ताऊ पहेली -72

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनिवार सबेरे की घणी राम राम.
ताऊ पहेली अंक 72 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि किस का चित्र है? कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?


ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

और आज से रामप्यारी अपनी छुट्टियां बिता कर वापस लौट आई है. इसी अंक से रामप्यारी का बोनस सवाल शुरु होरहा है 20 नंबर का. यानि जो भी प्रतिभागी रामप्यारी के सवाल का सही जवाब देगा उसे 20 नंबर अलग से दिये जायेंगे. तो आईये अब आपको रामप्यारी के पास लिये चलते हैं.


"रामप्यारी का बोनस सवाल 20 नंबर के लिये"


हाय...आंटीज एंड अंकल्स...दीदीज एंड भैया लोग...गुडमार्निंग..मी राम की प्यारी रामप्यारी...छुट्टियों के बाद वापस आपके साथ आगई हूं..और पूरे 20 नंबर का सवाल पूछ रही हूं. सवाल सीधा साधा है. बस मुख्य पहेली से अलग एक टिप्पणी करके जवाब देना है. और 20 नंबर आपके खाते में जमा हो जायेंगे. है ना बढिया काम...तो अब नीचे का चित्र देखिये और बताईये की यह किस चीज का चित्र है?

इसको गूगल मे मत तलाशियेगा क्योंकि यह खुद मैने खींचा है.



इस सवाल का जवाब अलग टिप्पणी मे ही देना है. अब अभी के लिये नमस्ते. मेरे ब्लाग पर अब से दो घंटे बाद यानि 10 बजे आज की मुख्य पहेली के हिंट के साथ आपसे फ़िर मुलाकात होगी तब तक के लिये नमस्ते.

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा


नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग
ताऊजी डाट काम

Comments

  1. यह अशोक का स्तम्भ है जो की बिहार के पटना में स्थित है

    ReplyDelete
  2. The iron pillar of Delhi, erected by Chandragupta II the Great.
    regards

    ReplyDelete
  3. दिल्ली का अशोक स्तम्भ

    ReplyDelete
  4. दिल्ली का लौह-स्तम्भ. चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के शासन काल में बना यह स्तम्भ खुले आकाश में १६०० बर्षों से मौसम को चुनौती देता आ रहा है और धातु-विज्ञान में हमारी उत्कॄष्टता का ठोस प्रमाण है

    ReplyDelete
  5. An iron pillar weighing over 6 tonnes, more than 7 metres tall is constructed in a single forge and is erected on top of the Vishnupada hill (somewhere in modern central India) with sanskrit inscriptions on it in the brahmi script about the great gupta ruler Chandragupta Vikramaditya.

    Later the founder of delhi, Tomar king Anangapala brings it to delhi and installs it in its current place





    regards

    ReplyDelete
  6. रामप्यारी रानी आते ही इतनी अच्छी फोटोग्राफी शुरू कर दी...... very good...
    bye

    ReplyDelete
  7. rampyari hai to water drop ki image....

    ReplyDelete
  8. यह दिल्ली स्थित कुतुबमीनार परिसर स्थित 'लौह स्त्म्भ है'.

    ReplyDelete
  9. लौह स्‍तंभ, कुतुबमीनार, महरौली, नई दिल्‍ली

    ReplyDelete
  10. और इसकी विस्‍तृत जानकारी http://images.google.co.in/imgres?imgurl=http://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/thumb/a/a0/QutbIronInscription.jpg/180px-QutbIronInscription.jpg&imgrefurl=http://hi.wikipedia.org/wiki/%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%2581%25E0%25A4%25A4%25E0%25A5%2581%25E0%25A4%25AC_%25E0%25A4%25AA%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25B8%25E0%25A4%25B0&usg=__Lm3-QuT_5f1a2COz4RZx-Y4h54Q=&h=117&w=180&sz=9&hl=en&start=2&um=1&itbs=1&tbnid=BjtRg2XtW0RoEM:&tbnh=66&tbnw=101&prev=/images%3Fq%3D%25E0%25A4%25B2%25E0%25A5%258C%25E0%25A4%25B9%2B%25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%258D%25E2%2580%258D%25E0%25A4%25A4%25E0%25A4%2582%25E0%25A4%25AD%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%2581%25E0%25A4%25A4%25E0%25A5%2581%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25AE%25E0%25A5%2580%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%25B0%26um%3D1%26hl%3Den%26sa%3DG%26tbs%3Disch:1 यहां पर है।

    ReplyDelete
  11. शुक्र नहीं शनि है
    आज कुछ तो नंबर
    आएंगे अधिक
    39 मिनिट तो देरी से आए हैं
    सही है
    भाग्‍य से अधिक
    और
    समय से पहले
    कुछ नहीं मिलता।

    ReplyDelete
  12. दिल्ली स्थित लौह स्तम्भ
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  13. कुछ ज्यादा ही आसान सवाल पूछ लिया ताऊ, में तो सोचने लगा की कठिन होगा जो ज्यादा ही सर्च मार लिया, ये भी थारो इश्टाइल जोरदार छे

    ReplyDelete
  14. यह बर्फ के नागदेवता है
    पूजा करवाने के लिए निकले हैं
    ध्‍यान से देख रहे हैं
    कहीं धूप तो नहीं है
    अगर हुई धूप तो
    गायब हो जाएगा
    इनका सारा रूप।

    ReplyDelete
  15. Colorful formation from a drop of water.

