Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 46

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 46 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. क्ल्यु हमेशा की तरह रामप्यारी के ब्लाग से मिलेंगे. रामप्यारी के ब्लाग पर पहला क्ल्यु 11:30 बजे और दुसरा 2:30 बजे मिलेगा. रामप्यारी का जवाब अलग टिपणी में देवें. तो आईये अब आज की पहेली की तरफ़ चलते हैं.

यह कौन सी जगह है?


ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे

अब रामप्यारी का विशेष बोनस सवाल : - ३० अंक के लिये.


हाय एवरी बडी..वैरी गुड मार्निंग फ़्रोम रामप्यारी
.

विनम्र निवेदन : - कृपया मेरे सवाल का जवाब अलग टीपणी मे देवें. बडी मेहरवानी होगी. एक ही टिपणी मे दोनो जवाब मे से एक सही होने पर प्रकाशित नही की जा सकती और इससे आप कन्फ़्युजिया सकते हैं कि आपकी टिपणी रुकी हुई है. तो सही होगी?

आज का सवाल :-

विष्णू भगवान के दस अवतारों मे से किन दो में आपसी विवाद हुआ था?


अब आप मेरे ब्लाग पर पहली हिंट की पोस्ट पढ सकते हैं 11:30 बजे और दुसरी 2:30 बजे.

अब रामप्यारी की रामराम.


इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा



नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग

 

नोट : – ताऊजी डाट काम  पर हर शाम 6:00 बजे नई पहेली प्रकाशित होती हैं. यहा से जाये।

90 comments:

  1. रामप्यारी का जवाब

    राम और परशुराम में

    ReplyDelete
  2. वेलान्कन्नी चर्च , नगप्पत्तिनम, तमिलनाडु .

    ReplyDelete
  3. वेलान्कन्नी चर्च , नगप्पत्तिनम, तमिलनाडु .

    ReplyDelete
  4. रामप्यारी, रामजी और परशुराम में हुआ था ..... धनुष यज्ञ में

    ReplyDelete
  5. रामप्यारी, राम और परशुराम में!

    ReplyDelete
  6. रामप्यारी का जवाब:
    राम बनाम राम (भृगुवंशी परशुराम और रघुवंशी राम)

    ReplyDelete
  7. just pahle wala answer final hai :

    VELANKANNI CHURCH,
    NAGAPATTANAM, TAMIL NADU

    ReplyDelete
  8. Vailankanni, the Shrine Basilica
    is a greatest honor for a Church that it be raised to the status of a Basilica. The Greek word Basilica signifies a "Royal Hall". In course of time this word has come to mean a large and beautiful hall. In ancient times the whole world in general and Rome in particular, erected large halls for administrative purposes. The first hall bearing the name of Basilica existed in Athens. But after the fall of Greeks, the Romans popularized it. It was Julius Caesar who artistically constructed the Hall of "Basilica Julia" for administrative purposes. They are somewhat similar to the "Durbar Halls" in our palaces in Madurai, Mysore, Thanjavur etc.

    Christ being the king and His Church being his audience hall, the larger Christian Churches at Rome came to be called Basilicas. Naturally enough, these Basilicas were large, roomy, bright and ornamental. After the Edict of Milan in the year 313 AD, the mighty Emperor Constantine granted permission to the Pope to construct a magnificent Basilica and a palafe at "Lateran". He also erected a wonderful Church over the tomb of St. Peter.
    regards

    ReplyDelete
  9. Velankanni is a coastal village in Nagapattinam district, Tamil Nadu. Even though it is commonly known as Velankanni, the correct spelling is Vailankanni. Velankanni is very famous for its Marian church known as "Shrine Basilica of Lady of Health". Thousands of people from all around India visit this place and hence is known as "Mecca of Christians" and "Lourdes of the East". There are a number of churches and other buildings in the Basilica complex and on one side it is flanked by Bay of Bengal sea.

    The annual festival is from 29th August to 8th September. There is heavy rush during this period.

    It is interesting to note that majority of Velankanni pilgrims are from Kerala, especially from districts like Kottayam, Idukki and Thrissur.

    The history of Velankanni goes back as far as 16th century. According to legends, Mother Mary appeared twice to milk boys during this period. There are churches on both these places (inside Basilica complex). In the first appearance, Mother Mary asked for milk from a boy. Boy gave milk to mother and later it was found that the milk pot is still full. This place is known as "Our Lady’s Tank".

    In the second appearance, Mother Mary cured a crippled boy. There is a small church at this place now.

    The third miracle happened sometime during seventeenth century and probably it was this miracle which caused rapid expansion of Velankanni church. A Portuguese ship going from Macao in China to Colombo was caught in a violent storm. The sailors prayed to Mother Mary for protection. It is said that the ship landed in Velankanni and as an offering sailors built a church at the seaside. In subsequent visits, Portuguese continued to build and expand the church complex.

    In 1962, Pope John XXIII granted Minor Basilica status to Velankanni church. The first bishop of Thanjavur, R.A. Sundaram was behind this decision. A new church extension modeled after the Lady of Lourdes was soon built.
    regards

    ReplyDelete
  10. गोआ का कोई चर्च दिखे है...

    ReplyDelete
  11. ग्रंथों के अनुसार श्री राम और परशुराम को विष्णु का ही अवतार माना गया है !

    भगवान राम और परशुराम के मध्य शिव धनुष तोडे जाने के उपरांत विवाद हुआ था !

    ReplyDelete
  12. तमिलनाडु में नागपट्टणम् जिले में वेलांकिणी का गिरजाघर जिसे अवर लेडी ऑफ गुड हेल्थ भी कहा जाता है।

    ReplyDelete
  13. VELANKANNI CHURCH,
    NAGAPATTANAM, TAMIL NADU..


    बहुत दिनों बाद मेरा नं आयेगा...

    राम राम

    ReplyDelete
  14. राम प्यारी तु सुट में प्यारी लग रही है.. पर विवाद की बात मत कर.. मुझे तो ये भी नहीं पता कि १० अवतार भी थे.. और जब वो अवतार ही थे.. तो विवाद कैसा.. ये भगवान भी न..

    ReplyDelete
  15. Roman Catholic Church in elanaknnai, Tamilnadu

    राम और परशुराम

    ReplyDelete
  16. गोवा का कोई चर्च है..May be st. पीटर्स !

    Raam Raam bhee Taaui ji

    ReplyDelete
  17. Buddha n Vishnu ..ke beech shayad thoda .....Raampyari is looking soooo cute today...:)nice getup !!

    ReplyDelete
  18. VELANKANNI CHURCH, NAGAPATTANAM, TAMILNADU

    ReplyDelete
  19. दिल्‍ली मथुरा हाईवे पर
    आगरा से दिल्‍ली ओर
    उल्‍टे हाथ की डोर
    लगती है मुझे तो
    नहीं गोवा का शोर।

    ReplyDelete
  20. रामप्‍यारी के सवाल का सीधा है जवाब
    जिन आठ में हुआ था याद उन्‍हें कर लो
    बाकी बचेंगे दो, गारंटिड होंगे वो
    जल्‍दी से मुझे पूरे नंबर दो
    मत जाना सो।

    ReplyDelete
  21. एक ही विवाद याद आ रहा है, परशुराम व राम के बीच का.

    ReplyDelete
  22. चर्च ऑफ वैलानकली (उच्चारण अलग हो सकता है)

    ReplyDelete
  23. यह तमिल में स्थित चर्च है...
    मीत

    ReplyDelete
  24. इसे the Shrine Basilica भी कहते हैं....
    मीत

    ReplyDelete
  25. vailankanni (velankanni) church
    tamilnadu

    नमस्कार स्वीकार करें

    ReplyDelete
  26. इसे Shrine for Mary भी कहते है...
    In several documents this chapel is called as an Ermida. (Lucas de S. Thiago 1747; Goa 20 Aug. 1747, Nicolao 1779 and Manoel do Amparo 1809). This Portuguese word ermida means either a substation (a filial chapel) or a place of pilgrimage. Manoel do Amparo used this word to denote a special cult devoted to the Virgin Mary as Ermida de Romagem. He also speaks of a Franciscan priest in this place, who in all likelihood was attending on the pilgrims who came for the veneration of the Mother of God.

    In the year 1846 Fr. Wilmet a Jesuit priest writing to his Provincial (Superior) speaks of this as "….Church of Vailankanni, a famous shrine of Mary....near Nagappattinam...." (Letter ofP. Wilmet SJ, Trichnopoly, Feb., 1846., ed. P.J. Bertrand S.J. Lettres edifiantes et cu-rieuses du Madure Paris-Lyon- Toulouse. 1865, II, 160).

    After the renovations and the extensions, the present Church shows the triumph of classicism in structure. The magnificent ambience with its 93 feet high dome and two 82 feet high gothic spirals dominates the topography of Vailankanni. In the year 1920 the indefatigable Rev. Fr. Sebastiao Xavier de Noronha was instrumental in giving the main Basilica the present structure with the two lofty gothic spires facing the Sea, similar to the western Shrines. About the same time the two-storied Parochial building with facility, for the pilgrims was also built. The third floor to the Parochial House was added in the year 1974, to accommodate the increasing number of clergy especially for the annual feast.
    मीत

    ReplyDelete
  27. तो प्योर जवाब है वालेनकन्नी चर्च...
    मीत

    ReplyDelete
  28. रामप्यारी के सवाल का जवाब है

    राम और परशुराम

    प्रणाम

    ReplyDelete
  29. @ रामप्यारी
    ये ले सभी की डिटेल...
    १) मत्स्य अवतार : मत्स्य (मछ्ली) के अवतार में भगवान विष्णु ने एक ऋषि को सब प्रकार के जीव-जन्तु एकत्रित करने के लिये कहा और पृथ्वी जब जल में डूब रही थी, तब मत्स्य अवतार में भगवान ने उस ऋषि की नांव की रक्षा की थी। इसके पश्चात ब्रह्मा ने पुनः जीवन का निर्माण किया। एक दूसरी मन्यता के अनुसार एक राक्षस ने जब वेदों को चुरा कर सागर में छुपा दिया, तब भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप धारण करके वेदों को प्राप्त किया और उन्हें पुनः स्थापित किया।
    २) कूर्म अवतार : कूर्म के अवतार में भगवान विष्णु ने क्षीरसागर के समुन्द्रमंथन के समय मंदर पर्वत को अपने कवच पर संभाला था। इस प्रकार भगवान विष्णु, मंदर पर्वत और वासुकि नामक सर्प की सहायता से देवों एंव असुरों ने समुद्र मंथन करके चौदह रत्नोंकी प्राप्ती की। (इस समय भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप भी धारण किया था।)
    ३) वराहावतार : वराह के अवतार में भगवान विष्णु ने महासागर में जाकर भूमि देवी कि रक्षा की थी, जो महासागर की तह में पँहुच गयीं थीं। एक मान्यता के अनुसार इस रूप में भगवान ने हिरन्याक्ष नाम के राक्षस का वध भी किया था।
    ४) नरसिंहावतार : नरसिंह रूप में भगवान विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी और प्रहलाद के पिता हिरण्यकश्यप का वध किया था। इस अवतार से भगवान के निर्गुण होने की विद्या प्राप्त होती है।
    ५) वामन् अवतार : इसमें विष्णु जी वामन् (बौने) के रूप में प्रकट हुए।
    ६) परशुराम अवतार: इसमें विष्णु जी ने परशुराम के रूप में असुरों का संहार किया।
    ७) राम अवतार: राम ने रावण का वध किया जो रामायण में वर्णित है।
    ८) कृष्णावतार : भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप मे देवकी और वसुदेव के घर मे जन्म लिया था। उनका लालन पालन यशोदा और नंद ने किया था। इस अवतार का विस्तृत वर्णन श्रीमद्भागवत पुराण मे मिलता है।
    ९) बुद्ध अवतार: इसमें विष्णु जी बुद्ध के रूप में असुरों को वेद की शिक्षा के लिये तैयार करने के लिये प्रकट हुए।
    १०) कल्कि अवतार: इसमें विष्णु जी भविष्य में कलियुग के अन्त में आयेंगे।

