Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 93

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.
ताऊ पहेली अंक 93 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि यह कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?



ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद कमेंट सुविधा बंद कर दी जायेगी. अगर कमेंट सुविधा किसी कारण वश जारी भी रही तो आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

अब रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर का. यानि जो भी प्रतिभागी रामप्यारी के सवाल का सही जवाब देगा उसे 20 नंबर अलग से दिये जायेंगे. तो आईये अब आपको रामप्यारी के पास लिये चलते हैं.


"रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर के लिये"



हाय...आंटीज एंड अंकल्स...दीदीज एंड भैया लोग...गुडमार्निंग..मी राम की प्यारी रामप्यारी.....अब आपसे पूरे 20 नंबर का सवाल पूछ रही हूं. सवाल सीधा साधा है. बस मुख्य पहेली से अलग एक टिप्पणी करके जवाब देना है. और 20 नंबर आपके खाते में जमा हो जायेंगे. है ना बढिया काम...तो अब नीचे का चित्र देखिये और बताईये की यह किस फ़ल या फ़ूल के पत्तों का चित्र है?




इस सवाल का जवाब अलग टिप्पणी मे ही देना है. अब अभी के लिये नमस्ते. मेरे ब्लाग पर अब से दो घंटे बाद यानि 10 बजे आज की मुख्य पहेली के हिंट के साथ आपसे फ़िर मुलाकात होगी तब तक के लिये नमस्ते.

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु. अल्पना वर्मा

नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम

75 comments:

  1. आज फिर मेरी देखी जगह चुन ली ताऊ ....कैसे जाणा कि मैं हो आया हूँ यहाँ... :) हा हा!

    ReplyDelete
  2. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib - This famous Gurudwara is situated in the heart of the Dhubri Town on the bank of the mighty Brahmaputra river in far north-east India.


    गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, ढबरी

    ReplyDelete
  3. आज तो मुझसे जीतने के लिए मित्रों को बहुत दम लगाना पड़ेगी... :)

    संजय बैंगाणी जी आजकल दिख नहीं रहे..डर गये क्या?

    ReplyDelete
  4. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib - This famous Gurudwara is situated in the heart of the Dhubri Town on the bank of the mighty Brahmaputra river in far north-east India.


    गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, ढबरी

    ReplyDelete
  5. चांदनी चौक दिल्‍ली का गौरीशंकर मंदिर। लालकिले के सामने है।


    बारिशरानी से रोमांटिक बातचीत


    ReplyDelete
  6. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib is the famous Gurdwara of Sikhs situated in Dhubri town on the bank of river mighty Brahmaputra in Assam, India.

    ReplyDelete
  7. उसी फल या फूल के पत्‍तों का चित्र है जो पेड़ पर सचमुच में उगते हैं। प्‍लास्टिक वाले नहीं, जो फै‍क्‍टरियों, कारखानों में बनते हैं।
    बारिशरस में डूबी दिल्‍ली

    ReplyDelete
  8. रामप्यारी का सवाल :
    अंगूर के पत्ते

    ReplyDelete
  9. रामप्यारी लौकी के पत्ते ले आई क्या?

    ReplyDelete
  10. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib - This famous Gurudwara is situated in the heart of the Dhubri Town on the bank of the mighty Brahmaputra river in far north-east India.


    गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, ढबरी

    ReplyDelete
  11. रामप्यारी का सवाल :
    सह्तुत के पत्ते

    ReplyDelete
  12. पटना का गुरुद्वारा लग रहा है

    ReplyDelete
  13. 1-गुरुद्वारा शीश गंज दिल्ली
    2-कपास का पौधा

    ReplyDelete
  14. namste tau ji the anser is -Gurdwara Sri Guru Teg Bahadur Sahib Ji Dhubri, Assam.

    ReplyDelete
  15. ""Gurdwara Sri Guru Teg Bahadur Sahib Ji Dhubri -Assam""......!!!!

    ReplyDelete
  16. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib - This famous Gurudwara is situated in the heart of the Dhubri Town on the bank of the mighty Brahmaputra river in far north-east India.


    गुरुद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, ढबरी

    ReplyDelete
  17. गुरु नानक दरबार, पूना

    ReplyDelete
  18. राम राम ताऊ !!
    हमें तो जेल लग रही है जिसमें लोगों को धोखा देकर पैसे कमाने वाले नीम हकीम बंद किये जाते हैं ताऊ !
    सावधान !

    ReplyDelete
  19. पटना साहिब गुरुद्वारा है जो पटना,बिहार में स्थित है!
    धनिया पत्ता लगता है!

    ReplyDelete
  20. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib

    The famous Gurdwara of Sikhs situated in Dhubri town on the bank of river mighty Brahmaputra in Assam, India.

    ReplyDelete
  21. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib is the famous Gurdwara of Sikhs situated in Dhubri town on the bank of river mighty Brahmaputra in Assam, India
    regards

    ReplyDelete
  22. रामप्यारी रानी अंगूर खट्टे हैं...

    ReplyDelete
  23. चित्र गुरुद्वारे का लग रहा है, परंतु पहचान नहीं पा रहे :(

    ReplyDelete
  24. रामप्यारी के सवाल का जवाब -
    अंगूर के पत्ते है .....

    ReplyDelete
  25. गुरद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, चक्रशिला, आसाम

    अंगूर के पत्ते - रामप्यारी का जवाब

    ReplyDelete
  26. असम के धुबड़ी में आया गुरू तेगबहादूर गुरूद्वारा साहेब लग रहा है.

