Powered by Blogger.

पोखर की व्यथा

पोखर की व्यथा

pokhar3_thumb[1]



समाकर मुझमे
अनेको जलधाराएं
चैन से सोया करती थी
जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु


और मैं भी सम्पुर्णता के
एहसास मे जिया करता था
नीर चुरा कर मुझसे हीpokhar2_thumb[2]
ऊंचे अम्बर में विचरण करते
ये मेघा इतराया करते थे
चांद सितारे आसमान मे

अपना अक्स निहार मुझमे
श्रंगार कर शरमाया करते थे
मुझमे यूँ जीवन को पा सब
खुशी से ईठलाया करते थे

पर अब मैं सुखा पोखर हुं आसपास मेरे पसरा बस
मरघट सा सन्नाटा है....











(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)

35 comments:

  1. सीमा जी , पोखर बरखा जल से हरे भरे होँ यही आशा है ..

    ReplyDelete
  2. मरघट जैसे सन्नाटे को,

    दिल से दूर भगाना है।

    फिर से अपने भारत को,

    जग का आचार्य बनाना है।।

    ReplyDelete
  3. सूखा पोखर ? ऐसा क्या हुआ ?? रेत सा तन जो ढह गया है -नेह निर्झर बह गया है ! क्या निरालात्व को प्राप्त हो गए ताऊ ! मुझे याद नहीं आ रही है निराला की पूरी कविता -डॉ मनोज से अनुरोध की वे कुछ और लाईने लिख दें आपको थोडा ढाढस देने के लिए ! च्च च्च च्च ...!

    ReplyDelete
  4. समाकर मुझमे
    अनेको जलधाराएं
    चैन से सोया करती थी
    जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु
    " पोखर की व्यथा इन शब्दों मे भावनत्मक स्तर पर व्यक्त हो रही हैं....सभी पोखर जल से भरे रहे यही प्रार्थना है , जल ही जीवन है..."

    Regards

    ReplyDelete
  5. पर अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....

    पर ताऊ जी कौन जिम्मेदार है इसकी यह हालत करने के लिये. बहुत उम्दा और पीडा को व्यक्त किया है.

    ReplyDelete
  6. बहुत पिडादायक है पोखरों का सूखना. सटीक व्यथा.

    ReplyDelete
  7. बहुत पीडादायक है पोखरों का सूखना. सटीक व्यथा.

    ReplyDelete
  8. अपना अक्स निहार मुझमे
    श्रंगार कर शरमाया करते थे
    मुझमे यूँ जीवन को पा सब
    खुशी से ईठलाया करते थे

    पर अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....
    वाह बहुत सुन्दर लिखा है सीमा जी।

    ReplyDelete
  9. पर अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....
    रचना तो वाकई बहुत सुंदर है ,इसके लिए सुश्री सीमा गुप्ताजी को बधाई .
    पर मुझे एक बात समझ में ना आई कि ताऊ जी को गम में डूबी इस रचना को प्रस्तुत करनें की कौन सी आवश्यकता आन पडी .
    ऊपर के निर्देश के अनुक्रम में आप मुझसे निराला जी की वह रचना पूरी सुन ही लें -
    स्नेह निर्झर बह गया है ,रेत ज्यों तन रह गया है |
    आम की यह डाल जो सूखी दिखी ,कह रही है अब यहाँ पिक या शिखी नहीं आते |
    पंक्ति मैं वह हूँ लिखी ,नहीं जिसका अर्थ जीवन दह गया है |
    दिए हैं मैंने जगत को फूल फल ,किया है आपनी प्रभा से चकित चल|
    पर अनश्वर था सकल पल्लवित पल ,ठाट जीवन का वही जो ढह गया है |
    अब नहीं आती पुलिन पर प्रियतमा ,श्याम त्रिन पर बैठनें को निरुपमा |
    बह रही है हृदय पर केवल अमा,मै अलक्षित हूँ यही कवि कह गया है ||

    ReplyDelete
  10. इन दिनों
    लोग ले जाते
    मिट्टी उपजाऊ
    गहराई मेरी बढ़ जाती है
    वर्षा जल की
    मैं बाट जोहती
    भर जाए फिर से
    मेरी झोली

    ReplyDelete
  11. समाकर मुझमे
    अनेको जलधाराएं
    चैन से सोया करती थी
    जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु
    bahut marmik rachana,ye panktiyaan bahut achhi lagi.

    ReplyDelete
  12. समाकर मुझमे अनेको जलधाराएं चैन से सोया करती थी
    जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु
    बहुत ही अच्छा लिखा है ताऊ जी!

    अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....

    एक सूखे पोखर की व्यथा कथा द्वारा कविता में भाव अभिव्यक्ति सफल दिखती है.
    यही आज कल के ज़माने की रीत है जब तक व्यक्ति उनके काम का है लोग उस के आसपास रहते हैं..जब वह काम का नहीं रहता तो छोड़ जाते हैं.
    [आज तो ताऊ जी भी उदास कविता लिख रहे हैं.]

    ReplyDelete
  13. pokharo ka sukhna nischit hi ek chintaniy ghatna hai hum ko is par vichar karna hoga... aapki yah kavita sundar lagi....

    ReplyDelete
  14. आज के दौर की सबसे बड़ी व्यथा और चिंता यही है।

    ReplyDelete
  15. सीमा जी बधाई की पात्र है.... इस ज्वलंत विषय पर कविता लिखने के लिए.....

