Powered by Blogger.

ताऊ गया बाबा समीरानंद के हिमालय आश्रम में

ताऊ ने एक रोज अपने गुरु बाबा समीरानंद जी से कहा - बाबा अब मैं ब्लागिंग छोडने वाला हूं?
बाबा समीरानंद बोले - वत्स शुभ शुभ बोलो ! ऐसी अशुभ वाणी नही बोलनी चाहिये, ऐसा क्या कष्ट है?
ताऊ : क्या बताऊं गुरुजी....बात ही ऐसी है. मुझे एक नम्बर ब्लागर बनना है. मैं जरा सा उपर जाता हूं और चिठ्ठाजगत वाले मुझे घसीट घसाट कर वापस वहीं ला पटकते हैं. क्या करुं अब तो थक हार इसको बंद कर देने मे ही भलाई है.
बाबा समीरानंद - वत्स ऐसी बाते करके खुद भी निराश होते हो और दुसरों को भी निराश करते हो? फ़िर ये हमारी ब्लागरी की राजगद्दी को कौन संभालेगा? हम तो तुमको हमारे ब्लागर मठ का अपना उतराधिकारी मान कर चल रहे थे. ठीक है तुम हमारे साथ हिमालय पर्वत पर चलो. हम तुमको वहीं ब्लागर ज्ञान की संपुर्ण दिक्षा देंगे.

और दोनों ने बाबा समीरानंद आश्रम जाने का फ़ैसला किया. बाबा समीरानंद तो अपने योगबल से उनके हिमालय आश्रम पहुंच गये और ताऊ वाया गौहाटी-सिक्किम होते हुये जाने के लिये राजधानी एक्सप्रेस में बैठ गया. साथ मे अपने गुरु की फ़ोटो भी रख ली. और ट्रेन मे ही अपने लेपटोप को खोलकर ब्लागरी के गहन अध्ययन मे लग गया.



साथ की सीट पर एक कुछ ज्यादा ही पढा लिखा सा आदमी बैठा था. जो वैज्ञानिक होने के साथ साथ घोडे पालने और घुडसवारी का भी शौकीन था. वो बोर होरहा था. बार बार ताऊ को डिस्टर्ब कर रहा था.

ताऊ अपने लेपटोप मे खोया था. आखिरकार सहयात्री ने ताऊ से कहा - श्रीमान आपका नाम क्या है? आप तो कुछ बोलते ही नही हैं? आपको मालूम होना चाहिये कि आपस मे बातें करते रहने से रास्ता आसानी से कट जाता है.

ताऊ का इतनी बाते सुनकर खोपडा खिसक गया. फ़िर भी ताऊ के साथ बाबा समीरानंद जी की फ़ोटो थी..उस फ़ोटो मे साक्षात गुरुजी बोलते हैं. तो उस बोलने वाली फ़ोटो ने इशारों इशारों में ताऊ को दिमाग शांत रखने की सलाह दी.

अब ताऊ बोला - श्रीमान मेरा नाम ताऊ रामपुरिया है. मैं रामपुरा का रहने वाला हूं और आजकल ब्लागरी करता हूं..और अब ब्लागरी मे Phd करने मेरे गुरुजी के पास हिमालय जा रहा हूं.

सहयात्री बोला - वाह श्रीमान वाह, आप तो काफ़ी ज्ञानी पुरुष लगते हैं. आपके साथ सफ़र करने मे काफ़ी आनंद आयेगा. क्यों ना हम नैनो टेक्नोलाजी के बारे मे बातें करे? या फ़िर एंटी मैटर के बारे में?

ताऊ ने सोच लिया कि आज ये बुद्दिजीवी की औलाद दिमाग का दही बना कर छोडेगा, ऐसे मानेगा नही. इसका इलाज तो ताऊ पने से ही करना पडेगा वर्ना इससे माथाफ़ोडी मे मेरे ब्लागरी के सारे पाठ धरे रह जायेंगे.

