ताऊ पहेली - 119

प्यारे बहणों और भाईयों, ताऊ पहेली - 119 में मैं रामप्यारे आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते हैं होली के अवसर पर ताऊ महाराज दंडकारण्य में रामप्यारी के साथ विश्राम करने गये हुये हैं. और ताऊ पहेली को सतत जारी रखने का कार्यभार मुझे सौंप गये हैं. मैने इस शर्त पर यह जिम्मेदारी स्वीकार की है कि इस पहेली को जब तक मैं चाहूं तब तक अपनी मर्जी और शर्तों पर चलाऊंगा.

अब आप तो जानते हैं कि मैं ठहरा एक सीधा साधा गधा, ज्यादा फ़ालतू बात करना मेरी तबियत में शुमार नही है. और काबलियत के नाम पर सिर्फ़ अपने बडे बडे दांत ही दिखा सकता हूं. और इस पहेली के नियम बिल्कुल सीधे हैं और आप स्वयं ही इसके जज होंगे.

नीचे एक चित्र दिया हुआ है. इस चित्र को देखकर आपको बताना है कि यह चित्र कहां का है? इस जगह के बारे में आप कुछ और भी जानकारी रखते हैं तो वो भी यहां टिप्पणी में लिख कर दूसरों की जानकारी भी बढा सकते हैं.



अगर आप इस चित्र को 5 मिनट में पहचान जाते हैं तो आप अपने आपको समझिये "सुपर जीनियस"
अगर आप इस चित्र को 10 मिनट में पहचान जाते हैं तो आप अपने आपको समझिये "जीनियस"
अगर आप इस चित्र को 15 मिनट में पहचान जाते हैं तो आप अपने आपको समझिये "बुद्धिमान"

और अगर इससे ज्यादा समय लगाते हैं तो आप क्या हैं? आप स्वयं ही समझ लिजिये. और आपको फ़िर भी जवाब नही मिले तो यहां पर चटका लगाकर देख लिजियेगा. अब यह आपकी इमानदारी पर निर्भर करता है कि आप कितनी देर में उत्तर खोज पाये? यह सही बताते हैं या गलत?

तो अब मैं रामप्यारे आपको होली की शुभकामनाएं देता हुआ आपसे विदा लेता हूं. अगले सप्ताह आपसे फ़िर यहीं मिलूंगा.

Comments

  1. ताजाउदीन बाबा, नागपुर...दरबार

    ReplyDelete
  2. उत्तर तो खुद ही लगा देते हो!
    फिर ढूँढने का ओर दिमागी कसरत करने का क्या लाभ?
    --
    माँ शारदा मंदिर : मैहर (म.प्र.)

    ReplyDelete
  3. ...मेरा गलत जवाब अगर सही होता तो मै सुपर जीनियस होती....क्यों कि ५ मिनट के अंदर मैने जवाब निकाल लिया था!..ताउजी को घणी राम राम भिजवा देना!

    ReplyDelete
  4. अरे ताऊ जी अब इतना दिमाग कहां जो पांच सेकिंड मै इस चित्र को पहचान जाये, जो दिमाग था वो बीबी ने खा लिया, बचा खुचा बच्चो ने खुरच दिया, अब तो नारियल की तरह सिर्फ़ खाली मुंडी ही बच्ची हे.... वैसे मै कभी अजमेर शरीफ़ नही गया, तो वहां के बारे कैसे बता सकता हुं कि लोग वहां चादर चढाते हे, फ़िर वही चादर दोवारा खरीद कर कोई ओर चढता हे... बहुत सुंदर खेल हे ना, एक ही चादर करोडो की बिकती हे:) किस्त मे, अब इस पहेली का जबाब तो राम प्यारे ही देगा

    ReplyDelete
  5. भाई हम तो आपके साथी है ... आप ही निर्धारित करें हमारी रेंकिंग... :))

    ReplyDelete
  6. जी हाँ यही हैं उसकी दरगाह
    जिसपर शहंशाह अकबर का एतबार था बेपनाह
    ये खुदा के बंदे थे और सच्चे थे फ़कीर
    इनकी दुआओं की बदौलत उसे तौफा मिला बेनजीर,
    बस इतना ही , आगे ताऊ श्री से पूछ लेना.

    ReplyDelete
  7. बचपन बीता है ताऊ इन गलियों में, लिहाजा खट से पहचान गए..ईमान से!!
    फिर भी सुपर जीनियस नहीं मानते हैं खुद को..इश्वर से प्रार्थना है कि तेरा चेहरा मोहे लग जाए .. बस!!!

