ताऊ पहेली - 41

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 41 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. क्ल्यु हमेशा की तरह रामप्यारी के ब्लाग से मिलेंगे. रामप्यारी के ब्लाग पर पहला क्ल्यु 11:30 बजे और दुसरा 2:30 बजे मिलेगा. रामप्यारी का जवाब अलग टिपणी में देवें. तो आईये अब आज की पहेली की तरफ़ चलते हैं.

इस जगह को पहचानिये!



ताऊ पहेली का प्रकाशन हर शनिवार सुबह आठ बजे होगा. ताऊ पहेली के जवाब देने का समय कल रविवार दोपहर १२:०० बजे तक है. इसके बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे

अब रामप्यारी का विशेष बोनस सवाल : - ३० अंक के लिये.

rampyari-tdc-1_thumb[2] हाय एवरी बडी..वैरी गुड मार्निंग फ़्रोम रामप्यारी.

विनम्र निवेदन : - कृपया मेरे सवाल का जवाब अलग टीपणी मे देवें. बडी मेहरवानी होगी. एक ही टिपणी मे दोनो जवाब मे से एक सही होने पर प्रकाशित नही की जा सकती और इससे आप कन्फ़्युजिया सकते हैं कि आपकी टिपणी रुकी हुई है. तो सही होगी?

आज का सवाल :-

श्री रामचरित मानस मे उल्लेखित तीन राक्षसियों के नाम बताईये !


अब आप मेरे ब्लाग पर पहली हिंट की पोस्ट पढ सकते हैं 11:30 बजे और दुसरी 2:30 बजे.

अब रामप्यारी की रामराम.




इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा

नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं. किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा. एवम इस पहेली प्रतियोगिता में आयोजकों के अलावा कोई भी भाग ले सकता है.


मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग

 

नोट : – ताऊजी डाट काम  पर हर शाम 6:00 बजे नई पहेली प्रकाशित होती हैं. यहा से जाये।

Comments

  1. Durgakund (Varanasi (बनारस, काशी)) up

    ReplyDelete
  2. नही पता
    नहीं पता
    नहीं पता

    ReplyDelete
  3. ताऊ श्री ! हम तो हिंट देखकर ही कोई तुक्का मरेंगे :)
    कभी बाहर घुमे फिरे होते तब ना आपकी इन पहेलियों के उत्तर दे पाते ना !

    ReplyDelete
  4. उज्जैन का काल भैरव मंदिर है.

    ReplyDelete
  5. रामप्यारी का जवाब

    १. शूपर्णखा
    २ .ताड़का
    ३. सुरसा

    ReplyDelete
  6. या फ़िर कोई सी शक्तिपीठ भी हो सकती है. पक्का जवाब हिंट के बाद देंगे ताऊ।

    ReplyDelete
  7. या फ़िर कोई सी शक्तिपीठ भी हो सकती है. पक्का जवाब हिंट के बाद देंगे ताऊ।

    ReplyDelete
  8. रामप्यारी जी रामराम. आज ये राक्षसियों को क्यों याद कर रही हो? सब खैर तो है ना? या कुछ गडबड है?

    ReplyDelete
  9. राक्षसियों के नाम अभी पढकर आकर बताऊंगा ।

    ReplyDelete
  10. ये लाल बंगला है.

    ReplyDelete
  11. Raamapyaari, sirf teen naam hi caahiye to inako lo (waise aur bhi hain)-
    1. Shoorpnakhaa
    2. Lankini
    3. Trizataa

    ReplyDelete
  12. रामप्यारी जी का जवाब डःऊंढ कर बताते हैं.

    ReplyDelete
  13. ये कोई धार्मिक स्थान लगता है जी. अब क्या बताये?

    ReplyDelete
  14. इतना गहरा लाल रंग तो कोई तांत्रिक पीठ का ही हो सकता है.

