Powered by Blogger.

परिचयनामा : श्री नितिन व्यास

श्री नितिन व्यास से एक अंतरंग बातचीत

जैसा कि आप जानते हैं कि श्री नितिन व्यास ताऊ पहेली राऊंड प्रथम की मेरिट लिस्ट मे थे.  और इस दूसरे राऊंड मे भी चौथे स्थान पर  चल रहे हैं. हमने उनका साक्षात्कार किया यू एस के एमहर्तज़ में.

 

 

nitin-vyas एमहर्तज़ जाने के लिये हम बोस्टन एयर पोर्ट पहुंचे वहां नितिन जी को पहचानने में थोडी दिक्कत हुई क्योंकि अमेरिका में उनके जैसे खाते पीते घर के लोगों की कमी नहीं है, फिर भी हम जैसे ताऊ को उन्होने फट से पहचान लिया। वहां हमको लेने नितिन जी के साथ उनकी बिटिया निषिता भी आई थी.

 

नितिन जी ने कहा  कि ताऊजी आप बोस्टन आ ही गये हो तो आज बोस्टन की सैर करके शाम तक  एमहर्तज़ चलें तो कैसा रहेगा। ईंटर्व्यु तो शाम को घर पहुंच कर कर लेना. 

 

 

 

हमने कहा कि ठीक है भाई. जैसा आप उचित समझे,  और बन गया वहीं से बोस्टन घूमने का प्रोग्राम.

 

 

Boston DUKW                                                     

(DUKW यानि बतख गाडी)

 

एमहर्तज़ बोस्टन से करीब १०० मील की दूरी पर है। बोस्टन में घूमने के लिये इस बतख गाडी का प्रयोग किया जाता है.  हमे तो बडा आश्चर्य हुआ जब यही गाडी हमको सडक पर भी घुमाती रही और पानी मे भी घुमाती रही.

 

नितिन जी, निषिता और हम  इस गाडी (DUKW) में घूमे, जमीन और पानी में चलने वाली इस बतख की सवारी करके बहुत मजा आया. 

 

बतख की सवारी के बाद हम पहुंचे बोस्टन हार्बर, वहाँ से जहाज में बैठ कर व्हेल के दर्शन करने को निकले। लोग कहते हैं कि मौसम के मुताबिक व्हेल देवी कभी दर्शन देती है और कभी नहीं भी, लेकिन नितिन ने देवी जी से पहले से एपांइटमेंट लेकर रखा था यह कहकर कि देखना हमारा लठ्ठ और भैंस वाला  ताऊ आ रहा है सो उसका जोरदार स्वागत करना. 

 

whale                                                          

(व्हेल की कलाबाजियां)

 

हम तो वहां  उनके  इलाके में पहुंचते ही आश्चर्य चकित रह गये.  उन्होने कुछ ऐसे उछल ऊछल कर हमारा स्वागत किया कि हम तो मंत्रमुग्ध से रह गये. 

 

 

 

June 2008 124                                                    

(बोस्टन एक्वेरियम में पेंगुइन)

 

अब  निषिता ने  जिद करना शुरु करदी कि उसे तो  बोस्टन एक्वेरियम में  पेंगुइनो से भी मिलना है. सो उसकी जिद्द की वजह से हमे इन पेंगुईनों से मिलने का भी सौभाग्य मिला. काश रामप्यारी भी साथ आई होती तो उसको भी मजा आ जाता.

 

अब नितिन जी ने हमको बोस्टन में हार्वड विश्वविघालय और एम आई टी भी देख लेने का प्रस्ताव रखा तो  हमने कहा कि ये सब पढ़े लिखे लोगों के लिये है, हमारे जैसे लठ्ठधारी ताऊओं का ऐसी जगहों पर क्या काम?  हमको कौन सी यहां MBA की डिग्री लेनी है?

 

शाम तक बोस्टन में घूमने  के बाद  रास्ते में एक बडे लक्ष्मी जी के   मंदिर में भी दर्शन करने रुके.  , वहां से करीब एक  घंटे की ड्राईव के बाद एमहर्तज़ पहुंचे।

 

हमने घर पहुंचकर  तैयार हो कर साक्षात्कार का सिलसिला शुरु किया. 

 

ताऊ : हां तो नितिन जी, आप भारत मे कहां से हैं?

