ताऊ पहेली - 71

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.
ताऊ पहेली अंक 71 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि यह कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?

यह कौन सी इमारत है? और कहां है?

ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा


नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग ताऊजी डाट काम

Comments

  1. दरवाजे दरवाजे घुमा लिया पर मिल नहीं रहया जवाब, बहुत ही कठिन प्रश्न पूछ्या है ताऊ

    ReplyDelete
  2. अब तो हिंट से ही काम चालेगा

    ReplyDelete
  3. गारंटिड पृथ्‍वी पर है

    चांद तारे सूरज
    सब खंगाल डाले

    पर कहीं नहीं मिला

    तो मान लिया कि

    पृथ्‍वी पर ही है।

    ReplyDelete
  4. जोधपुर का मेहरानगढ

    ReplyDelete
  5. Fort Gobind Garh In the south-west of the city was built in 1805-09 by Ranjit Singh, who was also responsible for constructing the city walls
    regards

    ReplyDelete
  6. fort of bhatinda fort at Bathinda which is biggest than its competitors at Lahore, Phillour and Hanumangarh. It stands as a gigantic sentinel in the heart of the town.

    Every year, Sri Guru Gobind Singhji also stayed in this fort. It has long fascinating history behind it.
    regards

    ReplyDelete
  7. दिल्ली के पुराने किले का मुख्य द्वार है सर जी , आजकल इसके अन्दर प्रेतात्माओ का कब्जा है ! :) बच्चों के साथ तो भूलकर भा मत जाना यहाँ घूमने के लिए !

    ReplyDelete
  8. Standing like a ship on the picturesque land of Punjab, the Bathinda Fort perfectly blends into the surrounding desert environment. This fort has been a witness to various battles and invasions that have ravaged the Punjab state over centuries. The fort played an important role in the defense strategies of Punjab as well as India in those days. It is an impressive fort, famous for its robust structure. It is one of the major tourist attractions in Punjab.

    It is said that Bathinda Fort was built some 1800 years ago. It is assumed that Bhatti Reo built this fort, as the bricks used to build this fort belong to the Kushana period, when emperor Kanishka ruled the northern India.
    regards

    ReplyDelete
  9. जाने मेरे संजय बैंगानी ढ़ूंढ पाये या नहीं..मेरे बस का तो मुश्किल ही लगता सै ताऊ

    ReplyDelete
  10. ताऊजी, रामराम
    इस चित्र में एक खम्भा दिख रहा है, उसके बगल में ट्रान्सफोर्मर रखा है, दूसरा खम्भा नहीं दिख रहा है। बिजली के तार भी दिख रहे हैं। इसका मतलब है कि यह कोई बिजलीघर है।
    किस शहर में है, अभी मालूम करके बताता हूं।

    ReplyDelete
  11. पंजाब के भटिंडा फोर्ट का कोई दरवाजा है

    ReplyDelete
  12. हमसे देर हो गयी. यह तो भटिंडा किले का द्वार है. पंजाब में है.

    ReplyDelete
  13. उत्तर तो भेज दिया है. इस किले का इतिहास बहुत पुराना है जी.कुषाणों के समय का है. इस पर चर्चा बहुत ही रोचक रहेगी.

    ReplyDelete
  14. किला मुबारक -- पटियाला

    ReplyDelete
  15. पहुँचते पहुँचते देरी हो ही गई. भटिंडा किल्ला लग रहा है. जवाब दर्ज करो ताऊ, बाकि बाद में. साँस ले लें...

    ReplyDelete
  16. समीरलालजी जैसे कर्मठता सबको देना प्रभू. मूँह अंधेरे परिक्षा देना हमारे बस का काम नहीं. मात खाने की तैयारी के साथ आएं है. :(

    ReplyDelete
  17. बड़ों को जवाब देना अच्छा नहीं होता ताऊ, इसलिये... :)
    वैसे अब कोई फायदा भी नहीं क्योंकि आज मैं बहुत लेट हो गया हूं

    ReplyDelete
  18. बहादुरगढ़ किला पटियाला

    ReplyDelete
  19. ham to aagre ka lal kila soch rahe the vaise aur pata nahi.

    ReplyDelete
  20. ताऊ राम राम

    यो किला भटिंडा पंजाब का वो परसिद्ध किला है जिसमें कई बार लठ बज लिए!
    ताऊ कहतें हें की इसका निर्माण किसी भट्टी ने किया था (जसपाल भट्टी ने नहीं, वो तो सिर्फ़ काम बिगाड़ सकते हें ..)

    ताऊ किले में जाके हरयाणा पंजाब के लोग भी ऐसा महसूस कर सकते हें की केरल समुंदर में कैसा लगता होगा.

    ताऊ और ताई किले में एंजाय भी कर सकते हें (यहाँ की जैल फेमस हे...)

    ReplyDelete
  21. यह भटिंडा फोर्ट है..पंजाब में...
    राम राम

    ReplyDelete
  22. यह भटिंडा फोर्ट है..पंजाब में...
    राम राम

    ReplyDelete
  23. पक्का सहमत हूँ अविनाश वाचस्पति से ..यह किला धरती पर ही बना है और इसमें बिजली और सड़क भी है ! अब आधा इनाम तो मिलना ही चाहिए! ताऊ हमारा फोटू भी सुब्रमनियन की तरह चिपका दे यहाँ ! किस दिन तेरी दोस्ती काम आयेगी ?

