Powered by Blogger.

"रिश्ते"

पता नही आजकल रिश्ते इतने नाजुक क्यों होगये हैं? और आभासी रिश्ते तो वाकई पल पल इधर उधर बिखरते नजर आते हैं. कभी कभी तो इस पत्थर की फ़र्श पर लिखे शब्दों की तरह नजर आने लगते हैं. अक्सर सोचता हूं कि क्या यही रिश्ते हैं?


“रिश्ते”
रिश्तों के ये बंधन
क्या एक नाजुक डोर जैसे होते हैं
जो हल्की सी तकरार की आंधी में
चरमरा कर टूट जाए
या फिर
सूखे पत्तों की तरह
एक हवा के झौंके संग
बह निकलें.
कभी सोचता हूं
रिश्ते क्या ताश का महल होते हैं?
जो एक कम्पन भर में बिखर जाये
या फिर इतने कमजोर
की रेत के बने घरोंदे की तरह
बरखा की चंद बूंदों में ढह जाये
पता नही ये रिश्ते क्या होते हैं?

(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)















31 comments:

  1. रिश्तों की अबूझ पहेली पर भावुक अभिव्यक्ति अच्छी लगी. कोई दार्शनिक पढ़ेगा तो लंबा व्याख्यान देगा.

    ReplyDelete
  2. सुश्री सीमा गुप्ता जी ने बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है! इसे पढ़वाने के लिए ताऊ को धन्यवाद देता हूँ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना । आभार
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  4. “रिश्ते” रिश्तों के ये बंधन क्या एक नाजुक डोर जैसे होते हैं जो हल्की सी तकरार की आंधी में चरमरा कर टूट जाए या फिर सूखे पत्तों की तरह एक हवा के झौंके संग बह निकलें. कभी सोचता हूं रिश्ते क्या ताश का महल होते हैं?


    ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है .

    ReplyDelete
  5. ताऊ जी !
    सही रिश्ते कभी नहीं बिखरते | पल -पल बिखरने वाले रिश्ते तो दिखावटी होते है जिनका बिखरना और बनना कोई मायने नहीं रखता |

    ReplyDelete
  6. मुझे लगता है की जो रिश्ते समय और परिस्थिति के साथ बिखर जाए ....उन रिश्तों का होना भी क्या ?
    सुन्दर अभिव्यक्ति .....धन्यवाद!!l

    ReplyDelete
  7. कितने अजीब रिश्ते हैं यहां पर,
    दो पल मिलते हैं, साथ-साथ चलते हैं,
    जब मोड़ आए तो बच कर निकलते हैं,
    कितने अजीब रिश्ते हैं यहां पर...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  8. होते हैं रिश्ते कमजोर भी और मजबूत भी। यह तो इस बात पर निर्भर करता है कि वे आपस में कितने इलेक्ट्रॉन शेयर करते हैं।

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन भाव की रचना है ताऊ जी ...

    ReplyDelete
  10. ओह! बहुत गहरे उतरे भाव!

    ReplyDelete
  11. रिश्तों पर बहुत ही गहरी बात कह दी आपने...
    और एक बात किसी भी रिश्ते की कोई गारंटी नहीं है आज के युग में....
    रिश्तों को पालना पड़ता है उनपर काम करना पड़ता है ...
    टेकन फॉर ग्रांटेड कोई रिश्ता नहीं...माँ और बच्चे का भी नहीं...
    बहुत अच्छी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  12. रिश्‍ते और आभासी रिश्‍ते दोनों ही का यही हश्र है। आजकल महफूज भाई दिखायी नहीं देते पहले भी उनकी खोज-पुकार हुई थी। लेकिन अब वे बिल्‍कुल ही गायब हैं, कहीं पता लगे तो बताइएगा।

    ReplyDelete
  13. Are! Taau, Apne to Emotional kar dia... Well! Rishton ke emotions ko prakat karti ye kavita bahut achchhi lagi...





    "RAM"

    ReplyDelete
  14. बहुत दिनों बाद आप ने कविता लिखी है.
    ***कविता भी बेहद गंभीर भाव लिए है.
    रिश्ते कांच से नाज़ुक होते हैं..
    बेहतर कहें तो अनसुलझी पहेली जैसे...***

    ReplyDelete
  15. सीमा जी रिश्ते तो हमेशा ही रहते है, बस हम ही स्वार्थी बन जाते है, हमीं दुर हो जाते है....
    बहुत सुंदर कविता
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. बेहतरीन कविता...इससे रहीम का एक दोहा याद आया
    " रहिमन धागा प्रेम का मत तोड़ो चटकाए,
    टूटे से फिर न जुड़े ,जुड़े गाँठ पड़ जाये."
    बस ऐसे ही होते हैं रिश्ते बहुत सहेज कर रखना चाहिए इन्हें.

    ReplyDelete
  17. rishton ki dor bahut hi nazuk hoti hai.........ek bahut hi sashakt rachna.......seema ji ko badhayi.

    ReplyDelete
  18. सीमा जी की इस भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए आपको भी धन्यवाद...
    बहुत अच्छी लगी रचना!!

    ReplyDelete
  19. Hum sabhi Rishto ko samajhne aur nibhane me hi lage hue hai; sundar prastuti ke liye seema ji ko abhinandan aur tauji ko dhanyawad.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर कविता है सीमा जी को बधाई

    ReplyDelete
  21. रिश्ते विश्वास और प्रेम से सहेजे जाते हैं...फिर जीने की रह दिखाते हैं !

    बहुत खूब लिखा है

    Seemaji aur taauji ko Dhanywaad !

    ReplyDelete
  22. रिश्ते वही जीवंत रह पते हैं जो रिसते नहीं
    आँधी तूफान से जो टूट जायें वो रिश्ते नहीं

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छी प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  24. ताऊ जी रिश्ते तो रिश्ते हैं,मानो तो रिश्ता दिल और धड़कन ्का होता है वर्ना।खैर बढिया रचना पहने का मौका दिया आपने,सीमा जी को बधाई अच्छी रचना के लिये और आभार आपका।

    ReplyDelete
  25. वैसे जो टूट जाएँ वो रिश्ते ही क्या ! बढ़िया लगी ये रचना.

    ReplyDelete
  26. ise blog par gambheer rishto ko le kavita .....?

    kavita acchee lageepar meree soch alag hai rishte saans ke sath sath chalte hai jeete hai aap nazar andaz karde to iseme rishte kya kare.......

    ReplyDelete