Powered by Blogger.

ताऊ प्लेटीनम जुबिली पहेली - 75

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.
ताऊ पहेली अंक 75 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

आप सभी को मेरा नमस्कार,
मैं अल्पना वर्मा आज आप से दो शब्द कहना चाहती हूँ .उपरोक्त पंक्तियां आपको इसी अंदाज़ में पढ़ते हुये यह 75 वां सप्ताह आ पहुंचा है.

हमारे लिये यह अत्यंत खुशी का अवसर है कि बिना किसी रुकावट के इस प्लेटीनम जुबिली पहेली तक का सफ़ल सफ़र हमने आपके साथ तय किया है. इस पहेली के माध्यम से हम भारत के लगभग प्रत्येक राज्य एवं संघीय प्रदेशों में घूमे हैं.

आशा है ,भविष्य में भी पहेली के इस सफ़र में आप का पूर्ण सहयोग और मार्गदर्शन हमें मिलता रहेगा.
आईए,आज की पहेली की तरफ़ बढ़ते हुए देखीये यह खूबसूरत ट्राफ़ी जिसे आज आप को जीतना है.



आज ही ताऊ डाट इन के दो साल पूरे हुये हैं और आज ही रामप्यारी का भी पहला जन्म दिन है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि यह कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?


ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

जो भी प्रतिभागी रामप्यारी के सवाल का सही जवाब देगा उसे 20 नंबर अलग से दिये जायेंगे. तो आईये अब आपको रामप्यारी के पास लिये चलते हैं.


"रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर के लिये"


हाय...आंटीज एंड अंकल्स...दीदीज एंड भैया लोग...गुडमार्निंग..मी राम की प्यारी रामप्यारी...आज जैसे ही २२ मई शुरु हुई मैने रात को बारह बजते ही अपने पहले जन्म दिन का केक काट लिया. आप भी केक खाईये और मुझे "हैप्पी बड्डे रामप्यारी" बोलिये. और गिफ़्ट विफ़्ट लाये हों तो वो भी दे ही दिजिये.



और अब पूरे 20 नंबर का सवाल पूछ रही हूं. सवाल सीधा साधा है. बस मुख्य पहेली से अलग एक टिप्पणी करके जवाब देना है. और 20 नंबर आपके खाते में जमा हो जायेंगे. है ना बढिया काम...तो अब नीचे का चित्र देखिये और बताईये की यह किस चीज का चित्र है?

इसको गूगल मे मत तलाशियेगा क्योंकि यह खुद मैने खींचा है.

बताईये ये क्या है


इस सवाल का जवाब अलग टिप्पणी मे ही देना है. अब अभी के लिये नमस्ते. मेरे ब्लाग पर अब से दो घंटे बाद यानि 10 बजे आज की मुख्य पहेली के हिंट के साथ आपसे फ़िर मुलाकात होगी तब तक के लिये नमस्ते.

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा


नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम

61 comments:

  1. रामप्यारी को जन्मदिन मुबारक ...!!

    ReplyDelete
  2. इमामबाड़ा, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

    ReplyDelete
  3. रामप्यारी,

    हैप्पी बर्थ डे!!! केक खिलाओ...आज ये कौन से पेड़ का फूल उठा लाई??

    ReplyDelete
  4. लालकिला लग रहा है दिल्‍लीवाला

    परंतु आज 4.44 बजे ही कर दिया कैसे उजाला ?

    ReplyDelete
  5. लगता है कोनो चूक हो गई है। ताऊजी को फोनवा लगाया जाए उड़नतश्‍तरी जी।

    ReplyDelete
  6. रामप्यारी गुड मार्निंग. आज की पहेलियां तो बहुत ही आसान हैं ...पहली फोटो में मंदिर है, दूसरी में पेस्ट्री जैसा केक है और फिर है एक पौधा :)

    ReplyDelete
  7. दरगाह हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली

    ReplyDelete
  8. Rani Sipri's Mosque - Ahmedabad, Gujarat.

