Powered by Blogger.

रामप्यारी का न्युज बुलेटिन

यह ताऊवाणी रेडियो स्टेशन है. साप्ताहिक न्युज बुलेटिन के कार्यक्रम में रामप्यारी का झन्नाटेदार सलाम. अब आईये रामप्यारी आपको इस सप्ताह की कुछ बिना अहम खबरों की दुनियां मे ले चलती है.


rampyari-11 सबसे पहले समाचार यह है कि ताऊ ओबामा ने एक मक्खी पर फ़तेह हासिल करली. उनको बहुत बहुत बधाईयां. वैसे सारा मिडिया ही बधाई देने मे लगा हुआ था. और दे भी क्यूं ना? आपने मारी है कभी मक्खी? नही ना?

इसी सप्ताह एक और खबर का खुलासा हुआ कि हेमा आंटी..अरे वही अपने धर्म अंकल वाली, जिनके यहां सैम कभी काम किया करता था. उन्होने और लता आंटी…हां जी..वही लता मंगेशकर आंटी, गोविंदा अंकल और दारासिंह अंकल इन सबने सांसद रहते हुये सांसद निधि का सारा करीब अरबों रुपया गरीबों के काम मे खर्च करने के बजाय सरकार को वापस करवा दिया.. और पूछने पर बताया की इन्हे याद ही नही रहा कि यह पैसा गरीबों के कामों मे खर्च होना था.

देखा आपने कितना खयाल रखते हैं सरकारी पैसे को बचाने का.. इसमे सबसे बढिया यह कि असली ताऊ प्रफ़ुल्ल पटेल भी इनमे ही शामिल हैं. अब आगे की खबर सुनने के पहले लेते हैं एक छोटा सा कमर्शियल ब्रेक और उसके बाद रामप्यारी और खबरों का खजाना लेकर हाजिर होती है.


ताऊ पहेली - 27 का प्रकाशन कल शनिवार सुबह 8:00
बजे होगा. भाग लेना ना भूलियेगा
.



ब्रेक के बाद रामप्यारी आपकी सेवा मे फ़िर हाजिर है. अब जो खबर रामप्यारी सुनाने जा रही है उसको सुनने के पहले आप अपना पेट पकड लिजिये.

शिवाजी महाराज और अफ़जल खान वाला किस्सा आपने भी पाट्य पुस्तकों मे पढा होगा. जिसमे बताया गया था कि शिवाजी महाराज ने अफ़जल खान का पेट बघनखे से फ़ाड दिया था और अब बताया गया है कि शिवाजी महाराज ने उसको इतनी ज्यादा गुदगुदी कर दी कि बेचारे के प्राण ही निकल गये. जय हो सरकारी किताब की.

और एक खुशखबरी कि इस सप्ताह महंगाई दर नकारात्मक आई है यानि (-)1.61 फ़ीसदी. इस खबर पर जब खुश होते हुये हमारे संवाददाता ने महाबाबाश्री ताऊआनंद से कहा कि बाबा अब तो सब चीजें मुफ़्त मिला करेंगी. क्योंकि महंगाई दर शुन्य के भी नीचे चली गई है तो महाबाबाश्री ने कहा - अरे बावलीबूच ये तो खतरे की नई घंटी है. कीमतों का बढना उतना खतरनाक नही है जितना कीमतो का घटना खतरनाक है.

इसी खबर पर प्रतिक्रिया के लिये महाताऊ प्रणव कुकर्जी उपलब्ध नही हो सके पर हमारे संवाददाता ने कोंटेक सिंह आलुवालिया को जा पकडा. उन्होने इस पर प्रतिक्रिया देते हुये कहा कि चिंता मत करिये..अभी स्थिति चिंताजनक नही है, जब चिंताजनक हो जायेगी तब हम बता देंगे.

अब इन ताऊओं की बात रामप्यारी के तो समझ मे नही आई, अगर आपको समझ आई हों तो दूसरों को भी समझा दिजियेगा.

बस आंटीयो, अंकलों और दीदीयों अब और आपको क्या पकाऊं? आप तो हफ़्ते भर से यूं ही पक गये होंगे? अब रामप्यारी का एक साप्ताहिक सवाल का जवाब चाहे तो दे सकते है. सीएसटी और एलटीटी का फ़ुल फ़ार्म बता दिजिये. अब रामप्यारी को यह समाचार बुलेटिन समाप्त करने की आज्ञा दीजिये. कल सुबह आठ बजे आपसे फ़िर भेंट होगी.




ताऊ पहेली - 27 का प्रकाशन कल शनिवार सुबह 8:00 बजे होगा.

36 comments:

  1. ताऊ जी राम-राम ,ये तो बहुत जोरदार न्यूज बुलेटिन है ,रामप्यारी तो एकदम प्रोफेशनल हो गयी है अब इसे किसी भी मीडिया संस्थान से दीक्षा लेने की जरूरत नहीं है .