अब ताऊ बोला - श्रीमान मुझे आपके साथ इन विषयों पर चर्चा करके वाकई बडा आनंद आयेगा..आखिर एंटी मैटर की अवधारणा स्थापित करने के पीछे तो मुझे नोबल पुरुष्कार भी मिल चुका है. पर उससे पहले मैं आपसे एक सवाल पूछना चाहूंगा.

सहयात्री को तो यह सुनकर मानों स्वर्ग मिल गया हो. वो बोला - श्रीमान आप अपना सवाल पूछिये..मुझे भी आपके सवाल का जवाब दे कर बडी प्रशन्नता होगी.

ताऊ बोला - श्रीमान ये बताईये कि मेरी चंपाकली (भैंस) भी घास खाती है और आपका घोडा भी घास खाता है. तो फ़िर मेरी भैंस तो गोबर करती है और आपका घोडा लीद करता है? इस विषय मे आप क्या कहेंगे?

यह सवाल सुनकर उस वैज्ञानिक के पसीने आगये और वह सर खुजाने लगा. उसने अपनी अनभिज्ञता जाहिर की.

अब ताऊ बोला - अरे बावलीबूच, ''जब तेरे को गोबर और लीद के बारे में भी जानकारी नहीं है तो तू ताऊ से एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी के बारे में क्या खाक चर्चा करेंगा? इब जाकर पहले गोबर और लीद का फ़र्क समझ के आ..और इब चुपचाप बैठ और मुझे अपना काम करने दे.''

परिचयनामा में 23 जुलाई गुरुवार को मिलिये : पारूल…चाँद पुखराज का से. शाम 3:33 PM पर

मग्गाबाबा का चिठ्ठाश्रम

मिस.रामप्यारी का ब्लाग

50 comments:

  1. जय हो समीरा नन्द जी महाराज की!!!
    यार ताऊ भाई चलो मै आपको अपना गुरु मानता हु मुझे भी कुछ ऐसा हे गुरु मंत्र दे दो जैसे समीर भगवान् ने आपको दिया है .
    राम राम !

    ReplyDelete
  2. इस राजधानी एक्‍सप्रेस में खाने का माल भी तो मिला होगा। वो कहां गायब हो गया। उसके तो अवशेष भी नजर नहीं आ रहे हैं। कहीं यह कमरे को तो राजधानी एक्‍सप्रेस का डिब्‍बा बनाकर तो नहीं पेश कर दिया गया है। इसकी जरूर सीबी सीडीआई जांच होनी चाहिए।

    ReplyDelete
  3. बहुत से स्वयंभू ज्ञानी ऐसे ही होते हैं जिन्हें छोटी छोटी बातों,सामन्य सी बातों का ज्ञान नहीं होता लेकिन बहुत ऊँची ऊँची बातें करते हैं..'ताऊ ज्ञान 'ने आज चम्पाकली की याद दिला दी..सूर्यग्रहण के समय चाँद धरती के नज़दीक आ गया था..तब वहाँ की धरती पर चम्पाकली के दर्शन भी हो गए होंगे.

    ReplyDelete
  4. गोबर और लीद! मान गए ताऊ! हमें तो लगता है बाबा समीरानंद जी आप को इसी पर पीएचडी करने को न देदें?

    ReplyDelete
  5. श्रीमान ये बताईये कि मेरी चंपाकली (भैंस) भी घास खाती है और आपका घोडा भी घास खाता है. तो फ़िर मेरी भैंस तो गोबर करती है और आपका घोडा लीद करता है? इस विषय मे आप क्या कहेंगे?
    ese savalo ka javaab bhi aap hi de dete to jyada achha rahta, kam se kam vo vegyanik apana pasina bhi pochh leta aour ham bhi jan lete..../
    bahut sundar.

    ReplyDelete
  6. ताऊ आपका असली रंग काफी दिन बाद दिखा,

    मज़ा आगया,

    मेरी मानिए : यह पहेली चेलों को सौंपकर ताऊशास्त्र लिख डालिए, प्रतिभा का पलायन मत होने दीजिए !

