Powered by Blogger.

ताऊ पहेली -२१

ताऊ पहेली २१

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरै की घणी राम राम.

 

 

आप सबके सहयोग से हम ताऊ शनीचरी पहेली के २१ वें अंक तक आ पहुंचे हैं.  इसके पहले दस दस अंक के दो राऊंड हो चुके हैं. प्रथम राऊंडद्वितिय राऊंड और इन दोनों राऊंड्स की संयुक्त मेरिट लिस्ट का प्रकाशन हम अलग अलग कर चुके हैं.

 

 

जिस किसी ने भी कभी भी इन पहेलियों मे भाग लिया है उनको समस्त जानकारी इन पिछली पोस्ट्स मे मिल सकेगी.  सब कुछ हिसाब आपके सामने रख दिया गया है.  जिसको भी जानकारी लेना हो वो इनसे ले सकता है.

 

 

आज के अंक से नई मेरिट लिस्ट बनेगी.  पिछले अंक आपके आगे बढते रहेंगे.  थोडा ईंतजार किजिये एक बहुत ही मनोरंजक स्वरुप आपके सामने पेश करने की कोशीश की जा रही है.

 

 

दुसरे राऊंड के महाताऊ की घोषणा बहुत जल्दी की जाने वाली है. और इसी के साथ इन दोनो संयुक्त राऊंड के महाताऊ  की भी घोषणा भी की जायेगी.  आप अच्छी तरह अनुमान लगा सकते हैं कि ये सम्मान अबकी बार किसको जाने वाले हैं?  इसके साथ ही कुछ और सम्मान और खिताब भी पिछले दो राऊंड्स के प्रतिभागियों को दिये जाने हैं.  दिल थाम के ईंतजार किजिये.

 

 

आज के यानि ताऊ पहेली के अंक २१ से मार्क्स के सिस्टम मे थोडा परिवर्तन किया गया है. बाकी सारे नियम, कायदे कानून पहले जैसे ही हैं. कृपया नीचे ध्यान पुर्वक पढलें

 

 

१. ताऊ शनीचरी पहेली आज से बोलने की सुविधा की दृष्टि अब ताऊ पहेली कहलायेगी.

 

 

२. इस पहेली का प्रकाशन प्रति शनीवार सुबह 8:00 AM par होगा.

 

 

३. शनीवार  सुबह 8:00 AM  से शनीवार रात 10:00 PM  तक आये जवाबों को पहले की तरह ही एक   नम्बर के घटते क्रम में  नम्बर दिये जायेंगे.

 

 

४. शनीवार रात 10:00 PM के बाद आये सही जवाबों को अधिकतम ५० नम्बर दिये जायेंगे या अगर घटते क्रम मे इससे कम हुये तो वो नम्बर मिलेंगे. किसी भी हालत मे ५० से ज्यादा नम्बर नही मिलेंगे.

यही एक खास बदलाव अबकि बार है. बाकी सब कुछ पहले जैसा ही है.

 

 

इस अंक से पहेली प्रकाशन के समय मे उठी बदलाव की मांग को देखते हुये वोट मीटर के जरिये वोट लिये गये थे.  १० बजे के प्रकाशन को अधिकतम २७ लोगों ने पसंद किया.  और उसके अनुरुप हमने मन भी बना कर घोषणा भी रामप्यारी से करवा दी थी. पर बाद मे कुछ लोगों की आपत्ति भी आई और हमारे संपादक मंडल के लोगों को भी वह समय  सुटेबल नही था.

 

 

इस वजह से समय को मध्य मे कर दिया गया है यानि आठ बजे का.  इसमे शायद सब एडजस्ट हो सकेंगे. आशा है सभी को यह पसंद आयेगा और आपका आशिर्वाद पुर्ववत मिलता रहेगा.

 

 

आईये अब चलते हैं आज की पहेली की तरफ़:

 

 

 

ताऊ  पहेली अंक २१   में मैं  ताऊ रामपुरिया,  सह आयोजक सु. अल्पना वर्मा के साथ आपका हार्दिक स्वागत करता हूं.

 


 

इस पहेली के  नियम भी पुर्ववत ही हैं. सिर्फ़ रात दस बजे बाद आये सही जवाबों के नम्बर ५० से अधिक नही दिये जायेंगे.  बस एक यही बदलाव है. बाकी सब नियम पुराने ही हैं.

 

 

क्ल्यु हमेशा की तरह आपको रामप्यारी के ब्लाग से मिलेगा. जो आपयहां चटका लगा कर भी जा सकते हैं. या साईड बार की उसकी फ़ोटो पर चटका लगा कर भी जा सकते हैं. उसके ब्लाग पर साईड बार मे आप क्ल्यु की फ़ोटो पर चटका लगा कर वापस यहां आ सकते हैं.

 

 

यहां साईड बार के सूचना पटल पर भी नजर डाल कर देखते रहियेगा.

 

 

जैसा की आप जानते हैं कि दिलचस्प टिपणी खोज कर विदुषक के  खिताब हीरामन जी देते हैं. अत: टिपणि को भी आप मनोरंजक शब्दों से लिखें तो यह खिताब भी जीतने का चांस है.

 

 

कृपया मुख्य पहेली और रामप्यारी का जवाब अलग अलग टिपणी मे देवें. क्योंकि इससे जवाब बनाने मे आसानी रहती है. और नम्बर देने मे भी गलती की संभावना नही रहती.

 

 

आईये अब आपको आज की पहेली की तरफ़ ले चलते हैं.

 

 

pahelI-21

यह हवाईजहाज कौन से शहर मे किस जगह खडा है और कहां की उडान भरने वाला है? या आकर खडा हो गया? चलिये शहर का नाम ही बता दिजिये. कुछ याद आया?

 

 

 

 

 

 

अब रामप्यारी का विशेष बोनस सवाल : - ३० अंक के लिये

 

 

 

 

rampyari-new-dress copy

 

 

हाय आंटीज, अंकल्स एंड दीदी लोग..वैरी सवीट एंड समाईली गुड मोर्निंग फ़्रोम मिस रामप्यारी…


आजकल छुट्टियां चल रही हैं और आजकल मैं समर एक्टिविटीज की क्लास मे जाती हूं. अब ना वहां टीचर ने भगवान जी की अच्छी २ कहानियां सुनाई.  और ना…और ना…मुझे बहुत मजा आता है
भगवान जी की कहानियां सुनने में.