    ReplyDelete
  2. ताऊ जी राम-राम ,ये तो बहुत जोरदार न्यूज बुलेटिन है ,रामप्यारी तो एकदम प्रोफेशनल हो गयी है अब इसे किसी भी मीडिया संस्थान से दीक्षा लेने की जरूरत नहीं है .

    ReplyDelete
  3. मक्खी तो हमने भी मारी पर किसी के पास सबूत नहीं है।

    ReplyDelete
  4. घणी जोर की जानकारी मिली ताउजी....
    नीरज

    ReplyDelete
  5. ऐ रामप्यारी, माईक दिखा और शुरु??

    आजकल ये सब समाचार कहाँ से उठा लाती है दुसरी दुनिया के...ब्लॉगजगत का समाचार नहीं मिलता क्या?

    कल इन्तजार करेंगे पहेली देखने का..जबाब देना तो मना हो गया है. :)

    ReplyDelete
  6. जय हो रामप्यारी जी की. बहुत बढिया रहा आपका समाचार बुलेटिन.

    ReplyDelete
  7. रामप्यारी आपके आज के समाचार सुने[पढ़े]-
    -लेकिन अरे !यह आखिर में सवाल क्यों पूछा??सवाल तो कल पूछना है न?आज के इस सफल बुलेटिन प्रसारण के बाद ,तुम्हारे स्कूल में सुबह का बुलेटिन [प्रार्थना सभा में]अब टीचर जी तुम्हें ही सुनाने को कहेंगी.

    तुम्हरे स्कूल में प्रार्थना सभा के बाद सुबह बच्चे समाचार पढ़ते हैं न??या नहीं?

    ReplyDelete
  8. लो अब समाचारों की चीर-फाड़ शुरू....चलो यह भी मजेदार ही रहा. अब कल पहेली देखते है.

    ReplyDelete
  9. हमने तो झख भी मारी पर हमारी तस्विर उतारने वाला कोई रामप्यारी जैसा रिपोर्टर ही नही था.:)

    ReplyDelete
  10. वाह रामप्यारी,, एक उभरती हुई न्यूज़ रीडर को देखकर बहुत मज़ा आया.. ताऊवाणी में किस पैकेज पर हो??? मैं भी एक स्टेशन खोलने की सोच रहा हूं, चाहो तो निगोशिएट कर सकते हैं.. पर ताऊजी को मत बताना।

    ReplyDelete
  11. ताऊजी प्रणाम। ये रामप्यारी की बुद्धि सटक गई लगती है। ऊपर वाली टिप्पणी मैंने नहीं की.. उसी ने खुद ही कर दी होगी अपनी मार्केट वेल्यू बढ़ाने के लिए.. सच्ची।

    ReplyDelete
  12. लो जी रामप्यारी जी आज आपके सवाल का मैं सबसे पहले जवाब दे रहा हूं, बदले मे कल की पहेली का जवाब मुझे मेल कर दो. और चाकलेट भी पक्की.

    CST = सेंट्रल सेल्स टेक्स
    LTT = लिबरेशनफ़्रंट आफ़ तामिल इलम

    अब हमें विजेता घोषित कर देना रामप्यारी जी.

    ReplyDelete
  13. लो जी रामप्यारी जी आज आपके सवाल का मैं सबसे पहले जवाब दे रहा हूं, बदले मे कल की पहेली का जवाब मुझे मेल कर दो. और चाकलेट भी पक्की.

    CST = सेंट्रल सेल्स टेक्स
    LTT = लिबरेशनफ़्रंट आफ़ तामिल इलम

    अब हमें विजेता घोषित कर देना रामप्यारी जी.

    ReplyDelete
  14. इसी सप्ताह एक और खबर का खुलासा हुआ कि हेमा आंटी..अरे वही अपने धर्म अंकल वाली, जिनके यहां सैम कभी काम किया करता था. उन्होने और लता आंटी…हां जी..वही लता मंगेशकर आंटी, गोविंदा अंकल और दारासिंह अंकल इन सबने सांसद रहते हुये सांसद निधि का सारा करीब अरबों रुपया गरीबों के काम मे खर्च करने के बजाय सरकार को वापस करवा दिया..

    रामप्यारी मजाक मजाक मे तुमने बहुत ही गंभीर चोट की है इन सांसदों पर. माना कि ये गणमान्य और प्रतिष्ठित लोग हैं पर जब ये सांसद के कार्य पूरे नही कर सकते तो इन्हे सांसद बनने का कोई अधिकार नही है.

    आज इस खबर पर रामप्यारी को एक पूरा डिब्बा चाकलेट का.

    ReplyDelete
  15. बहुत सटीक विश्लेषण किया है.

    ReplyDelete
  16. बिल्कुल सुपरहिट रामप्यारी. NDTV वालों को पता चल गया तो तुम्हारा पैकेज तो लाखों मे ही होगा?

    ReplyDelete
  17. वाह आज तो रामप्यारी बिल्कुल टीवी की न्युज रीडर के जैसा मेक अप करवाके आई है? कहां करवाया ये मेक अप ?

