Powered by Blogger.

ताऊ शनीचरी पहेली राऊंड २ (अंक – २)

प्रिय बहणों और भाईयों, भतिजो और भतीजियों सबको शनीवार सबेरै की घणी राम राम. आज हम  ताऊ शनीचरी पहेली  के  दुसरे  राऊंड के अंक दो की पहेली पूछने वाले हैं. पर उससे पहले एक जरुरी घोषणा कर देना चाहते हैं. बाकी की घोषणाएं सोमवार की ताऊ पत्रिका के अंक मे की जायेंगी.

 

जैसा कि आप जानते हैं सुश्री अल्पना वर्मा ताऊ पत्रिका की सलाहकार संपादक के रुप मे संबंधित विषय के बारे मे उनके कालम “ मेरा पन्ना “ को लिखती रही हैं.

 

पहेलियां सुलझाना उनका शौक है. पर वो जबसे इस ताऊ पत्रिका के संपादक मण्डल से जुडी तभी से उनको पहेलियों मे भाग लेना अच्छा नही लग रहा था.

 

उनका कहना था कि लोगों मे इससे यह संदेश जाता होगा कि आपस मे सूचनाए तो इस पहेली से जुडे लोगो को होती ही होंगी. जबकि आप सभी जानते हैं कि सु. अल्पना जी  आज तक भी ताऊ पहेली की प्रथम  विजेता नही बन सकी. उनकी मेरिट न.२ रही और वो भी रेग्युलर जवाब देने के कारण. तो कहानी अपने आप मे साफ़ है.

 

हमने कभी भी किसी को इस पहेली के सवालों मे साझीदार नही बनाया चाहे वो ताऊ पत्रिका की संपाद्क (प्रंबधन) सुश्री सीमा गुप्ता हों या तकनिकी संपादक श्री आशीष खंडेलवाल हों. पत्रिका के संपादकों से पहेली का संबध सिर्फ़ उनके कालम लिखने तक ही सीमित रहा है. जीतना हारना उनकी स्व्यम की योग्यता अनुसार रहा है.

 

अब चुंकि पहेली का स्वरुप धीरे धीरे विस्तार ले रहा है. आप लोगों का सहयोग और प्यार मिल रहा है. सो इस काम को हम अकेले नही कर सकते.

 

पहेली का सवाल ढूंढना इस पूरे काम मे सबसे मुश्किल काम है. क्योंकि हम बिना प्रामाणिकता के कोई पहेली नही पूछते. हमारा उद्देष्य हिंदी भाषा मे अंतर्जाल पर ज्यादा से ज्यादा जानकारी रोचकता और प्रामाणिकता से डालना है.

 

अत: हमने सुश्री अल्पना वर्मा से अनुरोध किया था कि वो हमको इस कार्य मे सहयोग दें तो बहुत अच्छा होगा. तब उन्होने कहा कि अगर मैं सहयोग दुंगी तो मुझे जवाब पहले से मालूम हो जायेगा और ये चिटिंग होगी. हमने उनसे विचार करके जवाब देने का अनुरोध किया था.

 

परसों बुधवार को उनका जवाब आया कि “ताऊजी” पहेली का हल खोज कर फ़िर उस पर पोस्ट तैयार करने मे समय बहुत लगता है और हडबडी भी बहुत होती है. अत: आप मुझे प्रतिभागी के बतौर पहेली से बाहर होने की इजाजत दे दें तो मैं खुशी खुशी आपको सहयोग कर सकती हूं.

 

हमे उन्हे इस बात की इजाजत देते हुये तकलीफ़ तो बहुत हो रही है क्योंकि एक सशक्त प्रतिभागी कम हो जायेगा. जिस सखशियत का जवाब नकल करने के लिए लोग बार बार ब्लाग पर आते हों और आयोजकों को उनका जवाब रोके रखना पडता हों. चाहे वो राज भाटिया जी की पहेली हो  या तस्लीम पर श्री अरविंद मिश्रा जी की पहेली हो.