कल ना टीचर ने हमको भगवान जी यानि विष्णु भगवान जी  के दस अवतारों के नाम बताये थे.  अब बोलो मेरे को तो ११ नाम याद आरहे हैं?  ऐसा भी कहीं होता है क्या?  पता नही रामप्यारी के साथ ही ऐसा क्यों होता है?

तो अब मैं आपको ११ नाम बताती हूं. आप उसमे से एक अलग छांट दिजिये जो उनमे नही है. और बस
रामप्यारी आपको फ़ट से ३० नम्बर दे देगी.  रामप्यारी के पास कोई घटते क्रम का काम नही है.
यहां तो रामप्यारी की सहायता करो और पूरे नम्बर ले जाओ. ये नम्बर कम ज्यादा करने का काम
ताऊ और अल्पना आंटी का है.

हां तो अब नाम ये  हैं. इनमे से कौन सा नाम  भगवान विष्णु के अवतार का नही हैं.

१. मतस्य अवतार
२. कूर्म अवतार
३. वराह अवतार
४. नर्सिम्हा अवतार
५. वामन अवतार
६. रुद्र अवतार
७. परशुराम अवतार
८. राम अवतार
९. कृष्ण अवतार
१०. बुद्ध अवतार
११. कल्कि अवतार



है ना …… सो सिम्पल सवाल..?  अब रामप्यारी आपको १२ बजे क्ल्यु के साथ मिलेगी.  आप हिंट के लिये सीधे मेरे ब्लाग पर आजाना.  इज दैट ओके?  तो रामराम.


 

 

 

इस अंक के  आयोजक हैं ताऊ रामपुरिया और सु,अल्पना वर्मा



नोट : यह पहेली प्रतियोगिता पुर्णत: शिक्षा और ज्ञानवर्धन के लिये है. इसमे किसी भी तरह के नगद या अन्य तरह के पुरुस्कार नही दिये जाते हैं. सिर्फ़ सोहाद्र और उत्साह वर्धन के लिये प्रमाणपत्र एवम उपाधियां दी जाती हैं.

138 comments:

  1. १०. बुद्ध अवतार नही है

    ReplyDelete
  2. देखते ही पहचान गये.

    यह हवाई जहाज ’बिड़ला इन्सटिट्यूट ऑफ साईंस एण्ड टेक्नोलॉजी’ याने ’बिट्स’ पिलानी के ’साईंस एण्ड टेक्नोलॉजी म्यूजियम’ के बाहर रखा हुआ है.

    बहुत बार जाना हुआ और देखते ही यादें ताजा हुई.

    यह हवाई जहाज ’डगलस डकोटा सी-४७ (वी टी-सी वाई टी)

    ऐसा ही एक बिड़लाग्राम में भी खड़ा हुआ है और एक धर्मस्थल टाऊन म्यूजियम, धर्मस्थल में.

    ReplyDelete
  3. रामप्यारी का जवाब:
    ६. रुद्र अवतार

    ReplyDelete
  4. रामप्यारी के सवाल का जवाब ये रहा-रूद्र अवतार विष्णु के दस अवतारों में नहीं है, शेष सही है।

    ReplyDelete
  5. रामप्यारी के सवाल का जवाब ये रहा-रूद्र अवतार विष्णु के दस अवतारों में नहीं है, शेष सही है।

    ReplyDelete
  6. नई पहेली के लिये शुभकामना.

    राम प्यरी के सवाल का जवाब है रुद्र

    ReplyDelete
  7. ताऊ,

    टिप्पणी का डिब्बा अलग खिडकी मे खुल्ने की व्यवस्था हो सकति है?

    ReplyDelete
  8. भगवान् विष्णु के दस मुख्य अवतार मान्यता प्राप्त हैं। यह् अवतार क्रमशः प्रस्तुत हैं :
    १) मत्स्य अवतार : मत्स्य (मछ्ली) के अवतार में भगवान विष्णु ने एक ऋषि को सब प्रकार के जीव-जन्तु एकत्रित करने के लिये कहा और पृथ्वी जब जल में डूब रही थी, तब मत्स्य अवतार में भगवान ने उस ऋषि की नांव की रक्षा की थी। इसके पश्चात ब्रह्मा ने पुनः जीवन का निर्माण किया। एक दूसरी मन्यता के अनुसार एक राक्षस ने जब वेदों को चुरा कर सागर में छुपा दिया, तब भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप धारण करके वेदों को प्राप्त किया और उन्हें पुनः स्थापित किया।
    ) कूर्म अवतार : कूर्म के अवतार में भगवान विष्णु ने क्षीरसागर के समुन्द्रमंथन के समय मंदर पर्वत को अपने कवच पर संभाला था। इस प्रकार भगवान विष्णु, मंदर पर्वत और वासुकि नामक सर्प की सहायता से देवों एंव असुरों ने समुद्र मंथन करके चौदह रत्नोंकी प्राप्ती की। (इस समय भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप भी धारण किया था।)
    ३) वराहावतार : वराह के अवतार में भगवान विष्णु ने महासागर में जाकर भूमि देवी कि रक्षा की थी, जो महासागर की तह में पँहुच गयीं थीं। एक मान्यता के अनुसार इस रूप में भगवान ने हिरन्याक्ष नाम के राक्षस का वध भी किया था।
    ४) नरसिंहावतार : नरसिंह रूप में भगवान विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी और प्रहलाद के पिता हिरण्यकश्यप का वध किया था। इस अवतार से भगवान के निर्गुण होने की विद्या प्राप्त होती है।
    ५) वामन् अवतार : इसमें विष्णु जी वामन् (बौने) के रूप में प्रकट हुए।
    ६) परशुराम अवतार: इसमें विष्णु जी ने परशुराम के रूप में असुरों का संहार किया।
    ७) राम अवतार: राम ने रावण का वध किया जो रामायण में वर्णित है।
    ८) कृष्णावतार : भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप मे देवकी और वसुदेव के घर मे जन्म लिया था। उनका लालन पालन यशोदा और नंद ने किया था। इस अवतार का विस्तृत वर्णन श्रीमद्भागवत पुराण मे मिलता है।
    ९) बुद्ध अवतार: इसमें विष्णु जी बुद्ध के रूप में असुरों को वेद की शिक्षा के लिये तैयार करने के लिये प्रकट हुए।
    १०) कल्कि अवतार: इसमें विष्णु जी भविष्य में कलियुग के अन्त में आयेंगे।


    अब देख रामप्यारी, इसमें रुद्र का तो नाम ही नहीं है, तो वो ही नहीं कहलाया बाकि सब अवतार कहलाये. उसे काटो!!!

