Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 115 (सिलिसेढ लेक अलवर, siliserh lake, alwar) :विजेता : श्री समीरलाल "समीर"

प्रिय भाईयो और बहणों, भतीजों और भतीजियों आप सबको घणी रामराम ! हम आपकी सेवा में हाजिर हैं ताऊ पहेली अंक - 115 का जवाब लेकर. कल की ताऊ पहेली का सही जवाब है (सिलिसेढ लेक अलवर, राजस्थान, siliserh lake, alwar, rajasthan)

पहेली के विषय से संबंधित थोडी सी जानकारी मिस. रामप्यारी आपको दे रही है.


हाय एवरी वन...गुड मार्निंग...मी राम की प्यारी...रामप्यारी.

अब सबसे पहले तो मैं पहेली के विषय में आपको दो शब्द ताऊ के यात्रा वृतांत से सीधे ही कापी करके बताऊंगी...दो से ज्यादा भी हो सकते हैं मैं गणित में जरा कमजोर हूं...गिनती आप ही लगा लिजियेगा. और उसके बाद मैं आपको विजेताओं के नाम बताऊंगी.



बहरोड से बानसूर होते हुये हम अलवर पहुंच गये. इस बार हमने पहले से ही सिलिसेढ लेक पैलेस होटल में रिजर्वेशन करा लिया था. अलवर के किले पहले भी देख हुये थे. अत: अबकि बार पूरे दो दिन इस सुरम्य झील के सानिंध्य में ही बिताने का तय कर चुके थे. सिलिसेढ (siliserh) झील अलवर (राजस्थान) से मात्र १५ किलोमीटर की दूरी पर है. यह झील करीबन ११ वर्ग किलोमीटर मे फ़ैली हुई है. इस झील का निर्माण महाराजा विनय सिंह द्वारा 1844 में अलवर को जलप्रदाय के लिये कराया गया था. इसका नामकरण उनकी रानी शीला के समान मे सिलिसेढ (siliserh) किया गया था. यहीं पर इस झील किनारे एक महल का निर्माण भी कराया गया. यह जगह महाराजाओं की पसंदीदा शिकार गाह रही है.


siliserh lake palace


इस झील किनारे स्थित महल को आजकल एक आरामदायक हेरिटेज होटल में तबदील कर दिया गया है जिसका संचालन RTDC द्वारा किया जाता है. सभी तरह के कमरे और सभी तरह की सुविधायें यहां उपलब्ध हैं. यहां ठहरते समय एक बात का ध्यान अवश्य रखे कि यहां लंच डिनर नियत समय पर ही दिया जाता है.

इस झील में मोटरबोट चलाते हुये आप स्वर्गिक आनंद का अनुभव करेंगे. होटल की छत से या अपने कमरे की खिडकियों से आप झील के आसपास कलरव करते परिंदों को देखकर घंटो खोये से रह जायेंगे.


siliserh lake view from hotel roof


यहां का पूरा वातावरण एक दम शांत और पहाडी वनों से आच्छादित है. प्रकृति के नजदीक छुटियां बिताने के लिये यह एक सर्वोत्तम जगह है. जुलाई से मार्च के मध्य का समय सर्वोत्तम रहेगा. यहां का रेल्वे स्टेशन अलवर है जो दिल्ली जयपुर लाईन पर स्थित है. नजदीकी एयरपोर्ट देल्ली करीबन १६५ किलोमीटर है. तो देर किस बात की...अबकी बार जब भी प्रकृति के पास शांत वातावरण में समय बिताने की इच्छा हो तब यहां पहुंच जाईये, साथ ही सरिस्का अभयारण्य तो है ही. (ताऊ यात्रा वृतांत से)

आईये अब मिलते हैं आज के विजेताओं से :-

आज के प्रथम विजेता हैं श्री समीर लाल "समीर"


प्रथम विजेता श्री समीर लाल "समीर" अंक 101


आईये अब बाकी विजेताओं से आपको मिलवाती हूं.