 

फ़िर भी हमने उनकी बात मान ली है. और अबसे ताऊ पत्रिका  के संचालन मे सु अल्पना वर्माजी सक्रिय रुप से शामिल हैं. यानि पहेली के बारे मे भी उनको सब कुछ मालूम है. सवाल तय करने से लेकर रिजल्ट और अन्य कामों मे अब वो “ विशेष संपादक ”  के बतौर हमारे साथ शामिल हैं.

 

अब से वो ताऊ पहेली मे प्रतिभागी के बतौर  हिस्सा नही लेंगी. प्रतिभागी के बतौर सभी को उनकी कमी जरुर खलेगी पर अब वो हम लोगों के साथ ज्यादा सक्रिय रुप से हिंदी की सेवा कर सकेंगी. उनका इस नये रुप मे स्वागत है. और उम्मीद है कि पहेली प्रतिभागी के तौर पर ब्लागजगत मे जो शोहरत उन्होने पाई है अब इस नये क्षेत्र मे भी वो हमारे साथ मिल कर नये किर्तीमान स्थापित करेंगी.

 

सुश्री सीमा गुप्ता और श्री आशीष खंडेलवाल पहेली से प्रतिभागी के बतौर ही जुडॆ रहेंगे. पहेली संचालन मे आप  दोनों ही शामिल नही हैं. यानि पहेली संचालन हम और सुश्री अल्पना जी करेंगे.  

 

इस काम मे हमको श्री शाश्त्री जी और हमारे गुरुजी समीरलालजी का अवर्ननीय सहयोग और हौसला मिला है.इस पहेली को अगर कुछ सफ़ल होने का श्रेय मिलता है तो वो इन दोनों महानुभावों को जाता है.

 

और इस पहेली को कैसे क्या  स्वरुप दिया जाये और जरुरी सलाह जैसे कि साक्षात्कार वाले आईडिया आदि..  हमे श्री अनूप शुक्ल “फ़ुरसतिया जी” से मिलते रहे हैं. वो भाग नही ले पाते पर पर्दे के पीछे हमसे फ़ोन पर सारी जानकारी लेते रहते हैं. आपका बहुत आभार “फ़ुरसतियाजी”. आपकी हौसला अफ़्जाई हमे और बेहतर करने का हौंसला देती है.

 

 

 

 

 

 

आईये अब आज की पहेली की तरफ़ बढते हैं. नीचे देखिये और पहिचानिये. पहेली के सब नियम पुर्ववत हैं. जवाब कल सुबह ८.०० बजे तक देना है. और रिजल्ट रविवार शाम को तैयार होते ही घोषित कर दिया जायेगा.

 

 

paheli-2-2-Scan0100

              यह कौन सी जगह है?

 

 

ताऊ साप्ताहिक पत्रिका का प्रकाशन सोमवार सूबह पुर्ववत होगा.

 

  

 

 

अब रामप्यारी का विशेष बोनस सवाल : - ३० अंक के लिये.

 

 

 

rampyari_thumb[3]


 
         "रामप्यारी का सवाल"  







आप सबको होली की नमस्ते. पर मेरी टीचर तो मेरी होली की छुट्टी भी खराब करने पर तुली हुई है. अब ये कोई बात हुई कि ऐसे उल्टे सीधे काम मुझे सौंप देती है.

इस सवाल से पीछा छुडवाने के लिये मैं स्कूल से तडी भी मार देती. पर उस दिन स्कूल मे लड्डू बंटेंगे होली के. सो स्कूल तो मुझे जाना ही है. आप मेरा सवाल ध्यान से सुन लिजिये. और आशीष अंकल आप तो बिल्कुल ध्यान से सुन लिजिये. आपने पिछली बार
भी मेरी शिकायत ताऊ से लगा दी थी. बिना बात डांट पडवा दी थी मुझे.

स्कूल मे अबकी बार होली पर बच्चों को लड्डू बांटे जायेंगे. लड्डूओं को बार बार स्वच्छता की दृष्टि से हाथ मे ना लिया जाये और खुले भी ना रखें जाये. इसलिये डिब्बों मे पैक करना है और पैकिंग के लिये खाली डिब्बे कम आये हैं.

