Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 93 Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib / Gurudwara Damdama Sahib at Dhubri ,Assam - विजेता : समीर लाल ’समीर’

प्रिय भाईयो और बहणों, भतीजों और भतीजियों आप सबको घणी रामराम ! हम आपकी सेवा में हाजिर हैं ताऊ पहेली 93 का जवाब लेकर. कल की ताऊ पहेली का सही उत्तर है Gurdwara Sri Guru Tegh Bahadur Sahib/ Gurudwara Damdama Sahib at Dhubri ,Assam

और इसके बारे मे संक्षिप्त सी जानकारी दे रही हैं सु. अल्पना वर्मा.

आप सभी को मेरा नमस्कार,

पहेली में पूछे गये स्थान के विषय में संक्षिप्त और सारगर्भित जानकारी देने का यह एक लघु प्रयास है.

आशा है, आप को यह प्रयास पसन्द आ रहा होगा,अपने सुझाव और राय से हमें अवगत अवश्य कराएँ.


गुरु तेग बहादुर सिंह
--------------------------

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि सिखों के दस गुरु हैं.उनमें गुरु तेग बहादुर सिंह जी नौवें गुरु हैं.जिनका जन्म १८ अप्रेल १६२१ में हुआ ,इनका बचपन अमृतसर में बीता और मूल नाम त्त्याग मल था . १६३२ में उनका विवाह हुआ था और २४ नवम्बर १६७५ में निर्वाण प्राप्त हुआ.

GuruTegh Bahadur Ji


उनके दिए उपदेश में उन्होंने कहा था कि 'भै काहू को देत नहि'। नहि भय मानत आन।'[अर्थात] मनुष्य को किसी को डराना भी नहीं चाहिए और न किसी से डरना चाहिए.

गुरुजी की शहादत केवल धर्म पालन के लिए नहीं बल्कि सारी मानवीय सांस्कृतिक विरासत की रक्षा के लिए थी .वे एक क्रांतिकारी युग पुरुष थे जिन्हें उनके निर्भय आचरण, धार्मिक अडिगता ,धर्म के सत्य शाश्वत मूल्यों के रक्षक और उनकी नैतिक उदारता के लिए आज भी पूजा जाता है.

उन्होंने एकांत में लगातार 20 वर्ष तक 'बाबा बकाला' नामक स्थान पर साधना की और बाद में जगह जगह घूम कर सत्य ज्ञान का प्रसार -प्रचार , लोगों के आध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक, उन्नयन के लिए कई कल्याणकारी कार्य किये.

औरगंजेब के राज्य में जबरन इस्लाम धर्म कबुलवाने के खिलाफ गुरूजी ने आवाज़ उठायी थी और जिसके परिणाम स्वरूप औरंगजेब ने उन्हें कैद करवा कर उनका सर कलम कर दिया था.गुरु जी ने औरंगजेब से कहा था - 'यदि तुम जबर्दस्ती लोगों से इस्लाम धर्म ग्रहण करवाओगे तो तुम सच्चे मुसलमान नहीं हो क्योंकि इस्लाम धर्म यह शिक्षा नहीं देता कि किसी पर जुल्म करके मुस्लिम बनाया जाए।' इस तरह हिंदू धर्म की रक्षा हेतु अन्याय और अत्याचार के विरुद्ध अपने प्राण न्योछावर कर दिए.

दिल्ली में उनके 'शहीदी स्थल' पर 'शीश गंज साहिब गुरुद्वारा बना है.

गुरु जी ने गुरु ग्रन्थ साहिब में ११५ श्लोक जोड़े थे और आनंदपुर साहिब की स्थापना भी उन्होंने ही कराई थी.उनके बाद उनके पुत्र गुरु गोविन्द सिंह जी सिखों के दसवें गुरु बने.

Tegh bahadur Sahib gurdwara assam


पहेली में दिखाया गया स्थान आसाम के ढुबरी शहर में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे प्रसिद्ध गुरुद्वारा 'गुरु तेग बहादुर साहिब गुरुद्वारा 'है जिसे गुरु नानक जी की याद में उन्होंने ही बनवाया गया था .ज्ञात हो कि १५०५ में गुरु नानक जी यहाँ आये थे उसके बाद गुरु तेग बहादुर जी आसाम में १६७० में पहुंचे थे. यहाँ अब भी वह पेड़ है जिस के नीचे गुरु जी विश्राम किया था.