    ReplyDelete
  7. अब ताऊ बोला - श्रीमान मेरा नाम ताऊ रामपुरिया है. मैं रामपुरा का रहने वाला हूं और आजकल ब्लागरी करता हूं..और अब ब्लागरी मे Phd करने मेरे गुरुजी के पास हिमालय जा रहा हूं.

    ताऊजी हमको भी ले चलो बाबा समीरानंद आश्रम में..पता ठीकाना तो लिखते?

    ReplyDelete
  8. अब ताऊ बोला - श्रीमान मेरा नाम ताऊ रामपुरिया है. मैं रामपुरा का रहने वाला हूं और आजकल ब्लागरी करता हूं..और अब ब्लागरी मे Phd करने मेरे गुरुजी के पास हिमालय जा रहा हूं.

    ताऊजी हमको भी ले चलो बाबा समीरानंद आश्रम में..पता ठीकाना तो लिखते?

    ReplyDelete
  9. ताऊ आज तो हंसी ही नही रुक रही है? ये किसको निशाना बनाया है? कहीं अपने वो गुज्जु भाई को तो नही लपेट लिया?:)

    मैं उसको फ़ोन करके बोलता हूं अभी.:)

    ReplyDelete
  10. भैंस का गोबर और घोडे की लीद का फ़र्क?:) हा..हा...हा..बहुत दूर की कौडी है ताऊजी.

    ReplyDelete
  11. लो जी, ताऊ जी आज तो आपने बातों बातों में ही घणा जोरदार आयडिया दे दिया। अब जब भी यें बुद्धिजीवी(?)बिना जानकारी के फलांणा अन्धविश्वास, ढिमकाणा अन्धविश्वास का ढोल पीटेंगे तो अपने ब्लाग के जरिए यो थारे आल्ला फार्मूला आजमाया जावेगा:)

    ReplyDelete
  12. इतने दिनों से सुन रहे थे ताऊ ..ताऊ...आखिर ये ताऊ क्या बला है? पर आज समझ आगया कि ताऊ तो बहुत ऊंची चीज है. ताऊ के आसपास फ़टकने मे भी वर्षों लगेंगे.

    आज की पोस्ट, मेरे द्वारा पढी आपकी सुपर हिट पोस्ट है. सलाम आपको.

    ReplyDelete
  13. इतने दिनों से सुन रहे थे ताऊ ..ताऊ...आखिर ये ताऊ क्या बला है? पर आज समझ आगया कि ताऊ तो बहुत ऊंची चीज है. ताऊ के आसपास फ़टकने मे भी वर्षों लगेंगे.

    आज की पोस्ट, मेरे द्वारा पढी आपकी सुपर हिट पोस्ट है. सलाम आपको.

    ReplyDelete
  14. taauji ye kaunsa formula lagaya aapane vaigyanik par? gobar aur leed?:)

    ReplyDelete
  15. अरे बावलीबूच, ''जब तेरे को गोबर और लीद के बारे में भी जानकारी नहीं है तो तू ताऊ से एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी के बारे में क्या खाक चर्चा करेंगा? इब जाकर पहले गोबर और लीद का फ़र्क समझ के आ..और इब चुपचाप बैठ और मुझे अपना काम करने दे.''

    वाह ताऊ मजे आगये आज तो।

    ReplyDelete
  16. अरे बावलीबूच, ''जब तेरे को गोबर और लीद के बारे में भी जानकारी नहीं है तो तू ताऊ से एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी के बारे में क्या खाक चर्चा करेंगा? इब जाकर पहले गोबर और लीद का फ़र्क समझ के आ..और इब चुपचाप बैठ और मुझे अपना काम करने दे.''

    वाह ताऊ मजे आगये आज तो।

    ReplyDelete
  17. जय हो बाबा समीरानंद जी और बाबा ताऊआनंद की.

    ReplyDelete
  18. जय हो बाबा समीरानंद जी और बाबा ताऊआनंद की.

    ReplyDelete
  19. हा हा ! ताऊ ऐसे सवाल मत पूछा करो :)

    ReplyDelete
  20. आज तो जोर से बोलो जय ताऊ की..और घणी जोर से जय बोलो बाबा समीरानंद जी की.