प्रत्येक बच्चा एक से लेकर सात लड्डू मांग सकता है. यानि जिसको जितना चाहिये एक से सात तक. अब सवाल  ध्यान से सुनिये.

पैकिंग के डिब्बे कम हैं सो इस तरह पैक करके रखना है कि जिस बच्चे ने तय संख्या मे जितने लड्डू मांगे उतने के डिब्बे उसको ऊठा कर दे दिये जाये. तो बताईये कितने कम से कम डिब्बों मे यह काम होगा?

आपने मेरी कल वाली पोस्ट की ताऊ से शिकायत नही की थी ना? इसलिये इतना सीधा सवाल पूछा है मैनें. तो आप आराम से जवाब दिजिये. आपका सही जवाब मिल जायेगा तब स्कूल जाऊंगी.

आप आराम से जवाब दिजिये तब तक मैं दो तीन मरीज आये हुये हैं उनका केट स्केन करके वापस आती हूं.


और हां मेरे सवाल का ताऊ की टीपणी मे जवाब मत दिजियेगा. मेरे लिये आप एक बिल्कुल अलग टिपणी करियेगा. ठीक है ना?


 

 

 

 


इब खूंटे पर पढो :-


kaka4 हमारे अनुज कवि योगिंद्र मौदगिल जी को खूंटे पर अभी ४ मार्च को ही बांधा था.
सभी लोगों को उम्मीद थी कि ये तो झौठा है, खूंटा ऊखाड कर भग जायेगा. पर उन्होने तो खूंटे पर बंधे बंधे ही खूंटा गजल लिखनी शुरु कर दी है. और खूंटे पर यह गजल लिख कर भेजी है. आप भी आनन्द लिजिये.

हे ताऊश्री फ़कत आप और आपके पाठकों के लिये होली की अनंत-असीम

शुभकामनाऒं सहित.....

 

गधे जब से बिताने लग गये हैं रात खूंटे पर.
सभी ने जान ली है ताऊ की औक़ात खूंटे पर.

 

के बिन झोटे के भी चलता नहीं है काम ताऊ का,
इसी उम्मीद में कटती है ताई, रात खूंटे पर.

 

हमारी आदतें बिगड़ी हुईं है देख ले ताऊ,
तभी तो लिख रहे ग़ज़लें यहां बिन-बात खूंटे पर.

 

कहा अरविंद जी ने जो बहुत ही ठीक है ताऊ,
तुम्हारी जात खूंटे पर, हमारी घात खूंटे पर.

 

यही मस्ती-ठिठोली मांगता हूं, हे मेरे भगवन,
के पूरा दिन हो खूंटे पर, हो पूरी रात खूंटे पर.

 

ये बंदर सैम-बीनू और चंपा-रामप्यारी का,
अगर कुछ भी जो छेड़ा  तो पड़ेगी लात खूंटे पर.

 

उमर गुजरी है सलवट बिस्तरों की ठीक करने में,
के रखते आठ को घर में तो रखते सात खूंटे पर.

 

भैंस में और बीवी में फ़रक़ रखना नहीं ताऊ,
के अब तो रोज ही रंगों की है बरसात खूंटे पर.

--योगेन्द्र मौदगिल



103 comments:

  1. हिंट के बगिर तो नामुमकिन लग रहा है |
    केवल roapway की फोटो देख कर तो नहीं बता सकते भाई |
    वो भी खुद की स्कैन फोटो जो कही भी न मिले |

    राजगिरी, बिहार की फोटो लग रही है

    ReplyDelete
  2. ताऊ, ये उड्डन खटोला कहाँ का है हमें तो नहीं पता ! हमने तो सिर्फ हरिद्वार का उड्डन खटोला ही देखा है वो ये है नहीं | परिणाम घोषित होने के बाद ही हमेशा की तरह अपना ज्ञान वर्धन करेंगे |

    ReplyDelete
  3. taau jagah to bata hi dunga, par lag tai rahi he photo me..:)

    ReplyDelete
  4. इसका नाम है - "बड़ी ऊंची जगह".

