Powered by Blogger.

ताऊ पहेली - 34

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरे की घणी राम राम.

ताऊ पहेली अंक 34 में मैं ताऊ रामपुरिया, सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं. नियमों के लिये आप यह पोस्ट पढ कर नियमों की विस्तृत जानकारी ले सकते हैं. क्ल्यु हमेशा की तरह रामप्यारी के ब्लाग से मिलेंगे. रामप्यारी के ब्लाग पर पहला क्ल्यु 11:30 बजे और दुसरा 2:30 बजे मिलेगा. रामप्यारी का जवाब अलग टिपणी में देवें. तो आईये अब आज की पहेली की तरफ़ चलते हैं.

यह कौन सी जगह है?



अब रामप्यारी का विशेष बोनस सवाल : - ३० अंक के लिये.

rampyari-tdc-1_thumb[2] हाय एवरी बडी..वैरी गुड मार्निंग फ़्रोम रामप्यारी.

विनम्र निवेदन : - कृपया मेरे सवाल का जवाब अलग टीपणी मे देवें. बडी मेहरवानी होगी. एक ही टिपणी मे दोनो जवाब मे से एक सही होने पर प्रकाशित नही की जा सकती और इससे आप कन्फ़्युजिया सकते हैं कि आपकी टिपणी रुकी हुई है. तो सही होगी?

आज का सवाल :-

मान लिजिये आप शाम को ४ बजे जयपुर से दिल्ली के लिये बस लेकर निकलते हैं. जयपुर से उसमे १६ सवारी बैठी है हैं. जिनमे ६ पुरुष, ७ महिलाएं और बाकी के बच्चे हैं. थोडी देर बाद बस शाह्पुरा पहुंचती है. जहां ३ पुरुष और २ महिलाएं बस मे से उतर जाती हैं. और सिर्फ़ दो महिलाएं ३ बच्चों को लेकर चढती हैं.

अब बस कोटपूतली पहुंच कर रुक जाती है. जहां कुल ७ सवारी उतरती हैं और १० सवारी नई सवार होती हैं. जिनमे से ३ बच्चे हैं. इसके बाद बहरोड मे सिर्फ़ एक सवारी उतर जाती है और बस सीधी गुडगांव पहुंचती है.

अब आपसे निवेदन है कि केल्क्युलेटर का बिना इस्तेमाल किये अपनी बुद्धि से इस सवाल को सुलझाते हुये यह बताये कि इस बस के ड्राईवर का नाम क्या है

अब आप मेरे ब्लाग पर पहली हिंट की पोस्ट पढ सकते हैं 11:30 बजे और दुसरी 2:30 बजे.

अब रामप्यारी की रामराम.



इस अंक के आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा



नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत:मनोरंजन, शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं.किसी भी तरह की विवादास्पद परिस्थितियों मे आयोजकों और ताऊ साप्ताहिक पत्रिका के संपादक मंडल का फ़ैसला ही अंतिम फ़ैसला होगा.

===================================================

मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम
मिस.रामप्यारी का ब्लाग

 

नोट : – ताऊजी डाट काम  पर हर शाम 6:00 बजे नई पहेली प्रकाशित होती हैं. यहा से जाये।

104 comments:

  1. यह रहा लिंक. मैं यहा पिछले साल ही गया था. . १९०१ मे बना रायल हाऊस है यह.

    ReplyDelete
  2. उज्जयंता पैलेस अगरतल्ला, त्रिपुरा

    ReplyDelete
  3. ताऊ ये तो कोई राजे रजवाड़े का महल लग रहा है अब ढूँढ़ना पड़ेगा, खोपड़ी खुजा रहे हैं अगर खोपड़ी में कुछ जबाब आया तो वापस आयेंगे ।

    ReplyDelete
  4. रामप्यारी का जवाब : ड्राईवर का नाम है 'सैयद अकबर'

    ReplyDelete
  5. विक्टोरिया मेमोरियल, कोलकाता।

    ReplyDelete
  6. Ujjayanta Palace is a modern building of the royal house of Tripura

    ReplyDelete
  7. रामप्यारी जब बस लेकर मैं निकलता हुं तो मेरा नाम ही तो बस ड्राइवर का नाम हुआ~!

    ReplyDelete
  8. उदयपुर लेकपेलेस

    ReplyDelete
  9. त्रिपुरा में अगरतला स्थित उज्जयंता पैलेस एक शाही महल है। यह महल एक वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है |

    इस महल का निर्माण महाराजा राधा किशोर मानिक ने सन् 1899-1901 ई. में दौरान करवाया था।

    ReplyDelete
  10. बस ड्राइवर है रंजन मोहनोत.. कोई शक

    ReplyDelete
  11. ये जगह मैने हॉलैण्ड में देखी है पक्का!!