    ReplyDelete
  15. ये उज्जैन का कोई मंदिर है

    ReplyDelete
  16. रामप्यारी जी आज तो उल्झा दिया आपने.:) कोई गणीत या जी.के. का सवाल नही मिला था क्या?

    ReplyDelete
  17. Details of Durga temple - Varanasi : Shakti peethas ---


    Once upon a time there lived a king of Ayodhya, named Dhriva sandhi. He had two wives named Manorama and Lilavathi. The son of the elder wife, Manorama was Sudarsana. The son of the younger wife was Satrijith. Satrijit was more active than Sudarsana. Both of them were getting their education. One day, the king went for hunting and was killed by a lion.

    The ministers decided to make Sudarsana as the king. But, Yathajith, the father of Lilavathi opposed it. He killed the father of Manorama and prepared to kill Sudarsana too. Manorama left the kingdom with her child. She approached the Rishi Bharadwaja, at Trikutaadri, to save her child. Bharadwaja accepted and gave place to them in his ashram. Yathajith knew this and stopped for a while as he was afraid of Bharadwaja.

    One day when he was playing with his friends, Sudarsana heard a word Kleeba, which means impotent. By the childish character he uttered that word again and again. Gradually the word Kleeba became Kleem in his mouth. He was chanting the word Kleem day and night. He didn’t know that Kleem was the Kama beejakshara. Rishi Bharadwaja observed it and trained him in the worship of the Vaishnavi (A Goddess worshiped by Kama beejakshara).

    Sudarsana grew up. He learned all the education required for a king, from Rishi Bharadwaja. Goddess Vaishnavi appeared before him. She gave him Mystic Bow and arrows. The person who uses them becomes undefeated in the battle field. The Kama beejakshara japa made him handsome and strong.

    Sasikala was the daughter of Subahu, the king of Kasi. She heard about Sudarsana and fell in love with him. One night, Goddess Vaishnavi appeared in dream and told her to marry Sudarsana. Subahu didn’t know about this. He announced Swayamvara(Selection of her husband by a princess). Sasikala told her father that she would marry none other than Sudarsana. She sent a Brahmin and invited Sudarsana, to come to that Swayamvara.Goddess Vaishnavi told Sudarsana to go to that Swayamvara.. Rishi Bharadwaja blessed him and sent to the Swayamvara with Manorama.

    Yathajith came to the Swayamvara with his grand son Satrijith. He told to all the kings that if Sasikala selects Sudarsana as her husband he will kill Sudarsana and marry her with his grand son. This was known to Subahu, and he tried to change the mind of his daughter. Sasikala refused and told that Goddess Vaishnavi would protect them.

    Subahu thought about his daughter, keeping belief of the Goddess Vaishnavi he married Sasikala with Sudarsana secretly on that night itself. By the next day all the kings came to know about the marriage of Sasikala. Subahu prayed all the kings to forgive him for the inconvenience caused to them. Sudarshana also said to the kings that it was the words said by Vaishnavi devi that brought him there. He also said that he had no enemity with any of them, every thing was under the control of his maa Vishnavi devi. Many of the kings got convinced. But, Yathajith decided to kill Sudarsana. He kept his army in the border of Kasi.

    Sudarsana started to go to Bharadwaja ashram with his mother and wife. Subahu followed them with his army to protect them. Yathajith and Satrijith opposed them. A battle started between them .Sudarshana was just defending and didn’t try to kill any of them.
    Goddess Durga appeared before them in the sky on her simhavaahana. She killed Yathajith and Satrijith. The entire army was frightened with the death of their king Yathajith and left the battle field. Sudarsana told to Subahu that Goddess Durga came to protect them. Subahu prayed Goddess Durga a lot. She asked him to take a boon from her. Subahu asked her to stay in Kasi and protect them. She accepted and appeared on the bank of Durga kundam. Subahu built a temple for her.