    ReplyDelete
  16. दिल्ली स्थित लौह स्तम्भ
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  17. क़ुतुबमीनार ( दिल्ली)के पास सम्राट अशोक की लाट
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. यह ताऊ की तरह मजबूत
    लौह स्‍तंभ, कुतुबमीनार, नई दिल्‍ली में है।

    ReplyDelete
  19. कुतुब मीनार के पास लोहे का खंबा। और बर्फ कासांप।

    ReplyDelete
  20. मिश्र धातु की लाट है जी, जो कुतुबमीनार दिल्ली के परिसर में लगी है।
    राम राम

    ReplyDelete
  21. महरौली के पास कुतुबमीनार के साथ स्थित लौह स्तम्भ , दिल्ली
    इसका निम्नलिखित वर्णन अदा जी की पोस्ट से कट पेस्ट कर रहा हूँ


    पिछले १६०० वर्षों से आँधी, पानी, तूफ़ान, शीत और धूल का सामना कर रहा है यह स्तम्भ ..परन्तु इसपर जंग लगना या अन्य किसी प्रकार की क्षति आप लेश मात्र भी नहीं देखेंगे...यहाँ तक कि धातुकर्मी भी..इस स्तम्भ की इस गुणवत्ता से हैरान हैं...कि आखिर ऐसी क्या बात है.... कि यह स्तम्भ ख़ुद ब ख़ुद अपना संरक्षण कर लेता है...
    ऐसा नहीं है कि इसमें धातु ह्रास के गुण दिखाई नहीं देते...देते हैं लेकिन यह ख़ुद ही अपना संरक्षण कर लेता है..और जंग से मुक्त हो जाता है...ठीक उसी तरह जैसे कि किसी मानव शरीर में खरोंच लग जाए और वह अपने आप ठीक हो जाए....

    यह स्तम्भ ७ मीटर ऊँचा है और ६ टन वज़न का है...उत्तर भारत के गुप्त वंश (३१९-५५० इस्वी ) के समय का माना जाता है...उस समय धातु प्रसंकरण और धातु निष्कर्षण विधा बहुत उच्च कोटि की थी.... यह स्तम्भ पिटवा लौह का बना हुआ है....
    इस स्तम्भ को चन्द्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य ने खड़ा करवाया था ....कहा जाता है कि इस स्थान पर एक जैन मंदिर हुआ करता था ...और यह स्तम्भ उस समय वहाँ पर स्थित जैन मैन्दिर का एकमात्र अवशेष है... इस मंदिर को क़ुतुबुद्दीन ऐबक ने यहाँ क़ुतुब मीनार बनवाते वक्त तुड़वा दिया था ....उसने इस स्तम्भ की कारीगरी और लौह प्रसंकरण देख कर इसे रहने दिया था ...

    ReplyDelete
  22. लौह स्तम्भ ! कुतुब मीनार परिसर, दिल्ली ।

    ReplyDelete
  23. ताऊ फोटू भेजूं क्या इस लोहे के खम्भे का?
    यह तो दिल्ली मेट्रो के एक निर्माणाधीन स्टेशन के पास में ही है। स्टेशन का नाम है - कुतुब मीनार।
    तो जी इस जगह का नाम भी कुतुब मीनार ही होना चाहिये।
    अब राज्य बताऊं? राज्य है - दिल्ली।
    जिला बताऊं? जिला है - दक्षिणी जिला (अंदाजा)

    ReplyDelete
  24. महरौली का लौह स्तम्भ, चन्द्र नामक राजा का उल्लेख करता हुआ,कुतुबमीनार परिसर , दिल्ली .

    ReplyDelete
  25. कुतुब मीनार के पास स्थित अशोक स्तंभ जो चंद्रगुप्त द्वितीय की स्मृति में बनाए गए मंदिर का एक मात्र अवशेष है, जिसे कुतुब मीनार बनाने के पूर्व ध्वस्त कर दिया गया।

    ReplyDelete
  26. दिल्ली के कुतुब मीनार के परिसर में स्थित लौह स्थंभ जिसे लगभग दो हज़ार सालों में जंग नही लगा.