    ReplyDelete
  9. ताऊ को सवेरे की राम राम, ताऊ यहाँ खडा तो दिल्ली शहर मैं है. बाकी देख करा बताता हूँ इसकी पूरी जानकारी

    ReplyDelete
  10. रामप्यारी, हवाई जहाज देख कर कोई डेटन, ओहायो जबाब दे दे तो हँसना मत...ऐसा हो सकता है..वहाँ भी एक से एक हवाई जहाज हैं. सब उड़न तश्तरी तो हैं नहीं कि जानते ही हों.. :) हा हा!!

    ReplyDelete
  11. रामप्यारी, एक अवतार तो ताऊ भी है..उसका नाम लिस्ट में नहीं रखा तेरी टीचर ने. :)

    ReplyDelete
  12. ताऊ

    जे तो इन्दौर का एयरपोर्ट लग रहा है..प्रकाश चन्द्र सेठी के घर जा रहा है हवाई जहाज. हा हा!!

    खिलौने वाला हवाई जहाज तो नहीं कि फोटू एन्लार्ज करके लगा दी होवे..ताऊ, तेरा कोई भरोसा नहीं.

    ReplyDelete
  13. रामप्यारी जी जहां तक ध्यान मैं आ रहा है की बुध को कोइ अवतार नहीं माना जाता है वो अलग बोध धर्म के प्रवर्तक थे..

    ReplyDelete
  14. Rani thumahra jvaab ye hai. han

    रुद्र अवतार
    Bye ya

    ReplyDelete
  15. भगवान् विष्णु के दस मुख्य अवतार मान्यता प्राप्त हैं। यह् अवतार क्रमशः प्रस्तुत हैं :

    १) मत्स्य अवतार : मत्स्य (मछ्ली) के अवतार में भगवान विष्णु ने एक ऋषि को सब प्रकार के जीव-जन्तु एकत्रित करने के लिये कहा और पृथ्वी जब जल में डूब रही थी, तब मत्स्य अवतार में भगवान ने उस ऋषि की नांव की रक्षा की थी। इसके पश्चात ब्रह्मा ने पुनः जीवन का निर्माण किया। एक दूसरी मन्यता के अनुसार एक राक्षस ने जब वेदों को चुरा कर सागर में छुपा दिया, तब भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप धारण करके वेदों को प्राप्त किया और उन्हें पुनः स्थापित किया।

    २) कूर्म अवतार : कूर्म के अवतार में भगवान विष्णु ने क्षीरसागर के समुन्द्रमंथन के समय मंदर पर्वत को अपने कवच पर संभाला था। इस प्रकार भगवान विष्णु, मंदर पर्वत और वासुकि नामक सर्प की सहायता से देवों एंव असुरों ने समुद्र मंथन करके चौदह रत्नोंकी प्राप्ती की। (इस समय भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप भी धारण किया था।)

    ३) वराहावतार : वराह के अवतार में भगवान विष्णु ने महासागर में जाकर भूमि देवी कि रक्षा की थी, जो महासागर की तह में पँहुच गयीं थीं। एक मान्यता के अनुसार इस रूप में भगवान ने हिरन्याक्ष नाम के राक्षस का वध भी किया था।

    ४) नरसिंहावतार : नरसिंह रूप में भगवान विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी और प्रहलाद के पिता हिरण्यकश्यप का वध किया था। इस अवतार से भगवान के निर्गुण होने की विद्या प्राप्त होती है।

    ५) वामन् अवतार : इसमें विष्णु जी वामन् (बौने) के रूप में प्रकट हुए।

    ६) परशुराम अवतार: इसमें विष्णु जी ने परशुराम के रूप में असुरों का संहार किया।

    ७) राम अवतार: राम ने रावण का वध किया जो रामायण में वर्णित है।

    ८) कृष्णावतार : भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप मे देवकी और वसुदेव के घर मे जन्म लिया था। उनका लालन पालन यशोदा और नंद ने किया था। इस अवतार का विस्तृत वर्णन श्रीमद्भागवत पुराण मे मिलता है।

    ९) बुद्ध अवतार: इसमें विष्णु जी बुद्ध के रूप में असुरों को वेद की शिक्षा के लिये तैयार करने के लिये प्रकट हुए।

    १०) कल्कि अवतार: इसमें विष्णु जी भविष्य में कलियुग के अन्त में आयेंगे।

    regards

    ReplyDelete
  16. दिखता तो VT-EGC हर्षवर्धन जैसा है. अब रनवे नहीं दिख रहा है तो ज़ाहिर है की या तो किसी अजायबघर में खडा है या फिर किसी कैम्पस में. उड़न तश्तरी की बात भी सही है की इस जहाज़ की एक-एक प्रति बहुत से शहरों में खादी हो सकती है.
    मामूली सा हवाई जहाज़ है कोई ताजमहल तो है नहीं कि आगरा में ही खडा हो. फिर भी जन-साधारण की सहूलियत के लिए हम इसे दिल्ली में खडा हुआ मान लेते हैं.

    ReplyDelete
  17. ताऊ ये इंदोरे मे एक हवाईजहाज रन-वे से फ़िसल कर ग्राऊंड मे चला गया था दो साल पहले . वो वाला दिखता है.

    ReplyDelete
  18. रामप्यारी जी, अबकी बार बहुत बढिया सवाल है. और बहुत खुशी हुई कि आप अब सुधर कर धर्म कर्म की बातों पर भी ध्यान देने लगी हो.

    ReplyDelete
  19. अरे..जवाब तो रह ही गया..रामप्यारी का जवाब है परशुराम

    ReplyDelete
  20. ये हवाईजहाज तो ताऊ नागदा मे खडा दिखता है? और सोचता हूं जरा. पर इंदोरे वाला जवाब कैन्सिल करो. हमारी पंडताईन कह रही है इंदोर मे जो फ़िसला था वो बहुत छोटा सेसना टाईप का था और ये तो शायद डकोटा दिख रहा है.

    ReplyDelete
  21. ये जहाज तो डमी दिखता है. असली नही है

    ReplyDelete
  22. प्यारी बच्ची रामप्यारी ...तू बुद्ध को हटा दे.

