जिंदगी एक गीली सी रेत

जिंदगी एक गीली सी रेत















समंदर की रेत पर

देखा है अक्सर
लुप्त हो जाते हैं
कदमों के पडे निशां
फ़िर भी ना जाने क्युं
अनजाने में अक्सर
हम नही छोडते
गीली रेत पर घरौंदे बनाना

और नहीं भूलते
अपने कदमों के निशां
रेत पर अंकित करना
शायद यही जिंदगी का चक्र है
और हम बार बार
यही करते चले जाते हैं अक्सर....






(इस रचना के दुरूस्तीकरण के लिये सुश्री सीमा गुप्ता का हार्दिक आभार!)

Comments

  1. सुन्दर !
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  2. पकवान की तरह पगे हुए
    पगचिन्‍ह होते हैं ये
    जो दिखाते हैं मार्ग उसको
    जो देखना चाहता है
    नहीं लगती शर्म जिसको।

    ReplyDelete
  3. जय तो ताऊ जी की। शानदार कविता!

    ReplyDelete
  4. हर बार
    उकेरना अपने निशान
    फितरत है इन्सान की
    और मिटा देना उन्हें
    कुदरत की
    यही जीवन है।

    ReplyDelete
  5. नीड का निर्माण फिर फिर ! बढियां कविता ताऊ !

    ReplyDelete
  6. ताउ, कुछ समय से ब्‍लॉगिंग से दूर रहने के कारण आप सहित अपने कई पसंदीदा ब्‍लॉगरों की पिछली प्रविष्टियां नहीं पढ़ पाया था। फुरसत पाकर बारी-बारी से उन्‍हें पढ़ता हूं। आज मैंने आपके ब्‍लॉग की पिछली प्रविष्टियां पढ़कर महसूस किया कि यह साझे प्रयास का बेहतरीन नमूना बन गया है, जिससे पाठकों का पर्याप्‍त मनोरंजन व ज्ञानवर्धन हो रहा है।
    सीमा गुप्‍ता जी की यह कविता बहुत अच्‍छी लगी। पिछली पोस्‍ट में उनकी लघुकथा और अल्‍पना जी, आशीष जी व आप के आलेख भी बहुत अच्‍छे लगे।

    ReplyDelete
  7. "हम नही छोडते
    गीली रेत पर घरौंदे बनाना"
    बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  8. और नहीं भूलते

    अपने कदमों के निशां

    रेत पर अंकित करना

    शायद यही जिंदगी का चक्र है

    और हम बार बार

    यही करते चले जाते हैं अक्सर....
    " jivan chakar yhi hai jo nirantar chalta rhta hai.....bhut komal bhavo se bhri kavita or bhut sunder prstuti tau ji..."

    Regards

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर कविता.. ज़िंदगी का चक्र यूं ही चलता रहेगा..

    ReplyDelete
  10. और नहीं भूलते
    अपने कदमों के निशां
    रेत पर अंकित करना
    शायद यही जिंदगी का चक्र है
    *ताऊ जी,आप की पिछली कविता..'डाकू वाली 'एक तीखा व्यंग्य थी और अब गहरे अर्थ वाली कवितायेँ भी आप की कलम से निकल रही हैं.
    बधाई !
    बहुत अच्छी कविता है.

    ReplyDelete
  11. bahut hi sunder,dohrav bhi zindagi ka hissa hai.

    ReplyDelete
  12. जीवन की सच्चाई बयां करती रचना...सिद्ध हस्त रचना कार सीमा जी की शशक्त कलम को नमन.
    नीरज

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लगी यह .शुक्रिया

    ReplyDelete
  14. और हम बार बार
    यही करते चले जाते हैं अक्सर....sachmuch..

    ReplyDelete
  15. जय सियाराम
    बहुत अच्छी रचना .
    शायद यही जिंदगी का चक्र है की हम बार-बार आपके पास चले आते है .

    ReplyDelete
  16. ताऊ जी को नमस्कार । शानदार कविता लिखी है आपने

    ReplyDelete
  17. अभी अभी अनिलकांत साहब की ब्लॉग से बहुत ही रूमानियत से भरी पोस्ट पढ़ कर आ रहा हूँ. उसके बाद ये कविता, बहुत खूबसूरत.