    Sudarsana went to Ayodhya as ordered by the Goddess Durga. He built a temple of Goddess Vaishnavi in Ayodhya and ruled like Sri Rama.

    ReplyDelete
  18. भारत माता मंदिर हरिद्वार

    ReplyDelete
  19. रामप्यारी जी सुबह सुबह भूत पिशाचनियों के नाम नही लिया करते ..शाम को आफ़िस से लौटकर बतायेंगे.:)

    ReplyDelete
  20. काल भैरव मंदिर

    ReplyDelete
  21. यह कोइ सा कापालिक मंदिर है. जहां तंत्र साधना होती है.

    ReplyDelete
  22. कुरुक्षेत्र का संग्रहालय ???

    ReplyDelete
  23. ये पक्के से कुरुक्षेत्र का श्री कृष्ण संग्रहालय ही है.

    ReplyDelete
  24. रामप्यारी तेरा जवाब मुश्किल है हम राक्षसनियों के नाम नही लेते..हम तो राम के भक्त हैं.

    ReplyDelete
  25. बनारस में अस्‍सी रोड से कुछ ही दूरी पर आनन्‍द बाग के पास दुर्गा कुण्‍ड है। यहां संत भास्‍करानंद की समाधि है। यह चित्र वही का है .
    regards

    ReplyDelete
  26. ये इंदौर का अन्नपुर्णा माता मंदिर है.

    ReplyDelete
  27. यह मंदिर दशहरा मैदान के पास बना हुआ है.

    ReplyDelete
  28. और आजकल नवरात्र मे यहां दर्शनार्थियो की बडी भीड रहती है.

    ReplyDelete
  29. रामप्यारी तेरी तो अक्ल खराब हो गई लगती है आजकल नवरात्रों मे कोई राक्षसियों को याद करता है क्या? तू तो यहां आजा ..आजकल गरबे बहुत चकाचक होते हैं तू भी आके जरा माताजी की भक्ति करले...:)

    जय माता दी.

    ReplyDelete
  30. पूरी रामायण पढने पर चार राक्षसिन मिलीं ! जिसमें सुरसा वास्तविक राक्षसिन नहीं थी !

    [एक]
    लंकिनी - एक राक्षसिन जो लंका की सुरक्षा देखती थी

    [दो]
    सिंहिका नामक राक्षसनी छाया ग्रहण विद्या में पारंगत थी। जिस किसी प्राणी की छाया पकड़ लेती थी, वह उसके बन्धन में बँधा चला आता था।

    [तीन]
    त्रिजटा - त्रिजटा साध्वी राक्षसी थी। रावण ने सीता जी की देख-रेख के लिए उसे विशेष रूप से नियुक्त किया था। वह राक्षसिन होते हुये भी सीता की हितचिन्तक थी।

    =============================
    [चार]
    सुरसा - हनुमान की अद्भुत शक्ति की परीक्षा करने के लिये कुछ ऋषियों ने नागमाता सुरसा के पास जा कर कहा था , "हे नागमाता ! तुम जा कर वायुपुत्र हनुमान की यात्रा में विघ्न डाल कर उनकी परीक्षा लो कि वे लंका में जा कर रामचन्द्र का कार्य सफलता पूर्वक कर सकेंगे या नहीं।" ऋषियों के मर्म को समझ कर सुरसा विशालकाय राक्षसनी का रूप धारण कर के समुद्र के मध्य में जा कर खड़ी हो गई

    ReplyDelete
  31. रामप्यारी....राक्षसियों के नाम याद करता हूँ.
    एक तो सुरसा थी, एक शुर्पनखा थी, एक अशोकवाटीका में सीताजी के पास रहती थी नाम याद नहीं....

    ReplyDelete
  32. सुरसा
    ताडका
    शूर्पनखा

    ReplyDelete
  33. रामप्यारी का जवाब फ़ूलन देवी पुतली बाई और तिसरी का नाम याद आने पर बताते हैं

    ReplyDelete
  34. और तीसरी दस्यु सुंदरी .......