    अब इसमें से किन दो के बीच आपसी विवाद हुआ है तू ही बता...
    मीत

    ReplyDelete
  30. रामप्यारी एक तो लिख ले परशुराम ही हैं, क्योंकि वो ही मेरे जैसे सवभाव के थे... यानी की तुनक मिजाज अब दूसरा कौन है ये भी में ही बताऊँ क्या... लगता है की तू आजकल स्कूल नहीं जाती...
    मीत

    ReplyDelete
  31. परसुराम और श्रीराम में आपसी विवाद हुआ था.

    ReplyDelete
  32. आज की पहेली का जवाब तो हमें सच में ही नही पता। वैसे ये पक्का है कि ये चर्च है।

    ReplyDelete
  33. रामप्यारी जी ऐसे सवाल पूछा करो जी जो हमें भी आते हो।

    ReplyDelete
  34. Shrine for Mary
    Vailankanni church

    Vailankanni
    Nagappattinam)

    ReplyDelete
  35. .Church of Vailankanni, a famous shrine of Mary....near Nagappattinam...."

    ReplyDelete
  36. केरल केरल केरल
    के रल
    केर ल

    केरल

    ReplyDelete
  37. वेलान्कन्नी चर्च नागापट्टिनम तमिलनाडु

    ReplyDelete
  38. रामप्यारी का जवाब: राम-परशुराम.

    ReplyDelete
  39. hi rampyari,
    vishnu bhagwan ke do avtaar bhagwaan ram aur bhagwan parshuram ka huaa tha aur un dono mein hi vivaad huaa tha, sita swayamvar ke samay jab bhagwan raam ne shiv dhanush toda tha.

    ReplyDelete
  40. dekhne mein to ye koi church hi lag raha hai magar kahan ka abhi nhi pata ........teesre hint ke baad hi kuch bata payenge.

    ReplyDelete
  41. रामप्यारी,
    वे थे भगवान् राम और परशुराम
    सीता के विवाह के अवसर पर वे दोनों लड़ भिडे थे. वैसे राम की तरफ से मौर्चा संभाला था लक्षमण ने.

    ReplyDelete
  42. Lucas de S.Thiago church in nagapattinam , goa

    ReplyDelete
  43. main to dono hi jawaab de chuki hun magar show nhi ho rahe comment aur dono hi alag diye hain ek hi comment box mein nhi diye.

    ReplyDelete
  44. साऊथ की कोई चर्च है बस इतना ही पता चला हिंट से ....!!

    ReplyDelete
  45. अंग्रेजी इमामबाड़ा यानि चर्च,
    गोवा।

    ReplyDelete
  46. hi rampyari,
    tumhare sawaal ka jawab main pahle hi de chuki hun magar wo show nhi ho raha isliye dobara de rahi hun.
    bhagwan vishnu ke 10 avtaron mein se jin do avtaron mein vivaad hua tha wo hai----------bhagwan ram aur bhagwan parshuram.
    inka vivaad sita swayamvar ke samay bhagwan shiv ka dhanush todne par huaa tha.

    ReplyDelete
  47. VISHNU BHAGWAN KE DO AWTAAR RAM AUR PARSU RAAM TRETA YUG

    ReplyDelete
  48. रामप्यारी:

    विवाद हुआ परशुराम और राम में...

    ReplyDelete
  49. रामप्यारी को नई ड्रेस मिली..

    ReplyDelete
  50. South India ka koi Church hai...naam fir bataungi..!

    ReplyDelete
  51. @ Udan Tashtari नयी ड़ेस ही नहीं, रामप्यारी को काया भी नई मिली है।

    ReplyDelete
  52. ताऊ जी हिंट देखने के बाद भी हमारे तो कुछ पल्ले नहीं पड़ा अब तो सोमवार का इन्तजार है | सही जबाब पढ़कर ही अपना ज्ञान बढायेंगे |

    ReplyDelete
  53. नम्बर १
    ये वो जगह है जहां मैं किसी की लुगाई नै ले कै नहीं गया......