 

नितिन जी : फोटो देखकर तो कोई भी कह सकता है कि जंगल के अलावा मैं कहाँ से हो सकता हूँ, लेकिन फिर भी आप पूछ ही रहे हैं तो बताये देता हूँ मेरा जन्म चंद्रशेखर आज़ाद जी के जन्मस्थान भाबरा जिला झाबुआ (म.प्र.)  में हुआ।

 

ताऊ :  फ़िर तो आपकी शिक्षा दिक्षा भी वहीं झाबुआ मे हुई होगी?

 

नितिन जी : नही ताऊ जी, मैने  बचपन करीब-करीब पूरा  यूनुस जी के दमोह और उडन तश्तरी के जबलपुर में बिताया।

 

ताऊ : तो फ़िर आप अमेरीका कैसे आगये?

 

नितिन जी :  जबलपुर, अहमदाबाद, सूरत, पूना और मुम्बई की घास छीलने के बाद अमेरिकी घास खाने का मौका मिला तो बस आज से कुछ साल पहले अमेरिका आ गया।

 

ताऊ : तो यहां क्या करते हैं आप?

 

नितिन जी : यहाँ एक बड़ी कंपनी में साफ्टवेयर मेकेनिक के जैसे काम करता हूँ, काम के सिलसिले में गोरों से कम और देशियों से ज्यादा माथा-पच्ची करता हूँ।

 

ताऊ : फ़िर आप इस गांव जैसी जगह में कैसे आगये?

 

नितिन जी : आजकल पत्नी जी की पढ़ाई के चलते मसेचुसेट्स के एमहर्टस नामक गांव में रहता हूँ।

 

outside-nitinji's house                                         


एमहर्तज़ में नितिन जी के घर के बाहर का दृष्य

 

 

ताऊ : ओह..अब समझ आया यहां रहने का राज.. पर जगह बडी सुंदर लगी हमको तो.  खैर आप कोई आपके जीवन की अविस्मरणिय घटना बतायेंगें?

 

नितिन जी : अब तक पूरा जीवन ही अविस्मरणीय घटनाओं का पुलिंदा है, बहुत सी घटनायें है सुनाने के लिये आपने उलझन में डाल दिया है, क्या सुनाऊं क्या छोड़ दूं।

 

ताऊ : चलिये कोई एक ही सुनाईये.

 

नितिन जी : एक तो घटना तो यही कि उन्मुक्त जी जैसे वरिष्ठ ब्लागर ने मेरे बारे में इतना कुछ कह दिया, उनका और सारे उत्साहवर्धन करने वाले साथियों का बहुत बहुत शुक्रिया!!

 

ताऊ :  : नितिन जी आप ये बताईये कि  आपके शौक क्या हैं?

 

नितिन जी : स्वादिष्ट शाकाहारी खाने और बनाने का शौक प्रमुख हैं इसके अलावा इंटरनेट खंगालना, चिट्ठे पढ़ना, फोटोग्राफी, नुसरत फ़तेह अली ख़ान साहब और जगजीत सिंह साहब को सुनना और पहेलियाँ सुलझाना अच्छा लगता है।

 

ताऊ : आपको  सख्त ना पसंद क्या है? 

 

नितिन जी : स्वार्थ, संकीर्णता, अनुशासनहीनता और मक्कारी!

 

ताऊ : अब मैं आपसे पूछू कि आपको पसंद क्या है?

 

नितिन जी : बहुत कुछ.. सीधे सादे सच्चे लोग, ईमानदारी, शाकाहारी तीखा भोजन, कलात्मक सिनेमा, ईरानी फिल्में, व्यंग और लघु कथायें आदि आदि…

 

ताऊ : आपने कहा कि ईरानी फ़िल्में? कोई खास वजह?

 

नितिन जी : मुझे हमेशा से ही कलात्मक फिल्में पसंद आती रही है जो जीवन की वास्तविकता के करीब हो। ईरानी फिल्मों में आम जीवन की झलक मिलती है । मानवीय भावनाओं को दर्शाने में ईरानी फिल्मकारों का जवाब नहीं है यदि मौका मिले तो मजीद मजीदी की बचेहा‍‍-ए-आसमान या  मोहसेन मख्मलबफ की कंधार जरुर देखियेगा।

 

ताऊ :  आप हमारे  पाठको से कुछ कहना चाहें तो क्या कहना चाहेंगे?

