Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 57

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 57 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. जैसा कि आप जानते ही हैं कि अब से रामप्यारी का हिंट सिर्फ़ एक बार ही दिया जाता है. यानि सुबह 10:00 बजे ही रामप्यारी के ब्लाग पर मिलता है.


विनम्र विवेदन


कृपया पहेली मे पूछे गये चित्र के स्थान का सही सही नाम बतायें. कई प्रतिभागी सिर्फ़ उस राज्य का या शहर का नाम ही लिख कर छोड देते हैं. जो कि अबसे अधूरा जवाब माना जायेगा.

हिंट के चित्र मे उस राज्य या शहर की तरफ़ इशारा भर होता है कि उस राज्य या शहर मे यह स्थान हो सकता है.


इस जगह का नाम बताईये!


ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे


अब आप रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट सुबह दस बजे ही पढ सकते हैं! दूसरा हिंट नही दिया जायेगा.

जरुरी सूचना:-

टिप्पणी मॉडरेशन लागू है इसलिए समय सीमा से पूर्व केवल अधूरे और ग़लत जवाब ही प्रकाशित किए जाएँगे.
सही जवाबों को पहेली की रोचकता बनाए रखने हेतु समय सीमा से पूर्व अक्सर प्रकाशित नहीं किया जाता . अत: आपका जवाब आपको तुरंत यहां नही दिखे तो कृपया परेशान ना हों.

इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा



नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग

 

नोट : – ताऊजी डाट काम  पर हर सुबह 8:00 बजे और शाम 6:00 बजे नई पहेली प्रकाशित होती हैं. यहा से जाये।

59 comments:

  1. मंदिर है, ढ़ूँढ़ना पड़ेगा।

    ReplyDelete
  2. अभी तक तो नहीं मालूम
    अधूरा जवाब भी
    मालूम है सिर्फ
    कि धरती पर बना
    भवन है यह।

    ReplyDelete
  3. जाने कहाँ खाँ घूमते हैं ताऊ और क्या क्या फोटू उतारती है रामप्यारी...हमारे तो बस का नहीं..इन घुम्मकड्डों का साथ. :)

    ReplyDelete
  4. दक्षिण का कोई मंदिर तो है पक्का!!!


    विशाखापटनम के पास खोजता हूँ...

    ReplyDelete
  5. Famous stepwells-the Adalaj Vav, located 18 km North of Ahmedabad

    अदालज बावड़ी-जो कि अहमदाबाद से १८ किमी उत्तर में स्थित है.


    -जो भी हो, हमें तो यही लगी..अब चले सोने!!! कल सुबह हिंट देखेंगे...

    ReplyDelete
  6. शुभ प्रभात,
    रामप्यारी जी से पहले एक क्लू दे देती हूँ चुपके से [उसे बताईएगा नहीं]....
    कि यह मंदिर नहीं है!
    ...शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  7. ऐसा नाजारा तो उम्मेद भवन पेलेस में दीखता है पर वो ऊपर से बंद है.. हिंट का इंतज़ार करते है,,

    ReplyDelete
  8. Taauji
    namaskaar

    ye to baanke biharii ka madir lag raha hai...Vrindavan kaa
    Mathura kaa

    baaki din ke clue kee baad ...:)

    sabhee mitron ko suprabhaat

    ReplyDelete
  9. अगली हिन्‍दी ब्‍लॉगर बैठकी
    करेंगे इसी में
    यदि मिल गई बैठक
    इसमें बिना किये उठापटक
    ठक ठका ठक ठकठक।

    ReplyDelete
  10. pheli wali picture yhan ki hai
    rudabai-ni-vav stepwell, adalaj
    gujarat
    regards

    ReplyDelete
  11. The Adalaj step-well is a popular tourist attraction of the city and is situated 18 km. south of Gandhinagar. The well was built in 1499 A.D. by Queen Rudabai. The step well or Vav, as it is called in Gujarati, is intricately carved and is several stories in depth. The designs on its walls and pillars include, leaves, flowers, birds, fish and other breathtaking ornamental designs
    regards

    ReplyDelete
  12. step well at Adalaj District, Gujarat.
    regards

    ReplyDelete
  13. राजस्थान या गुजरात की कोई इमारत है। पहली नजर में दिलवाड़ा मंदिर का नाम स्मरण आया लेकिन वह नहीं है। लेकिन शिल्प उस जैसा है।

