ताऊ पहेली - 60

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 60 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.


विनम्र विवेदन


कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें कि चित्र मे दिखाई गई जगह का नाम क्या है? कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है.


यह कौन सी जगह है?


ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे


अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.

जरुरी सूचना:-


टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.


इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा



नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग

 

नोट : – ताऊजी डाट काम  पर हर सुबह 8:00 बजे और शाम 6:00 बजे नई पहेली प्रकाशित होती हैं. यहा से जाये।

Comments

  1. आज पहली बार एकदम देखी जगह आ गई:


    गोलघर, पटना (बिहार)

    ReplyDelete
  2. आज तो संजय बैंगाणी जी को पीछे छोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ना है ताऊ..पिछली बार ६-७ अंक आगे होकर हँस रहे थे वे. :)

    ReplyDelete
  3. Golghar
    Patna - Bihar

    This huge and impressive granary is situated between Maidan and the Ganga river. Captain John Garstin of the Bengal Engineers build it in 1786 to store grains for the British army following a terrible famine. This building has an extra ordinary 29 meter high ovoid dome and has a base of 125 meters and 3.6 meters thick walls. It was intended to hold 137000 tons of grains. However, it was never completed. It gives an excellent view of the city and the Ganga river from its top which can be reached by the winding stairway around it.

    ReplyDelete
  4. तीनमूर्ति भवन

    नई दिल्‍ली

    ReplyDelete
  5. तीनों में से जो सही हो

    उसे ही रोक लिया जाये

    वैसे प्रथम तो आना नहीं है

    नंबर कुछ अधिक आ सकते हैं

    सिर्फ।

    ReplyDelete
  6. ताऊ चित्र देखते ही पहचान गया सो जोश जोश में रोमनवा में ही टीप गया अब देवनागरी में लीजीए ,
    पहेली का जवाब ...पटना का गोल घर , जो अंग्रेज सरकार ने अन्न भंडारण के दृष्टिकोण से बनवाया था ।वर्तमान में पटना का एक पर्यटन स्मारक है

    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  7. ताऊ के खेत में भेंस चर रही हे...:)

    ReplyDelete
  8. अपनी तो राम राम है ताऊ जी।

    ReplyDelete
  9. हमारे गाँव में ऐसी जगहे अनाज रखने के लिए बनायी जाती है ! शायद वही है !

    ReplyDelete
  10. डोम थियेटर, अप्पू घर दिल्ली
    नीरज

    ReplyDelete
  11. अरे! ई त हमरे पटना का गोलघर है!!!!

    ReplyDelete
  12. गोदियाल जी सही हैं इस मायने में कि इसे अनाज रख्नने के लिये ही बनाया गया था।

    ReplyDelete
  13. गोल घर पटना - फायनल जवाब
    नीरज

    ReplyDelete
  14. गोल घर सोनपुर बिहार ....बस ये अंतिम जवाब है.
    नीरज

    ReplyDelete
  15. हरी-हरी घास और खुशहाल गाय से भी कुछ अता-पता नहीं मिला ताऊ.

    ReplyDelete
  16. तारामंडल, पटना

    ReplyDelete
  17. ये ताऊ जी पटना बिहार स्थित गोलघर है , पक्का !!

    ReplyDelete
  18. GolGhar


    This huge and impressive beehive-shaped structure was constructed in July 1786 by Captain John Garstin following a terrible famine in 1770, to serve as a state granary. A flight of steps winds round this 29m high building to the top from where one gets a fine view of the river Ganga and Patna city.
    regards

    ReplyDelete
  19. यह तो गोल घर पटना है जी. 1800 से कुछ पहले अंग्रेज ने बनाया था, गंगा किनारे.

    ReplyDelete
  20. Golghar: Alarmed by the famine of 1770, captain John Garstin built this huge granary for the British army in 1786. The massive structure is 29 m high and the walls are 3.6 m wide at the base. The winding stairway around this monument offers a brilliant panoramic view of the city and the Ganga flowing by.

    ReplyDelete
  21. लगता है उड़नतश्तरी रात भर ताक लगाए ताऊ के घर पर मंडराती रही. :) खैर मात खाने में भी मजा है, देखते है कित्ते अंक का फटका लगता है :)

    ReplyDelete
  22. गोलघर, पटना, बिहार

    मिस रामप्यारी जी का हार्दिक धन्यवाद
    उन्हीं के दिये क्लू की वजह से पता लगा है जी

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  23. Gol Ghar:
    A very peculiar and interesting structure in the centre of the city. It is said that the structure was built some 200 years ago by the Britishers to store grains. The 150 ft high building appears like one half of a coconut and has got stairs to reach the top. From the top one can get a good view of Patna.