 

नितिन जी : सारे के सारे पाठक बहुत ही समझदार हैं मै उन्हें क्या कह सकता हूँ, लेकिन आप बहुत जोर दे रहे हैं तो कुछ बातें

 

१. जैसे भगवान महावीर ने कहा था जियो और जीने दो!

२. बेटियों को बढ़ावा दें

३. चिट्ठों में बहस जरुर करें लेकिन मर्यादा का ध्यान रखें

४. चुनाव में वोट अवश्य दें।

 

क्यों ताऊ जी? हैं ना पूरे गुण नेतागिरी के मुझ में?

 

ताऊ : हां जी लग तो हमको भी यही रहा है. अब आप अपने छात्र जीवन की कोई यादगार बात बताईये.

 

नितिन जी : कालेज में, मैं मेकेनिकल विभाग की वार्षिक पत्रिका का संपादक था, हमारे विभागाध्यक्ष जी प्रूफरीडिंग पर बहुत जोर देते थे। एक वर्ष की पत्रिका में प्रूफरीडिंग की गलती की वजह से सारे शिक्षकों की लिस्ट की हेडिंग “List of Faculty Members” बजाय ““List of Faulty Members”रह गई थी।

 

ताऊ :  लगता है वो प्रूफ़ रीडींग वाला कोई हरयाणवी रहा होगा?   पर यह तो बडी गम्भीर गलती हो गई भाई?  पकड मे आई या फ़ेकल्टी मेम्बर्स फ़ाल्टी ही रहे?  हमने हंसते हुये पूछा.

 

नितिन जी :  हां ताऊजी,  . प्रधानाध्यापकजी द्वारा होने वाले विमोचन के २ घंटे पहले एक साथी ने इस ओर ध्यान दिलाया, फिर क्या था विभागाध्यक्ष जी के डर के मारे पूरे विभाग के छात्रों को काम पर लगा कर इस गलती पर स्टिकर चिपकवाये थे।

 

ताऊ : अब आप ये बताईय़े कि आप भारत मे मूलत:  कहां से  हैं? 

 

नितिन जी : मेरा पुश्तैनी गाँव मोहद जिला खरगोन मध्यप्रदेश है। १००-१५० परिवारों का यह गांव बहुत ही सुन्दर है आईये आपको वहां की कुछ  तस्वीरें दिखाऊं …

 

 

mohad-khargone                                                    

मोहद, नितिन जी का पैतृक गांव

 

 

ताऊ : वाह भई नितिन जी आप तो मेरे पास के ही रहने वाले निकले?

 

नितिन जी : आप कहां से हैं ताऊजी?

 

ताऊ :  भाई मैं आपके पास ही इन्दौर मे रहता हूं.

 

नितिन जी :  अरे ताऊ जी, यह भी क्या संयोग है?  रिटायरमैंट के बाद मेरे पेरेंट्स भी इंदौर मे ही रहते हैं.

 

ताऊ : वाह भई.  यानि हम तो दोनो एक ही जगह के निकले.  चलिये अब तो जब भी आपका आना होगा हमारी मुलाकात होती ही रहेगी.

 

ताऊ : नितिन? जी, क्या  आपका संयुक्त परिवार है

 

नितिन जी : जी हाँ मैं संयुक्त परिवार का सदस्य हूँ।

 

ताऊ : आपके हिसाब से संयुक्त परिवार के नफ़े नुक्सान क्या हैं?

 

नितिन जी : मेरा परिवार बहुत बड़ा है, इसके तो फायदे ही फायदे हैं नुकसान तो नगण्य हैं। सबसे बड़ा फायदा ये है कि शादी-ब्याह और अन्य पारिवारिक कार्यक्रमों में अपने घर के ही इतने सदस्य हो जाते है कि दूसरों को बुलाने की जरुरत ही नहीं पडती !

 

ताऊ :  आपकी नजर में  ब्लागिंग का भविष्य कैसा हैं?