    ReplyDelete
  23. हवाईजहाज तो नही समझ मे आ रहा है.

    ReplyDelete
  24. राम्प्यारी का जवाब कुर्मावतार

    ReplyDelete
  25. दिल्ली में नुमायशी प्लेन !

    ReplyDelete
  26. यह जगह सफ़दर्जंग दिल्ली है

    ReplyDelete
  27. राम्प्यारी का जवाब परशुराम होना चाहिये . क्योंकि एक समय मे दो अवतार कैसे होंगे? राम अवतार मे सीता स्वयंबर मे राम और परशुराम के बीच ्धनुष तडने को लेकर तकरार हुई थी. और लक्षमण के संवाद काफ़ी फ़ेमस हैं.

    ReplyDelete
  28. ये हवाईजहाज तो हमारे घर के पिछवाडे खडा है.

    ReplyDelete
  29. ये रोज सुबह सात बजे आता है और ७:४० पर चला जाता है.

    ReplyDelete
  30. रामप्यारी आप बुद्ध को हटा दो.

    ReplyDelete
  31. बुद्ध अवतार।
    वैसे जैसा समय चल रहा है, कल्कि अवतार भी होगा, कौन कह सकता है।

    ReplyDelete
  32. ६. रुद्र अवतार

    [श्रीमद्भागवत-पुराण के प्रथम स्कंद के तृतीय अध्याय में भगवान के अवतारों का वर्णन है। मत्स्य अवतार दसवाँ अवतार है।
    इससे पहले भगवान नौ अवतार ले चुके थे।

    - कौमार सर्ग में सनक,सनंदन सनातन और सनत्कुमार।
    -सूकरावतार- रसातल से पृथ्वी को निकालने के लिए,
    -नारद,-नर-नारायण,
    -कपिलावतार,
    -दत्तात्रेय,
    -- यज्ञावतार,
    -ऋषभदेव,
    -राजा पृथु,
    ......
    चाक्षुष मन्वंतर के अंत में जब त्रिलोक डूब रहा था तो भगवान ने मत्स्यावतार लिया...


    १०. मत्स्यावतार,
    ११.कच्छपावतार
    १२. धन्वंतरि
    १३.मोहिनी ,
    १४.नरसिंह,
    १५.वामनावतर,
    १६.परशुराम,
    १७. व्यास,
    १८.रामावतार,
    १९.श्रीकृष्णावतार
    २०.बुद्धावतार,
    २१.कल्कि अवतार।(होना शेष है)]

    ReplyDelete
  33. सफदरजंग दिल्ली हो सकता है

    ReplyDelete
  34. जवाब तो हमें पता है जी इसलिए बता नहीं सकते.. वरना आप कहेंगे की चीटिंग की.. लेकिन आपका प्यारा भतीजा होने का कुछ तो इनिशियल एडवांटेज मिलना चाहिए.. इसलिए बता रहे है की ये तो पिलानी का फोटो है..

    ReplyDelete
  35. विमान वाली जगह नहीं पता.


    बुद्ध को अवतार माना जाने लगा है. वहीं रूद्र शिव को कहते है, जो अवतारी नहीं है.

    ReplyDelete
  36. ये लो ते भी कोई पूछने की बात है की हवाई जहाज कहाँ खड़ी है. किसी छोटे शहर से जहाज जाने की तैय्यारी में है. संभवतः इंदौर से मुंबई.
    रामप्यारी को हम पहली बार मदद कर रहे हैं. रुद्र अवतार को हटा दिया जावे.
    वैसे बुद्ध के बदले कई जगह आपको बलराम मिलते हैं. .

    ReplyDelete
  37. यह तो धनश्यामदाजजी बिडला का पुराना डेकोटा हवाई जहाज है

    Birla Institute of Science and Technology, Pilani (जयपुर)के बहार खडा C-47 [VT-CYT]. VT-CYT हवाई जहाज बिरला इण्डर्ट्रिज के लिऐ यह विमान काम मे आता था। उनके पास ऐसे दो और विमान है जो धर्मस्थला और बिरलग्राम {Birlagram, Nagda) मे रखे हुऐ है। कभी भी हे प्रभु इन्ह स्थलो के दोरे पर जा सकते है।

    अब ताऊ जी ऐसा है आपके सवाल के जवाब मे यह तीनो भी सही है धर्मस्थला और बिरलग्राम नागदा, Pilani
    आगे रामप्यारी कि मर्जी

    ReplyDelete
  38. अल्पनाजी और ताऊजी को प्रणाम.. जगह है बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, पिलानी.. यहां हम नेट की परीक्षा देने के लिए जाते थे..

    ReplyDelete
  39. रामप्यारी रूद्र अवतार नहीं है विष्णुजी का.. :)

    ReplyDelete
  40. जहाजो के म्यूज़ियम मे खडा जहाज है।बुद्ध अवतार नही है।

    ReplyDelete
  41. यह है दस अवतार

    MASTYA AVATAR

    KURMA AVATAR

    VARAHA AVATAR

    NARASIMHA AVATAR

    VAMANA AVATAR

    PARASURAM AVATAR

    RAMA AVATAR

    KRISHNA AVATAR

    BUDDHA AVATAR

    KALKI AVATAR

    इसका मतलब यह हुआ कि रुद्र अवतार मे ही लोच्छा है । मेरा पहले वाला ऊतर निरस्त किया जाऐ माई लॉड। और नये उतर को लॉक करे रुद्र अवतार ,

    ReplyDelete
  42. ताऊ सुबह सुबह सभी लोगो का मोहर्त ही खोटा हुआ है बेचारे भगवान बुद्ध को तो वोट आउट कर दिया है लोगो ने, इसलिऐ चुनावो के परिणाम स्वरुप बुद्ध अवतार की जगह अब ताऊ को अवतार सिहासन परबैठा देना चाहिऐ। यह बात अभी अभी रामप्यारी ने मेरे कानो मे ठूस कर गई है।

    ReplyDelete
  43. बुद्ध नाम सदा शुद्ध
    यहां अशुद्धि में डाल दिया
    जय हो

    दिलीप कवठेकर जी
    टिप्‍पणी का डिब्‍बा
    अलग खिड़की में
    खोलने के लिए
    राइट क्लिक करके
    नये टैबमें जाएं।