    ReplyDelete
  8. भाई हमें तो फतेहपुर सीकरी लगता है ।

    ReplyDelete
  9. ताऊ जी
    जाट देवता की राम राम,
    देखने में तो कोई दरगाह है,
    अजमेर शरीफ़ होगी, मैंने देखी नहीं है,
    आओ हमारे यहाँ कुछ खास है ।

    ReplyDelete
  10. दरगाह है लेकिन कहा की है ये तो पता नहीं चल रहा है सभी दरगाह के अंदर का दृश्य एक जैसा ही होता है | इस प्रकार का सीन हमारे गाँव की दरगाह में भी है |और अजमेर में भी है |

    ReplyDelete
  11. azmer ki se tau yaa. tau mera bhi ek blog se dekhliye isne bhi kuch btadiye merete bhi badhiya blog bnan khatar ke karna hoga http://bharatyogi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. tau ji , mera dusra uttar hai ..gareeb nawaz Khawaja Moin Uddin Chisti

    ReplyDelete
  13. Fatahpur Seekri ... Chisti ki dargaah ...
    Ram Ram Taau ....

    ReplyDelete
  14. ताऊ कित खो गया है?
    अगला हफ़्ता शुरू हो लिया।

    राम राम।

    ReplyDelete
  15. ताऊ ताऊ पुकारूँ मै मन में
    मेरा ताऊ छिपा किस वन में
    अब तो दर्शन दे दे निर्मोही.

    ReplyDelete
  16. हर वो भारतवासी जो भी भ्रष्टाचार से दुखी है, वो देश की आन-बान-शान के लिए समाजसेवी श्री अन्ना हजारे की मांग "जन लोकपाल बिल" का समर्थन करने हेतु 022-61550789 पर स्वंय भी मिस्ड कॉल करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे. यह श्री हजारे की लड़ाई नहीं है बल्कि हर उस नागरिक की लड़ाई है जिसने भारत माता की धरती पर जन्म लिया है.पत्रकार-रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा"

    ReplyDelete
  17. भ्रष्टाचारियों के मुंह पर तमाचा, जन लोकपाल बिल पास हुआ हमारा.

    बजा दिया क्रांति बिगुल, दे दी अपनी आहुति अब देश और श्री अन्ना हजारे की जीत पर योगदान करें

    आज बगैर ध्रूमपान और शराब का सेवन करें ही हर घर में खुशियाँ मनाये, अपने-अपने घर में तेल,घी का दीपक जलाकर या एक मोमबती जलाकर जीत का जश्न मनाये. जो भी व्यक्ति समर्थ हो वो कम से कम 11 व्यक्तिओं को भोजन करवाएं या कुछ व्यक्ति एकत्रित होकर देश की जीत में योगदान करने के उद्देश्य से प्रसाद रूपी अन्न का वितरण करें.

    महत्वपूर्ण सूचना:-अब भी समाजसेवी श्री अन्ना हजारे का समर्थन करने हेतु 022-61550789 पर स्वंय भी मिस्ड कॉल करें और अपने दोस्तों को भी करने के लिए कहे. पत्रकार-रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना हैं ज़ोर कितना बाजू-ऐ-कातिल में है.

    ReplyDelete
  18. नगरी नगरी द्वारे द्वारे ढूँढू रे ताऊरिया
    जरा सामने तो आजा छलिया
    छुप छुप छलने में क्या राज है

    इंतजार कराने की भी हद होती है ताऊ श्री.
    मेरा ब्लॉग तडफ रहा है तेरे दर्शन को.

    ReplyDelete
  19. 10 अप्रैल तक के कमेंट रिलीज़ होते देख लगता है कि सब ठीक-ठाक है :)

    ReplyDelete
  20. तबियत तो ठीक है ताऊ ? जल्दी बताइये नहीं तो मैं ताऊ के गुम होने की रिपोर्ट दर्ज करा दूंगा!

    ReplyDelete
  21. ताऊजी,
    क्या चक्कर है?
    सब ठीक तो है? आज शराफ़त से पूछ रहा हूँ, बिना ऊतपने के - निष्क्रिय क्यों हैं आप?

    ReplyDelete
  22. घने दिना सूं ताऊ ना दिख रा...कित गया सै वो...कोई ने बेरा हो तो बता दो...
    नीरज

    ReplyDelete
  23. सवाल ज़रा मुश्किल है! मेरे ख्याल से ये अजमेर दरगाह है!

    ReplyDelete
  24. ताऊ जी खुद तो विश्राम कर रहे हैं लेकिन हमे फिर पहेलियों मे उलझा गये\ हमे भी विश्राम चाहिये कि नही? ताऊ से हमारी राम राम कह दें।

    ReplyDelete
  25. ताऊजी उत्तर तो हमें नहीं पता है ...............लेकिन राम -राम ले लीजिए

    ReplyDelete

Post a Comment