श्री दीपक तिवारी "साहब"

अब उनसे रूबरू करवाती हुं जिन्होनें इस अंक में भाग लेकर हमारा उत्साह वर्धन किया

श्री सतीश सक्सेना
श्री सोमेश सक्सेना
श्री केवलराम
श्री विजय कुमार "सप्पाति"
श्री काजल कुमार
सुश्री अंशुमाला
श्री दिनेशराय द्विवेदी
श्री भारतीय नागरिक
सुश्री वंदना
श्री नरेश सिंह राठौड
श्री पी.सी.गोदियाल "परचेत"
श्री राज भाटिया
डाँ. रूपचंद्र शाश्त्री "मयंक"
श्री राकेश कुमार
सुश्री अंजू
श्री गगन शर्मा "कुछ अलग सा"
डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति
सुश्री वाणी गीत
सुश्री पूर्णिमा
श्री रोनित सरकार

सभी प्रतिभागियों का हार्दिक आभार प्रकट करते हुये रामप्यारी अब आपसे विदा चाहेगी. अगली पहेली के जवाब की पोस्ट में मंगलवार सुबह 4:44 AM पर आपसे फ़िर मुलाकात के वादे के साथ, तब तक के लिये जयराम जी की.


ताऊ पहेली के इस अंक का आयोजन एवम संचालन ताऊ रामपुरिया और रामप्यारी ने किया. अगली पहेली मे अगले शनिवार 1:00 AM से 11:00 PM के मध्य कभी भी आपसे फ़िर मुलाकात होगी तब तक के लिये नमस्कार.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम
रामप्यारे ट्वीट्स

22 comments:

  1. श्री समीर जी को बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  2. अलवर का महल बड़ा सुन्दर है।

    ReplyDelete
  3. समीर जी को पहेली जीतने पर हार्दिक बधाई और ताऊ टीम का हार्दिक आभार इस सुरम्य जगह से परिचय कराने हेतु |

    ReplyDelete
  4. जन्मदिन की बधाई व शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  5. मुख्य विजेता व उप विजेता के साथ ही सभी भाग लेने वाले अन्य प्रतिभागियों को भी यथोचित बधाईयां...

    ReplyDelete
  6. समीर जी को बधाई।

    ReplyDelete
  7. राम राम ताऊ ...
    कुछ व्यस्त होने के कारण पिछली कई पहेलियों में आना संभव नहीं हो पा रहा (दिमाग जो लगाना पढता है जवाब ढूँढने में) ... पर आनंद ले रहा हूँ ...
    समीर भाई को बधाई ... और सभी जीतने वालों को भी ..

    ReplyDelete
  8. आदरणीय ताऊ जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई !
    और
    बहुत-बहुत शुभकामनाएं !


    बढ़े प्रतिष्ठा मान धन , वैभव यश सम्मान !
    जन्मदिवस शुभकामना ! हे गुण रस की खान !!

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  9. वाह ताऊ, बंटी चोर को भी गच्चा दे दिया इस बार तो आपने :)

    ReplyDelete
  10. समीरलाल जी को विजेता होने की बधाई | साथ में आपको जन्म दिन की भी बधाई |

    ReplyDelete
  11. श्री समीरलाल "समीर" सहित अन्य विजेताओं को हार्दिक बधाईयाँ...

    ReplyDelete
  12. श्री ताऊ जी को जन्मदिन पर बहुत-बहुत शुभकामनायें.
    आप जियो हजारों साल, साल के दिन हों पचास हजार !

    ReplyDelete
  13. आदरणीय ताऊजी,
    जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  14. आदरणीय ताऊ जी
    राम राम केवल राम की तरफ से
    आदरणीय समीर लाल जी को हार्दिक बधाई .....
    जय हो ...
    .मेरे हिस्से की मिठाई भी रख लेना ...

    ReplyDelete
  15. ताऊ जी जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई बहुत-बहुत शुभकामनाएं, समीर जी को भी विजेता बनाने की बधाई.

    ReplyDelete
  16. अरे इसका ज़वाब तो हम भी दे देते ।
    लेकिन इस वक्त तो ताऊ को जन्मदिन की मुबारकवाद देने आए हैं ।

    जन्मदिन की ढेरों बधाइयाँ और शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  17. ताऊ जी राम-राम !

    आप को आप के जन्म दिन बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  18. ताऊ राम-राम।
    और समीर जी को बधाई।

    ReplyDelete
  19. समीर जी और तिवारी "साहब" को बधाई!

    ReplyDelete
  20. अब क्या कहें...तिवारी साहब को बधाई....

    ReplyDelete