    ReplyDelete
  12. ड्राईवर का नाम संजय तिवारी 'संजू'

    ReplyDelete
  13. ताऊ जी राम राम प्रीक्षा मे बैठ गये हैं हाजरी जरूर लगा लें आभार्

    ReplyDelete
  14. जब मान लिया कि जयपुर से दिल्ली जाने के लिए मैं ही बस लेकर निकला हूँ तो ड्राइवर का नाम तो प्रकाश गोविंद हुआ ना जी !

    चलो आज सवेरे-सवेरे बहुत बढ़िया बस ड्राईवरी जैसा सांस्कृतिक काम तो मिला !

    ReplyDelete
  15. कोलकता का विक्टोरिया मेमोरियल,..

    ReplyDelete
  16. लेक पैलेस. उदयपुर

    ReplyDelete
  17. रामप्यारी का जवाब २७ पसेंजर गुडगांव तक पहुंचे आगे का उनकी किस्मत जाने क्योंकि बस की ड्राईवर रामप्यारी थी. क्योंकि मुझे तो बस चलाना आती नही है.

    ReplyDelete
  18. ये कौन सी जगह ऊठा लाये ताऊ?

    ReplyDelete
  19. रामप्यारी बिना केल्क्युलेटर तेरे सवाल का जवाब कैसे दिया जाये. एक बार जोडो फ़िर घटाओ...सब गडबड हो जाता है.

    ReplyDelete
  20. अविनाश वाचस्‍पति
    है इस बस के
    ड्राईवर का नाम
    आप इनका
    लाईसेंस भी
    देख सकते हैं।

    यह रामप्‍यारी के
    सवाल यानी पहेली
    का हल है
    इसे चित्र का
    हल न समझें।

    ReplyDelete
  21. भवन पता नहीं.

    ड्राइवर पहले तो वानदल था, जिसे उतार दिया जनता ने अब जो है गाड़ी को खींच रहा है बस. :)

    ReplyDelete
  22. हमें तो लगता है जी कि ये कोलकत्ता का विक्टोरिया मेमोरियल है जी।

    ReplyDelete
  23. और रही सवाल की बात तो हम कभी जयपुर नही गए तो कैसे बताए कि ड्राईवर का क्या नाम है।

    ReplyDelete
  24. कलकत्‍ता का वि‍क्‍टोरि‍या मेमोरि‍यल।

    ReplyDelete
  25. ताऊ के रहते किसी की क्या मजाल जो बस में कंडक्टर की सीट हथिया ले. ताऊ है जी पक्का

    ReplyDelete
  26. जब तुने कहा की आप गाड़ी लेकर चलते हैं....
    तो फिर ड्राईवर तो मैं हुआ न...
    ड्राईवर का नाम है मीत
    क्यों ठीक कहा न...
    मीत

    ReplyDelete
  27. बाबू मोशाय ताऊ ये कलकत्ता का विक्टोरिया मेमोरियल ही है...आप हम को कन्फ्यूज करने के लिए सही जवाब भी छाप दिए हैं जो पहले आप नहीं छपते थे...हम भी अब समझदार हो गए हैं राम प्यारी की संगत में...आप तो ये बताओ की कितने नंबर मिलेंगे...जीरो से आगे की गिनती बताना...बाबू मोशाय
    नीरज

    ReplyDelete
  28. रामप्यारी जी ड्राइवर का नाम "नीरज गोस्वामी" आप क्या समझीं हम ताऊ बताएँगे? हः हा हा हा हा ,खोपोली से पहले हम ही जयपुर से दिल्ली की बस चलाया करते थे.
    नीरज

    ReplyDelete
  29. ताऊ बहुत बड़ा मिस्टेक हो गया...ये विक्टोरिया मेमोरियल नहीं है...हम से भूल हो गयी...हम भावनाओं में बह गए...ये क्या है रामप्यारी से पूछ के बताएँगे...
    नीरज

    ReplyDelete
  30. उज्यनता पैलेस इन अगरतला....
    मीत

    ReplyDelete
  31. उज्ज्यनता पैलेस....
    क्यों ताऊ यही है न...
    मीत

    ReplyDelete
  32. बेटा बिल्लन रामप्यारी ..बहुत तेज हो गयी है..मान गए..ले अपना जवाब सुन..जब बस लेकर मैं निकलूंगा तो ड्राईवर मैं खुद ही हुआ न ..नाम अजय कुमार झा..
    और हाँ इसका उत्तर श्रीमती जी ने बताया है..एक लेडिस ही दुसरे लेडिस के मन की बात समझ सकती है..तो चल अब दे दे नंबर पूरे..