    ReplyDelete
  14. अरे ये तो राजस्थान का है

    ReplyDelete
  15. सास बहू का मंदिर

    ReplyDelete
  16. कुंज बिहारी जी का मंदिर

    ReplyDelete
  17. गुजरात में है यह मंदिर

    ReplyDelete
  18. http://www.indiasite.com/gujarat/stepwellsofgujarat.html

    Adalaj Vav
    AdalajAdalaj vav, 18kms from Ahmedabad, closely resembles Dada Harir vav in its size and layout but it is rich in ornamentation and was built just prior to it. With the passage of time this step well has become commemorative of unrequited love and thereby hangs the folk tale. Water can still be seen in the well and it is attributed to the living spirit of Rudba Devi, the beautiful wife of Veer Singh.

    Sultan Begara in his quest for expansion had subdued Dandai Desh and killed the Vaghela king, Veer Singh. He sent forth his matrimonial proposal to Rudba Devi who begged for time in order to complete the vav in memory of her dead husband. The Sultan agreed but he never knew that the queen would drag the work for twenty long years. Still it remained incomplete as evident from the missing canopy. The Sultan renewed his request for marriage and the queen responded by plunging herself from the balcony of the well and thus met her watery death. In other words it became a jal samadhi and thus she sacrificed herself to save her honour and also to appease the jal devi, who would be responsible for the perpetual flow of water.

    ReplyDelete
  19. रानी कि वाव
    पाटन , गुजरात
    Rani Ki vav Patan is the most magnificent of all step wells created in 1032 A.D. by Rani Udayamati. She was the queen of the most powerful Chalukiya king, Bhimadeva whose reign is marked with manifold building activities. A greater part of this vav remained buried for years while the exposed portions were dismembered to embellish another step well -

    ReplyDelete
  20. यह तो अड़ालज की बाव है. पानी संग्रहण का सुन्दर कुँआ, साथ में बैठने के लिए ठंडी जगह भी.

    ReplyDelete
  21. काफी दिनों बाद आना हुआ रामप्यारी की पहेली पोस्ट में। पर हमें तो इसका जवाब नही मालूम जी क्या करें।

    ReplyDelete
  22. यह एक ्गिरजा घर है, जो भारत मै भारत के भारतियो के लिये बनाया गया है, ओर खास कर इस लिये स्पॆशल बनाया गया है ता कि ताऊ जी अल्पना जी के संग इस पर एक पहेली पूछ सके... अब ज्यादा नही बताऊंगा

    ReplyDelete
  23. is jaisi to bahut jagah mil gai par yeh nahin mil rahi hai
    meet

    ReplyDelete
  24. पटवो की हवेली जैसलमेर...

    ReplyDelete
  25. अक्षर धाम मंदिर,अहमदाबाद[गुजरात]लगता है मुझे तो...

    ReplyDelete
  26. नृतक देखकर बस इतना ही कह सकता हूं कि गुजरात में ही कहीं है ये जगह पर कहां...पता नहीं.

    ReplyDelete
  27. stepwell(vav) of Adalaj Village near Amadabad

    ReplyDelete
  28. ताऊ ये तो सांची का स्तूप दिखता है

    ReplyDelete
  29. हीरापुर की बावडी लगती है.

    ReplyDelete
  30. सूचना : इस पहेली मे जवाब देने की समय सीमा समाप्त हो चुकी है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

    जवाबी पोस्ट मे उनके नाम का उल्लेख हो पाना निश्चित नही होगा!

    सभी प्रतिभागियों का उत्साह वर्धन के लिये आभार!

    ReplyDelete
  31. सही जवाब बतलायें
    आ गये होंगे खूब
    तो ताऊ जी करो रिलीज
    और हम नकल मार लें।

    ReplyDelete
  32. @Dr.Mahesh ji,

    naam bhi batana hota hai ...tabhi poora jawab sahi mana jayega.
    abhi bhi poora jawab de sakte hain kintu ank kewal 50 hi milenge.

    ReplyDelete
  33. @ अल्पना जी
    धन्यवाद
    ये तो राम राज्य आ गया
    उत्तर घोषित होने के बाद भी 50 अंक :)
    लेकिन हमारे ब्लॉगर लोग बड़े ईमानदार है
    बाद में जवाब नहीं देते :)

    ReplyDelete
  34. डा. महेश जी सिन्हा

    अभी उत्तर घोषित नही हुये हैं. और जवाब आना जारी हैं.

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. ये तो अडालज की वाव है। जो अहमदाबाद में है।

    ReplyDelete