    ReplyDelete
  21. आज तो जोर से बोलो जय ताऊ की..और घणी जोर से जय बोलो बाबा समीरानंद जी की.

    ReplyDelete
  22. गोबर और लीद दोनों एंटी मेटर्स है. मगर जैसा की नैनो और होंडा सिटी में फ़र्क है,वैसे ही भैंस और घोडे की एनर्जी लेवल में फ़र्क है.यहां नैनो टेक्नोलोजी के ज़रीये यह पता चलता है, कि दोनो ही माया है.

    वैसे ताउ की भैंस ने तो चांद से ग्रहण के दीदार कर लिये होंगे!!!

    ReplyDelete
  23. ब्लोगरी के गुह्य राज जानने हिमालय की कन्दरा में ? रे ताऊ रै ज्या क्यूँ बांदरा बनावण लागरयो है ? हिमालय कन्दरा में लेपटोप ? बिजली कठे स्यूं आई ??

    ReplyDelete
  24. ताऊजी की पोस्ट से मेरी बातबातचीत
    --------------------------
    ताऊ-:अब मैं ब्लागिंग छोडने वाला हूं?
    हे प्रभू-: ताऊ यह धमकी है या दर्द ?

    ताऊ-: मुझे एक नम्बर ब्लागर बनना है. मैं जरा सा उपर जाता हूं और चिठ्ठाजगत वाले मुझे घसीट घसाट कर वापस वहीं ला पटकते हैं.
    क्या करुं अब तो थक हार इसको बंद कर देने मे ही भलाई है.

    हे प्रभु -: ताऊ ! एसी बाते ना कर! थने किती बार समझाऊ, ऐसी बाते करके एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी वालो के मन को भाने वाली बाते कर देता है तू ! पर हम जैसे बच्चो का दिल टुट जात है। पता है ताऊ! चीटी एक नही पचास दफा दिवार चढते-चढते गिरती है पर फिर भी हार नही मानती आखिर चढ जाती है। भले ही चीटी की टॉग खिचे के नाक पर लक्षय प्राप्त कर ही लेती है। ताऊजी! बाबाजी समिरानन्द जी ने कुछ दिन पुर्व के प्रवचन मे "सक्रमण काल" के बारे बताया था। सक्रमण काल खत्म होने मे कुछ समय लगेगा। लोगो को किसी नई सत्ता को स्वीकार करने मे झिझक होनी लाजमी है, पर जैसे की सक्रमण काल समाप्त हुआ लोग नई सत्ता नए विचार को स्थापित करने मे अपने दिल और दिमाग को दुरुस्त करके रखेगे।


    ताऊ-:''जब तेरे को गोबर और लीद के बारे में भी जानकारी नहीं है तो तू ताऊ से एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी के बारे में क्या खाक चर्चा करेंगा? इब जाकर पहले गोबर और लीद का फ़र्क समझ के आ..और इब चुपचाप बैठ और मुझे अपना काम करने दे.''

    हे प्रभु-: वाह! ताऊ वाह! मुझे एक हिन्दी फिल्म का गाना याद आ रहा है
    -@ कही पे निगाहे कही पे इशारा........

    आभार

    मुम्बई टाईगर
    हे प्रभू यह तेरापन्थ

    ReplyDelete
  25. ताऊ जब सम्पूर्ण ज्ञान प्राप्त कर ब्लॉग मठ के उतराधिकारी बन जाओ तो आप हिमालय मत चले जाना अपने रामपुरा के आस पास ही किसी पहाड़ी पर आश्रम बना लेना | कम से कम दर्शन तो कर लिया करेंगे |

    ReplyDelete
  26. "अरे बावलीबूच, ''जब तेरे को गोबर और लीद के बारे में भी जानकारी नहीं है तो तू ताऊ से एंटीमैटर और नैनो टेक्नोलाजी के बारे में क्या खाक चर्चा करेंगा? इब जाकर पहले गोबर और लीद का फ़र्क समझ के आ..और इब चुपचाप बैठ और मुझे अपना काम करने दे.''"

