Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 104

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 104 में आपका हार्दिक स्वागत है. आजकल ताऊ पहेली का हिंट नही दिया जाता है. पहेली के जवाब की पोस्ट यथावत हर मंगलवार सुबह 4:44 AM पर प्रकाशित की जाती है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर 12:00 बजे तक या अधिकतम कमेंट सुविधा बंद करने तक है.

आजकल रामप्यारी अन्य कार्यों में व्यस्त है इसलिये कुछ दिनों तक उसके सवाल पूछने का सिलसिला बंद रहेगा. रामप्यारी को जैसे ही समय मिलेगा.. रामप्यारी का बोनस सवाल पूछना फ़िर शुरू किया जायेगा.

जरुरी सूचना:-
टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे. सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

नोट : किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम
रामप्यारे ट्वीट्स

66 comments:

  1. ताऊ ऐ भाटा कठे चिणेड़ा है कोनी बेरो !

    ReplyDelete
  2. विष्णु मंदिर जांजगीर

    ReplyDelete
  3. राम राम ताऊ....पहले तो आपको जानकारी दे दूं....
    मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    ReplyDelete
  4. वाह वाह!! राजस्थान जाना काम आ गया. पिछले बार गया था और यहीं खड़े हो कर तस्वीर हिंचवाई थी.


    यह आढाई दिन का झौपडा है जो अजमेर में है..

    ReplyDelete
  5. आज संजय बैंगाणी जी शायद मेहनत करें. :)

    ReplyDelete
  6. भविष्यवाणी:

    आज अटकलों का बाज़ार गर्म रहने की संभावना है. कृपया अफवाहों से सावधान रहें.

    ReplyDelete
  7. रामप्यारी की छुट्टियाँ निरस्त की जाएँ........हमारी मांगे पूरी हों, हमे हिंट चाहिए ..
    regards

    ReplyDelete
  8. पप्पू फिर फेल हो गया.

    ReplyDelete
  9. ताऊ जी जब पहेली बिना हिंट की है तो कम से कम सरल सवाल तो पूछिए

    ReplyDelete
  10. this is Adhai-Din-ka-Jhonpra in Ajmer in Rajasthan
    regards

    ReplyDelete
  11. the monument was completed within two and a half days under the supervision of Mohammad Ghori. Constructed in 1198 A.D, Adhai Din Ka Jhonpra was deftly decorated over an already existing structure that housed an ancient center of Sanskrit learning. The monument was the only popular mosque in Ajmer right from the Mughal period. The beautifully carved pillars, arched screen and ruined minarets make the tomb one of the mostly visited places in Rajasthan.

    Adhai-Din Ka-Jhonpra is supported by 124 pillars and the monument is coroneted with 10 magnificent domes. The tomb is a relic of old mosque. The arched walls of the mosque had inscriptions with Islamic scripts; however most of them exist in ruins only. A majestic tower remarkably sited just inside the mosque that is used by the Muezzin to chant prayers. The stone walls of the main prayer hall are fashioned with carved rectangular panels having net like appearance on it. Avoiding the diversities of the monument, the arches and pillars have been mingled perfectly to create an optimum architectural masterpiece. This quadrangle pedestal mosque has adorned with front screen wall with pointed arches. Visitor easily gets resemblance between Adhai Din Ka Jhonpra with two and a half day fair held at Ajmer every year.

    ReplyDelete
  12. @ आशीष मिश्रा

    हिंट इसलिये बंद किये गये हैं कि कुछ लोग जवाब छाप कर अपने जीनियस होने का प्रमाण देने लगे थे.
    तो ऐसे में पहेली का कोई औचित्य नही रह जाता.

    पहेली का स्वरूप ऐसा होना चाहिये जो कि दिमाग को थोडा झकझोर दे. मेरे हिसाब से पहेली के विजेताओं में नाम लिखाना भर पहेली बूझना नही होता. ब्लकि जो भी भाग लेकर प्रयत्न करता है वो भी विजेता से कमतर नही होता.

    कई सूरमा अब कहां गये? आप देख रहे हैं कि जो टीपूचंद थे वो और जो पहली मिनट में ही जवाब देते थे वो भी गायब हो गये हैं?

    क्यों? यह जरा सोचने वाली बात है.

    ReplyDelete
  13. मन्ने तो ये ताऊ का घर लागे है, देखो कोने में बैठा भी है...

    ReplyDelete
  14. ये तिवारी साहब का महल है पिछले जन्म का।:)

    ReplyDelete
  15. चंद्रकांता मे ऐसे महलों का विवरण आता है. कहीं ये रोहतास गढ का महल तो नही है?

    ReplyDelete
  16. Jama Al-Tamish Or Dhai Din-Ka-Jhonpra,ajmer,rajisthan.

    ReplyDelete
  17. ताऊ, यह भूतनाथ का महल, रोहतास गढ हमारी तरफ़ से लाक करो। जय जय राम जी की!

    ReplyDelete
  18. ये बात तो है रामप्यारे जी ...........
    सही कहा .....
    सहमत

    ReplyDelete
  19. यह रंगीन दीवार है
    कहां है
    जिनके दिल रंगीन हैं
    उनसे पूछना होगा

    अब तो बंटी चोर
    के भी उड़ गए हैं मोर
    उन्‍हें पकड़ने चला गया है
    क्‍या

    रामप्‍यारे ने सही कहा है
    अविनाश मूर्ख है

    ReplyDelete
  20. अब ऐसे खंडहर हिन्दुस्तान में पचासों जगह हैं ये कौनसा है क्या और कैसे बताएं...सोचते हैं...तनिक सबर करो जी...

    नीरज

    ReplyDelete
  21. ताऊ,
    सूरमा तो अब हमारी पहेली से भी गायब हो गये हैं।
    रही बात इस पहेली की, नीचे कोने में एक राजस्थानी ताऊ बैठा है तो यह पक्का राजस्थान में ही है। राजस्थान हिन्दुस्तान का सबसे बडा राज्य है, पता नहीं किस कोने का फोटू है यह।

    ReplyDelete
  22. ताऊ जी...
    दो घंटे में दिमाग का दही हो गया है...
    अब शाम को आते हैं....

    ReplyDelete
  23. @ नीरज जाटजी

    आपने रामप्यारे का दिल गार्डन गार्डन कर दिया जी. वाह मेरे जाट! इसे कहते हैं पहेली बूझने की असली कला. असल में सारे हिंट/क्ल्यु पहेली के चित्र में ही छुपे रहते हैं सिर्फ़ खोजी नजर चाहिये. टीप टाप कर जवाब देने से क्या फ़ायदा?

    ReplyDelete
  24. रणथम्बोर का कोई हिस्सा?

    ReplyDelete
  25. शहर राजस्थान। ताऊ पक्का कर दो मेरा आधा ईनाम।

    ReplyDelete
  26. फोटो में सीढ़ी के नीचे बैठे हरे पगड़ी धारी हिंट दे रहे है जरुर ये राजस्थान की कोई जगह है |

    अरे भाई लोग ये भी हो सकता है की वो खुद राजेस्थान से यहाँ घूमने आये हो |

    ReplyDelete
  27. ताऊ जी राम राम, अजी इतने असान सवाल मत पुछा करो, चलिये अब आप ने पुछ ही लिया तो जबाब देने का फ़र्ज भी बनता हे, लेकिन दुसरे विजेतओ के पेट पर लाट मारते हुये अच्छा भी नही लगता, यह राजस्थान नही जी, यह तो दिल्ली के शाली मार बाग के पास शनि के मंदिर से पचाम मीटर दुर हनुमान मंदिर, अरे नही हनुमान मंदिर नही, उस से २०० मीटर दुर जो मंदिर हे, वहां से दाये मुड कर सीधा चले, ओर अगले मोड पर फ़िर दाये मुड जाये, फ़िर नाक की सीध मे चले, साबधान आगे फ़िर दाये मुड जाये, अब आरम से चले लेकिन अगले मोड से फ़िर दाये मुड जाये, बस अब पहुचने वाले ही हे, हां यह आखरी मोड हे इस से फ़िर दाये मुड जाये... थोडी दुर पर आप को यह मंदिर दिख जायेगा, लेकिन उस से पहले यह गांव को नारिया गीत गाते मिल जायेगी, जिस के बोल हे *****पीतल की मेरी गागरी दिल्ली से मोल मगांई रे**** बस अब पहले इन का गीत सुने फ़िर आगे बीन बाजे वाले राजस्थानी भेषभूषा मे बेठे होगे, उन का संगीत सुन कर आगे बडे सामने बहुत बडे दरवाजे पर इस मंदिर का नाम लिखा हे, वही पढ ले, अगर आप ने बस से जाना हे तो बस ना० ४२० सीधी यहां जाती हे. राम राम, आती बार प्रसाद लेते आये, ओर मुझे वो प्रसाद भेज दे.

    ReplyDelete
  28. राम राम ताऊजी
    या तो ताऊजी की पोळी लागे है। पण ताऊजी तो कुरसी पर बैठा कर हैं आज निच कैया बैठा है। के बात होगी

    ReplyDelete
  29. ताऊजी आज को तो पुरो दिन या थारळी पोळी ढूढता ही लोग्यो इब तो भूख भी लाग्याई

    ReplyDelete
  30. सही जबाब है। अजमेर दरगाह

    ReplyDelete
  31. @ मिश्रा जी थे ही थे कुनी आज बोळा थकग्या लागै हैं

    ReplyDelete
  32. बहुत मुश्किल है ताऊ। अपन के बस का नहीं है। पहले तो लगा के कोई घाट होगा, फिर लगा कोई पुराना किला है। पता नहीं क्या है? हिंट नहीं देते तो कम से कम सवाल तो आसान दो।

    .....................................
    ताऊ जी कभी हमारे शब्द साधना में भी पधारें।

    डॉक्टर की दुकान में ग्राहकों की भीड़

    ReplyDelete
  33. ताऊ जी राम-राम!
    यह तो अजमेर (राजस्थान) के पास
    "ढाई दिन का झोंपड़ा" है!

    ReplyDelete
  34. राम-राम ताऊ जी,

    :) वो क्या है कि मुझे इसकी तलाश के लिए भारत-भ्रमण पर निकलना पड़ेगा...आप सिर्फ़ टिकिट बुक करवा दीजिए...!

    टिकिट की प्रतीक्षा रहेगी...!

    ReplyDelete
  35. ताऊ आपको पता ही है कि मै सब से नालायक हूँ वैसे भी शादी के बाद औरत को कोई सवाल करने या बूझने का हक कहाँ होता है? अब आदत पड गयी है। बस राम राम स्वीकार कीजिये।

    ReplyDelete
  36. ताऊ की ससुराल का घर है | म तो कई बार जा चुका हूँ |

    ReplyDelete
  37. ताऊ ये तो ढाई दिन का झोंपड़ा है जो राजस्थान के अजमेर में स्थित है | यह आज से ३० वर्ष पहले देखा था इसलिए पहचान करने में थोड़ी देर हो गयी |

    ReplyDelete
  38. `अधूरा जवाब माना जायेगा'

    तो हम कौनसा पूरा जवाव देने बैठे हैं ताऊ :)

    ReplyDelete
  39. हम बहुत ज्यादा राजस्थान और गुजरात नहीं घूमे हैं, पर मन्ने लगे है कि ये मंदिर इन्हीं में से किन्हीं दो राज्यों में होगा।

    ReplyDelete
  40. कठिन पहेली है, गुजरात मे कहीं पर है ।

    ReplyDelete
  41. @ आजकल ताऊ पहेली का हिंट नही दिया जाता है.

    अच्छा ....कब से ....?
    चलिए कोई बात नहीं ......
    हमें हिंट से भी कौन सा पता चल जाता था ....

    @ आजकल ताऊ पहेली का हिंट नही दिया जाता है.

    अच्छा ....कब से ....?
    चलिए कोई बात नहीं ......
    हमें हिंट से भी कौन सा पता चल जाता था ....

    shekhar suman said...

    ताऊ जी...
    दो घंटे में दिमाग का दही हो गया है...
    अब शाम को आते हैं.......


    हम भी जरा दही खाकर आते है .....

    अरे ....रुकिए इधर राज़ जी से प्रसाद भी ले लूँ ....फिर आती हूँ ....

    ReplyDelete
  42. मकबूल फिदा हुसैन की वो पैंटिंग है, जिसे ताऊ पूरी होने से पहले ही उठा लाया सै। अभी तो इस पर एक हीरोईनी का चित्र भी काढना बाकी रह गया सै। इस तस्‍वीर ने वापस भेज दे फिदा बाबा के पास। पूरी होने पर अगली बार पहले में पूछना। तब सब उत्‍तर बतला देंगे। वैसे चित्र की पहेली बनाकर ... सर्वोत्‍कृष्‍ट कलाकृति को जीवंत करने का सार्थक प्रयास है।

    ReplyDelete
  43. ताऊ जी राम राम .जवाब मुझे नहीं पता:(

    ReplyDelete

  44. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - देखें - 'मूर्ख' को भारत सरकार सम्मानित करेगी - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  45. पत्थरों से तो राजस्थान की कोई जगह नज़र आ रही है ताऊ। हिंट नहीं न दीजिएगा ?

    ReplyDelete
  46. बच्चो की किताब में इसकी फोटो मिल गयी ये तो अजमेर(राजस्थान )का ढाई दिन का झोपडा है|

    ReplyDelete
  47. Oho bina hint ke to bada mushkil hai ...

    Raampyaree vapas aaooo jaldee ...:)missing missing

    Rajishthaan ka koi fort .

    ReplyDelete
  48. इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है. सभी प्रतिभागियों का हार्दिक आभार.

    ReplyDelete