रामप्यारी की नमस्ते

नमस्ते अंकलों ..नमस्ते आंटीयों. कैसे हैं आप सब? देखते देखते ही दूसरा शुक्रवार आ पहुंचा और आज भी पोस्ट मुझे ही लिखनी पड रही है. ताई और बीनू फ़िरंगी अभी भी नही लौटे हैं. सैम को तो आप जानते ही हैं कि चुना मे पागल सा हुआ घूम रहा है.सैम का ना खाने का ठीकाना ना कुछ और. मैने अभी एक दिन मिल गया था तब पूछा कि सैम भैया आप शादी क्युं नही कर लेते? आपको खाने पीने का आराम हो जायेगा.

 

तब सैम भैया ने उल्टे मुझसे ही सवाल पूछ लिया  कि – रामप्यारी तू ये बता कि जब मैं बिना शादी किये ही  कुत्ते जैसी जिंदगी बिता रहा हूं तो फ़िर शादी करने की क्या जरुरत है?

 

अब क्या बोलती मैं?  मुझे आलतू फ़ालतू बात करने की आदत तो है नही. सैम भैया नागनाथ पार्टी मे हैं और सांपनाथ पार्टी वाले उम्मीदवार से रोज रात को जमकर महफ़िल बाजी होती है. दोनो ने तय कर लियी है कि कोई भी जीते हम एक दुसरे के अंदर ही अंदर काम आते रहेंगे. यानि जीते या हारे. सैम भैया के तो अब मजे हैं.

 

 

rampyariko मैं पिछले दिनों  आशीष भैया के पास गई थी जयपुर घूमने. वहां ताऊ के लिये एक दो ईंटर्व्यु भी करने थे. आशीष भैया ने मुझे जयपुर के गौरव यानि GT मे शापिंग करवाई. आप ये जो मेरा फ़्राक देख रहे हैं ना? ये उन्होने ने ही मुझे दिलाया था.

 

मैं वहां से ताई को मिलने चली गई तो ताई  ने मुझे बहुत डांटा. कहने लगी – रामप्यारी तू तो एकदम आवारा हो गई है. पढना लिखना भी छोड दिया है? आखिर तू समझती क्युं नही?  ताऊ ने तेरे को एकदम सर पे बैठा लिया है? अरे पढेगी लिखेगी तो तेरे मा-बाप का नाम रोशन करेगी.

 

मैने कहा – ताई आप कुछ कहती हो और ताऊ कुछ और ही कहता है.

 

ताई ने पूछा – क्या कहता है ताऊ?

 

मैने कहा – ताई यही बात एक दिन ताऊ को उसके बाबू (पिताजी) ने कही थी तब ताऊ बोल रहा था कि – बाबू नाम किधर से रोशन होगा? आज राष्ट्रपति,  अटलबिहारी वाजपेई, किरण बेदी , ऐश्वर्या राय और सचिन तेंदुल्कर के मा-बाप का नाम कितने लोग जानते हैं?

 

बस मेरे इतना कहते ही ताई तो भडक गई. बोली – मुझे मालूंम है तेरे को बिगाडने मे ताऊ का ही हाथ है.

 

 

महान लोगों का कहना है कि लडाई झगडा करने के लिये दो लोगों का होना जरुरी है पर यह नियम ताऊ और ताई पर लागू नही होता.

 

पर ताऊ की यह बात कितनी खरी है ? एक दिन मैने ताऊ को कहा – ताऊ आप ये चोरी , लूट और डकैती जैसे काम क्युं करते हो? हमको भी कभी कभी तो शर्म आती है आपको ताऊ कह्ते हुये.

 

इस पर ताऊ बोला – रामप्यारी तू सही कह रही है. सब बुराईयों की जड पैसा है. और जडों की जरुरत सबको होती है. बिना जडों के कोई कैसे जिंदा रहेगा?

 

अब ताऊ की बाते ताऊ जाने. अपने को क्या? अपनी तो मौजा ही मौजा है ताऊ के राज में. अब फ़ालतू बात करने की आदत तो है नही हमको.

 

कल पहेली का दिन है. कल सूबह ७.०० बजे ही पिछले बार  की तरह प्रकाशन होगा. 