    ReplyDelete
  33. ताऊ ये शर्तिया ..कोलकाता का विक्टोरिया मेमोरियल ही है..हालांकि बिल्लन के हिंट ने थोडा कंफ्यूज कर दिया है..मगर फिलहाल तो जवाब यही है..

    ReplyDelete
  34. अब नीरज जी ने इतने दावे से कहा है तो कलकत्ता का विक्टोरिया मेमोरियल ही होगा ....!!

    ReplyDelete
  35. रामप्यारी अगर मैं जयपुर से बस लेकर निकला तो गुड़गांव पहुंचते-पहुंचते, इतने लोगों के चढ़ते-उतरते, मेरा नाम बदल जाएगा...मुझे तो ये पता ही नहीं था

    ReplyDelete
  36. बैंगलुरू का राजभवन जैसा लग रहा है यह तो, ताऊ।

    ReplyDelete
  37. हर कीरत जी हमने अपना दावा खारिज कर दिया शायद आपने पढ़ा नहीं...ये कौनसी जगह है ये तो पता नहीं लेकिन है आसाम में ये हमने बीहू डांस करते हुए लोगों को देख कर पहचाना...ताऊ कम से कम आसाम और बिहू डांस की खातिर ही थोड़े से नंबर देदो...आप का क्या जायेगा...???
    नीरज

    ReplyDelete
  38. ताऊ।
    ये तो गुआहाटी का राजभवन है।
    असम, गौहाटी।

    ReplyDelete
  39. वैसे आज हम सीमा जी के साथ पुरा भारत घूम रहे है.. :)

    ReplyDelete
  40. मिल गया ताऊ.... ये है उज्जयन्ता महल.. अगरतला (त्रिपुरा) में..

    और विकि बहन कहती है

    Ujjayanta Palace was built by Maharaja Radhakishore Manikya during 1899–1901[1] at a cost of 10 lakh (1 million) rupees[2] despite financial constraints.[3] The earlier royal palace of the Kingdom of Tripura was located 10 km (6 mi) away from Agartala. However, as a result of a devastating earthquake in 1897, the palace was destroyed and later rebuilt as Ujjayanta Palace in the heart of Agartala city.[2]
    Upon the merger of the Kingdom of Tripura with India in 1949, royal properties were nationalised. Ujjayanta Palace remained unoccupied for some time before beginning its current role as the State Legislative Building.
    [edit]Design

    Ujjayanta Palace compound covers an area of approximately one km².[citation needed] The main block covers 800 acres (3.2 km2), comprising public halls such as the Throne room, the Durbar hall, Library and the Reception hall.[4] The Neoclassical palace was designed by Sir Alexander Martin of Messrs Martin & Co.[4] The Chinese Room is particularly notable, the ceiling of which was crafted by artisans brought from China.[5] The two-storied[6] palace has three large domes, the largest of which is 86 ft (26 m) high from the ground,[7] and which rests atop a four-storied central tower. The palace has tiled floors and carved front doors. Newer attractions are the musical fountain installed in front of the main entrance, and the night-time floodlights. The grounds are laid out as formal Mughal gardens adorned with fountains.[2] There are two large artificial ponds on either side of the garden.
    Several Hindu temples occupy plots adjacent to Ujjayanta Palace, dedicated to Lakshmi-Narayan, Uma-Maheshwari, Kali and Jagannath

    ReplyDelete
  41. रामप्यारी का जवाब:-

    ड्राईवर का नाम था "ताऊ रामपुरिया"

    ReplyDelete
  42. ताऊजी को प्रणाम!!

    आज सुबह से पत्नीबिटिया को खरीददारी के लिये बाजार ले गया था और शाम को वापस पहुंचा. अब आप अनुमान लगा सकते हैं कि दिमांग तो खाली हो गया होगा. (पर्स की मत पूछिये. उनके साथ निकलता हूँ तो पैसे का थैला साथ रखता हूँ, पर्स की क्या मजाल उनकी माग पूरी करने की).

    अब सब कुछ खाली होकर आपके द्वारे आये तो लगा कि जवाब देने की कोशिश करो बदन पर जो बचा है वह भी लुट जायगा.

    अत: आज ताऊजी मेरे पास न तो उत्तर है, न टिप्पणी!!!