    ReplyDelete
  18. वाह आज तो रामप्यारी बिल्कुल टीवी की न्युज रीडर के जैसा मेक अप करवाके आई है? कहां करवाया ये मेक अप ?

    ReplyDelete
  19. jay ho rampyari ki. bahut sahi khabar lai ho.

    ReplyDelete
  20. jay ho rampyari ki. bahut sahi khabar lai ho.

    ReplyDelete
  21. वाह रामप्यारी तुमने तो आर्थिक विश्लेषण भी बिल्कुल सही तरीके से कर डाला?

    ReplyDelete
  22. चलो एक बात तो साफ हो गयी कि अमेरिकी राष्ट्रपति भी 'आजकल मक्खियां ही मार रहे हैं'।

    ReplyDelete
  23. बधाई हो राम प्यारी तुम्हारे नये नुस्खे के लिऐ। समाचार उघोषिका बन बैठी। अब तो भाई तेरे इस नई लाईन से हमे सावाधान रहना पडेगा क्यो कि कभी भी पोल खोल कर रख देगी तू ।

    पसन्द आया तुम्हारा खबरनामचा!!!!!!!!!!!!!

    हे प्रभु यह तेरापन्थ

    मुम्बई टाईगर

    ReplyDelete
  24. ठीक है भई रामप्यारी, कल सुबह मुलाकात होती है.

    ReplyDelete
  25. Realtime news.
    Answers:
    CST = छत्रपति शिवाजी टर्मिनस २. LTT = लोकमान्य तिलक टर्मिनस

    ReplyDelete
  26. """ताऊ ओबामा ने एक मक्खी पर फ़तेह हासिल करली. उनको बहुत बहुत बधाईयां."""""

    रामप्यारी कछु भी कह लो अपने ताऊ विराट व्यक्तित्व के प्राणी है देखो ओबामा पर हाथ साफ़ कर दिया

    आज बाई तुंने अच्छी खबर सुनाई है और मैंने भी देर से पढ़ी है.

    ReplyDelete
  27. CST AND LTT का फुल फॉर्म पहले ही सुब्मणियन् जी ने बता दिया। अब मैं और क्या बताउं......सुब्रमणियन जी का जवाब ही मेरा जवाब है।

    ReplyDelete
  28. कईयो की नौकरी गई काम से।छा गया रामप्यारी का न्यूज़ बुलेटिन्।

    ReplyDelete
  29. सच में समाचार में
    न्‍यूज का अचार डाला गया है
    कब पकेगा
    या पका देगा सबको।

    टी आर पी इसकी बुलेटिन की
    घणी हो जानी चाहिदी।

    ReplyDelete
  30. यो तै रामप्यारी तन्नै लट्ठ गाड दिया
    सोनिया का LTT वाला उत्तर गलत सै
    पी एन सुब्रमण्यम जी का ठीक लग रहा सै
    पर मेरा उत्तर सै
    CST - चतुर सयाना ताऊ
    LTT - लट्ठ ताने ताई

    ReplyDelete
  31. CST = छत्रपति शिवाजी टर्मिनस
    LTT = लोकमान्य तिलक टर्मिनस

    ReplyDelete
  32. CST = छत्रपति शिवाजी टर्मिनस
    LTT = लोकमान्य तिलक टर्मिनस
    सब कह रहे हैं तो यही सही होगा।

    ReplyDelete
  33. CST = कोलकाता शिमला तमिलनाडु
    LTT = लद्दाख,तिरुवनंतपुरम, तक्षशिला
    सही तो यह भी है
    पर कोई माने तब

    ReplyDelete
  34. अरी राम प्यारी यह बुलेटिन तो खूब अच्छा दिया. तुने,

    हेमा आंटी..अरे वही अपने धर्म अंकल वाली, जिनके यहां सैम कभी काम किया करता था. उन्होने और लता आंटी…हां जी..वही लता मंगेशकर आंटी, गोविंदा अंकल और दारासिंह अंकल इन सबने सांसद रहते हुये सांसद निधि का सारा करीब अरबों रुपया गरीबों के काम मे खर्च करने के बजाय सरकार को वापस करवा दिया..
    पता क्यो, अजी बटवारे को ले कर झगडा हो गया होगा, या फ़िर इन्हे अपने गरीवी के दिन भुल गये होगे, इन्हे यह गरीब दिखे ही नही होगे.. है राम तेरा आसरा.....
    ओर सुन तऊ से बोल के नया टेमपलेट बदल ले, अब यह टेमपलेट पुराना हो गया है...
    शायद इसी कारण मुझे अपनी प्यारी प्यारी राम प्यारी कॊ ढूंढना पडता है,पता नही अब तेरे नखरे हो गये जो हमारे ब्लांग के फ़ीड मै आती ही नही, अरे हेरी से मत डर, वो तो बिलकुल सीधा साधा है.


    मुझे शिकायत है
    पराया देश
    छोटी छोटी बातें
    नन्हे मुन्हे

    ReplyDelete