    आभार

    ReplyDelete
  18. एक झोंके से हवा के,

    लुप्त सब हो जायेगा,

    स्वप्न जो तुमने सजाया,

    सुप्त वो हो जायेगा।

    रेत पर जो लिख रहे हो,

    वो पहाड़ों पर लिखो,

    जिन्दगी की इस इबारत,

    को किवाड़ों पर लिखो।

    ReplyDelete
  19. फ़िर भी ना जाने क्युं

    अनजाने में अक्सर

    हम नही छोडते

    गीली रेत पर घरौंदे बनाना



    और नहीं भूलते

    अपने कदमों के निशां

    रेत पर अंकित करना

    शायद यही जिंदगी का चक्र है


    hmmm ham sab sab kuchh jaante hai, fir bhi fir fir padate hai unhi chakkaro me....!

    uttam darshan

    ReplyDelete
  20. ताऊ,
    बहुत ही गंभीर बात कह गए आप, इतनी छोटी सी रचना में, बाबा कबीर याद आ गए -
    कबीरा गरब न कीजिये ऊंचे देख आवास
    सांझ भये भुई लोटना ता जम आवे घास.

    ReplyDelete
  21. बहुत sanjeeda रचना. इंसान की फितरत ही ऐसी होती है ............

    "हम नही छोडते
    गीली रेत पर घरौंदे बनाना"
    बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  22. ham aadami hai hamara yahi kam hai ki ham sapno aur ret par gar banane ki soachen kyun ki jab ye mahal tutega tab hame ehsas hoga ki ham aadmi hai

    ReplyDelete
  23. ham aadami hai hamara yahi kam hai ki ham sapno aur ret par gar banane ki soachen kyun ki jab ye mahal tutega tab hame ehsas hoga ki ham aadmi hai

    ReplyDelete
  24. ham aadami hai hamara yahi kam hai ki ham sapno aur ret par gar banane ki soachen kyun ki jab ye mahal tutega tab hame ehsas hoga ki ham aadmi hai

    ReplyDelete
  25. ham aadami hai hamara yahi kam hai ki ham sapno aur ret par gar banane ki soachen kyun ki jab ye mahal tutega tab hame ehsas hoga ki ham aadmi hai

    ReplyDelete
  26. बचपन मे एक कविता पढ़ी थी-- नीड का निर्माण फ़िर फ़िर नेह का अह्वान फ़िर फ़िर किनकी थी याद नही है आज आपकी यह कविता पढकर मुझे पुरानी पंक्तियां याद आ गयी । आभार सुन्दर रचना के लिये ।

    ReplyDelete
  27. और नहीं भूलते

    अपने कदमों के निशां

    रेत पर अंकित करना

    शायद यही जिंदगी का चक्र है

    और हम बार बार

    यही करते चले जाते हैं अक्सर....
    वाह वाह क्या बात है

    आभार सुश्री सीमा गुप्ता जी.
    ओर ताऊ जी आप का धन्यवाद इसे हम तक पहुचाने का

    ReplyDelete
  28. @यही करते चले जाते हैं अक्सर....
    बढियां कविता ताऊ !बधाई !





    हे प्रभु यह तेरा-पथ

    ReplyDelete
  29. सुंदर शब्दों में सुंदर अभिव्यक्ति है...

    ReplyDelete
  30. रेत और जिन्दगी शाश्वत सत्य है और क़दमों के निशान गंभीर रचना ....बधाई

    ReplyDelete
  31. फ़िर भी ना जाने क्युं
    अनजाने में अक्सर
    हम नही छोडते
    गीली रेत पर घरौंदे बनाना
    Ati sundar, vicharottejak aur sochon ko jhakjhornewala, dhanyawad .

    ReplyDelete
  32. फ़िर भी ना जाने क्युं
    अनजाने में अक्सर
    हम नही छोडते
    गीली रेत पर घरौंदे बनाना....
    Ati sundar, vicharottejak aur sochon ko jhakjhornewala, dhanyawad .

    ReplyDelete

Post a Comment