमारी भैंस (जिसने भागकर यमराज के झौठे से शादी करली थी) का केडा (भैंस का बच्चा) भी पूरी तरह होली के मूड मे था. अभी तक स्कूल की छुट्टियां थी और आज स्कूल भी खुल गये थे पर वो स्कूल जाने को तैयार नही हो रहा था. ताई ने उसको जैसे तैसे नहला धुलाकर स्कूल के लिये तैयार किया तो पसर गया कि स्कूल नही जाऊंगा. पर ताई के आगे उसकी एक नही चली, आखिर उसकी कंघा चोटी करके उसको स्कूल बस में बैठा ही दिया.

"ब्लाग भौजी सुंदरी प्रतियोगिता" के लिये "ताऊ सीटी" पहूंच चुकी ब्लाग भौजियों का एक ग्रुप फ़ोटो

हमने नहा धोकर खा पीकर कुछ विश्राम किया और हल्की सी नींद लगी ही थी कि रामप्यारे आकर धमक गया और बोला - ताऊ, वो ब्लाग भौजी सुंदरी प्रतियोगिता के लिये बहुत सी उम्मीदवार ताऊ सीटी बीच पर पहुंच चुकी हैं और बिकनी व स्विंमिग शूट टेस्ट मैने ले कर नंबर दे दिये है. आगे अब रैंप पर परेड आप देख लो और नंबर दे दो फ़िर इस साल की ब्लाग भौजी सुंदरी - 2011 के नाम की घोषणा कर देते हैं. आप चलकर तैयारी भी देख लिजिये. सो हम रामप्यारे के साथ ताऊ सीटी में पहूंचे और सभी ब्लाग भौजियों से परिचय प्राप्त किया, उनमें राजीवा भौजी तो इतनी लंबी थी कि कैमरे के फ़्रेम में भी नही आरही थी. किसी तरह एडजस्ट करके रामप्यारे ने एक यादगार फ़ोटो लिया.

दराल भौजी, सतीशा भौजी और रजिया भौजी किसी षडयंत्र की जुगाड में

वहां ब्लाग भौजियों से परिचय प्राप्त करने के बाद हम लौटने लगे तो हमने एक कोने में दराल भौजी, सतीशा भौजी और रजिया भौजी को कुछ गुफ़्तगू करते पाया, हमें लगता है कि ये तीनों मिलकर ब्लाग भौजी सुंदरी एवार्ड - 2011 जीतने के लिये कुछ षडयंत्र कर रही हैं. अब आगे क्या हुआ? और कौन कौन सी ब्लाग भौजियां आई? रैंप पर किसका पल्लू खिसका? और मुद्दे की बात यह कि किसने जीता ब्लाग भौजी सुंदरी एवार्ड - 2011... ये सब अगले अंक में पढिये.

23 comments:

  1. इतनी खूबसूरत भौजाईया आज से पहले एक साथ कभी कही नहीं देखी ...!

    ReplyDelete
  2. हा हा!! वाह रे भौजियाँ मगर इसका पॉड कास्ट कहाँ है....भौजियों को देखते ही आवज गुम गई क्या ताऊ की... :)

    ReplyDelete
  3. ताऊ भौजाईयों की फ़ोटु तो कोनी दिख रही।
    मन्ने देख के अंतर्ध्यान हो गयी के?

    राम राम

    ReplyDelete
  4. ताऊ श्री आपके वैराग्य ने तो कमाल का दार्शनिक बना दिया आपको.

    जो ढूंढते विकास परमाणुओं के खेल में
    उन्हें जिन्दगी के नाम को खोना भी पडेगा

    जो तानते रहें हैं जंगल कांक्रिट के उनको
    भूकंप और सुनामी के साये में सोना भी पड़ेगा

    तो यह बात है बाहर से कुछ और भीतर से कुछ और. सब ध्यान-योग का चमत्कार है,ताई श्री के लठ्ठों ने सही असर करना शुरू कर दिया है.

