Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 68

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम. और साथ साथ इस्टर की भी हार्दिक शुभकामनाएं.



ताऊ पहेली अंक 68 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.

विनम्र विवेदन

कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है. अब नीचे के चित्र को देखकर बताईये कि यह कौन सी जगह है? और किस शहर या राज्य में है?

यह कौन सी इमारत है और किस शहर / राज्य में है?

ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे

अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.
जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा


नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग ताऊजी डाट काम

51 comments:

  1. आज तो बहुत व्यस्त है...आज प्रतिद्वन्दी ही जीत जायेंगे पक्का!

    ReplyDelete
  2. हिंट का इंतजार कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  3. हमारे पल्ले तो नहीं पड़ा ताऊ जी |

    हिंट का इंतजार कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. ये है कोच्ची, केरल स्थित भारत का सबसे पुराना संत फ्रांसिस चर्च।

    ReplyDelete
  5. कोच्ची, केरल में स्थित भारत का सब से पुराना सेंट फ्राँसिस चर्च जिसे पुर्तगालियों ने 1503 में बनाया था।

    ReplyDelete
  6. कोच्ची केरल स्थित इस चर्च को प्रथम बार 1503 में पुर्तगालियों ने लकड़ी से निर्मित किया था। बाद में 1506 में इस का पुनर्निर्माण किया गया जो 1516 में पूरा हुआ।

    ReplyDelete
  7. दिल्ली में तो है नही इतना पता है बाकी कहाँ ये नही पता।

    ReplyDelete
  8. केरल मे है,बस इतना ही बता पाऊंगा।

    ReplyDelete
  9. मैं हिंट का वेट करूंगा ताऊ !

    ReplyDelete
  10. प्रभु ईसा का मृत्यु-विजय दिन आप सब को भी मुबारक हो!

    ताउ जी ने पता नहीं आज कैसी पहेली दी है, कुछ समझ में नहीं आ रहा है.

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है.
    हर महीने कम से कम एक हिन्दी पुस्तक खरीदें !
    मैं और आप नहीं तो क्या विदेशी लोग हिन्दी
    लेखकों को प्रोत्साहन देंगे ??

    http://www.Sarathi.info

    ReplyDelete
  11. ये सैंट फ्रांसिस चर्च है जो फोर्ट कोची, केरल में स्थित है! ये भारत का सबसे पुराना यूरोपिआन चर्च है! ये चर्च पोर्तुगेस द्वारा १५०३ में बनाया गया था!

    ReplyDelete
  12. सेंट फ्रांसीस चर्च, केरल के कोच्ची शहर में. 1503 में निर्माण हुआ था इसका.

    ReplyDelete
  13. ताऊ हमको जवाब मिले न मिले, हम बता देते है, जीतना हमारे लिए कोई माने नहीं रखता. परिक्षा देना ही अपने आप में जीत है. हम नम्बर गेम में विश्वास नहीं करते. कभी "ए" ग्रेड पा गए तो बात अलग होगी. तब दुसरा बयान देंगे.

    ReplyDelete
  14. St Francis Church
    Kochi (Kerala)

    It is known to be oldest European Church in India.

    ReplyDelete
  15. भारत का सबसे पुराना चर्च है
    1503 में पुर्तगालियों द्वारा बनाया गया सेंट फ्रांसिस चर्च है

    आपको भी शुभकामनायें

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  16. It is the oldest church built by European in India.On his 3rd visit to Kerala, Vasco da Gama, the Portugese trader who reached India from Europe by sea, fell ill and died in Kochi. He was buried in the St. Francis Church. Later his remains were taken back to Portugal. In spite of that the exact place where he was buried has been marked out inside the church

    ReplyDelete
  17. समझ गया यह कोच्ची स्थित चर्च है नाम याद नहीं आ रहा !वास्कोडिगाम से सम्बंधित सामग्री भी है यहाँ संग्रहित !