    ReplyDelete
  35. और तीसरी दस्यु सुंदरी .......

    ReplyDelete
  36. रेड फ़ोर्ट आगरा

    ReplyDelete
  37. रेड फ़ोर्ट दिल्ली

    ReplyDelete
  38. या कुरुक्षेत्र का कोई लाल मंदिर होगा

    ReplyDelete
  39. रामप्यारी का जवाब बेरा कोन्या. कल टीप कै बतायेंगे

    ReplyDelete
  40. मन्दिर है, नहर के किनारे, हरिद्वार।

    ReplyDelete
  41. मिलग्यो ताउजी ! अबकी बार मिलग्यो ! दुर्गा मंदिर वाराणसी , हु हु....ही ही... हा..हा..

    ReplyDelete
  42. 400 वीं पोस्ट है यह ताऊ की। बधाई!

    ReplyDelete
  43. माता का मंदिर
    भारतवर्ष।

    ReplyDelete
  44. रामप्‍यारी
    रामप्‍यारी
    रामप्‍यारी
    तीनों राक्षसियां राम को प्‍यारी हो गईं
    इसलिए उनका यही नाम हुआ न ?
    कोई शक ?

    ReplyDelete
  45. शीतला धाम चौकिया , जौनपुर

    ReplyDelete
  46. मैंने सोचा- हम लोगॊं की तरफ घूमते चले आये । बनारस का दुर्गा मंदिर लगा पहले तो -- पर सच्ची सच्ची नहीं मालूम ।

    ReplyDelete
  47. वाह ताऊजी वाह..आपने तो बताया ही नही कि यह आपकी ४०० सौ वीं पोस्ट है? वो तो भला हो अनूप शुक्ल जी का. अब आपका आर्काईव देखा तब पता चला कि २००८ की १४४ और २००९ की २५६ यानि यह हुई ४०० वीं पोस्ट...घणी बधाई जी.

    ReplyDelete
  48. वाह ताऊजी वाह..आपने तो बताया ही नही कि यह आपकी ४०० सौ वीं पोस्ट है? वो तो भला हो अनूप शुक्ल जी का. अब आपका आर्काईव देखा तब पता चला कि २००८ की १४४ और २००९ की २५६ यानि यह हुई ४०० वीं पोस्ट...घणी बधाई जी.

    ReplyDelete
  49. ये कालका माता मंदिर शिमला है

    ReplyDelete
  50. १ शुपर्णखा
    २ ताड़का
    ३ लंकनी
    यही हैं तीन राक्षसियां...
    समझी रामप्यारी...
    मीत

    ReplyDelete
  51. नमस्कार ,
    दुर्गा अष्टमी की शुभकामनाएं.

    @रामप्यारी,आज राक्षसियों की याद कैसे आ गयी??सब खैरियत तो है?मुझे तो सिर्फ bhagwan krishn से sambandhit हिडिम्बा के बारे में मालूम है और याद नहीं आ रहा..[waise तो lanka niwasi सब rakshas
    ही तो थे..??]

    ReplyDelete
  52. रामप्यारी एक ही काफ़ी होती है किसी को निपटाने के लिये तीन-तीन का पता पूछने की क्या ज़रूरत आन पड़ी?अटल जी से पूछ लेना,उनको भी तीन नाम तो याद ही होंगे?जया माया ममता।एक और है लेकिन आऊट आफ़ फ़ार्म चल रही है आजकल,उमा।

    ReplyDelete
  53. उज्जैन का रामघाट...
    मीत

    ReplyDelete
  54. ओहो मैंने गलती से गलत जवाब दे दिया...
    यह रामघाट नहीं है...
    मीत

    ReplyDelete
  55. अभी अभी पता चला की आपकी ये ४०० वि पोस्ट है. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाये.