और पेपर तो अल्पना आंटी ने सेट करके रख दिया है. अगर मेरे हाथ लग गया तो जो जो भी मेरी फ़्राक की तारीफ़ करेगा उसे मैं बता दूंगी. और साथ मे कोई चाकलेट देगा तो जवाब भी बता दुंगी.

 

अच्छा तो अब कल बोनस सवाल मे रामप्यारी आपको मिलेगी. तब तक वो क्या कहते हैं गुड मोर्निंग या गुड इवनींग..जो भी आपके वहां हो वो ही समझ लिजियेगा., मेरी तरफ़ से.

 

 

 


इब खूंटे पै पढो:-

बात उन दिनो की है जब ताऊ और भाटिया जी स्कूल मे तीसरी कक्षा मे पढते थे.
स्कूल मे एक दिन कोई बडे शिक्षा अधिकारी महोदय दौरे पर आये थे.

अब जैसा कि गांव मे होता है उनके लिये सभी बच्चे कुछ ना कुछ घर से लाये थे.
ताऊ और भाटिया जी भी एक लौटे मे खीर लेकर गये.

हैड मास्टर बडा खुश होकर अधिकारी महोदय से बोला – देखिये ये दोनो बच्चे आपके लिये खीर लेके आये हैं.

अधिकारी बडा खुश होकर भाटिया जी की पीठ थपाथपा कर बोला – वाह बेटे वाह.
तुम कितने अच्छे बच्चे हो जो मेरे लिये घर से खीर बनवा कर लाये हो?

इस पर भाटिया जी बोले – अजी सर जी, आज दूध के भरे बर्तन मे कुत्ता मूंह मार
गया तो मेरी मां बोली – इस सत्यानाशी कुत्ते ने मुंह मार दिया दूध में तो. इब तो तेरे मास्टर  के लिये  खीर बना देती हूं. तो मैं ताऊ के घर से लौटा मांग लाया और
आपके लिये उस लौटे मे खीर ले आया.

अब अधिकारी चिलाता हुआ बोला – बेवकूफ़ कहीं के? तूने मेरे को कुत्ते की जूठी खीर
खिला दी? और ऊठा कर लौटे को जोर से फ़ेंक दिया और लौटा फ़ूट गया.

अब इस बात पर ताऊ जोर जोर से रोने लग गया. ताऊ को रोते देख कर भाटियाजी
भी जोर जोर से रोने लग गये.

अब वो अधिकारी जोर से चिल्ला कर दोनो को दो दो इनिशियल एडवांटेज कान के नीचे देते हुये बोला -  बेवकूफ़ों , पहले तो मुझे कुत्ते की जुठी खीर खिला दी उपर से रोते हो?

 
इस पर ताऊ बोला – सर जी, इस लौटे को लेकर ही तो सूबह खेत मे हम निपटने जाते थे. और इस काम के लिये ये एक ही  लौटा था घर मे. उसको भी आपने तोड डाला.

Comments

  1. रामप्यारी पर फ्राक तो बहुत फब रही है-आशीष अंकल की च्वाईस तो बहुत बढ़िया है.

    खूँटे से बड़ा मजेदार रहा/


    ताऊ, ७ बजे से यहाँ लाईट चली जाती है. अगर संभव हो ६.३० का शेड्यूल कर दें पहेली को.

    ReplyDelete
  2. रामप्यारी को जयपुर की यात्रा मुबारक हो! किस्सा तो बहुत दिनों से सुनते आ रहे हैं। पर वे विद्यार्थी आप और भाटिया जी थे ये आज स्वीकारोक्ति से पता लगा।

    ReplyDelete
  3. राम राम रामप्यारी ...आपकी पोस्ट पढकर खुशी हुई !
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  4. हा हा हा बेचारे मास्साब !