 

नितिन जी : जीवन के विभिन्न क्षेत्रो के लोग जैसे वैज्ञानिक, कानूनविद , इंजीनियर, ग्रहणीयां , अकाउटेंट,विधार्थी, कवि, लेखक, पत्रकार, व्यवसायी और फुरसतिये सबके सब यहां योगदान दे रहे हैं, सबकी अलग विचारधारा, जीवन शैली और लेखन । विषय आधारित हिन्दी चिट्ठों की संख्या बढ़ रही है। मुझे तो लगता है कि ब्लागिंग का भविष्य बहुत उज्जवल है।

 

ताऊ : आप कब से ब्लागिंग मे हैं?

 

नितिन जी : जी मैं ब्लागिंग में फरवरी २००६ से हूँ.

 

ताऊ : आपका ब्लागिंग मे आना कैसे हुआ?

 

नितिन जी : ब्लागिंग में आना जीतू भाई, रवि रतलामीजी, ईस्वामी, और फुरसतिया जी जैसे दिग्गजों के लेखों को पढ़कर हुआ।

 

ताऊ : ब्लागिंग मे आपके अनुभव कैसे रहे?

 

नितिन जी : पिछले तीन सालों में बहुत कुछ सीखा ब्लागिंग से, बहुत से विवाद देखे पढ़े, बहुतों को टंकी पर चढ़ते और उतरते देखा, बहुत से गुरुजनों और ताऊओं से पारिवारिक सम्बन्ध बनाये ।

 

ताऊ :  आपका लेखन आप किस दिशा मे पाते हैं?

 

 

नितिन जी : ताऊ जी अगर इमानदारी से कहूं तो  मेरा लेखन  दिशाहीन ही लगता है। बहुत से मुद्दे हैं जिन पर लिखना चाहता हूं लेकिन विचारों को कतारबद्ध करने में खुद को असमर्थ पाता हूँ, मुझे लगता है कि मेरा पाठन कार्य ज्यादा होता रहेगा और लेखन कम…

 

ताऊ :  क्या राजनिती मे आप रुची रखते हैं? अगर हां तो अपने विचार बताईये?

 

नितिन जी : (हंसते हुये)   नाम में ही नीति है इसलिये राजनीति में बहुत रुचि है, लेकिन औरों की तरह नेताओं को गरियाने का मन बिलकुल नहीं करता है.

 

ताऊ : क्यों?

 

नितिन जी :  क्योंकि उन सब में वे गुण और अवगुण देखता हूँ जो खुद में नहीं है। सारे अपनी-अपनी जगह सही हैं सब अपनी क्षमता और जरुरतों के हिसाब से भोली भाली जनता को गुमराह करने में लगे हैं और पढ़े लिखे लोग वोटिंग ना करके इनके इरादों को पूरा करने में पूरी मदद करते हैं।

 

 

Nishita                                                               


नटखट निषिता

 

अभी हमारी बातें चल ही रही थी कि एक बच्ची फ़ेंसी ड्रेस पहन कर आगई. …….हमने चौंकते हुये पूछा.

 

ताऊ : अरे भाई ये कौन है?  किसकी बच्ची है? ये बिटिया तो बडी नटखट और शरारती लग रही है?

 

नितिन जी : जी ताऊ जी ये तो निषिता ही है  जो दिन भर से आपके साथ  थी, खा गये ना आप भी धोखा?  ये बहुत ही नटखट है, आपको भी बना दिया ना इसने?  सबको ऐसे ही उल्लू बनाती है.  आखिर कौन सी बेटी नटखट नहीं होती।

 

 

Nishita Beading                                                       


निषिता की बनाई बीडींग

 

ताऊ : हां भाई है तो बडी नटखट.  हम तो एक बार पहचान ही नही पाये.  और क्या क्या  विशेष नटखटपना है इसमे?

 

नितिन जी : हां ताऊजी, ये देखिये इसके बनाये चित्र….उसे चित्रकारी, बीडिंग का शौक बहुत है

 

ताऊ : अरे वाह..क्या लाजवाब चित्रकारी है? वाकई काबिले तारीफ़…बहुत होनहार बच्ची है ये. और क्या शौक हैं इनके?

 

नितिन जी : और इसके शौक हैं मेरे जैसे ही  कम्पयूटर से खेलना और मम्मी के जैसे नाचना बहुत पसंद है। ये देखिये ये रहे उसके कुछ कारनामे…

 

Nishita Painting                                                       


निषिता की बनाई पेंटिंग

 

अब हमने निषिता से बाते की. बहुत बाल सुलभ भाव से उसने बताया कि वो ये सब चीजे रामप्यारी के लिये बना रही है. हमारे यह पूछने पर कि रामप्यारी को वो कैसे जानती है?