    ReplyDelete
  24. पटना का गोलघर है भाई ये तो ...........

    ReplyDelete
  25. NASA स्पेस सेंटर (लेकिन बिहार में)

    ReplyDelete
  26. GolGhar, where one gets a fine view of the river Ganga and Patna city.

    ReplyDelete
  27. मुझे तो ये सांची का स्तूप दिख रहा है?

    ReplyDelete
  28. अगर सांची का स्तूप नही है तो बिरला तारामंडल होगा.

    ReplyDelete
  29. और उप्रोक्त दोनों मे से कोई बःइ नही निकला तो कल १२ बजे बाद नकल करके बतायेंगे.:)

    ReplyDelete
  30. मुझे तो ये कोई परमाणू रियेक्टर दिखता है, पर ताऊ की भैंस वहां क्या कर रही है?

    ReplyDelete
  31. अब ताऊ की भैंस को परमाणू रियेक्टर मे तो कोई घुसने नही देगा तो हो ना हो ये गोलघर पटना (बिहार) वाला ही होगा. क्योंकि रामप्यारी भी लालू जी और राबडी जी को दिखारही है.

    ReplyDelete
  32. गोलघर पटना (बिहार) लोक किया जाये.

    ReplyDelete
  33. पता नहीं ताऊ जी,गजब उल्टा चित्र लगाई दियो हो.

    ReplyDelete
  34. ताउजी राम राम
    Mahabodhi बिहार को लोक करे

    ReplyDelete
  35. अरे ताऊ जी.. हम तो कब से खुद को इस पहेली प्रतियोगिता के लिए अक्षम मान कर इसमे भाग ही लेना बंद कर दिए थे.. मगर पढते सभी को थे, ज्ञान बढ़ाने के लिए.. मगर आज अभी जैसे ही इसे देखे वैसे ही लिखने चले आये..

    इसके ऊपर ना जाने कितने ही दिन बस यूं ही बिठाये हैं मैंने.. पटना का गोलघर.. किसी जमाने में लोग कहते थे कि इसके ऊपर से पूरा पटना दिख जाता है और इससे बड़ी कोई और इमारत नहीं है पटना में.. अब तो इससे बड़ी जाने कितनी ही इमारतें बन चुकी हैं मगर इस पर चढ कर गंगा नदी का तट देखना अभी भी खूब भाता है.. इसके ठीक बगल में पटना कमिशनरी है.. और उसके बाद पटना कलेक्टर का आवास.. फिर बिस्कोमान भवन(जो आजकल पटना का शान भी बना हुआ है).. इस पर चढ कर बोरिंग रोड का यमुना अपार्टमेंट भी खूब दीखता है जो किसी जमाने में पटना कि सबसे ऊंची इमारत के रूप में जाना जाता है..

    ओह ताऊ जी.. क्या याद दिला दिए!! बहुत साल हुए इस पर चढ़े हुए.. सोचता हूँ कि इस बार जब कभी जाना हुआ तो इस पर जरूर चढूं.. :)

    ReplyDelete
  36. कानपुर का लगता है।

    ReplyDelete
  37. बहुत खोपड़ी खुजाई नहीं मिला :(

    ReplyDelete
  38. *NASA स्पेस सेंटर (लेकिन बिहार में)

    ताऊ इस जवाब को संरक्षित किया जाए और प्रतियोगी को विशेष पुरस्कार से सम्मानित किया जाए !
    आनंद आ गया यह जवाब सुनकर :)

    ReplyDelete
  39. सूचना :-

    इस पहेली का जवाब देने की समय सीमा समाप्त हो चुकी है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

    सभी प्रतिभागितों को उत्साह वर्धन के लिये हार्दिक धन्यवाद.

    रामराम.

    ReplyDelete
  40. ना अब सही जवाब आयेंगे, ना पचास अंक दिये जायेंगे.

    ReplyDelete
  41. sab golghar patna kah rahe hain to wo hi hoga .......humne to dekha nhi hai .

    ReplyDelete

Post a Comment