    ReplyDelete
  5. "ओये ओये ओये रामप्यारी....कहाँ चली सज् के कितना मिस किया सीमा आंटी ने तुम्हे होली पे हाँ और नि तो तुम भी ना ....ना जाने कहाँ छिपी थी जाकर रंगों से डर कर....आशीष जी की पसंद लाजवाब है इस नये रूप में क्या खिल रही हो तुम हा हा हा हा हा हा हा हा हा हा "

    Regards

    ReplyDelete
  6. खूंटे पर मास्टर जी को भी मजा आ गया होगा | और हाँ गांवो में आज भी कई मास्टर जी बच्चों से कुछ न कुछ मंगवाते रहते है वो भी ये खूंटा पढ़ले ,फिर कुछ मंगवाने की सोचे |

    ReplyDelete
  7. खूंटे पर पढ़कर मजा आ गया ।
    धन्यवाद । अब कल की पहेली की प्रतीक्षा ।

    ReplyDelete
  8. अरी राम प्यारी तुझे मैं आंटी नजर आती हूँ ..दीदी बोला कर वरना पिटेगी :-D

    आज का खूंटा मस्त था ..

    ReplyDelete
  9. लोटे के डबल शाट से घायल साब से मेरी पूरी हमदर्दी है।मज़ा आ गया।

    ReplyDelete
  10. लोटे के डबल शाट से घायल साब से मेरी पूरी हमदर्दी है।मज़ा आ गया।

    ReplyDelete
  11. ""जब मैं बिना शादी किये ही कुत्ते जैसी जिंदगी बिता रहा हूं तो फ़िर शादी करने की क्या जरुरत है?"
    ताऊ की संगत मैं रह कै,लगै सैम मैं बी इन्सानी बुद्धि जाग पडी.
    अर रामप्यारी तों इब तक फिलम इन्डस्ट्री गई कोन्या? मेरी बात मान ले, तों इबी बी ताऊ का पीछा छोड कै फिलमां मैं चली जा,तेरी जूण सुधर जै गी.

    ReplyDelete
  12. "नमस्ते अंकलों ..नमस्ते आंटीयों. कैसे हैं आप सब? देखते देखते ही दूसरा शुक्रवार आ पहुंचा "-
    देखते देखते सब बूढे हो गए और यह क्या.....ताऊ और राज जी ने यह नहीं बताया कि वह कुत्ता अंग्रेज़ी नस्ल का था, वर्ना वे मार खाने से बच जाते ना!:)

    ReplyDelete
  13. हम तो तुमसे नाराज़ है रामप्यारी.. जयपुर आई और हमसे मिले बिना ही चली गयी.. अब तुम्हारी खैर नही..

    ReplyDelete
  14. रामप्यारी, ये तुमने सही नहीं किया.. सबको बता दिया कि ये फ्रॉक मेरी पसंद की है.. मुझे सुबह से तीन फरमाइशें मिल चुकी हैं ऐसी ही फ्रॉक की (अब ये मत पूछना कि फरमाइश किन दीदियों या आंटियों ने की है).. होली पे वैसे ही बजट गड़बड़ा गया.. अब ये तीन फ्रॉक का जुगाड़ उधारी के पैसों से कर रहा हूं..

    ReplyDelete
  15. वाह आशीष अंकल ने तो बढ़िया शापिंग करवा दी आपको राम प्यारी :)

    ReplyDelete
  16. कोई रामप्यारी की आड़ से आंटी बोलने की प्राक्सी कर रहा है वैसे रामप्यारी तो आंटी ही बोलेगी ना !

    ReplyDelete
  17. आय हाय..रामप्यारी कित्ता बढ़िया फ्राक पहना है. अच्छा चल ये बता कि कौन सा चाकलेट पसंद है तुझे? अच्छा..अभी लाया.

    वैसे ताऊ का कहना ठीक ही है. जड़ पकड़ के रखना चाहिए.

    मैं चाकलेट लेकर अभी आया.

    ReplyDelete
  18. रामप्यारी बड़ी फ़ब रही फ़्राक में। खूंटा चौकस है!

    ReplyDelete
  19. वाह ताऊ हरियाणवियों की सही औक़ात दिख्या दी आज...

    खूंटा जिन्दाबाद...

    ReplyDelete
  20. हाय रामप्यारी कित्ती क्यूट लग रही है...देख मैंने चाकलेट कुरिएर कर दी है, नज़र रखियो कहीं ताऊ ही न चाट कर जाए. खूब सारी भेज दे है मैंने तो अभी से लेकर सुबह सात बजे तक भी खायेगी तो ख़तम न होगा.