 

निषिता ने बताया कि वो उससे पहेली वाले दिन मिलती है और पापा उसे रामप्यारी के बारे मे पढ कर सुनाते हैं. और रामप्यारी  उसको बहुत अच्छी लगती है.

 

निषिता ने हमसे पूछा : ताऊ जी , आप रामप्यारी को क्युं नही लेकर आये?

 

ताऊ : हमने कहा कि बेटा उसका पासपोर्ट ही नही बना अभी तक. और जब तुम इन्दौर आओगी तब हम तुमको रोज रामप्यारी से मिलवायेंगे..

 

अब हमने फ़िर से नितिन जी से बातचीत शुरु की.

 

ताऊ : नितिन जी अब आपकी जीवन संगिनी के बारे मे भी हमारे पाठकों को कुछ बताईये?

 

नितिन जी : ताऊ जी , आप तो श्वेता से मिल ही चुके हैं.  पेशे से ये मेरी डाक्टर है.

 

ताऊ : भई बात समझ मे नही आई हमारे? हमने तो सुना था कि श्वेता पशुओं की डाक्टर हैं?

 

नितिन जी :  आपकी जानकारी सही है ताऊजी.  ( हंसते हुये,,) पर मैं भी तो हाथी  हूं ना? 

 

ताऊ  :  ओह ..नितिन भतिजे..अब समझ आयी तुम्हारी बात…अरे वाह भई वाह..आपको  ब्लागिंग मे हाथी रिप्रेजेंट करता है, इसलिये?

 

नितिन जी : (हंसते हुये) जी आप अब ठीक समझे ताऊजी.

 

ताऊ : श्वेता की शिक्षा कहां से हुई?  और आजकल क्या कर रही हैं?

 

नितिन जी :  महू (इंदौर) के सरकारी कालेज से पढने और भोपाल में लोगों को दुनिया भर के विषय पढ़ाने के बाद आजकल पब्लिक हेल्थ में उच्च शिक्षा ले रही हैं।

 

ताऊ : क्या आपको भी ये पढाती हैं?

 

नितिन जी : जैसे सभी पत्नियां सारा जीवन पतियों को आदतें बदलने के लिये उन्हे टोकती रहती है, ये भी वही काम करती हैं और जब मैं कुछ थोड़ा बहुत बदल जाता हूँ तो कहती है तुम वो नहीं रहे…बहुत बदल गये हो।

 

ताऊ : आप हमारे पाठकों को कुछ कहना चाहेंगे? 

 

नितिन जी : अब और क्या कहूं और कुछ बोलूंगा तो आप बोलेंगे ये विशालकाय भतीजा बहुत बोलता है!

 

 

ताऊ : अक्सर पूछा जाता है कि ताऊ कौन? आपका क्या कहना चाहेंगे?

 

नितिन जी : ताऊ तो बस ताऊ ही हैं, जैसे ही खोज खत्म होगी आपको तुरंत बता देंगे, वैसे रामप्यारी की बातों से तो लगता है वे पिताजी से एक कदम आगे और काकाजी से दो कदम आगे हैं!

 

 

ताऊ : ताऊ साप्ताहिक पत्रिका के बारे मे क्या कहना चाहेंगे?

 

नितिन जी : साप्ताहिक पत्रिका हर अंक से साथ नये लेखों से हिन्दी ब्लाग जगत को समृध्द कर रही है, सभी संपादक और विशेष कर रामप्यारी  बधाई की पात्र है. 

 

ताऊ : भाई रामप्यारी विशेष कर क्यों?

 

नितिन  जी :  क्योंकि रामप्यारी ने सभी के दिलों में अपने लिये जगह बना ली है. रामप्यारी की बातूनी बच्चों की तरह बक बक करने की आदत अपने बच्चों की बरबस याद दिला देती है.  पता नही क्यूं?  मुझे रामप्यारी का बक बक करना,  बेसिर पैर की बातें करना…किसी को भी अंकल..आंटी..दीदी से संबोधित करना…एक अपना पन सा लगने लगा है.

 

 

ताऊ : अगर आपको भारत का विदेश मंत्री बना दिया जाये तो आप परिस्थियों से कैसे निपटेंगे?