    ReplyDelete
  44. प्लेन का पता लगाने के लिए तो समय चाहिए...
    लेकिन भगवन का अवतार परशुराम का नहीं है...
    बाकी सब लगभग विष्णु जी के अवतार हैं...
    मीत

    ReplyDelete
  45. यह बैंगलोर स्थित
    आई ए सी
    इंडियन एरोनेट सेंटर
    जहां पर जहाज के पैर
    यानी कि टायर
    अंगद की तरह मजबूती से
    जमाकर खड़ा किया गया है
    कि कहीं पहेली का हल
    आने से पहले
    और सब प्रतिभागियों के बतलाने से पहले
    उड़न छू न हो ले
    ताउ का लाल दुपट्टा मलमल का
    अब जहाज को मलमल कर
    भला कौन नहलाएगा
    जो नहलाएगा वो भी कहलाएगा
    इंजीनियर ही न कि वाशरएयरमैन
    समझे ब्‍लॉगर्स जैंटलमैन और जैंटलवीमैन।

    ReplyDelete
  46. रामप्यारी
    भगवान बुद्ध भगवान विष्णु जी के अवतार नही हैं।

    ReplyDelete
  47. ये तो मान लो कि भोपाल के किसी पार्क में खड़ा है।

    ReplyDelete
  48. रामप्यारी, लक्ष्मीजी से फोन पर बात हुई उन्होने कंफर्म किया कि इनका रुद्र अवतार कभी नहीं रहा।

    अब वो गलत थोड़े ही बतायेंगी, है ना।

    ReplyDelete
  49. ये दिल्ली स्थित शायद वो जहाज है जिसमे उड़ान भरने की बाकायदा घोषणा होती है और इसमे बैठने के लिये टिकट लेना होता है, कुछ कुछ सिमुलेटर जैसा अनुभव शौकीन लोगों और बच्चों को देने के लिये!

    ReplyDelete
  50. रामप्यारी की बातों से लगता है पालम का air force museum है...

    ReplyDelete
  51. ये तो बीट्स पिलानी है. ज्ञान भईया ने तपाक से उत्तर दिया होगा :-)

    बिरला इंस्टीच्युट ऑफ़ टेक्नोलोजी एंड साइंस. वहां एक साइंस और टेक्नोलोजी मुजियम है. और सरस्वती मंदिर भी. और मुजियम के बहार ये रखा हुआ है. Douglas Dakota C-47 [VT-CYT].

    ये घनश्याम दास बिरलाजी का जहाज है. थैंक यू. रामप्यारी :-)

    ReplyDelete
  52. यह हवाई जहाज है
    श्री घनश्यामदास जी बिरला का पुराना डकोटा हवाई जहाज...
    जो की पिलानी के म्यूज़ियम में खडा है... पिलानी राजस्थान में है...
    क्यों री राम प्यारी है न सगी जवाब... पर आज तो तुने अपने पहेली से नाक में दम कर दिया... अब ताऊ से कहना की ताई से सर की मालिश करवा दे....
    मीत

    ReplyDelete
  53. ताऊ पहला उत्तर केंसल... ये घनश्याम दास जी बिडला का पुराना जहाज है जो बिट्स पिलानी में है....

    राम राम

    ReplyDelete
  54. परशुराम अवतार हो सकता है ...
    और कल्कि अभी पैदा नहीं हुयी तो इन दोनों में थोडा कांफुसन है ओके रामप्यारी ताऊ से थोडी सी सिफारिश कर दीयों ना... की दोनों में से जो सही हो उसे ही ले लेवें...
    ठीक है अगर तू मेरी सिफारिश कर देगी तो तेरे लिए दूध मलाई पक्की...
    मीत

    ReplyDelete
  55. राम प्यारी ने मदद की... तो उसका जबाब भी देना ही होगा... बुद्ध जी अवतार नहीं माने जाते...

    राम प्यारी- सो स्विट..

    ReplyDelete
  56. 'रुद्र अवतार' अवतार नहीं है. ये गीत गोविन्दम् की स्तुति भी याद कर लो रामप्यारी.

    --
    प्रलयपयोधिजले धृतवानसि वेदम्.
    विहितवहित्रचरित्रमखेदम्.
    केशव धृतमीनशरीर जय जगदीश हरे .. १..

    क्षितिरतिविपुलतरे तव तिष्ठति पृष्ठे.
    धरणिधरणकिणचक्रगरिष्ठे.
    केशव धृतकच्छपरूप जय जगदीश हरे .. २..

    वसति दशनशिखरे धरणी तव लग्ना.
    शशिनि कलङ्ककलेव निमग्ना.
    केशव धृतसूकररूप जय जगदीश हरे .. ३..

    तव करकमलवरे नखमद्भुतशृङ्गम् .
    दलितहिरण्यकशिपुतनुभृङ्गम्.
    केशव धृतनरहरिरूप जय जगदीश हरे .. ४..

    छलयसि विक्रमणे बलिमद्भुतवामन.
    पदनखनीरजनितजनपावन.
    केशव धृतवामनरूप जय जगदीश हरे .. ५..

    क्षत्रियरुधिरमये जगदपगतपापम्.
    स्नपयसि पयसि शमितभवतापम्.
    केशव धृतभृघुपतिरूप जय जगदीश हरे .. ६..

    वितरसि दिक्षु रणे दिक्पतिकमनीयम्.
    दशमुखमौलिबलिं रमणीयं.
    केशव धृतरामशरीर जय जगदीश हरे .. ७..

    वहसि वपुषि विशदे वसनं जलदाभम्.
    हलहतिभीतिमिलितयमुनाभम्.
    केशव धृतहलधररूप जय जगदीश हरे .. ८..

    निन्दति यज्ञविधेरहह श्रुतिजातम्.
    सदयहृदयदर्शितपशुघातम्.
    केशव धृतबुद्धशरीर जय जगदीश हरे .. ९..

    म्लेच्छनिवहनिधने कलयसि करवालम्.
    धूमकेतुमिव किमपि करालम्.
    केशव धृतकल्किशरीर जय जगदीश हरे .. १०..

    ReplyDelete
  57. सूचना :- रामप्यारी के ब्लाग पर हिंट की पोस्ट पबलिश हो चुकी है. और रामप्यारी के ब्लाग के साईड बार मे सबसे उपर दो फ़ोटो हिंट हैं आज की पहेली के.

    कृपया रामप्यारी के ब्लाग से हिंट प्राप्त करें. उसकी पोस्ट को ध्यान से पढेंगे तो अब यह पहेली बहुत ही आसान हो गई है.

    धन्यवाद.

    -आयोजक गण

    ReplyDelete
  58. "hint ke photo se to gujrat lag rha hai"

    regards

    ReplyDelete
  59. कुछ देर तो लगी पर समझ आ गया। यह बिरला जी का हवाई जहाज है जो पिलानी में खड़ा है।

    ReplyDelete
  60. भाई रुद्र अवतार नहीं है। वह एक वैदिक देवता का नाम है। जो बाद में शिव के साथ जोड़ दिया गया। वैसे हनुमान जी को रुद्रअवतार कहा जाता है।

    रामप्यारी! मुझे लगता है इस बार तो जरूर कुछ नंबर मिल ही जाएंगे। हालांकि सुबह सुबह किसी मैयत में जाना पड़ा तो देरी तो हो ही गई है।

    ReplyDelete
  61. ताऊ जी घणी राम-राम
    यो हवाई जहाज कितै की भी उडान की तैयारी ना कर रहा सै। यो तै इब आडै इसै ब्लाग की इसै पोस्ट पर नूएं खडा रहैवैगा।
    क्लू में तो राजकोट का ब्रोन्ज लेडी शक्ति स्टेच्यु है।

    ReplyDelete
  62. पिलानी, राजस्थान

    ReplyDelete
  63. हवाई जहाज म्‍यूजियम इन राजस्‍थान
    नॉट इन पाकिस्‍तान।

    ReplyDelete
  64. @ Rampyari - ६. रुद्र अवतार nahi hai

    ReplyDelete
  65. रामप्यारी की बातों से लगता है पालम का air force museum है...

    Copy & Paste.. Regards Ranjan ji.. :)

    ReplyDelete
  66. ताऊ जी यह विमान उड़ान तो कहीं नहीं भरने वाला उसे वहीं खड़ा रहना है, और सबको लुभाना है ।
    खड़ा तो शायद राजस्थान के पिलानी शहर में है । क्या BIT Pilani का भी नाम ले लूँ !

    ReplyDelete
  67. रामप्यारी का जवाब -
    दशावतारों में रुद्र अवतार नहीं है ।

    ReplyDelete
  68. ताऊ थारी ससुराड है झुंझनु मैंह, तो इसका मतलब ये हुआ कि ये उसके आसपास का ही कोई एरिया होना चाहिए....लो जी ताऊ नोट करियो मेरे विचार तै यो राजस्थान में "पिलानी" नामक जगह पै Science and Technology Museum यानि (BITS) होना चाहिए.

    ReplyDelete
  69. अर आमप्यारी के सवाल का जवाब है "रूद्र अवतार"

    ReplyDelete
  70. भाई, रामप्यारी का हिंट तो बता रहा है कि ये जयपुर शहर से 13 किलोमीटर दूर संगनेर के पास स्थित जयपुर एयरपोर्ट है।

    ReplyDelete
  71. ताऊ जी एक का जबाब रुद्र अवतार है दुसरे का ध्यान नहीं आ रहा है लेकिन है यह पक्का नुमाइशी प्लेन .

    ReplyDelete
  72. ओरी... रामप्यारी... हमें फंसती है...
    कलकी ही सही उत्तर है...
    क्योंकि वो तो अभी हुआ ही नहीं है... भागवत पुराण के अनुसार ऐसा हो सकता है की विष्णु जी कलकी के रूप में अवतार लें... समझी...
    मीत

    ReplyDelete
  73. द हैरिटेज म्यूज़ियम जोधपुर।

    ReplyDelete
  74. ताऊ, ये तो थारा इंदौर ही होना चाहिए.

    ReplyDelete
  75. ताऊ मेरा पहला जवाब मिटा दो यह पिलानी शहर के म्युजियम मे खडा हुआ जहाज है..

    ReplyDelete
  76. यह बिरला इन्स्टीट्यूटस आप साइन्स एन्ड टैक्नोलेजी पिलानी मे खडा एक सी ४७ ( वीती-सीवाईटी) है... शहर का नाम है पिलानी, राजस्था मे है.

    ReplyDelete
  77. राम प्यारी जी तडकी जो मैने जवाब दिया था उसे म्हारा नींद में दिया जवाब समझ कर अलग रख देना अब हम जाग गये है, हम अखबार में काम करने वालों का दिन शाम को ४ बजे के बाद शुरू होता है तो तुम्हारे सवाल का सही जवाब है रुद्र अवतार अभी तक नहीं हुए है... पर मुझे ताऊ पर शक है... कही वह ग्यारहवे अवतार तो नही... खैर आपकी पहेली का सही जवाब हुआ रुद्र अवतार.. अवतार नही है..

    ReplyDelete
  78. यह जगह राजस्थान मे है यह तो मैं बता चुकी हूं...अब एक हिंट यह भी है कि यहां का तापमान सर्दियों मे शुन्य के पास भी आजाता है और गर्मियों मे ५० डिग्री को भी छू जाता है.

    अब और हिंट चाहिये तो रामप्यारी से पूछिये. अब रामप्यारी सो कर ऊठ गई है और अब चाय पी रही है.

    रामप्यारी के पास कोई कमी नही है हिंट की..बस आप तो रामप्यारी को याद किजिये.

    रामप्यारी हाजिर है आपकी खिदमत में

    ReplyDelete
  79. ताऊ ये बिर्लाग्राम नागदा है

    ReplyDelete
  80. रामप्यारी का जवाब शाय्द कल्कि है

    ReplyDelete
  81. अरे रामप्यारी जरा सही जवाब मेल करदे..तेरे को ये पूरा हवाईजहाज चाकलेट से भर कर भेज दूंगा.

    ReplyDelete
  82. अरे रामप्यारी ये क्या बकबास कर रही है? इतने हिंट देने को किसने कहा था तेरे को?

    लगता है तुझे डांट "पिलानी" पडेगी?

    ReplyDelete
  83. Douglas Dakota C-47 [VT-CYT] at BITS Pilani

    regards

    ReplyDelete
  84. मुख्य मंत्री निवास, जयपुर, राजस्थान में खड़ा जनता को दिलासा देता नकली हवाई जहाज.

    ReplyDelete
  85. ताऊ

    रामप्यारी को डाँटना मत...

    अगर पिलानी ही है तो चॉकलेट मिल्क की बोतल पिला...डांट भी भला कोई पिलाने की चीज है...कोई बिरला ही होगा जो इतनी प्यारी रामप्यारी को डांटे.