    ReplyDelete
  27. प्रथम दृष्टि में कुतुबमिनार के पास स्थित लोह स्तम्भ है. जिसमें जंग नहीं लगता.

    ReplyDelete
  28. राम प्यारी जी, यो जो दूसरा सवाल आपने फेंका हे, तो ये ऑप्टिकल इलुजन हे, अब इलुजन का क्या है कुछ भी हो सकता है, हम क्यूँ अपना कीमती अन्यूस्ड दीमाग इसमे वेस्ट करें?

    ReplyDelete
  29. Delhi ka Ashok Stambh jo ki qutub minar ke paas hai...
    iae wishig pole bhi kahte hain...
    kaha jata hai ki ulte hatoo ka ghera banakar ise pakdne wale ki 1 wish jarur puri hoti hai...

    ReplyDelete
  30. aour ji aye dusra waala to ji pani ka bulbula lag raha hai...pata nahi ji sahi hai ya nahi...

    ReplyDelete
  31. लोह स्तंभ, क़ुतुब मीनार दिल्ली

    ReplyDelete
  32. रे ताऊ, घना ज़ोर का झटका दिया,

    Vishnu Temple Udaygiri,

    The iron pillar is one of the world’s foremost metallurgical curiosities. The pillar, 7.21 metre high and weighing more than six tonnes, was originally erected by Chandragupta II Vikramaditya (375–414 AD) in front of a Vishnu Temple complex at Udayagiri around 402 AD, and later shifted by Iltutmish from Udaygiri to its present location in the Qutub complex, sometime around 1233 AD.
    The estimated weight of the decorative bell of the pillar is 646 kg while the main body weighs 5865 kg thereby making the entire pillar weigh at 6,511 kg. The pillar bears an inscription in Sanskrit in Brahmi script dating 4th century AD, which indicates that the pillar was set up as a Vishnudhvaja, standard of god Vishnu, on the hill known as Vishnupada in memory of a mighty king named Chandra, believed to Chandragupta II. A deep socket on the top of this ornate capital suggests that probably an image of Garuda was fixed into it, as common in such flagpoles.

    ReplyDelete
  33. यह कुतुब मीनार परिसर दिल्ली में स्थित
    लोहे का स्तम्भ है!

    यह दिल्ली के महरौली इलाके में है!

    ReplyDelete
  34. बस हो गया ताउ जी
    आज का विजेता घोषित करिए
    हमने जो पहले उत्तर दि्या था
    वो सही है। इसका मतलब
    अभी हिंट देखकर आ रहे हैं।

    ReplyDelete
  35. रामप्यारी की तस्वीर तो किसी बून्द का चित्र लग रहा है...बाकी राम जाने...

    ReplyDelete
  36. देखने में तो क़ुतुब मिनार परिसर में लगा स्तम्भ ही लग रहा है...

    ReplyDelete
  37. अशोक स्तम्भ, क़ुतुब मीनार,महरौली , दिल्ली।
    वैसे इसे अशोक की लाट भी कहते हैं।


    अरे रामप्यारी ये क्या लायी है ढूँढकर्………………हमें तो पता चलेगा नही………………खुद ही बता देना।

    ReplyDelete
  38. Iron Pillar – Great Ancient Indian Metallurgy
    http://www.hitxp.com/articles/science-technology/iron-pillar-ancient-indian-metallurgy/

    ReplyDelete
  39. लेट आने के ये होता है नुक्सान. कुतुब मीनार की ये लाट हम तब से देख रहे हैं जब इसके साथ सटकर लोग अपने पीछे से हाथ पकड़ने की कोशिश करते थे. तब ये जंगला नहीं था इसके चारों तरफ.

    ReplyDelete
  40. लिंक की पोस्ट नहीं खुल रही ...कुछ गड़बड़ है

    ReplyDelete
  41. ताऊ, ये तो महरोली, नई दिल्ली का लौह स्तम्भ है. लाईट ने मार दिया वर्ना आज तो सौ में से पौने दो सौ मिलते.

    ReplyDelete
  42. कुतुब मीनार के पास लौह स्तंभ

    ReplyDelete
  43. @गुड मोर्निंग ,मेरी स्कूल की गर्मियों की छुट्टियाँ शुरू हो गयी और मैं इसी छुट्टी मूड में हूँ,इसलिए आज मैं ने मिले जुले जवाब बाहर कर दिए हैं...: )
    ...और हाँ मैं ने बहुत अच्छी फोटोग्राफी की है न??

    ReplyDelete
  44. आज तो सही उत्तर भी पब्लिश कर दिये जी आपने

    ReplyDelete
  45. पानी की बूंद का चित्र है

    प्रणाम

    ReplyDelete
  46. वाह भई रामप्यारी फ़ोटो ग्राफ़ी तो ऐसी ठाठ की, की है कि ताऊ बैठे माथा पीट रहे होंगे कि न जाने वो कौन सी घड़ी थी जब तुम्हें पहेली पोस्ट की फ़ोटो चुनकर लगाने को कह दिया.