    ताऊ खूंटा मस्त है...कहीं दूध में आपही के सैम या बीनू फिरंगी ने मुंह तो नहीं मारा था? नज़र रखिये एकदम खुल्ला छोड़ दिए हैं आप तो.

    ReplyDelete
  21. रामप्यारी, तेरी चाकलेट तो में कुरियर कर रहा हूँ जरा पता बता देना.. बाकी तो तुम्हे पता है काम का..:)

    ताऊ आपका लोटा शहिद हुआ हमें अफसोस ्है..:(

    ReplyDelete
  22. कल का पेपर लीक हो गया। रामप्यारी के पास पहुँच गया। आशीष भाईया ने अच्छी शापिंग करा दी है रामप्यारी की। और हाँ खूंटा हमेशा की तरह अच्छा है। वैसे लोटे के टूटने का हमें भी अफसोस है।

    ReplyDelete
  23. रामप्यारीजी!
    नमस्ते!!!!!
    आप को होली मुबारकसा।
    मने,अब आपसे नजदीकी बनान मे फायदो लागेसे। ताऊ तो चोरी, लूट और डकैती जैसे काम मे मगसुल है। रामप्यारी जी आप बडी ही स्मार्ट लग रही हो, माशाअल्ला फ्राक तो आप पर क्या फब रही है। जब मालविय नगर जयपुर के शॉपिग सेन्ट्रर गोरव टॉवर मे आशिषजी अन्कल के साथ आपको देखा तो बस देखते ही रह गये। बडी खुबसुरत लग रही थी आप। अगर आशिषजी अन्कल साथ नही होते तो एक पखुडीवाला सफेद गुलाब देने कि ईच्छा जागृत थी। पर यह ताऊ का खासम खास जासुस जो तुम्हारे साथ थे। क्यो कि ताऊ को हमारी शिकायत लगा देगा और ताई आपका घर से बहार निकलना बन्द करवा देगे करके दिल पर आघा किलो का पत्थर रख कर चुप चाप खिचक लिया। आप जरुर मुझे फोन करे मेरा घर का नम्बर है xxx-xxxxxxxx और मोबाईल नम्बर है +xx-xxxxxxxxxx ।

    मन के आगन मे कोई बनके गगन छा गया,
    रामप्यारी का सपना सुनहरा,इन आखो को दिखला गया।
    बीते दिन रामप्यारी, अब तेरे वीरानो के,
    खिले है फुल मेरे अरमानो के।

    बेहद हसीन हो गई रामप्यारी, जिन्दगी तुम्हारी
    रन्गीनियो मे खो गई रामप्यारी,जिन्दगी तुम्हारी।

    उजली उजली चॉन्दनी सी,
    फ्रॉक आशिष अन्कल पहना गया।

    मन के आगन मे कोई बनके गगन छा गया,
    रामप्यारी का सपना सुनहरा, इन आखो को दिखला गया।

    नदियॉ उमगो की बहने लगी,
    जिभ चॉकलेटके लिऐ मचलने लगी,

    शॉपिग मिलन के बहाने आशिष से जुडी,
    रामप्यारी को ऊल्लु कोई बना गया।
    .........................................................
    भाटियॉ जी मै नही कहता था यह ताऊ बिगडैल बच्चा है उसकि सगत मे रहकर यही होणा था। अब तक तो अधिकारी ने दो ही चाटे इनिशियल एडवांटेज कान के नीचे बजाऐ है। आगे आगे देखो भाटीयाजी- ताऊ, तुम्हारा क्या हॉल करवा देगा। बडा ही शरारती है यह ताऊ। जब ताऊ जन्म हुआ था तब पुरे हरियाणा मे बिजली गुल हो गई थी। कुत्ते बिलीया रोने लगी थी। शेर चित्ते गुफाओ मे छुप गये थे। धरती कॉप उठी थी, दिन मे अमावस्या का चॉन्द दिख्नने लगा था। जन्म दिलाने वाली दाई मॉ तो बेहोस हो गई थी। नदि तलाब सुख गऐ थे। स्वय भगवान नारायण निचे आऐ थे और धरती वासियो से माफी मॉगते हुऐ कहा था पुरे नारायणलोक कि एसी तैसी कर दि है इस ताऊ के बच्चे ने । सभी देवी देवताओ को चोर डकैत, एवम लुटाईत बना दिया है, यहॉ तक कि मेरे और देवी लक्ष्मी के बिच तलाक कि नोबत ला खडी कि इस ताऊ ने। अत: मै इसे धरती लोक मे आप सभी के हवाले करता हू। बडा ही प्यारा ही बच्चा है पर है थोडा नटखट।