    ReplyDelete
  86. ye jaipiur hai...............
    Aur raampyaari ka jawaab hai parasuraam....

    Ab inam hamaara ..........taaliyaan

    ReplyDelete
  87. लेरी रामप्यारी तेरे लिए सही जवाब ढूंढ लाया हूँ... तुने ताऊ से सिफारिश नहीं की न मेरी...
    ले संक्षेप में पढ़ ले...
    भगवान् विष्णु के दस मुख्य मान्यता प्राप्त हैं। यह् अवतार क्रमशः प्रस्तुत हैं :
    १) मत्स्य अवतार : मत्स्य (मछ्ली) के अवतार में भगवान विष्णु ने एक ऋषि को सब प्रकार के जीव-जन्तु एकत्रित करने के लिये कहा और पृथ्वी जब जल में डूब रही थी, तब मत्स्य अवतार में भगवान ने उस ऋषि की नांव की रक्षा की थी। इसके पश्चात ब्रह्मा ने पुनः जीवन का निर्माण किया। एक दूसरी मन्यता के अनुसार एक राक्षस ने जब वेदों को चुरा कर सागर में छुपा दिया, तब भगवान विष्णु ने मत्स्य रूप धारण करके वेदों को प्राप्त किया और उन्हें पुनः स्थापित किया।
    २) कूर्म के अवतार में भगवान विष्णु ने क्षीरसागर के समुन्द्रमंथन के समय मंदर पर्वत को अपने कवच पर संभाला था। इस प्रकार भगवान विष्णु, मंदर पर्वत और वासुकि नामक सर्प की सहायता से देवों एंव असुरों ने समुद्र मंथन करके चौदह रत्नों की प्राप्ती की। (इस समय भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप भी धारण किया था।)
    ३)वराहावतार: वराह के अवतार में भगवान विष्णु ने महासागर में जाकर भूमि देवी कि रक्षा की थी, जो महासागर की तह में पँहुच गयीं थीं। एक मान्यता के अनुसार इस रूप में भगवान ने हिरन्याक्ष नाम के राक्षस का वध भी किया था।
    ४)नरसिंहावतार: नरसिंह रूप में भगवान विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी और प्रहलाद के पिता हिरण्यकश्यप का वध किया था। इस अवतार से भगवान के निर्गुण होने की विद्या प्राप्त होती है।
    ५) वामन् अवतार: इसमें विष्णु जी वामन् (बौने) के रूप में प्रकट हुए।
    ६) परशुराम अवतार: इसमें विष्णु जी ने परशुराम के रूप में असुरों का संहार किया।
    ७)राम अवतार: राम ने रावण का वध किया जो रामायण में वर्णित है।
    ८) कृष्णावतार: भगवान विष्णु ने श्रीकृष्ण के रूप मे देवकी और वसुदेव के घर मे जन्म लिया था। उनका लालन पालन यशोदा और नंद ने किया था। इस अवतार का विस्तृत वर्णन श्रीमद्भागवत पुराण मे मिलता है।
    ९) बुद्ध अवतार: इसमें विष्णु जी बुद्धके रूप में असुरों को वेद की शिक्षा के लिये तैयार करने के लिये प्रकट हुए।
    १०) कल्कि अवतार: इसमें विष्णु जी भविष्य में कलियुग के अन्त में आयेंगे।

    समझी की नहीं...
    अरे इतना संक्षेप में समझाने पर भी नहीं समझी...?
    अरी इसमें रुद्र नहीं है, भगवन विष्णु के १० अवतारों के नाम हैं... तो सही जवाब रुद्र हुआ ना... समझ गई...
    मीत

    ReplyDelete
  88. रुद्र भगवान शिव का नाम है...
    ना की किसी अवतार का...
    अब तेरी दूध मलाई में ही खा जाऊंगा...
    मीत

    ReplyDelete
  89. पिलानी में जी .के .बिरला जी का प्राइवेट प्लेन ....बुद्ध अवतार नहीं हैं

    ReplyDelete
  90. समीर लाल जी को फोन किया था कि क्या जबाब है: कहते हैं कि तुमको भी डांट पिलानी पड़ेगी? अभी तुमने मेरा रुद्र रुप न्हीं देखा है.

    अब बताईये ताऊ, क्या करुँ?:(

    ReplyDelete
  91. अब तो कोई विरला ही होगा जो ना पहचाने कि ये स्काई लान पिलानी में खड़ा जी डी बिरला साब का डकोटा प्लेन है।

    ReplyDelete
  92. ताऊजी नमस्कार !!

    अभी अभी एक शादी से निपट कर आया हूँ और आराम से कुर्सी पर बैठा ही था कि हवाई जहाज देख कर घिग्गी बंध गई. पिछली बार आप ने हमें काले पानी पर भेज दिया था, इस बार पता नहीं उडा कर कहीं छूंमंतर न कर दें. इस कारण आपके हवाईजहाज का जवाब नहीं देते!!

    अब आते हैं आपके दूसरे प्रश्न पर:

    हां तो अब नाम ये हैं. इनमे से कौन सा नाम भगवान के अवतार का नही हैं.

    १. मतस्य अवतार
    २. कूर्म अवतार
    ३. वराह अवतार
    ४. नर्सिम्हा अवतार
    ५. वामन अवतार
    ६. रुद्र अवतार
    ७. परशुराम अवतार
    ८. राम अवतार
    ९. कृष्ण अवतार
    १०. बुद्ध अवतार
    ११. कल्कि अवतार

    यदि सिर्फ "भगवान" के अवतार की बात हो रही है तो ये सब भगवान के अवतार हैं. हां यदि बात विष्णु जी के अवतार की हो रही है तो रुद्र अवतार उसमें नहीं आते. सारे प्रजापति को सजा देने के लिये देवताओं ने अपनी शक्ति को समन्वित करके रुद्र की सृष्टि की थी.

    यदि आप ने पूछा होता कि निम्न में कौन दशावतार नहीं है तो प्रश्न सही होता.

    इस बीच बुद्ध अवतार को कुछ लोग विष्णुजी का अवतार नहीं मानते. अत: आपके प्रश्न का उत्तर जितना दिखता है उससे अधिक जटिल है.

