Powered by Blogger.

"फ़िर भी"

"फिर भी"


दिल पत्थर
आंख पत्थर
फिर भी
आंसू आंख में नहीं
दिल में झरते हैं
2230192155_05d957ba71_m

जबान बंद
सिल गये होंठ
फिर भी
खुद से बातें
खामोशी में होती है


जीवन सूना
वीरान ये दुनिया
फिर भी
मजबूरी है
जीना हर हाल में पडता है.



(हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि)

(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)





ताऊ की अंतरंग बातचीत श्री हिमांशु से पढिये

गुरुवार ११ जून २००९ को

अत्यंत रोचक जानकारी के साथ.

37 comments:

  1. फिर भी
    मजबूरी है
    जीना हर हाल में पडता है.

    बहुत खूब ताऊ !

    ReplyDelete
  2. बहुत सटीक कविता. सुंदर भाव.

    हिमांशु जी के परिचय की प्रतिक्षा है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. जबान बंद
    सिल गये होंठ
    फिर भी
    खुद से बातें
    खामोशी में होती है

    बहुत खूब कही ताऊ.

    ReplyDelete
  4. जीवन सूना
    वीरान ये दुनिया
    फिर भी
    मजबूरी है
    जीना हर हाल में पडता है.

    सही बात है.

    ReplyDelete
  5. इब समझा मैं...यो थारी मजबूरी में जीने ..के कारण..पता नहीं तू कहाँ कहाँ भटके है...वहाँ की फोटुआं..खींच के...पहेलियाँ ने बाड़ देवे है.. होर सारे ब्लागगेरण नु छोड़ देवे है ...सर खुजाने के वास्ते...घना फिलोस्फिकल हो रिया ताऊ...यो हिमांशु की पोल तो खोल ही डाल,....

    ReplyDelete
  6. बहुत गहरा!!!


    हिमांशु जी से बातचीत का इन्तजार.

    ReplyDelete
  7. सुन्दरम। सीमा जी को बधाई। सीमा जी का स्वास्थ्य अब तो ठीक हो गया होगा शायद।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  8. जीना हर हाल में पड़ता है.....सही लिखा.

    ReplyDelete
  9. इस कविता के माध्यम से आपने दिवंगत कवियों को बहुत ही भावभीनी श्रद्धांजली दी है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.

    ReplyDelete
  10. फिर भी
    मजबूरी है
    जीना हर हाल में पडता है.


    बेहद कमाल की कविता. बहुत सामयिक है आज.

    ReplyDelete
  11. ताऊ बहुत ही मार्मिक और शानदार यथार्थवादी कविता.

    ReplyDelete
  12. जबान बंद
    सिल गये होंठ
    फिर भी
    खुद से बातें
    खामोशी में होती है

    bahut umda aur satik.

    ReplyDelete
  13. साहित्य-जगत को बहुत गहरा आघात्।
    हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को भाव-भीनी श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  14. जीवन सूना
    वीरान ये दुनिया
    फिर भी
    मजबूरी है
    जीना हर हाल में पडता है.

    सचमुच, ये विवशता तो जीव के साथ सृ्ष्टि के आदिकाल से ही जुडी हुई है।

    ReplyDelete
  15. इश्वर उन्हें शांति दे...
    मीत

    ReplyDelete
  16. भगवान् उनके परिवार को दुःख सहने की शक्ति दे ........

    ReplyDelete
  17. जीवन के सफ़र में राही
    मिलते हैं बिछड़ जाने को
    दे जाते हैं यादें...

    ReplyDelete
  18. जबान बंद
    सिल गये होंठ
    फिर भी
    खुद से बातें
    खामोशी में होती है

    Bahut achhi abhivyakti...

    ReplyDelete
  19. आपकी गहरी कविता बहुत सोचने को मजबूर कर रही है.. हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को हमारी ओर से भी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि..

    ReplyDelete
  20. 'फिर भी''कविता बेबस मन को समझाती सी जान पड़ती है.

    विदिशा की दुर्घटना में अलविदा कह गए कविवर हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को हमारी भी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  21. Can't do anything, have to move ahead. Thats the life..

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी कविता ताऊ.. और आज तो सीमा जी ने अपने ब्लोग पर भी लेखन आरम्भ कर दिया.. शुभकामनाऐं....



    सड़क दुर्घटना में दिवंगत कवियों को श्रदांजली!!

    ReplyDelete
  23. सही कहा
    फिर भी
    मजबूरी है
    जीना हर हाल में पडता है.

    ReplyDelete
  24. हमारी तरफ़ से भी हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को श्रद्धांजलि
    राम राम जी की

    ReplyDelete
  25. फिर भी जाने क्यों ?

    हबीब तनवीर जी, आदित्य जी, नीरज पुरी जी, और लाड सिंह गुज्जर जी को हमारी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  26. फिर भी...की फिर भी खूब भायी !

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर!
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete