"अटपटी सी ही बात सही.."

अटपटी सी ही बात सही

fire

दुसरे  के घर की आग को
बडे आराम से देख कर निकल जाना
अटपटी सी ही बात सही..
मगर वो आग
मेरा भी तो घर जला सकती है


पडोसी के रुदन को अनदेखा कर
अपने मे मस्त रहना

अटपटी सी ही बात सही..
मगर ये एक दिन

मेरे घर मे भी हो सकता है.

रास्ते मे दुर्घटना मे कराहते लोगों को
अनदेखा कर तेजी से गाडी बढा ले जाना
अटपटी सी ही बात सही..
मगर  इसकी जरुरत
कभी मुझे भी तो पड सकती है


मजबूरी में रक्तदान करते समय
नजरें बचाकर मौका देख गायब हो जाना
अटपटी सी ही बात सही..
मगर जिस  दोस्त ने कभी
मुझे खून दिया हो उसे ही....


भिखारी द्वारा खाली कटोरा आगे किये जाने पर
जेब मे टटोलकर, छुट्टा नही है का बहाना बनाना,

अटपटी सी ही बात सही..
मगर ये जानते हुए भी की
ये इसकी मजबूरी है ...


जरुरत मंद दोस्त द्वारा मदद मांगे जाने पर
कसम खाकर कहना..मैं खुद भी बडा परेशानी मे हूँ
अटपटी सी ही बात सही..
मगर कभी मेरी जरुरत पर
उसी ने तो साथ दिया था


पानी की बूंद बूंद की किल्लत के बावजूद भी
बाथ टब मे नहाना

अटपटी सी ही बात सही..
मगर ऐसे वक़्त जब जनता को

पीने का पानी भी मुहैया नही

ताई का डिनर पर इंतजार करते रहने पर भीdinner
बस आया...फ़िर भी ब्लागिंग करते रहना

अटपटी सी ही बात सही..
मगर ये जानते हुए भी की

ये उसका लगाया रोग नही है.




(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)


इस सप्ताह गुरुवार को परिचयनामा में पढिये श्री नीरज गोस्वामी से ताऊ की एक अंतरंग बातचीत
"होती हैं राहें 'नीरज' पुरपेच मोहब्बत की
  गर लौटने का मन हो मत पाँव बढाओ"

मिलिये एक शायर और खुशमिजाज इंसान से….गुरुवार…तारीख १४ मई २००९

Comments

  1. बेहद मौजूँ किस्म की जानबूझकर होने वाली अन्मयस्कता का सुन्दर चित्र । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. काशा!! लोग यह समझ पाते, तो दुनिया की तस्वीर दूसरी न हो जाती!!

    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी कविता ताऊ ! शीर्षक अटपटी सी बात ही काफी है !

    ReplyDelete
  4. ताई का डिनर पर इंतजार करते रहने पर भी
    बस आया...फ़िर भी ब्लागिंग करते रहना अटपटी सी ही बात सही..
    मगर ये जानते हुए भी की ये उसका लगाया रोग नही है.

    ताऊ इससे यह बात सिद्ध होती है कि ताऊ कभी कभी सच भी बोल देते हैं.:)

    बहुत सटीक कविता.

    ReplyDelete
  5. एक सटीक और आत्मबोध करवाती कविता.

    ReplyDelete
  6. ताऊ आप कभी कभी बिल्कुल चौंका देते हैं. ये कविता पढकर लगता ही नही कि आप ताऊ हो? बहुत गहरी बात कही आपने.

    ReplyDelete
  7. ऐसी कितनी अटपटी बातों के हम शिकार हैं! काश हम सुधर जाते.

    ReplyDelete
  8. शायद यह सभी की मनोदशा है. अक्सर हम ऐसा ही करते हैं, बहुत गहरी बात उजागर करदी.

    ReplyDelete
  9. मज़ेदार। नीचे से दोनों पैरा आज की सबसे गंभीर समस्या हैं।

    ReplyDelete
  10. ताई का डिनर पर इंतजार करते रहने पर भीdinner
    बस आया...फ़िर भी ब्लागिंग करते रहना
    अटपटी सी ही बात सही..
    मगर ये जानते हुए भी की
    ये उसका लगाया रोग नही है.
    बहुत सही .सही रचना ,धन्यवाद सीमा जी को .

    ReplyDelete
  11. सीधा निशाने पर तीर मारा है...

    "समझना और समझाना" ये आ जाये तो सा्रे मसले हल हो जाये...

    ReplyDelete
  12. रास्ते मे दुर्घटना मे कराहते लोगों को

    अनदेखा कर तेजी से गाडी बढा ले जाना

    अटपटी सी ही बात सही..
    मगर इसकी जरुरत
    कभी मुझे भी तो पड सकती है
    " अटपटी मगर बहुत ही महत्वपूर्ण द्र्श्यो को पेश करते ये शब्द जिन्दगी का एक ऐसा रुख प्रदर्शित कर रहे हैं जो कभी कभी न किसी के भी साथ हो जाता है ...और फिर हम सोचने पर मजबूर हो जाते हैं.."

    regards

    ReplyDelete
  13. सच है हम जब दूसरों को तकलीफ में देखते हैं तब ये नहीं सोचते की इस दशा में कभी हम भी हो सकते हैं क्यूँ की वक्त कब पलटी मार दे...बहुत अच्छी रचना...सीमा जी को लिखने पर बधाई...और आपको प्रकाशित करने पर...
    नीरज