    ReplyDelete
  27. अंगूर के पत्ते - रामप्यारी का जवाब
    गुरद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, धुबरी, आसाम

    ReplyDelete
  28. रामप्यारी के सवाल का जवाब

    शहतूत के पत्ते

    प्रणाम

    ReplyDelete
  29. Dhubri District
    assam mein sthit gurudwara hai yeh

    ReplyDelete
  30. bahut dino baad ana hua hai taau ke blog par ummed hai taau naraj nahin honge..
    meet

    ReplyDelete
  31. or haan ise gurudwara sri guru teg bahadur kahte hain
    meet

    ReplyDelete
  32. राम राम ताऊ,
    जवाब है - गुरद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहिब, धुबरी, आसाम
    और रामप्यारी का - अंगूर के पत्ते

    यहाँ भी आये और अपनी बात कहे :-
    क्यों बाँट रहे है ये छोटे शब्द समाज को ...?

    ReplyDelete
  33. ताउ राम राम। लगता है कि रामप्‍यारी जट्रोफा के पत्‍ते तोड़ लायी है। पता नहीं कहां-कहां से क्‍या-क्‍या उठा लाती है :)

    ReplyDelete
  34. गुरुद्वारा तेग बहादुर, धुबरी, आसाम

    ReplyDelete
  35. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib
    Dhubri District
    Assam

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  36. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib is the famous Gurdwara of Sikhs situated in Dhubri town on the bank of river mighty Brahmaputra in Assam, India. The first Sikh Guru, Guru Nanak Dev visited this place in 1505 A.D. and met Srimanta Sankardeva on his way when he travelled from Dhaka to Assam. Later, the 9th Guru Teg Bahadur came to this place and established this Gurdwara during 17th century. Around 50,000 Sikh devotees from all over the country and the world assemble in this historic shrine every year in the month of December to mark the martyrdom of Guru Tegh Bahadur, which starts on 3rd December with great solemnity and ceremony. Sikhs call this festival Sahidee-Guru-Parav.

    ReplyDelete
  37. गुरुद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब
    दुबरी/धूबरी
    आसाम

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  38. मुझे तो आसाम का Ujjayanta Palace लग रहा है ।

    आगे और कोशिश करते हैं की इसका सही नाम क्‍या है ।

    ReplyDelete
  39. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Tripura

    ReplyDelete
  40. गुरुद्वारा है शायद दिल्ली का ……………शीश गंज

    और रामप्यारी ये कहाँ से पत्ते ले आयी …………………हमे तो पता चलता ही नही जब पता चले खुद ही बता देना।

    ReplyDelete
  41. GURUDWARA SHRI TEGH BAHADUR SAHIB, DHUBRI DISTRICT ASSAM

    ReplyDelete
  42. गुरूद्वारा श्री दमदमा साहिब, स्थान ढुबरी, आसाम

    ReplyDelete
  43. ताऊ जी यह गुरु तेगबहादुर साहिब गुरुद्वारा है जो की धुबरी टाउन, आसाम में स्थित है.

    ReplyDelete
  44. धुबरी एक छोटा सा टाउन है जो की असाम में भारत-बंगलादेश सीमा पर पड़ता है, अगर अपनी गाडी से जा रहे हैं तो यहाँ गुवाहाटी से 4-5 घंटे में पहुँच सकते हैं.

    ReplyDelete
  45. रामप्यारी जी, यह पत्ते तो अंगूर के लग रहे हैं.

    ReplyDelete
  46. Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib - This famous Gurudwara is situated in the heart of the Dhubri Town on the bank of the mighty Brahmaputra river in far north-east India. Guru Nanak the first Sikh Guru visited this place in 1505 and met Srimanta Sankardeva (the founder of the Mahapuruxiya Dharma) as the Guru travelled from Dhaka to Assam.

    wiki कह रहा था..

    ReplyDelete
  47. ताऊ जी ये गुरुद्वारा तो नहीं देखा

    ReplyDelete
  48. पता नहीं कहां का है लेकिन रामप्यारी ये पत्ते अंगूर की बेल के है |

    ReplyDelete
  49. समीर जी केसंग मै भी इस जगह आ चुका हुं, इस लिये समीर जी का जबाब ही मेरा जबाब माना जाये, अंगुर खा कर.

    ReplyDelete
  50. अरी राम प्यारी अंगुर खट्टे है

    ReplyDelete
  51. रामप्यारी का जवाब :

    अंगूर की पत्तियां हैं

    ReplyDelete
  52. अरे रामप्यारी
    यह अंगूर के पत्ते तो बहुत सुन्दर लग रहे हैं!

    ReplyDelete
  53. रामप्यारी ऐसा थोड़े ही ना होता है। अब कोई भींडी का पौधा भी नहीं पहचानेगा क्या

    ReplyDelete
  54. है तो गुरुद्वारा, कौन सा, यह कल हिंट देखते हैं।

    ReplyDelete
  55. रामप्यारी

    अंगूर के पत्ते.....


    (अंगूर खट्टे निकले क्या? जो हमको पत्ते दिखा रही है) :)

    ReplyDelete
  56. कठिन प्रश्न है. अपुन का सरेंडर!

    ReplyDelete
  57. अब तो जवाब आ ही गया होगा ..!

    ReplyDelete
  58. ये पत्‍ते हैं प्रेम के
    हरे हरे पत्‍ते
    प्रकृति से प्रेम कर लो
    दिलों में प्रेम भर लो
    वही जो कर रही है
    ताऊ की पहेली
    बना रही है सहेला
    और सबको सहेली।

    ReplyDelete
  59. सूचना :-

    इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है.

    अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक दिये जा सकेंगे एवम जवाबी पोस्ट मे उनका नाम शामिल किया जाना पक्का नही है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक आभार.

    -आयोजनकर्ता

    ReplyDelete