    regards

    ReplyDelete
  56. वाराणसी का श्री श्री १००८ दुर्गा मंदिर....
    मीत

    ReplyDelete
  57. ताऊ एक बात तो भूल ही गया...
    इसे मंकी टेम्पल भी कहते हैं...
    मीत

    ReplyDelete
  58. यार ताऊ ऐसे कैसे ४०० वी पोस्ट और नो पार्टी....
    ये तो ज्यादती है...
    राम प्यारी के मुह में तो अभी से पानी आ रहा होगा...
    मीत

    ReplyDelete
  59. पता लग गया जी ..लग गया. रामप्यारी का जवाब जया माया और ममता..हरिहर..हरिहर.:) पूसदकर जी को धन्यवाद,

    ReplyDelete
  60. श्री दुर्गा मन्दिर,वाराणसी

    ReplyDelete
  61. ताड़का त्रिजटा शूर्पणखा

    ReplyDelete
  62. रामप्यारी का सवाल:----
    1. त्रिजटा
    2.ताडका
    3.लंकिनी
    4.पुष्पोलट
    5.रामा
    6.मालिनी

    ReplyDelete
  63. इलाहाबाद में है ये मन्दिर

    ReplyDelete
  64. रामप्यारी का उत्तर- ताड़का, सुरसा, लंकिनी, त्रिजटा,

    ReplyDelete
  65. ताउजी बनारस का कोई फोटो लग रहा है

    ReplyDelete
  66. तुलसी मानस मंदिर

    ReplyDelete
  67. सुपर्नखा, मन्दोदरी, सुलोचना

    ReplyDelete
  68. पहेली का जवाब...गंगा मंदिर ...हरिद्वार....और हिंट में चित्र गंगा की सांध्यकालीन आरती का है...

    ReplyDelete
  69. वाराणसी का दुर्गा मन्दिर है

    राम-राम ताऊ जी

    ReplyDelete
  70. प्ता हो भी तो भी नहीं बताऊँगी खुद को पता नहीम होता हम से पूछ 2 कर स्कूल चलातीहै आपकी राम प्यारी और आप ताऊ उसके पीछे लगे रहते हैं बस

    ReplyDelete
  71. ताडका, शूर्पणखा, सुरसा

    ReplyDelete
  72. ये तो जयपुर का गोविंद जी का मंदिर है.

    ReplyDelete
  73. Durga Temple
    It was built in the 18th century by a Bengali maharani and is stained red with ochre. The Durga Temple is commonly known as the Monkey Temple due to the many frisky monkeys that have made in their home. Non-Hindus can enter the courtyard but not the inner sanctum

    ReplyDelete
  74. ताऊजी! इन्ह दिनो मै मद्रास हू। आपकी ४०० वी पोस्ट के लिऍ आभार्।

    आपकी पहेल् का उत्तर क्या दु ?

    File:An ancient temple by the Ganga, and a view of the Mansa Devi temple on the hill above Haridwar

    ReplyDelete
  75. सुपर्नखा, मन्दोदरी, सुलोचना

    ReplyDelete
  76. यह कोई सिद्ध पीठ है.

    ReplyDelete
  77. राजलाल सिंहSaturday, September 26, 2009 1:00:00 PM

    यह लाल घाटी का मंदिर है.

    ReplyDelete
  78. बनारस का कोई मन्दीर लग रहा है.

    ReplyDelete
  79. विश्वनाथ मंदिर काशी...बनारस...

    नीरज

    ReplyDelete
  80. यह बनारस का दूर्गा माता मन्दीर है, जिसे बंगाली रानी ने बनवाया था 18वीं सदी में (शायद) इसे वानर मन्दीर भी कहते है, काहे कि यहाँ बन्दर बहुत है....