 

नितिन जी : सबसे पहले तो रामप्यारी का पासपोर्ट बनवा कर दूंगा। फिर आपको यात्रा सलाहकार और समीर जी को वित्त सलाहकार बना कर साथ ले कर स्विटज़रलैंड की यात्रा पर निकल जाऊंगा।

 

वहाँ कौन सा खाता खुलवाना है ?  ये तो समीर जी जानते ही होंगे!  बाकी तो फिर बहुत है ही करने को, अब यहाँ सबके सामने कहूंगा तो आप जैसे ताऊ मुझे  इनीशियल ऐडवांटेज ...(हंसते हुये)  देने लग जायेंगे.

 

ताऊ : आपकी श्वेता से पहली मुलाकात कहां हुई?   आपकी अरेंज  मेरिज है? या लव मेरिज है?

 

नितिन जी :भला कोई डाक्टर अपने मरीज से लव करके मेरिज करेगा क्या?   हमारी पहली मुलाकात उनके  क्लीनिक (घर) पर ही हुई थी, उनके पिताजी ने मरीज तलाशा और मेरे घर वालो ने इस आपरेशन के लिये सहमति दे दी , बस फिर क्या था?  बज गई शहनाई.

 

 

अगले दिन वापस निकलने से पहले हमने विश्व की सबसे बडी मोमबत्तीयों की दुकान यांकी केंडल देखी, यहाँ बारह महीनों क्रिसमस का माहौल रहता है, रामप्यारी हमसे हमेशा पूछती थी कि सांता क्लाज अंकल क्रिसमस के बाद कहां रहते है, यहां जब उन से मुलाकात हुई तो पता चला कि ये साहब बाकी दिनों में मोमबत्तियों की इस बड़ी दुकान में डेरा जमाये रहते है।

 

तो ये थे श्री नितिन व्यास.  आपको कैसा लगा इनसे मिलना? अवश्य बताईयेगा.  और अगले सप्ताह आपको मिलवायेंगे ऐसी ही शानदार किसी दूसरी हस्ती से.

44 comments:

  1. नितिन जी से इस मुलाकात का शुक्रिया । बातचीत तो निश्चित ही अंतरंग है ।

    ReplyDelete
  2. बढिया रही भेंटवार्ता .राम-राम .

    ReplyDelete
  3. नितिन व्यास जी से यह मुलाकात अच्छी रही -पूरे परिवार को शुभ कामनाएं -एक प्रश्न यह भी होना था -हाथी और पंडा में किसे ज्यादा पसंद करेंगें ?

    ReplyDelete
  4. नितिन व्‍यास जी से मुलाकात अच्‍छी लगी। खासकर बिटिया निषिता की बनायी कलाकृतियां बहुत सुंदर हैं।

    ReplyDelete
  5. ताऊ जी।
    नितिन व्यास जी से आपका साक्षात्कार ऐतिहासिक रहा। आखिर आपने नातेदारी निकाल ही ली। ये तो आपके बिल्कुल पड़ोस के ही निकले।
    बिटिया निषिता का फोटो और उसकी पेंटिग मनभावन लगी।
    बत्तखगाड़ी और ह्वेल के दर्शन पाकर धन्य हुआ।
    मैं भी पर्वत के आँगन मे माता पूर्णागिरि के गोद में आ बसा हूँ और गुरूनानक देव के चरणों में बैठ कर ब्लागिंग कर रहा हूँ। उनका ऐतिहासिक गुरूद्वारा नानकमत्ता साहिब मेरे घर से मात्र 15 किमी दूर है।
    लेकिन 5 वर्ष पूर्व यहाँ भी मैंने 5 कमरों का एक छोटा सा भवन बना लिया है। कभी इधर का भी कार्यक्रम बनायें।
    राम-राम।

    ReplyDelete
  6. bahut achhi mulakaat rahi nitin ji aur unke pariwar se,natkhat nikita badi pyari hai.unki paintings bhi.

    ReplyDelete
  7. लाजवाब परिचय दिया ताऊ. नितिनजी के परिवार से मिलना बहुत अच्छा लगा. खासकर बिटिया से, पेंटिंग और बिडिंग बहुत सुंदर है.

    ताऊ हमारा भी ईंटर्व्यु करदो कभी? हम भी आपकी पहेली मे हमेशा आते हैं.