    सस्नेह -- शास्त्री

    ReplyDelete
  93. ओहो !रामप्यारी क्या हो रहा है यह???
    अब तुम्हारे साथ साथ प्रतिभागी भी क्लु देने लगे!![लगता है ,प्रतिभागियों में परस्पर सोहार्द बढ़ रहा है!]


    --अब तो रामप्यारी के सभी पार्सल भी सेंसर होने चाहिये...यह तो चॉकलेट के चक्कर में जवाब ही बता रही है!

    ReplyDelete
  94. ताऊ जी राम-राम।
    आपके सवाल का जवाब तो नहीं पता लेकिन रामप्यारी के सवाल का जवाब कलकी है।

    ReplyDelete
  95. जरुरी सूचना-:
    " आज रात्रि दस बजे बाद आने वाले सही जवाबों को अधिकतम ५० अंक दिये जायेंगे.
    पूरे अंक प्राप्त करने के लिये कृपया अपने जवाब कोशिश करके दस बजे के पहले देने कष्ट करें"
    -धन्यवाद

    ReplyDelete
  96. बड़े मुश्किल सवाल हैं भई.
    उत्तर नहीं आते.

    ReplyDelete
  97. बहुत बढिया रामप्यारी जी, हमको तो ये जगह अब भी नागदा ही लग रही है.

    अब रात को टीप कर जवाब देंगे. कमसे कम ५० नम्बर तो मिलेंगे.:)

    ReplyDelete
  98. इसमे कल्कि हटा दिया जाये

    ReplyDelete
  99. ये कोई म्युजियम के बाहर की जगह है.

    ReplyDelete
  100. ताऊ ये जगह है पिलानी. नोट करिये

    ReplyDelete
  101. कल्कि हटाया जाये

    ReplyDelete
  102. हम तो जवाब देखने आये थे, पर अभी तक कुछ समझ मे नही आया.

    ReplyDelete
  103. रामप्यारी का जवाब परशुराम

    ReplyDelete
  104. Ku. Ram Pyari Devi ke sawal ka uttar Sameerji ke clue se 'Rudra'.

    ReplyDelete
  105. पन्तनगर हवाई अड्डा,
    रुद्रपुर, ऊधमसिंहनगर।

    ReplyDelete
  106. चौबीस अवतारों की गणना कई प्रकार से की
    गई है । पुराणों में उनके जो नाम गिनाये गये
    हैं, उनमें एकरूपता नहीं है । दस अवतारों के सम्बन्ध में प्रायः जिस प्रकार की सहमान्यता है, वैसी 24 अवतारों के सम्बन्ध में नहीं है । किन्तु गायत्री के अक्षरों के अनुसार उनकी संख्या सभी स्थलों पर 24 ही है । उनमें से अधिक प्रतिपादनों के आधार पर जिन्हें 24 अवतार ठहराया गया है । वे यह हैं-
    (१) नारायण (विराट्)
    (२) हँस
    (३)यज्ञपुरुष
    (४) मस्त्य
    (५) कूर्म
    (६) वाराह
    (७) वामन
    (८) नृसिंह
    (९) परशुराम
    (१०) नारद
    (११) धन्वन्तरि
    (१२) सनत्कुमार
    (१३) दत्तात्रेय
    (१४) कपिल
    (१५) ऋषवभदेव
    (१६) हयग्रीव
    (१७) मोहिनी
    (१८) हरि
    (१९) प्रभु
    (२०) राम
    (२१) कृष्ण
    (२२) व्यास
    (२३) बुद्ध
    (२४) निष्कलंक-प्रज्ञावतार ।

    [कलियुग के अन्त में इक्कीसवीं बार विष्णु यश
    नामक ब्राह्मण के घर भगवान का कल्कि अवतार
    होगा]

    ReplyDelete
  107. ताऊ, हमने तो सुबह-सुबह रामप्यारी के सवाल का जवाब दे दिया था पर मेरा कमेंट अभी तक अदृश्य है! ये क्या गड़बड़ है?

    ReplyDelete
  108. पिलानी पक्‍का है
    लॉक कर दिया जाये।
    जब इनाम नकद नहीं हैं
    तब तो इतने आकर्षण है
    यदि नकद होते तो
    न जाने ताउ क्‍या होता
    रामप्‍यारी रिश्‍वत लेकर
    हिंट दे रही होती
    अभी भी मिलने वाले
    चाकलेटों के ट्रक भर आश्‍वासन
    रिश्‍वत का ही रूप हैं
    बस इस रिश्‍वत में धूप नहीं है
    न अगरबत्‍ती
    पर रिश्‍वत तो रिश्‍वत है
    हे रिश्‍वत हे देवी तुझे मैं शीश नवाऊं
    नूतन जग की सृष्‍टा मैं तेरे गुण गाऊं

    ReplyDelete
  109. सूचना : - पुर्ण मार्क्स देने का समय समाप्त हो चुका है.

    अब जो भी सही जवाब आयेंगे उनको अधिकतम ५० अंक ही दिये जायेंगे.

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  110. ये क्या आज नियम चेंज हो गए. यानि के हमको सिर्फ ५० मार्क्स या उससे कम मिलेंगे... देर से आने से नुक्सान हो गया. पर कोई बात नहीं जवाब तो दे ही देते हैं.

    बिरला साईंस एंड टेक्नोलोजी म्यूजियम, पिलानी के बाहर खडा घनश्याम दास जी बिरला का पुराना डकोटा हवाई जहाज. ऐसे दो अन्य जहाज धर्मशाला एवं बिरलाग्राम में स्थित है.

    ReplyDelete
  111. रामप्यारी का जवाब रुद्र अवतार

    ReplyDelete
  112. ये जहाज झुमरीतलैया के बसअड्डे के पीछे वाले तालाब के किनारे खड़ा है ये ना कहीं आता ना कहीं जाता क्यूंकि हरियाणा के एक सांड ने इसके फ्यूल टैंक में गोबर कर दिया था ऒर एक बात सुणले ताऊ जिसे मेरी बात पर यकीन नहीं है उसे ये जहाज पत्थर का दिखाई देगा

    रामप्यारी का लिस्ट में मेरा नाम तो है ही नी होणा चाहिये था म्हारी घरआली तै पूछ लियो मैं बी अवतार तै घाट कोनी

    ReplyDelete
  113. गाव की बात है जाने भी दो । ताऊ बिना इंजन का जाहाज केवल कबूतरो के काम आता है । ये उडता नही है ।

    ReplyDelete