    ReplyDelete
  5. tau nainitaal kaa rope way lag raha he?

    ReplyDelete
  6. आज रामप्यारी के लड्डू खट्टे हैं.

    ReplyDelete
  7. ना ताऊ नैनिताल का रोप वे तो कार बंद है.. और मनसा देवी में भी.. ये फोटो तो खुली कार की कहानी है.. भोपाल में एक जैन मंदिर है पहाड़ी पर नाम भूल रहा हूँ.. वहां जाने के लिये भी रोप वे है.. पर पता नहीं ्वो कैसा है.. जब तक कुछ और ढुढे एक तुक्का ये सही... :)

    ReplyDelete
  8. भोपाल भी केंसल. ताऊ ये खुला रोप वे मिला कंहा बिल्कुल सु्रक्षित नहीं है..:)

    ReplyDelete
  9. है तो कोई स्की रिसॉर्ट ही. पेड़ बता रहे हैं की बड़ी ऊंची जगह है - चलो औली कह दिया. अब कह दिया तो कह दिया.

    ReplyDelete
  10. कोई सुन्दर पहाडी स्थल जैसे ओली ,गुलमर्ग .:) बाकी खोज जारी है

    ReplyDelete
  11. ताउ आपका सवाल ही गलत है. आपको पूचना चाहिये कि इस ट्राली मे कौन बैठी है? अगर ये सवाल है तो हमारा जवाब है ताई .:)

    ReplyDelete
  12. रामप्यारी आज तेरे लाड्डू तेरी कल की काफ़ी के तरह कडवे हैं। पहले ट्राली मिल जाये फ़िर खबर करते हैं। वैसे ट्राली का कुछ आईडिया तू ही देदे. तुझे तो ताऊ के सारे राज मालुंम हैं।:

    ReplyDelete
  13. रामप्यारी जी अबकी बार आपके लदू कड़वे निकल रहे है | :)

    ताऊ जी का जवाब तो मैंने दे दिया है राजगीर, बिहार |
    आपका जवाब अभी देता हूँ |

    ReplyDelete
  14. ये किसी कोयला खदान की ट्राली तो नही है?

    ढुंढता हूं.

    ReplyDelete
  15. रामप्यारी पहले मुख्य पहेली सुलझा लेने दो तब तुम्हारा नम्बर आयेगा.

    ReplyDelete
  16. ताऊ ये बहुत गलत बात है आपने ताई को खुली ट्राली मे इतनी उंची जगह बैठा रखा है? कहीं आपकी नियत मे खोट तो नही है? मेरे को तो देख कर ही डर लग रहा है.:)

    जरा ताई के मोबाईल नम्बर देना. मैं जरा हालचाल पूछ लूं.

    ReplyDelete
  17. वकील खूँटे पर बंधा होता है, और यात्राओं से अधिकतर महरूम। उस का नतीजा है कि आप की चित्र पहेलियों का उत्तर देना तो हमने छोड़ रखा है। चित्र देखते ही अपनी असमर्थता नजर आने लगती है।
    रामप्यारी के सवालों उत्तर देते लेकिन आज की पहेली की तो गणित ही नजर नहीं आई। न लड्डुओं की संख्या का पता न डब्बों की का। हाँ एक से सात तक की मांग जरूर पता है। जवाब क्या दें? हाँ सात तरह के डब्बे बनने हैं। जिन्हें सात स्थानों पर अलग अलग रखना है जब बच्चा जितने लड्डू मांगे उतने का डब्बा उठा कर दे दिया जाए।
    हाँ, शनिवार को आप का ब्लाग एक पत्रिका बनता जा रहा है।

    ReplyDelete
  18. "रामप्यारी एक तो तुम इतनी क्यूट हो और बाते भी प्यारी प्यारी करती हो.....ये टीचर का जरा नाम पता बता दो एक बार हड़काना पडेगा की क्यूँ इतनी मासूम बच्ची पर इतना जुल्म ढाती है .

    चल अब ये सवाल का उत्तर लिख ले और पीटने से बच जा
    तीन डिब्बो मे लड्डू पैक होंगे

    एक डिब्बे मे - 1
    दुसरे में- 2
    और तीसरे में - 4
    (1+२+4=7)

    अब बच्चा जो भी मांगे चाहे २, ३, ४, ५, ६, ७ इनसे ही काम चेलगा.

    अगर कोई बच्चा 3 मांगता है तो उसको ( 1+२) वाला मिलेगा
    कोई 6 मांगता है ( 2+4) वाला मिलेगा
    कोई 5 मांगता है (1+4) वाला

    समझ गयी न अब आराम से स्कूल जाओ ओके.

    "bye bye"

    ReplyDelete
  19. ताऊ

    अभी अभी ९ बजे बिजली आई

    रोप वे, राजगिर लग रही ्है. Ropeway Rajgir

    ReplyDelete
  20. राजगिर नालन्दा से १५ किमी दूर स्थित है.

    ReplyDelete
  21. वैसे अगर रायगढ़ कहता तो??

    ReplyDelete
  22. अरे राममारी कुछ तो हिंट दे.:)दिमाग पचा दिया सूबह से.

    ReplyDelete
  23. प्यारी राम प्यारी

    तू एक काम कर..तीन डिब्बे बना ले..एक में १ रख, दूसरे मे २ और तीसरे में ४.

    मान कर चल १ बच्चा ही है.

    अगर १ मांगे तो १ लड्डू वाला, २ मांगे तो २ लड्डू वाला, ३ मांगे तो २ वाला और १ वाला, ४ तो ४ वाला, ५ में ४ और १ वाला ६ में ४ और २ वाला और ७ ही मांग ले भूख्खड़ तो तीनों उठा कर दे देना और रोते हुए बिना लड्डू घर चली आना. हम लड्डू खिलवा देंगे. ओके!!

    ReplyDelete
  24. जोशीमठ के पास आवली

    ReplyDelete
  25. नैनीताल।
    लड्डू तो सात से ज्यादा भी चलेंगे!

    ReplyDelete
  26. दुलारी रामप्यारी के लिए एक कुण्डलीनुमा मुण्डली


    ’रामप्यारी’ आये के, पूछे एक सवाल
    जल्दी उत्तर देई के, अंदर कर लो माल
    अंदर कर लो माल कि पूरे तीस अंक हैं
    जो जीता वो राजा, बाकी सभी रंक हैं..
    कहत समीर, ताऊ की दुनिया है न्यारी
    सबके मन को भाती अपनी ’रामप्यारी’.

    -समीर लाल ’समीर’

    ReplyDelete
  27. खूँटे पे भाई मौदगिल जी ने होली का रंग जमा दिया.

    ReplyDelete
  28. यह है गुलमर्ग की केबल कार (जिसे गंडोला भी कहते हैं)

    ReplyDelete
  29. sirf ropeway se pahchanna kitna mushkil hai...kuch to aur diya hota taau
    mujhe to raajgir laga, par wahan aise ped nahin hote...han troley jaroor aisi hi hoti hai.

    ReplyDelete
  30. ताऊ तो फोटो खिचने लगा है और ताई फो्टो खिचवा रही है... वो आये तब तक लड्डु के पैकेट तो बना दे...तु ऐसा कर १,२,४ लड्डु के पैकेट बना दो.. सभी निपट जायेगें.. १,२,(१+२=३),४,(४+१=५),(२+४=६),(१+२+४=७)

    हो गया न काम रामप्यारी..

    ReplyDelete
  31. जीतने वालों को बधाई और होली की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  32. राजगिरी (बिहार) का उड्डन खटोला(ropeway)

    ReplyDelete
  33. बंधे-बंधे जब बोर हो गए
    तो लिख दी गज़ल खूंटे पर!!
    यही तो अंतर होता है ताऊ जनावर और कवि में:)

    ReplyDelete
  34. ताऊ ये तो गुलमर्ग की केबल कार (गंडोला) है.