    It is believed to have been built in 1514 AD by Rani Sipri, wife of Mehmud Begada who executed their son for a misdemeanor. It is small mosque with a hight of 50ft and 54ft in length. This small mosque is also known as the Masjid-e-Nagira or Jewel of a Mosque because of its intricately carved decoration, jali screens with flowing plant and tree forms and the generally elegant design of the building. It has a separate area of worship, upstairs, for women called, 'Jenana'. Another important tourist attraction at this place are 'Jhulta Minar', better known as the Shaking Minarets.

    ReplyDelete
  9. रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर: ka jawab tulasi ke phool.

    ReplyDelete
  10. paheli-75 ka jawab:

    Rani Sipri’s mosque, Ahemadabad, Gujarat.

    Rani Sipri’s mosque is situated on Sardar Patel Road.This mosque is also known as the Masjid – e- Nagina, or jewel of a mosque. It has ornamented minarets and a tomb of Rani Sipri, who had the mosque built after her son was executed for a minor crimel. It is another beautiful specimen of Hindu art in a Muslim monument.

    ReplyDelete
  11. हम्म कोई महल लगता है

    regards

    ReplyDelete
  12. ओये ओये रानी "हैप्पी बड्डे रामप्यारी " हैप्पी बड्डे टु यू .."

    ReplyDelete
  13. रानी सीपरी का मकबरा अहमदाबाद

    regards

    ReplyDelete
  14. MOSQUE AND TOMB OF RANI SIPARI in ahemdabad
    By a historical inscription held at the upper part of the central mihrab in the mosque, it is understood that these buildings were built by Rani Sipari, the mother of Abu Bakr Khan, who was the child of Sultan Mahmud Begarah
    regards

    ReplyDelete
  15. अरे रामप्यारी रानी तुम्हारा तो फोटोग्राफी का शौक हुआ और हमारी आफत , अब नाम याद नहीं रहा ना

    ReplyDelete
  16. राम प्यारी,

    कितना दौड़वाया तब ढूंढ पाया:

    तुलसी की मंजरी


    -वाह रे थारा जण्म दिन...हम तो दौड़ दौड़ कर पक गये!! :)

    ReplyDelete
  17. Mazaar hai kisi Mulla ki.... Naam bhi bata dunga iar pahle Jagadhri no. 1 bhijwao...Tau the great....

    ReplyDelete
  18. यह तो मुगलों की बनवाई हुई कोई मस्जिद लग रही है!

    ReplyDelete
  19. तब तो केक काटना ही पड़ेगा ...हार्दिक बधाई.


    ________________________
    'शब्द-शिखर' पर ब्लागिंग का 'जलजला'..जरा सोचिये !!

    ReplyDelete
  20. Vaise dekhne men to koi Mughalkalin imarat lag rahi hai.

    ReplyDelete
  21. 10 baj gaye raampyari hint kanhaa he.. bady ke chakkar men kaam ki chhutti...:)

    ReplyDelete
  22. Rani Sipri, Masjid-e-Nagira "Jewel of a Mosque" blend of Hindu and Islamic styles. Built by a wife of Sultan Mehmood Begada.

    ReplyDelete
  23. Tau subah subah , bahgwan ka naam lene ki bajaye, masjid ki search mein laga diya. Per google search se pata pada ki masjid bhi kitni sunder hoti hen.

    ReplyDelete
  24. The Rani Sipri's Mosque is yet another example where we find a fine blend of Hindu and Islamic styles of architecture. The Rani Sipri's Mosque is a small mosque located in the south-eastern part of the city. The Rani Sipri's Mosque of Ahmedabad was built in 1514 AD by Rani Sipri, wife of Mehmud Begada who executed their son for a misdemeanor.

    The Rani Sipri's Mosque of Ahmedabad is also known as the Masjid-e-Nagira or 'jewel of a mosque'. It was so called due to its extremely graceful and well executed design. The slender, delicate minarets of the Rani Sipri's Mosque in Ahmedabad are diaphanous and depict the typical admixture of Hindu and Islamic architectural styles.