    ReplyDelete
  18. अरे ताऊ जी जगह का नाम बताना तो रह ही गया
    ये चर्च कोचीन या कोच्ची, केरल में है

    राम-राम

    ReplyDelete
  19. हाँ , ताऊ ये सेंट फ्रांसिस चर्च , एर्नाकुलम ( कोचीन ) है

    ReplyDelete
  20. St. Francis Church at Kochi, Kerala - Oldest European Church in India.

    ReplyDelete
  21. St. Francis Church at Kochi, Kerala - oldest European church .

    ate aate bahut der kar dee maine aaj bheee....:)
    Gud day !

    ReplyDelete
  22. St. Francis Church, Fort Cochin

    The first church built by the Portuguese in India in the year 1503. The Dutch turned it into a Protestant (Calvinist) church and later the British converted it into an Anglican Church. Vasco da Gama was buried here. His mortal remains were later taken to Lisbon.


    regards

    ReplyDelete
  23. St Francis Church

    Considered the oldest church, St. Francis was originally Roman Church during the Portuguese period from 1503 to 1663 Dutch Reform from 1664 to 1804, and Anglican from 1804 to 1947. Today it is governed by the Church of South India. The building was originally constructed out of timber and later reconstructed in stone masonry during the 16th century. Vasco Da Gama who died in Cochin in 1524 was buried here before his remains were returned to Portugal 14 years later. The Tombstone still remains

    regards

    ReplyDelete
  24. विजयलक्ष्मी चर्च, नागापट्टनम!

    ReplyDelete
  25. Ernakulam, Keral ka sent Fransis Church. Isi men Vaskodigama ki samadhi bhi hai.

    ReplyDelete
  26. सेंट फ़्रांसिस चर्च

    ReplyDelete
  27. अरे ताऊ मै कभी कोचिंन या कोचीन मै नही गया, केरला देखा नही, लेकिन एक फ़ादर सा दिखने वाला मुझे जहाज मै मिला था, जिस का नाम था सन्त फ़्रांसिस वो शायद किसी चर्च मै काम करता था, बात भी ठीक है जब पादरी (फ़ादर) होगा तो चर्च मै ही तो काम करेगा ना, अब काम वो कोचीन मै करे या कही ओर मेणे क्या? मै तो कभी मंदिर भी नही गया फ़िर इस चर्च के बारे क्या बताऊ..... राम राम

    ReplyDelete
  28. केरल के एर्नाकुलम में स्थित भारत का सबसे पुराना यूरोपियन चर्च सेंट फ्रांसिस चर्च.

    ReplyDelete
  29. सेंट फ्रांसिस चर्च,एर्नाकुलम-केरल

    ReplyDelete
  30. St. Francis Church at Kochi, Kerala (oldest European church in India)

    ReplyDelete
  31. केरल में त्रिवेन्‍द्रम की चर्च है

    ReplyDelete
  32. अगर नक़ल की छूट है तो द्विवेदी जी की नक़ल की जा सकती है | यह केरल के कोच्ची शहर का गिरजाघर है

    ReplyDelete
  33. hai to church magar ye nahi pata kahan hai aur kaun sa hai.

    ReplyDelete
  34. फ़िर डूब गये! शनिवार को बाहर जाना बंद करना पडेगा, पहेली बूझ नहीं पाता.

    ये सेंट फ़्रांसिस चर्च है कोच्चि फ़ोर्ट में, जिसे प्रोटेस्टेंट युरोपियन्स नें बनाया.

    वास्को डी गामा को यहीं दफ़नाया गया था.(सन १५२४ में). मगर उसका पार्थिव शरीर १४ साल बाद पुर्तगाल ले जाया गया.

    ReplyDelete
  35. सूचना : इस पहेली में जवाब देने की समय सीमा समाप्त हो चुकी है.

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक धन्यवाद.

    -आयोजक गण

    ReplyDelete