    ReplyDelete
  24. tau ji aye bathinda ka qila hai..1754 mein banaya gaya...ai patiala ke maharaja ke dawara....

    ReplyDelete
  25. भटिंडा फोर्ट...भटिंडा

    आसान पहेली वाले दिन हम हमेशा ही लेट हो जाते है..:(

    ReplyDelete
  26. लखनऊ में विद्युत् बाधा रही, इसलिए प्रार्थी को विशेष छूट का लाभ प्रदान किया जाए !

    ReplyDelete
  27. Out of the many enthralling Amritsar Tourist attractions, Bathinda Fort stands in the desert areas of the district. Erected by Bhatti Reo some 1800 years back today Bathinda Fort is a prime tourist spot of Amritsar. The past history of Bathinda Fort shows that Maharaja Ala Singh who was the ruler of Patiala grab its ownership in the year 1754 AD.

    Bhatti Reo of Amritsar took the initiative of constructing a fort in the shape of a schooner in a comparatively desert land of the district. As such 1800 years ago the Bathinda Fort came into being in Amritsar. According to the historical archives of Amritsar, Guru Gobind Singh who was the tenth Master of Sikh followers, visited Bathinda Fort many centuries back. In order to commemorate the appearance of the revered Sikh Guru a gurudwara was also established near the Bathinda Fort.

    Since the surroundings of Bathinda Fort comprises of layers of sand dunes hence the edifice and its entire structure seems like a ship. People from all over India and also from countries visit the Bathinda Fort of Amritsar frequently. The Sikh followers who wish to visit the place where Guru Gobind Singh stepped many years back also come to Bathinda Fort. Global tourists who visit several corners of Punjab also make a tour to Bathinda Fort as a part of the historical sites of Amritsar.

    With its grandeur, heritage, religious aura and enigmatic look, Bathinda Fort surely attracts huge number of tourists round the year within its premises.

    ReplyDelete
  28. "Bhatinda Fort"




    'Built by Raja Dab during the early Christian era, the Bhatinda Fort is Punjab’s oldest and largest fort. Mohammad Ghaznvi conquered the forty in the 11th century. Legend has it that Razia, the first female sultan of Delhi was imprisoned here. The fort, an important Mughal outpost, was captured by the Patiala Sikh rulers in the 18th century. A gurdwara was established in the fort by the Patiala army after its victorious campaign in the Second World War.'




    "Ramkrishna"

    ReplyDelete
  29. गोबिंद बोलो गोपाल बोलो...अरे मै तो कभी भी अमृतसर नही गया तो यह किला केसे देख लुंगा... इस लिये मै तो भजन करता हुं गोबिंद बोलो गोपाल बोलो.....

    ReplyDelete
  30. क़िला मुबारक, भटिंडा

    ReplyDelete
  31. सभी के जवाब पंजाब के आस पास घूम रहे हैं .....अपणा पंजाब जिंदाबाद .......!!
    सुभ्रमनियम जी ने सही जवाब भेज दिया ....हमारा भी वही मान लिया जाये .....!!

    रामप्यारी का दरवाजा नहीं खुल रहा घूम फिर के फिर गूगल महाराज आ जाते हैं .....!!

    ReplyDelete
  32. बड़ा कठिन सवाल है. होगा तो कहीं पंजाब में ही..

    ReplyDelete
  33. किला मुबारक -- पटियाला

    ReplyDelete
  34. भौत ढ़ूँढ़ा पर नहीं मिला इस बार अपना नंबर पीछे से आयेगा, हिंट से भी फ़ायदा नहीं है :(

    ReplyDelete
  35. किलाए पटियाला है जी।

    ReplyDelete
  36. किला मुबारक, जिला भठिंडा, राज्य पंजाब।

    इब आज के बाद म्हारी तरफ़ से फ़ालतू की बातां बंद, माहौल खराब चाल रया सै, बेरा न कद के हो जाये।

    रामराम लिखने से तो कोई विवाद न खड़ा हो जायेगा, ताऊ? और हो जाये तो हो जाये, म्हारी तरफ़ से
    राम राम स्वीकार ले।(मेरी चौरासी जरूर काट दिये इब के)
    आभार।

    ReplyDelete
  37. मैं समझ के भी नहीं समझ पा रहा,वक्त भी नहीं की सर्च कर सकूँ .

    ReplyDelete
  38. फ़िर ना कहना इन्ही टिपण्णियो मै ही कही सही जबाब भी छिपा है, आप सब पंजाब तक पहुचे हो तो जरा बार्डर तक नही तो उस के आसपास तो पहुच जाओ.... फ़िर तो गोबिंद जी भला करेगे....गढ तो वही कही मिलेगा..जहां गढ होगा तो किले मिलने मै कोन सी देर लगेगी... गोबिंद बोलो गोपाल बोलो...

    ReplyDelete
  39. भाटि‍या जी के हिंट के आधार पर तो ये गोंविंदगढ कि‍ला या गोपालगढ़ कि‍ला बनता है:)
    पर ये तो मेरा घर है कोई कि‍ला नहीं:)

    ReplyDelete
  40. सूचना :-

    इस पहेली पर जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक दिये जा सकेंगे.

    एवम जवाबी पोस्ट मे उनका नाम शामिल किया जाना पक्का नही है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक आभार.

    -आयोजनकर्ता

    ReplyDelete