    ReplyDelete
  5. एक आध को छोड के बकिया सब भौजी को वैसलीन से मंजवाईये तो मुंह कान सब ...अरे मार मूंछ पंछ उग आया है ताऊ । इना ने स्क्रौच ब्राईट की घणी आवश्यकता से । लुगाईयां तो कमाल दीख री ताऊ

    ReplyDelete
  6. लगातार मजेदार, झन्नाटे दार पोस्ट झोंक रहे हो ताऊ!
    ट्रक के बच्चे को गोदी में क्यो नहीं उठा लिया बिचारा रो रहा था...!
    इस बात को तो आज झूठी साबित कर दिये..
    कि दूसरों की अक्ल की पोटलियाँ समेट कर आज कल ताऊ अक्ल का जागीरदार बना बैठा है...

    ...ताऊ जीना तो तुम्हीं जानते हो
    मूड जितना भी खराब हो कुछ हंसी दे जाते हो।

    ReplyDelete
  7. अजय कुमार झा ने सही बात कही है ...अब इन मूंछ वालों को कोमलांगी बनवाओगे तो स्क्रोच बाईट से भी काम नहीं चलने वाला ! शुभकामनायें ताऊ !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर भौजियाँ
    मैं भी वोट करना चाहता हूँ sms किस नम्बर पर करना होगा

    ReplyDelete
  9. बढिया आयोजन है…………और ताऊ ही ऐसे आयोजन करवा सकते हैं………………तो जल्दी बताओ विजेता कौन है?

    ReplyDelete
  10. :):) इतनी सारी भौजियाँ एक साथ ...कौन जीतेंगी यह पुरस्कार ..

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर लगी मुझे आपकी पोस्ट इसमें सिर्फ हसी मजाक ही नहीं
    किन्तु पाठकोंको विनोद के जरिये बहुत सारी जीवन
    की सच्चाई से भी रूबरू कराती है आपकी पोस्ट
    सचमुच काबिलेतारीफ है

    ReplyDelete
  12. ये गलत बात है प्रतियोगिता में मूंछो वाली भौजीय तो है किन्तु पूंछ वाली ताई नजर नहीं आ रही है अरे ताई भी कभी भौजी थी |

    ReplyDelete
  13. सभी भौजाईयां एक से बढ़ कर एक हैं...
    स्पर्द्धा कड़ी है...

    ReplyDelete
  14. अकल ही काम नहीं कर रही है कि टरक के बच्चे का जीवनदर्शन ज्यादा बढिया रहा या ब्लाग भौजियों की फेशन परेड का जमावडा.
    विजेता के परिणाम की प्रतिक्षा में. रंगपंचमी की हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  15. धो भी रहे हैं, रो भी रहे हैं।

    ReplyDelete
  16. tau....tera....jawaw nahi........


    bhoujaieeon ki to khair nahi........


    ghani pranam.

    ReplyDelete
  17. हा हा हा ! बस घूंघट की कमी रह गई ताऊ । डाठे आली भी कोए कोन्या ।

    ReplyDelete
  18. दराल भौजी,को हमारी वोट जी, खुब जंच रही हे, रचना ओर कविता भी बहुत सुंदर लगी..राम राम

    ReplyDelete
  19. धतूरे के पेड़ से धतूरा ही मिलेगा
    आम खाने को आम बोना भी पड़ेगा.

    bahut khoob!

    jabardast raha!!

    ReplyDelete
  20. भौजाईयां एक से बढ़ कर एक हैं

    ReplyDelete
  21. धन बरसे मैली चदरिया रे धन बरसे
    धन बरसे मैली चदरिया रे धन बरसे

    वाह ताउजी!...पिच्कारियों से रंग की बजाए धन की धार निकलनी शुरु हो जाती है तो हम भी भोजाइयों के संग रोज होली खेलेंगे!..ऐसी होली की बहुतेरी बधाई!

    ReplyDelete
  22. ha ha a ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha ha h ha ha ha ha

    regards

    ReplyDelete