    ReplyDelete
  81. बनारस में बीएचयू से दो किलोमीटर दूर स्थित दुर्गा कुंड और दुर्गा मंदिर।

    ReplyDelete
  82. लंकिनी, ताड़का, त्रिजटा, सुरपन खां, सुरसा, इनमे se तीन सुन्दर सुन्दर निकाल ले रामप्यारी बाकी मेरी वापस लौटा दे | वापस रामायण में डालनी हैं! और भी थी पर सब काम में बीजी थी इसलियी नहीं लाया |

    ReplyDelete
  83. हरिद्वार पर ही लॉक लगा दो

    अभी हम चांद की यात्रा पर

    जा रहे हैं

    सुना है वहां पानी मिल गया है

    एक दो ड्रम हम भी भर लें।

    ReplyDelete
  84. ताऊ लोलारक धाम बनारस

    ReplyDelete
  85. अरे ताऊ यह तो ताज महल का पिछला हिस्सा है, जहा से गोपियां पानी भर भर कर,भर भर कर, भर भर कर, भर भर कर, भर भर कर, भर भर कर, भर भर कर, सडक धोया करती थी, ओर फ़िर कृष्णा भगवान वहां पर अपनी आऊडी कार ले कर आते थे, ओर फ़िर सब मिल कर डिज्जे पर खुब शोर दार धुने बजाते थे

    ReplyDelete
  86. अरी राम दुलारी... प्यारी क्यो नारियो को दुशमन बनबाने पर तुली है, अगर हम ने नाम बता दिया तो कोन बचायेगा हमे आधुनिक नारी संगठन से......ना बाबा ना

    ReplyDelete
  87. जी ताऊ अब मिला है जवाब ..ये है वैष्नो देवी मंदिर हरिद्वार ...यही उत्तर सही माना जाये

    ReplyDelete
  88. यह मंदिर है।
    दुर्गा पूजा एवं दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    ( Treasurer-S. T. )

    ReplyDelete
  89. @मुरारी पारीक
    30 में से 50 नंबर लेने के चक्कर में गड़बड़ कर गए ना? सुरसा राक्षसी तो न थी?

    ReplyDelete
  90. अनूप जी का शुक्रिया 400 वीं पोस्ट की जानकारी के लिए। ताऊ को बधाई!

    ReplyDelete
  91. dineshji sursaa rakshi hi thi main use achchhi tarah se janat hun!!

    ReplyDelete
  92. @ दिनेश राय जी सुरसा नाग माता थी ! मेक अप ज्यादा किया था पहचान नहीं पाया!!!

    ReplyDelete
  93. @ ari rampyari....
    TAu se seekh kuch....
    navRatrIyon main raKshAshniyon, bhooT pishach ke naam.

    aaj gadit auR bhugol kI book JAne kahan kho gayi Teri?
    chAl Side main bata de tU nahi to teRe Papa ko bata dooNgA Ki tune books kaHAn chupai hai.

    ReplyDelete
  94. साफ दिख रहा है ताऊ जी कि यह एक मंदिर है और उसके साथ जुडा तालाब. अब नामवाम न पूछें.

    मैं काफी दिनों के बाद चिट्ठाजगत में वापस आया हूँ, और सारे सक्रिय मित्रों को देख कर बहुत खुशी हुई!!

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    ReplyDelete
  95. होनोलूलू का लाल बंगला.. (मजाक कर रहा हूं ताऊ सो बताये दे रहा हूं..)
    :)

    ReplyDelete
  96. कल रात से गिनते गिनते अब गिनती पूरी हुई तो ४०० पोस्ट की बधाई. पहली बार ३९८ निकली. फिर हर महिने के हिसाब से जोड़ लगाया. तब ठीक बैठा.


    बहुत बहुत बधाई ४ शतक वीर!!

    ReplyDelete
  97. (समीर) लाल बाबा का आश्रम. रंग देख कर कोई भी बता देगा. इतना सरल मत पूछा करो ताऊ. :)

    ReplyDelete
  98. दुर्गा माता का मंदिर, काशी

    ReplyDelete
  99. रामप्यारी मैम:


    सूर्पनखा, त्रिजटा, ताड़का


    इन तीन ठो राक्षियों की एफ आई आर लिख लो.