    ReplyDelete
  8. ताऊ आप जिसका भी परिचय करवाते हो उस व्यक्ति के बारे मे ऐसा लगता है कि उसको हम पता नही कबसे जानते हैं. आपके परिचयनामा की यही विषेषता है. नितिन जी को करीब से जानना बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर लगा नितिन जी से मिलना. एक सफ़ल इंटर्व्यु.

    ReplyDelete
  10. ताऊ आपने आज एक ऐसे व्यक्ति से मिलवाया जो भाब्ररा से संबंध रखता है. आज चंद्रसेखर आजाद की अनायास ही याद हो आई.

    बहुत शुभकामनाएं भाई नितिन व्यास जी को और आप तो खैर बधाई के पात्र हैं ही मिलवाने के लिये.

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया रही ये मुलाकात. बहुत धन्यवाद नितिन जी से मिलवाने के लिये आपको.

    ReplyDelete
  12. ताऊ जी
    बोस्टन की यात्रा व्हेअल व पेंग्विन के दर्शन ..रोचक रहे ...ये आपकी भेंस व लट्ठ भी ना बस कमाल के हैं ....hahahaa

    नितिन जी से मुलाकात व क्यूट निषिता का नटखटपन मजेदार रहा !!

    शुक्रिया !!!

    ReplyDelete
  13. नितिन जी से मुलाकात करा दी. बड़ा अच्छा लगा. हमें तो उनके गाँव के खपरेल मन को भा गए.आभार

    ReplyDelete
  14. नितिन जी और उनकी बिटिया निषिता से बहुत बढिया रही ये मुलाकात. बहुत धन्यवाद नितिन जी से मिलवाने के लिये निषिता की पेंटिंग और बिडिंग का जवाब नहीं. निषिता को ढेर सारा प्यार और शुभकामनाये

    regards

    ReplyDelete
  15. बेहद रोचक साक्षात्कार के लिये बधाई. नितिन जी और उनके परिवार को शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  16. बेहद रोचक साक्षात्कार के लिये बधाई. नितिन जी और उनके परिवार को शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. बेहद रोचक साक्षात्कार के लिये बधाई. नितिन जी और उनके परिवार को शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. हाथी भाई से मिलवाने का शुक्रिया :)

    ReplyDelete
  19. नितिन जी से मिलकर और बोस्टन में घूम कर मजा आ गया।

    ReplyDelete
  20. mulakat badhiya rahi ,nishu ki kalakari aachhi lagi.jiwan me bahut aage bade, amarshahid aajad ka nam roshan karo. papa mummy.

    ReplyDelete
  21. mulakat badhiya rahi ,nishu ki kalakari aachhi lagi.jiwan me bahut aage bade, amarshahid aajad ka nam roshan karo. papa mummy.

    ReplyDelete
  22. nishu ki kalakrutiya aachhi lagi. amar shahid aajad ka nam roshan karo.papa mummy

    ReplyDelete
  23. आपने, नितिन जी और निषिता से मिलवाया...बहुत बहुत धन्यवाद. मिलकर बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  24. bahut dhanyavad nitin ji se mulakat karawane ke liye.

    ReplyDelete
  25. नितिन जी और बिटिया निषिता से मिलकर अपार प्रसन्नता हुई. अब तो बोस्टन जाकर मिलना ही पड़ेगा.:)

    इस तरह से साथियों के बारे में जानना सुखद रहता है..ताऊ, आपका आभार.

    ReplyDelete
  26. ताऊ आपने तो घर बैठे ही बोस्टन घुमा दिया. नितिन जी और निशिता से मिल कर बहुत अच्छा लगा. नितिन जी को शुभकामनाएं और आपको धन्यवाद

    ReplyDelete
  27. ताऊ बहुत जोरदार ...मजा आया आपके मेहमान से मिल कर और बोस्टन घूम कर.

    ReplyDelete
  28. सुन्दर मजेदार साक्षात्कार। बिटिया बड़ी प्यारी है। नितिन-श्वेता जोड़ी के फ़ोटो भी होने चाहिये थे।

    ReplyDelete
  29. नितिन जी और उनके परिवार से मिले..बोस्टन के खूबसूरत चित्र देखे.बहुत बढ़िया साक्षात्कार लगा.
    नितिन जी और ताऊ जी दोनों को धन्यवाद.
    दुबई में भी बत्तख गाड़ी जैसी पर्यटकों को घुमाने वाली गाड़ी है मगर वह देखने में आम बस जैसी है -पहली मजिल पर ऊपर से खुली --जो पानी में भी घुमाती है और सड़क पर भी .