Assam-sikh-guruparb


असम के इस गुरूद्वारे में हर वर्ष गुरु जी के शहीदी दिवस पर देश भर के सिख यहाँ शहीदी गुरु पर्व मनाने आते हैं.यह भी एक रोचक बात है कि असम में रहने वाले सिख असामी भाषा बोलते हैं और उन्हें बिहू नृत्य आता है भांगड़ा नहीं.असम के नौगांव में सिखों की बाहुल्यता देखी जा सकती है.परन्तु यहाँ रहने वाले सिख अपने धर्म के नियमों को उसी तरह पालन करते हैं जैसे कि पंजाब में रहने वाला कोई सिख.सिन्दूर बिंदी,मेघला पहने विवाहित स्त्री आप का स्वागत लस्सी या पानी से नहीं आसामी रिवाज़ के अनुसार सुपारी युक्त सरई से करती है ,पर आप उनकी कमर से बंधे कृपाण से जान जायेंगे कि वे सिख धर्म के अनुयायी हैं .
reference-http://www.sikhiwiki.org/



आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" की नमस्ते!

प्यारे बहनों और भाईयो, मैं आचार्य हीरामन “अंकशाश्त्री” ताऊ पहेली के रिजल्ट के साथ आपकी सेवा मे हाजिर हूं. उत्तर जिस क्रम मे मुझे प्राप्त हुये हैं उसी क्रम मे मैं आपको जवाब दे रहा हूं. एवम तदनुसार ही नम्बर दिये गये हैं.



सभी विजेताओं को हार्दिक शुभकामनाएं.


आज के प्रथम विजेता हैं श्री समीरलाल ’समीर’


श्री समीरलाल समीर अंक 101


 

श्री प्रकाश गोविंद अंक 100

ajju5

Dr.Ajmal Khan अंक 99

sabir h khan

श्री sabir*h*khan अंक 98

seharji4

सुश्री M A Sharma “सेहर” अंक 97

seema-gupta-2

सुश्री सीमा गुप्ता अंक 96

gajendra singh

 श्री गजेंद्र सिंह अंक 95

श्री संजय बेंगाणी अंक 94

श्री मीत अंक 93

OSHO

श्री ओशो रजनीश अंक 92

My Photo

श्री पी.एन.सुब्रमनियन अंक 91

श्री अंतरसोहिल अंक 90

ashish-mishra
श्री आशीष मिश्रा अंक 89

श्री जीतेंद्र अंक 88

प. डी.के. शर्मा "वत्स", अंक 87

shahnawaj

श्री Shah Nawaz अंक 86

श्री रंजन अंक 85

darshan-baweja

श्री Darshan Lal Baweja अंक 84

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक अंक 83


आईये अब रामप्यारी मैम की कक्षा में





हाय गुड मार्निंग एवरीबड्डी... मेरे सवाल का सही जवाब है : अंगूर की बेल, जी हां ये काले अंगूर की ही बेल है. निम्न सभी प्रतिभागियों को सवाल का सही जवाब देने के लिये 20 नंबर दिये हैं सभी कॊ बधाई.






श्री ओशो रजनीश
श्री पी.एन.सुब्रमनियन
सुश्री M.A.Sharma "सेहर"
श्री sabir*h*khan
सुश्री सीमा गुप्ता
श्री गजेंद्र सिंह
सुश्री डॉ. नूतन गैरोला " अमृता "
भारतीय नागरिक - Indian Citizen
श्री Shah Nawaz
श्री नरेश सिंह राठौड
श्री राज भाटिया
श्री प्रकाश गोविंद
डा.रुपचंद्रजी शाश्त्री "मयंक,
श्री उडनतश्तरी

अब अगले शनिवार को ताऊ पहेली में फ़िर मिलेंगे. तब तक जयराम जी की!

अब आईये आपको उन लोगों से मिलवाता हूं जिन्होने इस पहेली अंक मे भाग लेकर हमारा उत्साह वर्धन किया. आप सभी का बहुत बहुत आभार.