    ReplyDelete
  100. PATA NAHI CHAL RAHA KYA JAGAH HAI TAAU ....... KOI TO MANDIR LAG RAHA HAI....

    ReplyDelete
  101. varanshi ka durga mandir
    detail : - Varanasi Landmarks and Monuments: Durga Temple (Monkey Temple) - Durgakund Road, Varanasi, India, IN
    Durga Temple may be relatively small is size certainly is eye-catching, being one of Varanasi's most important of all its historical landmarks. Dedicated to the Goddess Durga, the temple date back to the 18th century and is stained in a red ochre colour. The architecture is typically North Indian Nagara in style and boasts a tall multi-tiered spire (sikhara). Also going by the name of the Monkey Temple, due to the unmistakable presence of inquisitive monkeys, the inner sanctum of the Durga Temple is only open to Hindus, although all visitors are welcome to explore the courtyard.
    Varanasi landmark open: daily - dawn to dusk
    Varanasi landmark admission: free

    ReplyDelete
  102. ताऊ श्री ! सुबह से अब लौटे है और अब ही हिंट देखा है " ये हरिद्वार है "

    ReplyDelete
  103. वाराणसी के घाट पर बना मन्दिर है।

    ReplyDelete
  104. गंग नहर के किनारे बना हरिद्वार का मन्दिर है!

    ReplyDelete
  105. वाराणसी का दुर्गा कुण्ड मंदिर है.

    ReplyDelete
  106. सुरसा, ताड़का, सुपनखा.

    ReplyDelete
  107. O BTEAAAAA....
    Rampyari ye kya sun rah hoon main?ma'saab ke sawal hum se poochti ho...

    '0' out of '5'
    (v.v. bad...)
    Call your Parents.

    Lagta hai teri jam ke pitai karni hi padegi....
    ...tumhare parents ko ye blog dikhan hi padega !!
    (KAAN IDHAR KAR: Main teri test copy kisi ko nahi dikhaoonga. Chal mandwali kar lete hain abhi. Bata de dost pleaz ! Nahi to janam bhar ki kutti !!aur is copy ka PDF format maine apne computer main save kar liya hai. Haannnnn nahi toooooo !!)

    ReplyDelete
  108. ऊपर वाले की अदालती इमारत लगती है :-)

    ReplyDelete
  109. सबसे बाद में ही सही।
    400वीं पोस्ट के लिए हमारी भी
    शुभकामनाएँ स्वीकार करें!

    ReplyDelete
  110. सूचना : इस पहेली में भाग लेने की समय सीमा समाप्त होचुकी है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उनको अधिकतम ५० अंक ही दिये जा सकेंगे एवम उनका नाम जवाब की पोस्ट मे शामिल करना पक्का नही होगा. सिर्फ़ नम्बर उनके खाते मे जमा कर दिये जायेंगे.

    -आयोजक गण

    ReplyDelete
  111. रामप्यारी जी नमस्‍कार वैसे तो मुझे पता है कि मैं जवाब देने में लेट हो गया हूं लेकिन फिर भी अपना जवाब बता रहा हूं ताऊ को मना लो वो मेरे से नाराज हैं कभी मेरे ब्‍लाग पर भी नहीं आते अब तो

    शूपर्णखा
    ताड़का
    सुरसा

    ReplyDelete
  112. अच्छा हुआ कि मेरे आने से पहले ही समय सीमा समाप्त हो गयी. अगर इस बार भी पहला सही जवाब मैं दे देता तो फिर बाक़ी सब का क्या होता.

    ReplyDelete
  113. ye paheli kab kab hoti hai?

    ReplyDelete
  114. aur isme kaise bhag liya ja sakata hai?

    ReplyDelete
  115. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 20 अगस्त 2016 को लिंक की जाएगी .... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete

Post a Comment