    [क्षमा मेरी मजाकिया टिपणी पर]

    ReplyDelete
  24. रामप्यारी तुम तो बड़ी सुन्दर लग रही हो..
    अभी तो पेपर नहीं बना..ताऊ जी तस्वीरें तलाश रहे हैं..तुम्हारी टीचर से भी मिलना है.
    उन्होंने बुलाया है..और ताई सही कह रही हैं ताऊ ने प्यार में बिगाड़ दिया है..अच्छा हुआ कुश से नहीं मिलीं...कुश से मिल लेती तो वह कोफी पिला कर इंटरव्यू ले ले लेता..और ताऊ जी के सारी पोल पट्टी खोल देतीं तुम!
    ताई जी ...आशीष जी से कहो की रामप्यारी का 'बनस्थली 'में दाखिला करा दो..सुधर जायेगी वहां!
    खूंटा तो शानदार है.हमेशा की तरह!
    चलो मैं जाती हूँ कल की पहेली का जुगाड़ करना है..बाय बाय!

    ReplyDelete
  25. आशीष अंकल की च्वाईस तो बहुत अच्छी है. खूंटा चौकस बन पड़ा है.

    ReplyDelete
  26. मैंने रामप्यारी की फोटो चिठ्ठी चर्चा में लगा दी है वे बेचारी वहां सबको नमस्ते कर रही है .जी ..

    ReplyDelete
  27. यह खूंटे पर चढ़ा अधिकारी - घणा तरस आ रहा है उस पर।

    ReplyDelete
  28. रामप्यारी तो फ़्राक में बढिया लग रही है.

    ReplyDelete
  29. राम प्यारी , एक काम कर जल्दी से मुझे जबाब बता दे कल की पहेली का, फ़िर जितनी चाकलेट कहे गी, ओर जिस भी कम्पनी की चाकलेट मांगे गी, वही चाकलेट तुझे कभी नही दुंगा,
    राम प्यारी की बच्ची तेरे कारण अल्पना आंटी अरे जबान फ़िसल गई.... माफ़ करना अल्पना जी ने मेरी कल वाली पहेली भी नही बूझी, ओर मै तेरी सुंदर फ़राक की तारीफ़ केसे करु, ठहर जा ताऊ ने तेरे को सर पै बिठा रखा है मे दो नये लठ्ठ बेटरी से चलने वाले आज ही ताई को भेज रहा हुं, बस ताई उस का बटन दबाये गी, ओर फ़िर राम पुरिया ओर राम प्यारी का डांस का विडियो यु टुयब मै डाऊन लोड कर के सब को दिखाऊगां.
    अगर बचना है तो जल्दी से अभी जबाब लिख कर भेज दे, कल की पहेली का ,
    राम राम मेरी राम प्यारी जी

    ReplyDelete
  30. rampyaari to badi pyaari lag rahi hai aaj.....aur haan khoonta bhi jhakaas hai!

    ReplyDelete
  31. अरे रामप्यरी, तू तो बड़ी प्यारी लग रही है...बिल्कुल सोनपरी जैसी.....सच में....तेरे लिए
    ढेर सारी टाफियाँ,डायरी मिल्क,किट्केट और मिल्क केक लेकर रखा है...परसों सुबह 7
    बजे आना तुझसे कुछ ज़रूरी बातें भी करनी हैं...और फिर ये सारी चीज़ें तेरी...
    .आएगी ना...?? मैं राह देखूँगी ... उूउऊन्मुआ...........!!

    ReplyDelete
  32. ताऊ जी,
    खूंटा तो लाजवाब है ,रामप्यारी का अंदाज़ भी बड़ा प्यारा लगा !!!

    ReplyDelete
  33. जय हो माता रामप्यारी जी की जय.

    छा गई माताजी आप तो. चरण स्पर्ष करता हूं आपके.:)

    ReplyDelete

Post a Comment