श्री अविनाश वाचस्पति
श्री राणा प्रताप सिंह
श्री ललित शर्मा
श्री सतीश सक्सेना
सुश्री बबली
श्री विवेक रस्तोगी
श्री अशोक पांडे
सुश्री sada
सुश्री वंदना
श्री रतनसिंह शेखावत
श्री गगन शर्मा
श्री संजय भास्कर
श्री स्मार्ट इंडियन
सुश्री वाणी गीत

अब अगली पहेली का जवाब लेकर अगले सोमवार फ़िर आपकी सेवा मे हाजिर होऊंगा तब तक के लिये आचार्य हीरामन "अंकशाश्त्री" को इजाजत दिजिये. नमस्कार!


आयोजकों की तरफ़ से सभी प्रतिभागियों का इस प्रतियोगिता मे उत्साह वर्धन करने के लिये हार्दिक धन्यवाद. !

ताऊ पहेली के इस अंक का आयोजन एवम संचालन ताऊ रामपुरिया और सुश्री अल्पना वर्मा ने किया. अगली पहेली मे अगले शनिवार सुबह आठ बजे आपसे फ़िर मिलेंगे तब तक के लिये नमस्कार.

22 comments:

  1. विजेताओं को बधाई

    जय राम जी की

    ReplyDelete
  2. समीर भाई और सभी विजेताओं को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  3. समीरजी पहले ही अपने जीतने की घोषणा कर चुके थे ...
    सभी विजेताओं को बधाई ...
    जानकारी के लिए आभार ...!

    ReplyDelete
  4. समीर जी व अन्य विजेताओं को बधाई। लगता है समीर जी जरूर कोई सिद्ध पुरुश हैं जहाँ देखो सब से आगे। उनके लिये शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. आदरणीय समीर जी सहित सभी विजेताओं को हार्दिक बधाई......अरे रामप्यारी रानी ये अंगूर तो मीठे निकले हा हा हा

    regards

    ReplyDelete
  6. गुरु को याद दिलाने के लिए आपका आभार !

    ReplyDelete
  7. समीर अंकल जी को बधाई और जल्द ही वो खिलाएंगे मिठाई.

    ReplyDelete
  8. लो जी हम भी मैदान में थे और बाजी भी मारी. अंक दो-चार इधर उधर होते रहते है :)

    ReplyDelete
  9. समीर जी समेत सभी को बधाई जी

    ReplyDelete
  10. गिनती उल्टी चालाओ ताऊ... समीर भाई बोर नहीं हो गए.. इतनी बार पहले आ कर.. :)

    ReplyDelete
  11. Samir ji sahit sabhee Pratibhagiyon ko bahut badhaii !

    ReplyDelete
  12. आदरणीय समीर जी सहित सभी विजेताओं को हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  13. सभी विजेताओं को बधाई ...

    ReplyDelete
  14. सभी विजेताओं को हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  15. प्रिय समीर जी आप जीतने का दावा नहीं कर सकते !
    देख लीजिये हम दोनों का जवाब एक ही समय में आया था ! फर्क इतना ही था कि आपका जवाब कनाडा से आया था ! इसलिए मामला मेहमान नवाजी में पहले आप ..पहले आप के चक्कर में अटक गया !

    बहरहाल बधाई के हकदार तो हैं ही आप !
    बहुत-बहुत बधाई
    -
    -
    पिक्चर अभी बहुत बाकी है .... पलायन न कीजियेगा ! अगले शनिवार को मिलता हूँ :)

    ReplyDelete
  16. सभी अन्य प्रतिभागियों को भी हार्दिक शुभ-कामनाएं

    अल्पना जी के माध्यम से बिलकुल नयी जगह और नयी जानकारियां प्राप्त हुयीं !
    आभार

    ReplyDelete
  17. समीर लाल जी सहित सभी विजेताओं को हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  18. समीर जी को और अन्य सभी विजेताओं को बधाई!...ताउ जी की उत्तम प्रस्तुति प्रशंसनीय है!

    ReplyDelete
  19. प्रकाश भाई..आपसे भला क्या हार जीत और कैसा पलायान...आप तो सदा जीते हुए हैं... :)


    संजय भाई आये ये देख अच्छा लगा...जीत हार २-४ अंको की चलती है मगर ७-८ अंकों की..ओह!

    :)

    विजेताओं को बधाई

    ReplyDelete