ताऊ पहेली - 77

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.
ताऊ पहेली अंक 77 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि यह कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?



ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

अब रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर का. यानि जो भी प्रतिभागी रामप्यारी के सवाल का सही जवाब देगा उसे 20 नंबर अलग से दिये जायेंगे. तो आईये अब आपको रामप्यारी के पास लिये चलते हैं.


"रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर के लिये"



हाय...आंटीज एंड अंकल्स...दीदीज एंड भैया लोग...गुडमार्निंग..मी राम की प्यारी रामप्यारी.....अब आपसे पूरे 20 नंबर का सवाल पूछ रही हूं. सवाल सीधा साधा है. बस मुख्य पहेली से अलग एक टिप्पणी करके जवाब देना है. और 20 नंबर आपके खाते में जमा हो जायेंगे. है ना बढिया काम...तो अब नीचे का चित्र देखिये और बताईये की यह चित्र किसका है?



इस सवाल का जवाब अलग टिप्पणी मे ही देना है. अब अभी के लिये नमस्ते. मेरे ब्लाग पर अब से दो घंटे बाद यानि 10 बजे आज की मुख्य पहेली के हिंट के साथ आपसे फ़िर मुलाकात होगी तब तक के लिये नमस्ते.

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु. अल्पना वर्मा

नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम

Comments

  1. रामप्यारी का जवाब तो aung san suu kyi है
    बाकी मेन पहेली कठिन है हिंट आने के बाद ही कुछ कहा जायेगा

    ReplyDelete
  2. अशोक स्तंभ है, कहाँ का है पता नहीं लग रहा है।

    ReplyDelete
  3. hai to ashoka sthambh khaan hai ye dundhna hai

    regards

    ReplyDelete
  4. Rampyari ke swaal ka jawab: Myanmar ki freedom fighter aur nobel peace prize vijeta Aung Sung Suu kyi

    ReplyDelete
  5. Ashoka pillar, Bareli Madhya pradesh

    ReplyDelete
  6. रामप्यारी का सीधा साधा सवाल
    उत्तर : सू की

    ReplyDelete
  7. Pillar of Strength, jayanagar, Bangalore

    ReplyDelete
  8. अशोक स्तम्भ - सारनाथ (वाराणसी के नजदीक) उ. प्र.

    ReplyDelete
  9. रामप्यारी:


    Aung San Suu Kyi

    Born 19 June 1945 (1945-06-19) (age 64)

    Prime Minister-elect of Burma

    Known for Leading the Burmese Democracy Movement, General-Secretary of the National League for Democracy, Nobel Peace Prize recipient.

    Known for Leading the Burmese Democracy Movement,

    General-Secretary of the National League for Democracy, Nobel Peace Prize recipient.

    ReplyDelete
  10. अशोक की यह लाट काशी के नज़दीक सारनाथ की हो सकती है.

    ReplyDelete
  11. राम प्यारी,
    यह म्यांमार की सैन्य सरकार द्वारा नज़रबंद जनप्रिय नेता आंग सान सू ची हैं जो इस १९ जून को अपना पैंसठवां जन्मदिन मनाएंगी. लोकतंत्र के लिए अपना सर्वस्वा न्योछावर करने वाले ऐसे वीर धन्य हैं.

    ReplyDelete
  12. Answer to your second question is surely Aung San Suu Kyi. I am dead sure about this.

    ReplyDelete
  13. चित्र आगं सांग सू की का है जी, वर्मा में लोकतंत्र के लड़ रही है.

    ReplyDelete
  14. Ashoka Pillar inside OD Fort, Allahabad
    regards

    ReplyDelete
  15. ASHOKA PILLAR SAARNATH U.P

    Ashoka built the Sarnath pillar to commemorate the site of the first preaching of Lord Buddha, where he taught the Dharma to five monks. Even though the pillar is still in its original location, the Ashoka Lion Capital has been shifted to the Sarnath Museum for better preservation. The Lion Capital of Ashoka comprises four lions, standing back to back, mounted on a cylindrical abacus. The abacus features the sculptures of an elephant, a galloping horse, a bull, and a lion, separated by intervening 24-spoked Dharma wheels over a bell-shaped lotus.

    ReplyDelete
  16. @कृपया मेरे ब्लॉग पर जा कर हिंट की पोस्ट ज़रूर देखें!
    *मुख्य पहेली का अभी तक सही जवाब नहीं आया है.
    ओल दी बेस्ट!

    ReplyDelete
  17. राम राम ताऊ
    जे तो मेरी ससुराल है "मेरठ"
    और जे आंटी Aung San Suu Kyi हैं

    ReplyDelete
  18. Dear Raanpyari Your Q...A is

    Aung San Su Ki

    Born 19 June 1945 (1945-06-19)

    ReplyDelete
  19. Dear Raampyari ur Q.......A is

    Aung San Su Ki


    Born 19 June 1945 (1945-06-19) (age 64)

    ReplyDelete
  20. ताऊ इलाहाबाद का नहीं तो आगरे का अशोक स्तंभ हे

    ताऊ सठिया गया लगता है, सही जवाब को भी ग़लत बता रिया है

    ReplyDelete
  21. दूसरे चित्र में आंग सान सू की हैं वर्मा की..

    ReplyDelete
  22. और पहले का तो भूल ही गया, शहीद स्मारक, मेरठ, उत्तर प्रदेश...

    ReplyDelete
  23. अशोका स्तम्भ
    इलाहाबाद
    उत्तरप्रदेश

    राम-राम

    ReplyDelete
  24. This pillar was originally erected in the 3rd century BC by the Mauryan emperor Ashoka. The pillar was moved to Allahabad, in front of the gateway to the Allahabad Fort, in 1583 by Akbar. The pillar made of polished stone extends 10.7 m in height and is incised with an Ashokan edict.