    ReplyDelete
  35. मेरे खयाल से यह जगह गुलमर्ग है और रहा सवाल रामप्यारी का तो लगता है वो इस वार लड्डूओ का लालच छोडकर स्कूल न जाये तो ही बेहतर है क्योंकि सवाल अपनी समझ के बाहर है और लगता है वो इस बार जरूर पीटेगी

    ReplyDelete
  36. रामप्यारी आज कहाँ बचपन की यादे ताजा करवा दी कश्मीर की वादियों मे बचपन बीता है हमारा ये गुलमर्ग है और इसको गोंडोला कहते हैं......ये फोटो बहुत पुरानी है क्यूंकि आजकल वहां अब ऐसे ट्राली नहीं मिलते अब पूरी बंद ट्राली होती है शीशे वाली.....खैर बहुत घुमाया आज सारा कश्मीर घूम लिया बिलकुल ऐसी फोटो तो नहीं मिली ....

    Regards

    ReplyDelete
  37. ताऊ जी, राम राम
    इस बार तो घणा कड़ा सवाल पूछ लिया अपने.
    पहले तो चित्र देखकर मुझे लगा की यह राजगृह (नालंदा, बिहार) का रज्जुमार्ग है. लेकिन वहां की कुर्सियों का आकार दूसरा है. गुलमर्ग की कुर्सियां बंद होती हैं.
    मैं कन्फर्म नहीं हूँ लेकिन लगता है की ये अमेरिका के गुटलिनबर्ग का एरियल ट्राम वे है जो स्मोकी माउनटेंस नेशनल पार्क से होकर गुजरता है.

    ReplyDelete
  38. रामप्यारी ने तो दिमाग का दही बना दिया.
    अरे पहले ये तो बताओ की कितने लड्डुओं का बजट है.
    लड़के उसी अनुसार बुलाए जाएंगे. जब मांग के अनुसार वितरण होगा तो फिर एक-दो तो कोइ मांगने से रहा. सीधा सात सात डालो डब्बों में. पता चले बात में छह डब्बों का माल निकल कर एक में डालना पड़ रहा है और डब्बे बर्बाद हो रहे हैं. कम से कम ७ डब्बे तो चाहिए ही. पहले बता दूं की तुक्का लगाया है.

    ReplyDelete
  39. रामप्यारी, सॉरी.. मैंने ताऊ से तुम्हारी शिकायत नहीं की थी.. मैंने तो बस तुम्हारा एक शब्द पकड़ लिया था और ग़लती यह हुई की उसका स्पष्टीकरण ताऊ से मांग लिया। मैंने सोचा कि तुम बालिग नहीं हो इसलिए मैं संरक्षक से सीधे ही बात कर लूं। खैर.. अब मुझे पता चल गया कि तुम बहुत समझदार हो.. आगे से सारी बात सिर्फ और सिर्फ तुमसे ही करूंगा..

    आज वाली पहेली का जवाब कुछ यूं होगा..
    इस काम के लिए कम से कम तीन डिब्बे चाहिए.. 1, 2 और 4 लड्डुओं के। इनके जरिए एक से सात तक किसी भी संख्या में लड्डू बांटे जा सकते हैं। तुम्हें होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं...

    और हां धुलंडी का अपना फोटो जरूर पोस्ट करना--- हम भी तो देखें रामप्यारी उर्फ भीगी बिल्ली

    ReplyDelete
  40. प्रणाम ताऊ.. आज वाली पहेली काफी मुश्किल है.. पता नहीं फोटो किस जमाने की है.. पर मैंने (थोड़ी जुगत- थोड़ी चीटिंग) से पता कर ही लिया है.. जुगत यह है कि इसका जवाब मैंने टिप्पणियां पढ़कर ही पता किया है.. कुछ पचमढ़ी लिख रहे हैं तो कुछ नैनीताल.. कोई राजगिर लिख रहा है तो कोई गुलमर्ग .. मैंने इन चारों जगहों को लेकर विशेषज्ञों की मदद ली.. बुजुर्ग विशेषज्ञों का पैनल इसी नतीजे पर पहुंचा कि यह गुलमर्ग है.. इसलिए मेरा जवाब तो गुलमर्ग ही लॉक कर दो..