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    ReplyDelete
  43. राष्ट्रपति भवन का उत्तर बाजू. :)

    ReplyDelete
  44. @ रंजन जी सब रामप्यारी की महरबानी है अब हम थक चुके......कहीं नहीं मिला, बाद मे नक़ल मारने के इलावा कोई रास्ता नहीं हा हा हा हा "

    regards

    ReplyDelete
  45. ताऊ ताऊ रामराम रामराम,
    ये जो महल सा आज तुमने दिखाया है ना, इसके नीचे तो मेरे दादाजी के पापाजी ने खजाना गाड रखा है. इसका नाम है- दादाजी पापाजी खजाना महल.

    ReplyDelete
  46. और रामप्यारी ले तू भी सुण,
    अरी तेरी क्लास में मेरा एडमिशन तो हुआ नहीं, तो मैं तो अनपढ़ ही रह गया हूँ. इब रोजी रोटी का जुगाड़ तो करना ही है, इसीलिए बस चलाण लग गया हूँ.
    तो बस का ड्राईवर है- नीरज मुसाफिर जाट. (दिल्ली दिल्ली, दिल्ली आले आ जाओ भाई)

    ReplyDelete
  47. ड्रायवर का नाम हे प्रभु यह तेरापन्थ वाले महावीर अकल यानी मै खुद ही था मेडमजी.
    यह प्रेमलता आन्टी है ना कहती है एसे तो हमने लोगो को बच्चपन मे ही मुर्ख बनाया था .

    ReplyDelete
  48. क्या शास्त्री अकल आऎ थे? खाली हाथ आऎ थे कुछ देकर नही गऎ ? उतर भी नही ? देख राम प्यारी इते भारी भारी सवाल ना पुछ! सिनियर सिटीजन के लिए थोडा सा हल्का फ़ुल्का ही पुछ लिया कर !

    ReplyDelete
  49. @~Shastri JC Philip - "अत: आज ताऊजी मेरे पास न तो उत्तर है, न टिप्पणी!!!
    अरे ! उत्तर तो नही दिया......... पर टिप्पणी तो दे गऎ है ना! - क्या बात है गुरुदेव!
    टिप्पणी देकर भी जाते हो, और भूल भी जाते हो! सेम टू सेम रामप्यारी वाली भूलने की आदत आपमे भी................?

    ReplyDelete
  50. ताऊ जी !!

    काफी दिनों बाद आने के लिए क्षमा सहित निवेदन की यह तो मन्ने लखनऊ का मेडिकल कालेज लागे!!

    शायद अब इसका कोई शाहू जी महाराज चिकित्सा युनिवेर्सिटी हो गया है !!!

    ReplyDelete
  51. ताऊ।
    ये तो गुआहाटी का राजभवन है।
    असम, गौहाटी।
    It is my final answer.

    ReplyDelete
  52. ताऊ ताकाझांकी करने आगये यहां पर. पर कुछ ढंग का चोरी लायक माल नही दिखाई देरहा है. चलो अब इसको लखनऊ मेडिकल कालेज समज लो.

    ReplyDelete
  53. और अब पक्के से विक्टोरिया मेमोरयल समझने मे क्या बुराई है?

    ReplyDelete
  54. रामप्यारी तेरा सवाल तो अपनी समझ से बाहर है. तेरे सवाल का भी हिंट दिया कर.

    ReplyDelete
  55. अरे हां नकल करने लायक जवाब मिल गया...बस का ड्राईवर ताऊ रामपुरिया है.

    ReplyDelete
  56. रामप्यारी अब तू मेरे सवाल का जवाब दे : अगर मैं घर से दस लड्डू लेकर चला तो वापस घर पहुंचने पर कितने लड्डू बचेंगे?

    ReplyDelete
  57. rampyari rani aaj to sara bharat darshan hi kra diya rani bhut mehnat kraai ha ha ha . Bye

    ReplyDelete
  58. अरे भाई ड्राइवर खुद 'मैं' तो हूँ...आपने कहा आप बस लेकर

    ReplyDelete
  59. तो का तय हुआ? जयपुर कि कलकाता?

    ReplyDelete
  60. मिल गया... मिल गया.... मिल गया..... (भले ही कॉपी पेस्ट वाला उत्तर है,, पर है तो सही... :) )

    अगरतला पैलेस, अगरतला, त्रिपुरा...

    ReplyDelete
  61. tताउजी ये कौन सा महल है? रात को देखेंगे दस के बाद.:)

    ReplyDelete
  62. रामप्यारी तेरा सवाल तो समझ नही आया.

    ReplyDelete
  63. रामप्‍यारी कर दे इनकी तमन्‍ना पूरी
    जो हिंट मांग रहे हैं
    पर गिनती गिन रहे हैं
    इसलिए उलझ रहे हैं
    सुलझा दे इनको
    कह दे कि अपने अपने
    डी एल की नकल मार लें
    और केलकुलेटर पर कर लें
    वेल्‍यूएट, खुल जाएगा
    बंद बुद्धि का गेट
    सो गेट सैट गो।

    ReplyDelete
  64. ताऊ जवाब तो मैंने आपकी पहेली का दिया था..मगर बिल्लन के हिंट ने कन्फ्यूज कर दिया..दरअसल सैनिकों को देखा तो ऐसा लग रहा था ..जैसे वैष्णो देवी यात्रा के समय उस मार्ग की रक्षा कर रहे हों...फिर वो क्षेत्रीय नृत्य ..कुछ कुछ उत्तर पूर्वी राज्यों जैसा लगा..मगर गूगल बाबा कुछ भी बताने को तैयार नहीं हैं ..फिर भी जवाब वही है..कोलकाता का विक्टोरिया मेमोरियल...और कोई चारा नहीं है..लगा हुआ हूँ..शायद दस बजे के बाद मिल जाए..तो फिर आउंगा.

    ReplyDelete
  65. सूचना : इस पहेली के जवाब देने की समय सीमा समाप्त हो चुकी है. अब जो भी सही जवाब आयेंगे उन्हें अधिकतम ५० अंक ही दिये जायेंगे.

    आयोजक गण

    ReplyDelete
  66. Taau ji ..ab ghar pahunchi hun..muaaff karen ....

    ye mujhe Kooch bihaar palace lag raha hai..
    raam raam ...

    ReplyDelete
  67. ab bas hum drive kar rahen hain to driver huii Sehar :))..

    vaise aaj bahut drive kiya ..ab tired ..Subhratri :)

    ReplyDelete
  68. मैने सही जवाब दिया था मेरा कमेंट कहां गया?

    ReplyDelete
  69. सही जवाब
    नकल मारा है
    लॉक कर दिया जाए
    नंबर पचास
    नहीं चाहिए
    एक कम
    उनन्‍चास।

    ReplyDelete
  70. एक बस चलवानी है
    उसके लिए ड्राइवर चाहिए
    अपना अपना डी एल लेकर
    दिल्‍ली आ जाएं
    पर अनिवार्य योग्‍यता
    रामप्‍यारी की बस चला चुके हों
    और पहेली के विजेता भी हों
    पगार का पंगा नहीं है
    वो तो नहीं मिलेगी
    पगार के बदले
    अपनी चलाई जा रही बस का
    एक अपने लिए फ्री पास मिलेगा।

    ReplyDelete
  71. अगरतला पैलेस, अगरतला, त्रिपुरा..

    सही कह गए हैं लोग
    नकल के लिए भी चाहिए अक्‍ल
    या होना चाहिए बंदर
    नहीं तो नकल करके भी
    न‍हीं बन सकते सिकंदर


    कापी कर ली थी
    पेस्‍ट करना रह गया था
    एक भी नंबर नहीं मिलता
    बच गए।

    अब पता नहीं कमेंट का नंबर
    99 का फेर होगा
    या 100 रहेगा।

    जो भी हो नंबर तो
    50 हों
    सही जवाब
    अगरतला पैलेस, अगरतला, त्रिपुरा..

    ReplyDelete
  72. त्रिपुरा जवाब हो गया पूरा।

    ReplyDelete
  73. सब कुछ कनफ्युजिंग है....सैनिक की तस्वीर उलझा रही है....
    और राम-प्यारी अलग से उलझा रही है

    राम-राम !

    ReplyDelete
  74. आज कुछ ज्यादा ही देर हो गयी.....इसलिए नक़ल मारने के अलावा कोई चारा नहीं है......इसलिए नक़ल ज़िन्दाबाद और ये रहा जवाब:
    उज्जयंता पैलेस, अगरतला (त्रिपुरा)

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  75. और रामप्यारी तू भी खुश रह......ड्राईवर का नाम है: प्रशान्त कुमार (काव्यांश)

    वैसे रामप्यारी तू बड़ी चालाक है......आखिर बना ही डाला ना तूने अच्छे अच्छों को ड्राईवर :-).....मगर एक बात बता दूं अगर यहाँ भी बेनामियों ने हमला बोल दिया तो ड्राईवर का नाम क्या होगा.......बेनामी.....हा हा हा

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  76. tau google se search kar liya hai.
    ye Ujjayanta palace. hi hai.
    pakka 100%. good by.

    ReplyDelete