सुलग रहा आसमान


सुलग रहा आसमान


रुखी, तपती हुई दुपहरी
चले धूल भरी काली आंधी
चहूं और धूल कण बिखरे
सूखे दिन, और अलसाई रातें
कुछ हताशा कुछ निरशा ,
क्यूँ ये पीडा , कब तक तपना

बावरा मन समझ ना पाए
कब अमृतमयी वर्षा आ बरसे
अभी तो सर पर सुलग रहा
मटमैला ..लाल तपता आसमान
दरवाजों को भडभडाती आंधी
कब आये स्नेहभरी हरयाली
झूम के गाये कोयल काली
इस एक आस में नयन ये तरसे


(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)

Comments

  1. बावरा मन समझ ना पाए
    कब अमृतमयी वर्षा आ बरसे
    अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    बहुत खूब यही इसी का इन्तजार शायद सबको रहता है ..बहुत अच्छी लगी यह रचना शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. स्नेह की हरियाली पल भर की भी हो तो अगले अनेक दिनों के जीवन के लिए प्राण बन जाती है।

    ReplyDelete
  3. इन दिनों हमारी नजर तो हर समय इस स्‍नेहभरी बरसात की आस में आसमान ताकते ही रहती है। इतनी सुंदर रचना के लिए आभार। ताउ और सीमा गुप्‍ता जी को राम-राम।
    देसी एडीटर
    खेती-बाड़ी

    ReplyDelete
  4. नाचती-कुदती सी कविता लगी....खूब.

    ReplyDelete
  5. कब आये स्नेहभरी हरयाली
    जल्दी आये, ज़रूर आये और दूर तक जाए!

    ReplyDelete
  6. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    -सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना ताऊ जी !!!!
    आभार सीमा गुप्ता जी !!

    पंकज

    ReplyDelete
  8. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली।।

    कमाल है! लगता है ये कविता हमारे यहाँ पंजाब के हालात पर लिखी गई है..:)
    बढिया!

    ReplyDelete
  9. रुखी, तपती हुई दुपहरी
    चले धूल भरी काली आंधी
    चहूं और धूल कण बिखरे
    सूखे दिन, और अलसाई रातें
    कुछ हताशा कुछ निरशा ,
    क्यूँ ये पीडा , कब तक तपना...peedha,tapish.entjaar,sneh..sab kuchh smete hue khoobsurat rachna...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना !

    बधाई स्वीकारें !

    ReplyDelete
  11. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    बहुत सुंदरतम रचना है.

    ReplyDelete
  12. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    बहुत सुंदरतम रचना है.

    ReplyDelete
  13. आज के हालात पर आदमी की तमन्ना व्यक्त करती हुई रचना.

    ReplyDelete
  14. आज के हालात पर आदमी की तमन्ना व्यक्त करती हुई रचना.

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन कविता. इंतजार है हमे भी.

    ReplyDelete
  16. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    bahut behtar kavita

    ReplyDelete
  17. अभी तो सर पर सुलग रहा
    मटमैला ..लाल तपता आसमान
    दरवाजों को भडभडाती आंधी
    कब आये स्नेहभरी हरयाली

    bahut behtar kavita

    ReplyDelete
  18. सही कहा ताऊजी, ये लाल आसमान का अंधड जाये तो बरसात आये..अब तो बस उसी का इंतजार है.

    ReplyDelete
  19. सही कहा ताऊजी, ये लाल आसमान का अंधड जाये तो बरसात आये..अब तो बस उसी का इंतजार है.

    ReplyDelete
  20. सही कहा ताऊजी, ये लाल आसमान का अंधड जाये तो बरसात आये..अब तो बस उसी का इंतजार है.

    ReplyDelete
  21. sundar aasha ka sanchar karti hui rachna. barasat avashya ayegi ji

    ReplyDelete
  22. "कब आये स्नेहभरी हरयाली
    झूम के गाये कोयल काली
    इस एक आस में नयन ये तरसे"

    सुन्दर रचना के लिए,
    सीमा जी को बधाई,
    ताऊ को आभार!

    ReplyDelete
  23. कब आये स्नेहभरी हरयाली
    झूम के गाये कोयल काली
    इस एक आस में नयन ये तरसे

    परमात्मा जल्दी ही इस आस को पूरी करे। सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  24. बावरा मन समझ ना पाए
    कब अमृतमयी वर्षा आ बरसे.....

    sundar kavita..

    ReplyDelete
  25. naino ki pyaas mit jaye bas,bahut i sunder rachana badhai.

    ReplyDelete
  26. अजी तभी तो आसमान आग बरस रहा है , जब सुलगे गा तो बरसात थोडे होगी, गर्मी ही बढेगी ना... लेकिन आप की कविता बहुत अच्छी लगी धन्यवाद

    ReplyDelete
  27. कब आयेगी हरियाली ..? ..." जिया जब झूमे सावन है " ..!!
    शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  28. IS AMRETMAYEE VARSHA KA INTEZAAR TO SAB KO RAHTA HAI .... KABHI TO RAAHAT MILEGI TAPTE AASMAAN SE ....... BAHOOT HI SUNDAR RACHNA HAI TAAU .... AAPKO AUR SEEMA JI KO PRANAAM

    ReplyDelete

Post a Comment