Powered by Blogger.

मिस समीरा टेढ़ी को उनकी स्लिम एवं जीरो साईज उपन्यासिका के लिए ताऊ की अंतिम चेतावनी

मैं ताऊ टीवी का होनहार खोजी संवाद दाता रामप्यारे आपका इस सुबह सबेरे के न्यूज बुलेटिन में स्वागत करता हूं. आज की मुख्य और बडी खबर ये है कि आज थक हार कर मिस समीरा टेढ़ी को उनकी स्लिम एवं जीरो साईज उपन्यासिका के लिए ताऊ ने एक चेतावनी भरा फरमान जारी कर ही दिया.

पूरी खबर इस प्रकार है कि विगत २१ फरवरी को प्रसिद्ध स्लिमट्रीम चिट्ठाकार, कवि, व्यंग्यकार, कथाकार, उपन्यासकार, गीतकार, शैलीकार, अदाकार, ...कार, ....कार...और बस कार मिस समीरा टेढी़ की स्लिम एवं जीरो साईज उपन्यासिका ’देख लिया, अब जाओ’ के विमोचन का एक माह पूर्ण हो गया.

इस भव्य एवं स्मरणीय अवसर पर एक भड़कीले समारोह में ताऊ के "इन्वेस्टिगेशन एवं स्टेस्टिकल इन्सटिट्यूट ( ISI ) ने जो रपट ताऊ महाराज को पेश की, उसके अनुसार: निम्न निष्कर्ष निकल कर आये हैं. जरा मुलाहिजा फ़रमाया जाये.



कुल पुस्तक प्रकाशित : ५० नग
कुल पुस्तक मुफ्त वितरित : ३० (११ ब्लॉगर्स को एवं १९ नॉन ब्लॉगर्स को) (अतः नोट ओनली फार ब्लॉगर्स)
भारतीय डाक की कृपा से पोस्ट में गुम : ३ (तीनों ब्लॉगर्स को भेजी हुई)
स्टॉक में बची मुफ्त वितरण की राह तकती : १०
बिक्री/मुफ्त वितरण के डिसिजन के बीच झूलती : ६
बिक्री हेतु आरक्षित : २
प्रकाशक की सुरक्षित प्रति : १ (विशिष्ट परिस्थितियों में इसे भी मुफ्त वितरण हेतु मान्य समझा जाये, प्रकाशक खुद के लिए बिक्री वाली में से एक खरीद लेगा)
लेखक की सुरक्षित प्रति : १ (विशिष्ट परिस्थितियों में इसे भी मुफ्त वितरण हेतु मान्य समझा जाये, लेखक खुद के लिए बिक्री वाली में से एक खरीद लेगा)


विमोचन से एक माही आयोजन के बीच का अंतराल : ३१ दिन
समीक्षायें प्रकाशित : ४३ (नित १.३९ समीक्षा (४३/३१))
समीक्षा की आड़ में व्यक्तिगत भड़ास : १
समीक्षा कम इन्वेस्टिगेशन ज्यादा : १
समीक्षा के नाम पर पुस्तक के अंश : ३
समीक्षा के बदले स्तुतिगान : ३३
समीक्षा के नाम पर अबूझ लेखन : ४
लेखक परिचय : १

सबसे पहले तो इस समारोह के अवसर पर दो शब्द कहते हुए सजल नयनों से स्लिम एवं जीरो साईज उपन्यासिका के पन्नों की संख्या से दोगुनी पन्नों की संख्या पार कर चुकी समीक्षाओं के लिए मिस समीरा टेढ़ी को दो मिनट का मौन रख कर बधाई एवं शुभकामनाएँ दी गई. इसके बाद ताऊ द्वारा यह याद दिलाया गया कि बार बार स्मरण कराने पर भी आज तारीख तक किताब नही पहुँची, वैसे इसकी महति आवश्यक्ता भी नहीं क्योंकि उपरोक्त ४३ समीक्षाओं जिसमें एक इन्वेस्टिगेशन रिपोर्ट भी शामिल है, के आधार पर समीक्षा एवं ब्लॉग पर लिंक्स पढ़कर किताब में छपे से ज्यादा किताब ताऊ ऑलरेडी पढ़ चुका है और उसी के आधार पर किसी भी अच्छे खाँ से बेहतर समीक्षा/ इन्वेस्टिगेशन/भड़ास उगाली कर सकता है. जिसका एक छोटा सा नमूना यहां आप पढ ही रहे हैं.

बहुत ही अफ़्सोसजनक और मोस्ट इम्पोरटेन्ट बात यह है कि आज तक समीक्षा करने की फ़ीस भी नही भेजी गई है. अत: जैसा की ताऊ महाराज का सिद्धांत है कि फ़ीस के अभाव में सिर्फ़ जलागरत्व गुण प्रधान वाली समीक्षा ही एक मात्र उपाय बचती है.

अतः ताऊ इस भाषण एवं पोस्ट के माध्यम से एक बार पुनः आगाह करता है कि सात दिन के भीतर अगर रकम अदायगी की रस्म पूरी न की गई तो किसी भी प्रकार की समीक्षा जो कि जलागरत्व गुण से सजी होगी एवं किताब की बिक्री को पुनः एक बार रोकने की पुरजोर कोशिश होगी (पूर्व मे किसी अन्य द्वारा की गई इस कोशिश की नाकामी को मानक न माना जाये) और इसके लिए ताऊ को जिम्मेदार न ठहराया जाये. वैसे ठहरा कर भी ताऊ का क्या बिगाड लोगे, जब आज तक कोई कुछ नहीं बिगाड पाया.