    ReplyDelete
  54. नम्बर २
    दस नै छोड़ न्यू बता खाड़ा किस के गेल नही होया..?

    ReplyDelete
  55. नम्बर ३
    खूंटे की बात सुण....

    एक कतई ताजा पैदा होये छोरे नै दाई तै पूच्छया अक् यू चारों तरफ अंधेरा क्यूं हो रह्या सै...?

    दाई बोल्ली लाइट जा री सै.....

    छोरे नै मात्थे पै हाथ मारया अर बोल्या
    'ऒह माई गाड ईबकै फेर इंडिया म्हं पैदा होग्या.........

    ReplyDelete
  56. GOVA KA KOI CHARCH HAI ....IS SE AAGE NAHI PATA .. AGAR AADHA SACH HO TO AADHE NUMBER BHI CHALENGE ...

    ReplyDelete
  57. Namskaar,
    --यह चर्च गोवा का नहीं है.
    इस चर्च को भारत में ईसाईयों का मक्का भी कहा जाता है[ऐसा एक साईट पर मैं ने पढ़ा है]
    -क्लू 1के चित्र में एक पकवान दिखाया गया है..उस पर भी क्लू ही है.त्यौहार का नाम लिखा है जो इस राज्य का ख़ास त्यौहार है.चित्र पर क्लीक करें तो बड़ा दिखेगा और आप उस नाम को पढ़ सकेंगे.
    -आखिर में दिए क्लू के चित्र में जो तस्वीर है वो इस चर्च की स्थापना से जुडी कथा का वर्णन कर रही है.
    शुभ रात्रि.

    ReplyDelete
  58. ओह आज तो मैं 14 घंटे लेट हो गया...
    यह नागपट्टनम (तमिलनाडु)के चर्च का चि़त्र है.

    ReplyDelete
  59. एक सफ़ेद कैथेड्रल है.

    ReplyDelete
  60. मन तो मजो आयगो चाहे चर्च हो या मंदिर जवाब मेरा कण तो कोणी

    ReplyDelete
  61. ई तो चेन्नै का वेलंकन्नी चर्च दिखे है

    ReplyDelete
  62. ये बताना तो भूल ही गये के राम और परशुराम ही वह विष्णू के दो अवतार है जो आपस मे लढे थे!

    ReplyDelete
  63. दशावतारों में श्री राम और श्री परशुराम के बीच विवाद हुआ था.

    ReplyDelete
  64. टिप्पणी नम्बर १ को इस तरह पढें कि


    ये वो जगह है जहां मैं ना अपनी ना किसी की लुगाई नै ले कै कतई नहीं गया......

    ReplyDelete
  65. मेरे ख्याल से ये साउथ का कोई चर्च होगा या फिर गोवा का !

    ReplyDelete
  66. आपकी पोस्ट या आपके द्वारा कहीं भी की गई टिप्पणीयों को टिप्पणी चर्चा ब्लाग पर हमारे द्वारा उल्लेखित किया गया है या भविष्य मे किया जा सकता है।


    हमारे ब्लाग टिप्पणी चर्चा का उद्देष्य टिप्पणीयों के महत्व को उजागर करना है। और आपको शामिल करना हमारे लिये गौरव का विषय है।


    अगर आपकी पोस्ट या आपकी टिप्पणीयों को टिप्पणी चर्चा मे शामिल किया जाना आपको किसी भी वजह से पसंद नही है तो कृपया टिप्पणी के जरिये सूचित करें जिससे भविष्य मे आपकी पोस्ट और आपके द्वारा की गई टिप्पणियो को आपकी भावनानुसार शामिल नही किया जायेगा।


    शुभेच्छू
    चच्चा टिप्पू सिंह

    ReplyDelete
  67. the Velankanni Church is one of the most important churches at Nagappattinam.

    ReplyDelete
  68. सूचना : इस पहेली का जवाब देने की समय सीमा आज रविवार दोपहर १२:०० बजे खत्म हो गई है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उनको अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे.

    सभी भाग लेने वालों का हार्दिक आभार.

    -आयोजक गण.

    ReplyDelete