    ReplyDelete
  30. नितिन जी और निषिता से बहुत अच्छी मुलाकात रही . बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  31. भई हमें तो निशिता बहुत पसंद आई...
    नितिन जी से milkar achcha लगा...
    मीत

    ReplyDelete
  32. नितिन जी और बिटिया निषिता से मिलकर अपार प्रसन्नता हुई. निषिता की बनाई पेंटिंग-बीडींग और नटखट निषिता, ने मेरा मन मोह लिया।
    ....................................
    @ताऊ : आप हमारे पाठको से कुछ कहना चाहें तो क्या कहना चाहेंगे?

    @नितिन जी : सारे के सारे पाठक बहुत ही समझदार हैं मै उन्हें क्या कह सकता हूँ, लेकिन आप बहुत जोर दे रहे हैं तो कुछ बातें

    १. जैसे भगवान महावीर ने कहा था जियो और जीने दो!

    २. बेटियों को बढ़ावा दें

    ३. चिट्ठों में बहस जरुर करें लेकिन मर्यादा का ध्यान रखें

    ४. चुनाव में वोट अवश्य दें।

    ताऊजी, नितिन जी ने आपके प्रशन के उत्तर मे जिवन का मुल दर्शन बताया है जो लोकतन्त्र, समाजतन्त्र, घर्मतन्त्र, के हीतकी बात है।
    ...............................
    आप बोस्टन घुम आऐ बिना रामप्यारी के यह बात मुझे निराश कर गई मेरे प्यारे-प्यारे इन्दोरवी ताऊ।

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छा लगा नितिन जी से उनके बारे में जान कर .निषिता नाम ही बहुत प्यारा है .. शुक्रिया बलागर परिवार के एक और सदस्य से परिचित करवाने का

    ReplyDelete
  34. मैं तो समझता कि नितिन जी शर्मीले हैं पर यहां तो विस्तार से अपने बारे में बताया :-)
    अच्छा लगा उनके बारे में जान कर।

    ReplyDelete
  35. बड़ा अच्छा लगा नितिन जी का विस्तृत परिचय। आप यह परिचय करा बड़े पुण्य का काम कर रहे हैं ताऊ जी!

    ReplyDelete
  36. नितिन व्यास जी से मिलकर बहुत अच्छा लगा.. आभार

    ReplyDelete
  37. अरे वाह....नितीन भाई के परिवार से मिलकर बहुत खुशी हुई ..बहुत बढिया रही यह मुलाकात भी ताऊजी और बोस्टन , एम्हर्स्ट की सैर भी साथ
    - लावण्या

    ReplyDelete
  38. nitin ji se baat-cheet bahut achi lagi.

    ReplyDelete
  39. नितिन जी से मिलकर बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  40. नितिन जी का यह साक्षात्कार बहुत बढिया रहा...इसी बहाने उनके बारे में जानने का अवसर प्राप्त हुआ. (ताऊ जी, आज तो समयाभाव के कारण आने में बहुत देर हो गई)

    ReplyDelete
  41. राम राम ताऊजी, आपके साथ बिताये हुए दो दिन जीवन भर यादगार रहेंगे। निषिता तो अभी तक रामप्यारी और काजू कतली वाले दादाजी को याद कर रही है। निषिता की तरफ से सारे दादाओं, दादीयों, अंकलो, आंटीयों को प्रणाम।

    आप सभी मित्रों का आभार !

    ReplyDelete
  42. राम राम ताऊजी, आपके साथ बिताये हुए दो दिन जीवन भर यादगार रहेंगे। निषिता तो अभी तक रामप्यारी और काजू कतली वाले दादाजी को याद कर रही है। निषिता की तरफ से सारे दादाओं, दादीयों, अंकलो, आंटीयों को प्रणाम।

    आप सभी मित्रों का आभार !

    ReplyDelete
  43. नितिन जी से इस अद्‍भुत मुलाकात करवाने का शुक्रिया ताऊ

    ReplyDelete