यह ताऊ की शराफ़त है जो जलागरत्व गुण प्रधान समीक्षा छापने के पूर्व इस पोस्ट के माध्यम से चेतावनी दे रहा है कि जल्दी से जल्दी फ़ीस की रकम भेजी जाये वर्ना ताऊ अपनी मनमर्जी की समीक्षा छापने के लिये स्वतंत्र है और आप सब पाठक इस बात के गवाह होंगे कि ताऊ ने पीठ पीछे से वार नही किया ब्लकि पीठ की जगह पेट में छुरा भौकंने के लिये सात दिन का महती समय प्रदान करने की कृपा की.

अन्य सभी गणमान्य लेखक/लेखिकाओं से अनुरोध है कि वे अपनी अपनी पुस्तकों की समीक्षा करवाने की फ़ीस तुरंत भिजवायें और ताऊ को जलागरत्व गुण प्रधान छीछालेदर करने का मौका ना दें.


30 comments:

  1. हंस हंस के लोटपोट होने के सिवा कोई चारा नहीं हा हा हा हा हा हा
    regards

    ReplyDelete
  2. ताऊ होश में आ जाओ !
    अब दोस्तों से भी नोट कमाने के लिए ब्लैकमेलिंग शुरू कर दी ... :-(
    कितना ही चिल्ला लो समीरा मैडम से एक पैसा नहीं मिलने वाला वैसे ताऊ सारे काम जेल जाने के कर रहा है ! पैसों की इत्ती भूख ठीक नहीं !

    ReplyDelete
  3. खैर ...ताऊ के सुधरने की कोई उम्मीद नहीं
    किताब का नाम और कवर पेज मूल किताब से बढ़िया रहा, ताऊ की खोपड़ी का जवाब नहीं !

    ReplyDelete
  4. पूर्व चेतावनी के लिये धन्.....

    ReplyDelete
  5. ाइसे कैसे चली जाऊँ? :देख लूँ तो चलूँ:। राम राम।

    ReplyDelete
  6. हा-हा-हा
    ताऊ तेरा जवाब नहीं
    जोरदार हास्य

    प्रणाम

    ReplyDelete
  7. क्या बात है...बहुत खूब...लाजवाब....

    ReplyDelete
  8. हा-हा-हा-हा.... यार ताऊ जी, मैं तो सोच रहा था कि आप सिर्फ किताब का कवर ही उधेडोगे, आपने तो खाल ही उधेड़ के ही रख दी :)

    ReplyDelete
  9. हाय!!!!!!!!!!!!!मिस समीरा की हालत....कहाँ अटक गईं बेचारी ताऊ के चक्कर में....भगवान उनकी रक्षा करे!!! :)

    ReplyDelete
  10. ताऊ जी .. हमें तो पुस्तक मिल गयी... धन्यवाद
    हा हा हा ,,, आपने तो हसा हसा के लोटपोट कर दिया ...

    ReplyDelete
  11. ताऊ श्री सावधान ! आप पर गंभीर आरोप लगा कर
    मिस समीरा टेडी केस चलाने की योजना बना रहीं है .ये भी सुना की आपने उनके साथ ब्लैक मेलिंग और अमानत में खयानत की है.खैर घबराने की कोई बात नहीं .आप मेरे ब्लॉग 'मनसा वाचा कर्मणा ' पर आइये ,कुछ न कुछ रास्ता निकाल ही लेंगें आपस में मिल कर . प्रणाम

    ReplyDelete
  12. देख लिया अब दि..... बहुत सुंदर , राम राम

    ReplyDelete
  13. पुस्तक जल्दी से रवाना कर दीजिए!
    समीक्षा लिख देंगे!

    ReplyDelete
  14. ’देख लिया, अब जाओ' हा हा हा

    ReplyDelete
  15. मिस समीरा के बहाने आपने वर्तमान लेखकों के ! दर्द को खूब अभिव्यक्त किया है। सुंदर हास्य-व्यंग्य।
    ...तबियत मस्त हो गई ताऊ !

    ReplyDelete
  16. ताऊ पला बदल रहे हो -मुआफी नहीं मिलेगी !

    ReplyDelete
  17. ताऊ कमाल कर दिया।
    हा हा हा हा

    ReplyDelete
  18. अब समझ आया की मेरी सारी किताब की कोई समीक्षा क्यों नहीं करता है जो किताबे मैंने समीक्षा के लिए पोस्ट से भेजे थे वी उन्हें मिले ही नहीं सब डाक बाबु लोग मुफ्त में पढ़ने के लिए अपने पास ही रख लिए | वैसे मेरी चव्वनिया मिली की नहीं ताऊ किताब तो आप बिना पढ़े की समीक्षा कर देंगे मुझे पता है |

    ReplyDelete
  19. ये पुस्तक समीक्षा भी मजेदार बन गई |

    ReplyDelete
  20. aage se koi bhi samikshak...........
    kisi pustak ki samiksha karne se poorv......tau ke is sameeksha ko jaroor padhen......


    ghani pranam.

    ReplyDelete
  21. हा हा हा …………बढिया है।

    ReplyDelete
  22. आह! मैं बच गया :)
    (क्योंकि मैं लेखक नहीं हूं)
    :)

    ReplyDelete
  23. क्या शानदार किताब लाये हैं आप... बढ़िया..

    ReplyDelete