    ReplyDelete
  41. ताऊ.. अगर मैं कहूँ कि ये बिहार वाला राजगिर है तो क्या कहोगे..

    ReplyDelete
  42. रामप्यारी जी कम से कम चार डिब्बे लगेंगे |

    ReplyDelete
  43. रामप्यारी जी कम से कम चार डिब्बे लगेंगे |

    ReplyDelete
  44. खूंटे पे बंधे मौदगिल जी तो होली के रंग में सरोबार हैं ही साथ ही भाई समीर लाल जी की कुण्डलीनुमा मुंडली भी मस्त है.....

    ReplyDelete
  45. गुलमर्ग का रोप वे ।
    रामप्यारी का जवाब बाद में ।

    ReplyDelete
  46. Champaner-Pavagadh Archeological Park India

    ReplyDelete
  47. ताऊ, आप बेईमानी कर रहे हो...ये हिंट भी कोई हिंट है, ऐसे नदी नाले तो भारत में कितने जगह होंगे इसमें कैसे पहचाने वैसे आपने मेरा जवाब रोक के रखा है तो सही ही होगा ऐसा मानते हैं. ऐसी खुली हुयी चेयर कार राजगीर में है ये पता था पर चूँकि आपने बहुत पुराना फोटो लगाया था तो मुश्किल हो रही थी की क्या पता पहले ऐसे ही चेयर कार सब जगह हो फिर बाद में सुरक्षा के कारण केबिन चलने लगे हों. रोपवे में कई जगह गयी हूँ पर हर जगह केबिन ही मिला है...पटना में छह साल रहने के बावजूद कभी राजगीर जाना नहीं हो पाया, बगल में था न, हमेशा लगता था कि कभी भी चले जायेंगे.
    राजगीर बिहार के नालंदा डिस्ट्रिक्ट me आता है और मगध कि पहली राजधानी रहा है...यहाँ के बौध्ध मठों को देखने लोग दूर दूर से आते हैं, यहाँ गरम पानी का कुंड भी है. ये रोपवे रत्नागिरी में बने स्तूपों तक पहुँचने के लिए है.
    रोपवे अक्सर बंद रहता है क्योंकि दुर्घटनाएं बहुत हुयी हैं, इसी कारण हम कभी नहीं गए, जब भी जाने का प्लान बनता था पता चलता था कि रोपवे बंद है मरम्मत का काम चल रहा है. मेरी मम्मी नानाजी लोग के साथ बचपन में गयी थी तो उसका फोटो देखे थे...इसमें चढ़ने में सबको डर लगता था, क्योंकि इसमें बाँधने को कुछ नहीं होता था, और मम्मी बताती थी कि कई बार चलते चलते बीच में रुक जाती थी ट्रोली...उस वक़्त वाकई बड़ा डर लगता था.
    रामप्यारी का सवाल कांफ्युजिंग है शायद नहीं समझ में आएगा, उसपर बदमाश को देखो बोल रही है कि आसन सवाल पूछे हैं.

    ReplyDelete
  48. पिछला जवाब निरस्त.

    ये गुलमर्ग से खिलनमर्ग जाने वाला रोप वे है जनाब. पेद भी चिनार के दरख्त ! साथ वाले चित्र से पता चल गया है.

    ताऊ और अल्पनाजी को साधुवाद, कि अल्पना जी नें पहेली में अपना बलिदान दिया. ये त्याग व्यर्थ नहीं जायेगा.