    Rani Sipri's Mosque is yet another gem of Gujarati architecture. The decoration and symmetry of Rani Sipri's Mosque at Ahmedabad is appealing and it ranks among the beautiful monument in Ahmedabad.

    The Rani Sipri's Mosque in Ahmedabad, is 50 feet high, 20 feet broad and 54 feet long. The interior of the Ahmedabad Rani Sipri's Mosque consists of intricately carved decoration. The ‘jali’ screens inside the Rani Sipri's Mosque have wonderful decorations of flowing plants and trees. The through out elegant design of the religious edifice is adorable.

    You will find a separate area of worship, upstairs, for women called, 'Jenana' in the Ahmedabad Rani Sipri's Mosque At its close vicinity you will find yet another wonderful tourist attraction called the 'Jhulta Minar', This minaret is also known as the Shaking Minarets.

    copy paste from
    http://www.mapsofindia.com/ahmedabad/places-of-interest/religious-places/rani-sipri-mosque.html

    ReplyDelete
  25. रानी सिप्री मस्जिद अहमदाबाद....

    ReplyDelete
  26. @Ranjan ji,

    Hint ki post time se publish ho chuki hai.
    Kripya ek baar dobara check karen.

    abhaar

    ReplyDelete
  27. ताऊ को प्लेटिनम जुबिली और रामप्यारी को जन्मदिवस की शुभ कामनाएँ!
    लेकिन ताऊ बूढ़ा गया है, अब ब्लॉग में वो बात नहीं रही, ताऊ , बनिया और गोटू सुनार को वापिस लाया जाए तो कुछ इंट्रेस्टिंग सी चीज़ बने! ताऊ ने खूटे पर लिखना भी छोड़ दिया!
    भाई ताऊ औरों का पता नहीं, मन्ने तो ब्लॉग मे यो दो ही फीचर सूपरहिट लगते थे!

    ReplyDelete
  28. हम तो कैक खाने आए है. जवाब कैनेडा वाले ही देंगे...आज हम विशेष कारण से नहीं देंगे.

    ReplyDelete
  29. मुझे तो यह सीदी सैयद की जाली लग रही है जो अहमदाबाद में है।

    ReplyDelete
  30. सीदी सैयद की जाली, अहमदाबाद.।

    ReplyDelete
  31. ये अहमदाबाद , गुजरात में है
    नंबर जरुर मिलने चाहिए

    ReplyDelete
  32. कोटन का पेड़ लग रहा है :)

    ReplyDelete
  33. दिल्ली के लाल किले की मस्जिद लग रही है ...:)

    ReplyDelete
  34. अहमदाबाद में अक्षरधाम मंदिर

    ReplyDelete
  35. अहमदाबाद में रानी सीपरी मस्जिद जिसे कि "मस्जिस-ए-नजीरा" के नाम से भी जाना जाता है..जिसका निर्माण सुल्तान महमूद की पत्नि द्वारा कराया गया....
    Rani Sipri`s Mosque, also known as the Masjid-e-Nagira or Jewel of a Mosque on account of its elegant design. Built in 1514 AD

    ReplyDelete
  36. बिजली जाने के डर से अपनी बिजली गुल हो गई सुबह-सुबह!

    ReplyDelete
  37. रामप्यारी को जन्म दिन की बधाईयां!,

    इजिप्ट से आज ही पहुंचा हूं, डायरेक्ट ताऊ के घर जाकर बधाई देनी पडेगी रामप्यारी को!