    ReplyDelete
  25. ये वही जगह है जहां जूनियर ब्लागर संगठन की बैठक होनी है :-)
    रामप्यारी वहां पहुंच चुकी है क्या

    जै राम जी की

    ReplyDelete
  26. Ashoka Pillar as it Stands Today inside OD Fort, Allahabad
    Uttar Pardesh

    ReplyDelete
  27. १-यह अशोक स्तंभ नहीं है!नहीं है! नहीं है!

    २-कृपया पूरा जवाब दें.सिर्फ शहर का नाम सही लिखने से जवाब सही नहीं माना जायेगा.

    ३--आजादी के बाद के किसी साल में बनाया गया स्तंभ है!
    ४-जिले की अधिकारिक साईट पर हुबहू तस्वीर है.
    ***मुख्य पहेली का आज अभी तक सिर्फ एक ही सही जवाब आया है!:(

    ओल दी बेस्ट!!!!!!

    ReplyDelete
  28. She is Aung San Suu Kyi NLD Leader !..i admire Her too :)

    ReplyDelete
  29. Ashoksa sthambh .monolith in fort Allahabaad ...

    ReplyDelete
  30. aung san suu kyi इस नाम की महिला का चित्र है।

    ReplyDelete
  31. उत्‍तर के लिए उत्‍तर प्रदेश का अशोक नहीं

    तो हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के लिए शोक स्‍तंभ

    जवाब जो नहीं दे पा रहे हैं

    ReplyDelete
  32. It is 30 meter high made of marbel, there function are organised on every national festivals and people pay homage to various shahids. Shahid Smarak is located at bhainsali, earlier was Sati Sarover. It was said that Mandodari before her marriage bath there regularly before going the worship of Shiv-Parvati at Bilveshwar Nath temple.
    Meerut Shaheed Smarak

    ReplyDelete
  33. आज तो बड़ी दुविधाभरा दिन है...मुख्य पहेली का चित्र पहचान नहीं पा रहा हूं व पूरक पहेली का चित्र पहचान कर भी जवाब देते नहीं बना रहा है...काश बर्मा में भी तेल के भंडार होते..

    ReplyDelete
  34. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  35. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  36. shaheed smarak meerut, Uttar Pradesh

    ReplyDelete
  37. pata nahi ...........hamein to kisi ka bhi nahi pata.

    ReplyDelete
  38. अशोक की यह लाट काशी के नज़दीक सारनाथ की हो सकती है.

    ReplyDelete
  39. ताऊ हालँकि जवाब पता तो है लेकिन आज पहेली में भाग लेने का कोई मन नहीं कर रहा....बस सिर्फ हाजरी लगाने आए हैं.

    ReplyDelete
  40. उत्तर पता करते करते दिमाग़ का खिचड़ी बन गया पर उत्तर नही आया .........................
    चलो कोई बात नही कोशिश करते रहेंगे भले ही दिमाग़ का हलवा बने ...........मे आप लोगो को अपने ब्लॉग पर भी क्विज़ खेलने के लिए आमंत्रित करता हूँ

    ReplyDelete
  41. उत्तर पता करते करते दिमाग़ का खिचड़ी बन गया पर उत्तर नही आया .........................
    चलो कोई बात नही कोशिश करते रहेंगे भले ही दिमाग़ का हलवा बने ...........मे आप लोगो को अपने ब्लॉग पर भी क्विज़ खेलने के लिए आमंत्रित करता हूँ
    mishrasarovar.blogspot.com

    ReplyDelete
  42. १) ये सारनाथ की लाट है जिसके ऊपर चार शेरों के सिर बने हुये हैं. यह उत्तर प्रदेश में है.
    २) ये चित्र बर्मा की सुश्री अंग सन सू की का है.

    ReplyDelete
  43. यह जिला बलिया (उत्तर प्रदेश) का शहीद स्मारक है।
    तथा रामप्यारी का जवाब तो aung san suu ki है।
    सत्य

    ReplyDelete
  44. Shaheed Smarak, मेरठ..

    It is 30 meter high made of marbel, there function are organised on every national festivals and people pay homage to various shahids. Shahid Smarak is located at bhainsali, earlier was Sati Sarover. It was said that Mandodari before her marriage bath there regularly before going the worship of Shiv-Parvati at Bilveshwar Nath temple.

    ReplyDelete
  45. saheed smarak merrut uttar prdesh

    regards

    ReplyDelete
  46. Rastriya Shaheed Smarak Meerut,
    regards

    ReplyDelete
  47. दिमाग़ की उर्जा ख़त्म हो गयी पर उत्तर नही आया .................दिमाग़ को रिचार्ज करना पड़ेगा
    अरे हाँ मैने भी दिमाग़ की उर्जा ख़त्म कर सकने वाले प्रश्न प्रकाशित कर दिए है तो पधारिए मेरे ब्लॉग पर

    ReplyDelete
  48. शहीद स्मारक , लखनऊ उत्तर प्रदेश

    ReplyDelete
  49. शहीद स्मारक , मेरठ उत्तर प्रदेश

    it is 30 meter high made of marbel, there function are organised on every national festivals and people pay homage to various shahids. Shahid Smarak is located at bhainsali, earlier was Sati Sarover. It was said that Mandodari before her marriage bath there regularly before going the worship of Shiv-Parvati at Bilveshwar Nath temple.

    ReplyDelete
  50. सूचना :-
    इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है.

    अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक दिये जा सकेंगे

    एवम जवाबी पोस्ट मे उनका नाम शामिल किया जाना पक्का नही है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक आभार.
    -आयोजनकर्ता

    ReplyDelete