    ReplyDelete
  14. जग में छाये हुए, दानवी राग हैं।
    किन्तु सीमा के हर छन्द में आग है।
    पत्थरों का चमन, संग-ए-दिल है सुमन,
    पत्थरों के भवन, पत्थरों को नमन,
    इनमें करुणा, धर्म अटपटी बात है।
    ताऊ और ताई की चटपटी बात है।

    ReplyDelete
  15. अंतिम पंक्तियों में मजा आया, तबियत हरी हो गई :)

    ReplyDelete
  16. ताई का डिनर पर इंतजार करते रहने पर भी
    बस आया...फ़िर भी ब्लागिंग करते रहना अटपटी सी ही बात सही..
    लगता है ताई जी को लठ्ठ की याद दिलानी पडेगी?:)

    ReplyDelete
  17. बहुत सटीक कविता. सोचने को बाध्य करती है.

    ReplyDelete
  18. ताई को वेट कराना.. ये अच्छी बात नहीं है

    ReplyDelete
  19. sahi hum kitne swarthi hote hai,jab khud pe biti to pata chale,vaise tau ji tai ji ko intazaar nahi karwanachahiye,ye to tai ji hi hai jo itane saalon se seh rahi hai:)

    ReplyDelete
  20. वाह..!
    अगर हर कोई ऐसा सोच ले तो हर मुसीबत से टकरा सकते हैं...

    पडोसी के रुदन को अनदेखा कर
    अपने मे मस्त रहना अटपटी सी ही बात सही..
    मगर ये एक दिन मेरे घर मे भी हो सकता है.
    सुंदर.. प्रेरणास्पद--
    मीत

    ReplyDelete
  21. हिमांशु जी ने मन की बात कह दी.......

    ReplyDelete
  22. वास्तव में हम लोग समाज सुधार की बडी बडी बातें करने और दूसरों को नसीहत देने में सबसे आगे हैं, किन्तु अपने अन्दर झांक कर देखने की कौशिश भी नहीं करते कि इन सब के लिए हम कितने दोषी हैं.

    ताऊ जी और सीमा जी, आप दोनों का इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आभार.........

    ReplyDelete
  23. बस आया...फ़िर भी ब्लागिंग करते रहना अटपटी सी ही बात सही..
    मगर ये जानते हुए भी की ये उसका लगाया रोग नही है.

    सुश्री सीमा गुप्ताजी उपर वाली लाईनो ने हमारा भी मन मोह लिया। पुरी कविता सुन्दर प्रेणास्पद लगी । आपका आभार।

    ReplyDelete
  24. जरुरत मंद दोस्त द्वारा मदद मांगे जाने पर

    कसम खाकर कहना..मैं खुद भी बडा परेशानी मे हूँ
    अटपटी सी ही बात सही..
    मगर कभी मेरी जरुरत पर
    उसी ने तो साथ दिया था

    Sunder Kavita...

    ReplyDelete
  25. कविता बहुत पसंद आई ...कहने का अंदाज़ अच्छा है ..

    ReplyDelete
  26. tau ji , namaskar

    bahut hi sundar aur bhaavpoorn kavita ...

    meri dil se badhai sweekar kariyenga.

    vijay

    ReplyDelete
  27. वाह ताऊ
    कितनी संजीदा बात................कितने रोचक अंदाज़ में...............मज़ा आ गे
    लाजवाब

    ReplyDelete
  28. बिक्लुल ताऊ जी। हम पाकिस्तान की मुश्किलें देख खिलखिला रहे हैं पर यही लपटें हम तक आते देर न लगेगी!

    ReplyDelete
  29. ये अटपटी बातें आत्‍मवि‍श्‍लेषण के लि‍ए मजबूर करती हैं।

    ReplyDelete
  30. जरा सी सोच आदमियत को इंसानियत में बदल दे।

    ReplyDelete
  31. रचना पढकर ना जाने क्यों शिव खेड़ा जी के लिखे की याद आ गई। बहुत उम्दा।

    ReplyDelete
  32. दुसरे के घर की आग को
    बडे आराम से देख कर निकल जाना
    अटपटी सी ही बात सही..


    ... करारी चोट है ताऊ ..

    ReplyDelete
  33. अटपटी नहीं
    खटपटी और
    चटपटी है यह।

    ReplyDelete
  34. काश कि हम सब ही यह समझ जाएं तो दुनिया का रूप दूसरा ही हो जाएगा। बहुत ही सटीक कविता है।

    पानी की बूंद बूंद की किल्लत के बावजूद भी
    बाथ टब मे नहाना
    अटपटी सी ही बात सही..
    मगर ऐसे वक़्त जब जनता को
    पीने का पानी भी मुहैया नही
    बहुत सुंदर।
    महावीर शर्मा

    ReplyDelete
  35. इस अटपटी सी बातों वाली कविता ने मन मोह लिया ताऊ...
    नीरज जी से मुलाकात का इंतजार है

    ReplyDelete
  36. आज की आप की कविता एक सन्देश लिए हुए है..हर किसी को यह बातें समझनी चाहिये..दूसरो की मुसीबत में साथ /सहायता देना ही एक इंसान होने के नाते पहला धरम है.
    गंभीर सन्देश देते देते कविता का अंत रोचक है..
    सुन्दर रचना.

    ReplyDelete

Post a Comment