    वाह..ताऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊ वाह...!
    मान गये भई आपको।
    यह कथा तो इतनी अच्छी थी कि हँसते-हँसते
    पेट में बल पड़ गये।
    राम-राम!

    ReplyDelete
  27. जब चेले का यह हाल है तो गुरु कैसा होगा इसका अंदाज लग रहा है।

    ReplyDelete
  28. हा हा!! रास्ते में सबको हँसाते चले आ रहे हो..देख रहा हूँ सब दिव्य दृष्टि से. मस्त है..आओ आओ!!

    ReplyDelete
  29. ताऊ, हमें भी अपनी शरण में ले लो अब तो ...

    ReplyDelete
  30. हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा ह ताऊ जी आज तो हंसते हंसते पे्ट दर्द करने लगा आप्ने तो स्भी बलागर्ज़ का नाम रोशन कर दिया अब तो समीरा बब्द बाबा की दुनिया भर मे जै हो जायेगी--- और हम भि सिर उठा कर चलेंगे कि अखिर इतने पढे लिखे लोग गोबर और लीद मे अन्तर नहीं जानतेैऔर चले हमारे हमरे ताऊ जी से डिस्कशन करने जै हो

    ReplyDelete
  31. बाबा को तो कहना था की "इस मोह माया से मुक्त हो जावो वत्स्य. यह मोक्ष का मार्ग नहीं है"

    ReplyDelete
  32. भैंस और घोडे की तो बात बता दी पर चलते-चलते यह भी बता देते कि आदमी चारा खाकर क्या करता है- वो तो लीद की पलीद करता है:)

    ReplyDelete
  33. ताऊ जी मज़ा आ गया! अब तो लगता है कि आपके साथ बाबा समीरानंद आश्रम में जाना ही पड़ेगा!

    ReplyDelete
  34. वो बेचारा तब से ही रेल पटरियों के किनारे जुगाली कर रहा है.

    ReplyDelete
  35. हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा


    Regards

    ReplyDelete
  36. ha ha mazedaar,tau ji ke aage vaigyanik kaise tikega:)

    ReplyDelete
  37. ha ha ha ha
    MAZA AAGAYA TAU...........

    AAJ TOH LATTH BHI BAATON K HI CHALA DIYE........
    HA HA HA HA HA

    ReplyDelete
  38. हा हा ताऊ आप भी ना बड़े वो हैं। हाँ नहीं तो।

    ReplyDelete
  39. जय हो आपकी भी और समीरानंद बाबा की भी..

    ReplyDelete
  40. ताऊ बोला - श्रीमान ये बताईये कि मेरी चंपाकली (भैंस) भी घास खाती है और आपका घोडा भी घास खाता है. तो फ़िर मेरी भैंस तो गोबर करती है और आपका घोडा लीद करता है? इस विषय मे आप क्या कहेंगे?
    वाह ताऊ वाह... मजा आ गया...
    मीत

    ReplyDelete
  41. फ़िर वई बात,जब देखो कठीन सवाल।ताऊजी हर कोई आपके समान माईंडेड थोड़े ही होता है।

    ReplyDelete
  42. ताऊ आप ज्ञान लेकर आओ और हमें भी बताओ..

    राम राम

    ReplyDelete
  43. जय हो बाब जी की............. अब जब दो महान लोग मिलेंगे तो शायद हम भी गॉबल और लीद में फ़र्क जान पाएँगे............. भाई मज़ा आ गया ताऊ ...... राम राम

    ReplyDelete
  44. विलक्षण ताऊ का सूक्ष्मज्ञान और विज्ञान मान गये आपको घनी कही| रामपुरा के ताऊ को हमारी ओर से राम-राम|

    ReplyDelete

  45. लगातार पढ़ रहा हूँ, सही जा रहा है ताऊ !
    पर तू एक जगह चूक गया, बाबा ने मेरे को ही तेरी परीक्षा लेने भेजा था ।
    लीद का उल्लेख निरापद सा नहीं लगता !

    ReplyDelete