    ऐसा पर्चा सैट किया है कि मेरे जैसे नालयक भी 100% पाएंगे आज :)

    ReplyDelete
  47. ताऊ मेरे को नही पता, लेकिन मैने रात सपने मै सुना कि अगर कोई इस स्तभ्भ को पीठ के बल पकड के दोनो हाथ की उंगलियां आपस मै मिला ले तो वो किस्मत वाला होता है,मैने भी कभी ऎसा ही किया था, यहां लेकिन अब तो चारो ओर जंगला लगा दिया है इस के

    ReplyDelete
  48. @काजल अंकल रामप्यारी छुट्टी के मूड में है..यू नो?नया नया डिजिटल केमेरा गिफ्ट में ताई से मिला है न.. इसलिए खुश हो कर सब को ईज़ी वाली फोटो पहेली में दी है...
    आप को सीक्रेट बताऊँ?मेरे वाले सवाल का तो जवाब नहीं दे पा रहे सब लोग मालूम?

    ReplyDelete
  49. रामप्यारी का जबाब:


    पानी के टब में पानी की बूँद की तस्वीर...


    (जिसने भी फोटो खींची है, बहुत बढ़िया)

    ReplyDelete
  50. दिल्ली का अशोक स्तंभ है | कभी वंहा जा के तो नहीं देखा लेकिन चीनी कम फिल्म में देखा था |

    ReplyDelete
  51. हमेशा की तरह आते और लौट जाते... अशोक सतम्भ को भी वैसे ही देखा अनदेखा किया लेकिन फोटोग्राफी लाजवाब लगी सो तारीफ़ करने रुक गए...
    गर्मी का मौसम है... पानी की बूँदें खूबसूरत ..शायद रात के वक्त पीली रोशनी में

    ReplyDelete
  52. अशोक स्तम्भ, महरौली, दिल्ली।

    धन्यवाद,

    रामराम।

    ReplyDelete
  53. दि‍ल्‍ली के कुतुब मि‍नार के परि‍सर में स्‍थि‍त अशोक स्‍तंभ।

    ReplyDelete
  54. ऊ दूसरा चित्तर नकली है दुबलीकेट

    ReplyDelete
  55. आईरोन पिल्लर है जिसे तोमर राजा अनंगापला दिल्ली में स्थापित किए थे !

    ReplyDelete
  56. कुतुब मीनार के पास स्थित अशोक स्तंभ, दिल्ली

    ReplyDelete
  57. अपने सामने सदियों को गुज़रते देखता, यह है "अशोका स्तम्भ" जो दिल्ली के महरौली इलाके में स्तिथ...विश्व विख्यात मीनार- क़ुतुब मीनार के आहाते में ... बिना जंग खाए पिछले लगभग सोलह सौ सालों से अडिग खडा है !
    ( पर यह क्या...आज तो सही जवाब भी नज़र आ रहे है...कुछ पालिसी बदल दी या हमारा जवाब गलत है, ताऊ ? )

    ReplyDelete
  58. राम प्यारी तेरा जवाब ......
    यह है ..."कोरा कागज ...."

    ReplyDelete
  59. ताऊ तेरी मौज सै इतउत फोटू खींच
    नीम तलै सै 'मौदगिल' दोनूं आंख्यां मींच
    लाट का के सै रौला
    खाट का कर ले रौला

    ReplyDelete
  60. कुव्वतुल इस्लाम मस्जिद के आँगन में (क़ुतुब मीनार परिसर, देहली) स्थित लोहे का खम्बा जिसमें जंग नहीं लगता.

    ReplyDelete
  61. लौह स्तम्भ, कुतुब मीनार परिसर, दिल्ली

    ReplyDelete
  62. विदिशा (मध्य प्रदेश) में स्थित हेलियोदोरस का स्तम्भ !!

    ReplyDelete
  63. कहीं ना कहीं पढ़ा तो है, पर इस समय याद नहीं आ रहा.

    ReplyDelete
  64. विदिशा, म. प्र. का हेलियोदोरस स्तम्भ.

    ReplyDelete
  65. इत्ते कठिन सवाल क्यों पूछते हो ताऊ जी...

    ReplyDelete
  66. लौह स्‍तंभ, कुतुबमीनार, महरौली, नई दिल्‍ली

    ReplyDelete
  67. सूचना :-

    इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक दिये जा सकेंगे.
    एवम जवाबी पोस्ट मे उनका नाम शामिल किया जाना पक्का नही है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक आभार.

    -आयोजनकर्ता

    ReplyDelete

Post a Comment