    ReplyDelete
  16. "समाकर मुझमे
    अनेको जलधाराएं
    चैन से सोया करती थी
    जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु
    और मैं भी सम्पुर्णता के
    एहसास मे जिया करता था"

    इस कविता के माध्यम से सीमा जी ने जिस मुद्दे की ओर ध्यानाकर्षित किया है,उसके लिए वो सचमुच बधाई की पात्र हैं.......आभार

    ReplyDelete
  17. सूखा पोखर तो आजकल कमाई का जरिया है ताऊ जी हर सरपंच यही कामना करता है कि उसके गांव का पोखर सूखे और वो राहत कार्य करवा कर लूट खसोट कर सके।

    ReplyDelete
  18. पोखर कि व्यथा अच्छी लगी । मै तो राजस्थान का रहने वाला हू यहाँ के लोग पानी के प्रती बहुत ही जागरूक है । आपका कविता के माध्यम से चिन्ता जाहिर करना बहुत अच्छा लगा आभार

    ReplyDelete
  19. पोखरे का सुखना अच्छा नहीं , कितने ही पशु-पछी उसके ऊपर निर्भर रहते हैं .जल ही जीवन है अगर जल ही नहीं रहेगा तो क्या होगा

    ReplyDelete
  20. जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु


    और मैं भी सम्पुर्णता के
    एहसास मे जिया करता था

    Bahut khoob...

    ReplyDelete
  21. वाह जी सीमा जी आज बहुत ही दिनों बाद सुना यह पोखर शब्‍द इसे तो जैसे भूल ही गए थे और आपने बिल्‍कुल सच्‍चाई लिखी है बेहतरीन उपलब्धि बारम्‍बार बधाई ताऊ को भी

    ReplyDelete
  22. समाकर मुझमे अनेको जलधाराएं
    चैन से सोया करती थी
    जैसे मां के आगोश मे तृप्त शिशु

    सुन्दर रचना है..........
    सीमा जी की झलक साफ़ नज़र आती है

    ReplyDelete
  23. मुझे अपने गांव का तालाब याद आ गया। मेरे बचपन में उसमें हर मौसम में पानी रहता था। सभी मंगल संस्कार उसके किनारे होते थे। अब उसे पाट कर लोग घर दुकानें बनाते जा रहे हैं।
    दुखद।

    ReplyDelete
  24. सही है जी. पोखर की व्यथा-कथा बहुत सही उकेरा है सीमा जी ने.

    ReplyDelete
  25. सही सच्ची कविता ..बहुत पसंद आई यह

    ReplyDelete
  26. sookhe pokhar ke dard ko bahut hi sundar dhang se ukera hai aapne....bhaavpoorn rachna..

    ReplyDelete
  27. गम की अंधेरी रात में दिल को न बेकरार कर, सुबह जरूर आएगी, सुबह का इंतजार कर।

    ReplyDelete
  28. पोखरों का सूखना निश्चित ही पीडा दायक है. हमारी झील सूख रही है. हम क्या करें.

    ReplyDelete
  29. पर अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....

    जर्जर हुए पोखर की आत्मवेदना ....सीमा जी ने बहोत सुन्दर भावों से सजाया है इसे ...कुछ कुछ इसी से मिलती जुलती कविता ' बूढा पुल' पढ़ी थी कहीं अब याद नहीं किसकी थी ...!!

    ReplyDelete
  30. नीर चुरा कर मुझसे ही
    ऊंचे अम्बर में विचरण करते
    wah!!

    पर अब मैं सुखा पोखर हुं
    आसपास मेरे पसरा बस
    मरघट सा सन्नाटा है....

    wah !! wah!!!

    ReplyDelete
  31. tau ji hamne aapko email bhej di hai,agar inbox mein na mile to spam mein kripaya check kare.

    ReplyDelete
  32. yahan bhi apna email aapko de dete hai,aapke sujhav ka swagat hai,hamara email hai mehhekk@rediffmail.com,regards,isko publish nahi kare shukran

    ReplyDelete
  33. अच्छी लेखनी हे..../ पड़कर बहुत खुशी हुई.../ आप कौनसी हिन्दी टाइपिंग टूल यूज़ करते हे..? मे रीसेंट्ली यूज़र फ्रेंड्ली इंडियन लॅंग्वेज टाइपिंग टूल केलिए सर्च कर रहा था तो मूज़े मिला.... " क्विलपॅड " / ये बहुत आसान हे और यूज़र फ्रेंड्ली भी हे / इसमे तो 9 भारतीया भाषा हे और रिच टेक्स्ट एडिटर भी हे / आप भी " क्विलपॅड " यूज़ करते हे क्या...?
    www.quillpad.in

    ReplyDelete
  34. मार्मिक रचना....

    सारी टिप्पणियों को पढ़कर उलझ गया हूँ, जहाँ अपनी छोटी सी समझ कह रही है मुझसे कि रचना और शब्द आपके हैं और सीमा जी ने कुछ सुधार किया है और शायद इसलिये आप आभार प्रकट कर रहे हैं....या फिर रचना सीमा जी की हैं
    अब सीमा जी की अद्‍भुत लेखनी से सारा ब्लौग वाकिफ़ है...
    लेकिन ये बकलम आप खुद हो, है ना ताऊ?

    ReplyDelete