Powered by Blogger.

"मैं भीख क्यों मांगता"

"मैं भीख क्यों मांगता"


भिखारी के हाथ मे
रोटी देख ललचाये कुत्त्ते
ने पूंछ हिलाई
भिखारी ने हाथ की रोटी
भूखे कुत्ते को जा थमाई

यह मंजर देख रही
अम्माजी ने पूछा
खुद भूखा था फिर रोटी
कुत्ते को क्यों दे डाली
बेजुबान प्राणी बेचारा
और कहां जाएगा,
मुझसे ज्यादा भूखा था ,
कहां से रोटी पायेगा,
मै तो जब हाथ फैलाऊंगा,
कोई ना कोई दे ही जायेगा,
सुन कर चौंक गयी अम्माजी ,
इतनी अक्ल रही जब तुझमे,
भीख काहे को मांगे है,
भिखारी बोला,
अजब जमाना आया है अम्मा,
तरस खाकर रोटी मिल जाती,
काम नहीं मिल पाया है,
काम अगर मिल जाता तो
मैं भीख क्यों मांगता?


(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)

35 comments:

  1. बिलकुल सही बात ताऊ जी
    अगर काम मिल मै भीख क्यों मागता

    ReplyDelete
  2. विचारणीय पोस्ट , सत्य को बयां करती हुई

    ReplyDelete
  3. सीमा गुप्ता जी की इस कविता की जितनी तारीउ की जाये कम है।
    नायाब है।
    बधाई,
    ताऊ को भी और सीमा गुप्ता जी को भी।

    ReplyDelete
  4. शोचनीय स्थिति एवं सोचनीय विषय !

    ReplyDelete
  5. वाह!
    मूरख को तुम राज दियत हो
    पंडित फिरत भिखारी
    संतों करम की गति न्यारी
    (मीराबाई)

    ReplyDelete
  6. bahut kadwa sach hai jeevan ka.gehre marmik bhav bahut badhai.

    ReplyDelete
  7. वास्तव में दुखद है और सही स्थिति भी यही है.

    ReplyDelete
  8. कोनसे ज़माने की बात कर रहे हो ताऊ जी आजकल तो भिखारी भीख मांगने को बिजनेस कहते हैं .

    ReplyDelete
  9. समाज का सब से बड़ा संकट बेरोजगारी ही है।

    ReplyDelete
  10. सीमा जी की कविता पढ़वाने के लिए आभार ताऊ !!

    ReplyDelete
  11. आपने तो इस कविता के माध्यम से वर्तमान की सबसे बडी सच्चाई को ही उजागर कर दिया।।
    बेहतरीन्!!! सीमा जी सहित आपका भी आभार्!!

    ReplyDelete
  12. बात तो बिल्कुल सही है ताऊ जी लेकिन ज्यादातर भिखारी तो भीख ही सिर्फ इसलिए मांगते है कि कमाना नहीं पड़े हालंकि आज कल भीख मांगने में भी मेहनत पूरी करनी पड़ती है |

    ReplyDelete
  13. वाह क्या खूब कहा सीमाजी बहुत सटीक अभिवयक्ति है आभार्

    ReplyDelete
  14. गज़ब कविता !

    मार्मिक !

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत बढ़िया! भीख तो तब मांगी जाती है जब और कोई काम करने के लायक नहीं है!

    ReplyDelete
  16. पर आज भीख मांगना भी स्वरोजगार मे आगया है.:)

    ReplyDelete
  17. पर आज भीख मांगना भी स्वरोजगार मे आगया है.:)

    ReplyDelete
  18. पर आज भीख मांगना भी स्वरोजगार मे आगया है.:)

    ReplyDelete
  19. वाकई कटु सत्य.

    ReplyDelete
  20. वाकई कटु सत्य.

    ReplyDelete
  21. भिखारी बोला,
    अजब जमाना आया है अम्मा,
    तरस खाकर रोटी मिल जाती,
    काम नहीं मिल पाया है,

    यह तो हकीकत है.

    ReplyDelete
  22. भिखारी बोला,
    अजब जमाना आया है अम्मा,
    तरस खाकर रोटी मिल जाती,
    काम नहीं मिल पाया है,

    यह तो हकीकत है.

    ReplyDelete
  23. भिखारी बोला,
    अजब जमाना आया है अम्मा,
    तरस खाकर रोटी मिल जाती,
    काम नहीं मिल पाया है,

    यह तो हकीकत है.

    ReplyDelete
  24. दयनिय स्थिति है.

    ReplyDelete
  25. दयनिय स्थिति है.

    ReplyDelete
  26. भिखारी बोला,
    अजब जमाना आया है अम्मा,
    तरस खाकर रोटी मिल जाती,
    काम नहीं मिल पाया है,

    काम अगर मिल जाता तो
    मैं भीख क्यों मांगता?
    सीमा जी हमेशा की तरह आज भी आपकी रचना बहुत उम्दा है... आपकी हर रचना में एक शिक्षा दिखाई देती है....
    मीत

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन रचना ।
    आज लोग रोटी तो दे देते पर काम नही ।

    ReplyDelete
  28. तल्‍ख हकी़कत को कविता के कोमल रूप में पढ़कर अच्‍छा लगा, बेहतरीन रचना के बधाई।

    ReplyDelete
  29. कविता के माध्यम से लिखा है सार्थक, केवल सत्य ............ अच्छी रचना है ........ रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें...........

    ReplyDelete
  30. बहुत संजीदा रचना...

    ReplyDelete
  31. बिलकुल सही...मेहनतकश से ज्यादा तरस भिखारिओं पर खाया जाता रहा है ..!!

    ReplyDelete
  32. yahi sthiti hai aaj ki!
    dukhd aur dayniy!
    bheekh mil jaati hai rozgaar nahin..
    bhaavpoorn kavita.

    ReplyDelete