    ReplyDelete
  38. रामप्यारी का जन्मदिन मुबारक हो

    ReplyDelete
  39. अक्षर धाम मन्दिर
    गान्धीनगर
    गुजरात

    ReplyDelete
  40. MOSQUE AND TOMB OF RANI SIPARI ,Ahmadabad , Gujrat

    These are mosque and tomb built inside the Astodiya gate remaining at the southeast side of the Ahmadabad. By a historical inscription held at the upper part of the central mihrab in the mosque, it is understood that these buildings were built by Rani Sipari, the mother of Abu Bakr Khan, who was the child of Sultan Mahmud Begarah, in 920 AH (1514) under the reign of sultan Muzaftar the 2nd. The mosque and the tomb are built on the same basement considerably higher than the ground level, being separate from each other but on the same axis. (Matsuo Ara)

    ReplyDelete
  41. Rampyari madam ka jawab:

    तुलसी की मंजरी

    ReplyDelete
  42. नगीना मस्जिद अहमदाबाद

    ReplyDelete
  43. अरे अरे अरे अरे.... इतनी आसान पहले, यह तो जी इंडिया गेट है, मानो या ना मनो

    ReplyDelete
  44. Rani Rupmati Mosque
    Ahmedabad - Gujrat

    Named after the Hindu wife of Sultan Muhmed Beghara, this mosque was built between 1430 to 1440 A. D. having three domes supported by pillars with the central dome slightly elevated to allow natural light into the mosque. The tomb of Rani Rupmati is next to it. Rani Rupmati Masjid named for the princess of Dhar who married the Sultan of Ahmedabad, is another fine example of the Indo-Sarcenic blended style. A high central arch, 3 imposing domes, slim minarets, carved galleries and an exquisite mihrab are the high points. Its three domes are linked together by a flat roof. However, the mosque and tomb of Rani Sipri at Astodia surpasses it for its planning and structural arrangement.

    Nearby are the superbly proportioned 1465 AD mosque of Muhafiz Khan, splendidly carved with a 3 arch façade and minarets, the Saiyad Usman mausoleum - said to have started a trend for corner minarets in 1460s and the 16th century mosque of Hasan Muhammad Chisti having some of the finest jali-work traceries in India.

    ReplyDelete
  45. happy birthday rampyari ji

    jo plant hai wo tulsi ka hai

    aur ye koi masjid lagti hai
    sayad Jama Masjid, delhi hai

    ReplyDelete
  46. आगरा के पास सिकन्दरा मे है यह

    ReplyDelete
  47. =============================
    MOSQUE AND TOMB OF RANI SIPARI 
    AHMADABAD
    Gujrat State
    =============================

    These are mosque and tomb built inside the Astodiya gate remaining at the southeast side of the Ahmadabad. By a historical inscription held at the upper part of the central mihrab in the mosque, it is understood that these buildings were built by Rani Sipari, the mother of Abu Bakr Khan, who was the child of Sultan Mahmud Begarah, in 920 AH (1514) under the reign of sultan Muzaftar the 2nd. The mosque and the tomb are built on the same basement considerably higher than the ground level, being separate from each other but on the same axis. (Matsuo Ara)

    ReplyDelete
  48. रानी रूपमती मस्जिद, अहमदाबाद गुजरात

    The Rani Rupmati Mosque in Ahmedabad was built between the periods ranging from 1430 to 1440. The mosque was named after Rani Rupmati, the Hindu wife of Sultan Mohmmed Begdo.

    ReplyDelete
  49. 2, सौंफ का पौधा है ।

    ReplyDelete
  50. @नए प्रतिभागी....बाहर प्रकाशित जवाब गलत हैं ,कृपया अपने जवाब एक बार फिर से जांच लिजीये.
    @ज्ञात हो...कई बार नेट पर उपलब्ध गलत जानकारी आप को भ्रमित कर सकती है.

    ReplyDelete
  51. सूचना :-

    इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक दिये जा सकेंगे.
    एवम जवाबी पोस्ट मे उनका नाम शामिल किया जाना पक्का नही है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक आभार.

    -आयोजनकर्ता

    ReplyDelete
  52. ताऊ जी हमें तो आपका परिचय पढकर मजा आया। बहुत ही जानदार है। हमें भी अपने साथ रख लो । हम भी छठी के बिगडैल हैं।

    ReplyDelete