    ReplyDelete
  49. ताऊ जी,आज सच में पहेली कठीण लग तो रही है..एक क्लु -'तस्वीर 'लगाई गयी है..जगह की पहचान हेतु..
    यह तस्वीर पुरानी है ...दूसरे राउंड की पहेली है इस लिए थोडी मुश्किल है..
    लेकिन सही जवाब भी आने लगे हैं..इस लिए निराश न हों..जवाबों में ही कहीं जवाब मिल जाये..तलाशते रहीये!
    आज क खूंटे पर मौदगिल जी की कविता भी खूब रंग जमा रही है...जो जवाब खोजते थक गए हैं योगन्द्र जी की खूंटी ग़ज़ल पढ़ लें...आनंद आ जायेगा

    ReplyDelete
  50. गुलमर्ग काश्मीर -iइत्ती सरल पहेली. :)

    ReplyDelete
  51. वैसे तो मनसा देवी भी हो सकता है और पचमढी काअ रोप वे पर हमारी टेक है पचमढी काअ रोप वे

    आपको और आपके परिवार को होली मुबारक

    मौदगिल जी ने होली का रंग जमा दिया, aage aage kyaa hoga pataa nahi.

    ReplyDelete
  52. ताऊ, हमे तो यह नैनीताल वाला रोप वे लग रहा है.. पहले लगा की राजगीर वाला है.. मगर बाद में बगल वाला क्लू देखा तो समझ गये की यह राजगीर का नहीं है.. वहां नीचे कहीं भी पानी नहीं बहता है.. :)

    ReplyDelete
  53. और रही बात रामप्यारी की तो लगता है भांग के नशे में आज का सवाल पूछी है.. कहीं कोई गणित नहीं दिखा मुझे.. :)

    ReplyDelete
  54. ताऊ यु तो हमारी ताई लग रही है, बडा पोज बना कर फ़ोटू लिया आप ने, मेरे को तो वेजंती माला दिख रही है....:)
    अब जगह ऊंटी को या खूंटी मेने बुझनी तो नही

    आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी भीगी भीगी बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

    ReplyDelete
  55. रामप्यारी ये टीचर ने कैसा सवाल पूछा है न कोई गलत जवान न ही सही??????????? लगता है इब की बार पिटाई पक्की.......इब क्या होगा रामप्यारी.....इब कौन बचायेगा तनने.....ये कहाँ ताऊ जी की बातो में आगयी.....तुम भी......चल तब तक कोई उपाए खोजते हैं हम .....

    आज तो कवी महाराज जी छा गये खूंटे पे.....होली के रंग है खूंटे पे.......हा हा हा हा मजेदार...

    Regards

    ReplyDelete
  56. पेड़ बता रहें हैं ठंढी जगह है ..इससे ज्यादा नही पता.

    ReplyDelete
  57. नमस्ते अंकल और आंटियों,

    मेरे सवाल के सही जवाब भी आ चुके हैं. आप जरा ध्यान से सवाल पढियेगा.

    मैने बहुत ही सीधा सवाल पूछा है. पिछले बार आशीष अंकल ने बिना पढे ही गलत जवाब दे दिया और जब मैने नम्बर काट लिये तो तऊ से शिकायत लगा दी.

    पर अबकी बार सवाल उन्होने ठीक से पढा और सही जवाब दे दिया.

    अब सवाल ३० नम्बर का है. फ़िर मत कहना कि रामप्यारी तूने तो बताया ही नही था. क्योंकि रामप्यारी को बेफ़िजूल बात करने की आदत तो है नही.

    अब आप जानो.

    ReplyDelete
  58. हाय समीर अंकल,

    आपकी मुंडली बहुत मजे की लगी. सोमवार को ये वाली मुंडली स्कूल मे टीचर मैम को सुनाऊंगी तो वो खुश हो जायेगी.

    और मेरे सवाल का जवाब तो आपने बता ही दिया. अब तो मेरी मस्ती है होली तक. अब स्कूल जाके पुरे सात लड्डू लाऊंगी. जितने खाये जायेंगे मैं खा जाऊंगी और बचे तो आपको भिजवा दूंगी.

    ReplyDelete
  59. ताऊ ये जगह तो मुर्ग गुल है. और रामप्यारी को जवाब रात को देंगे

    ReplyDelete
  60. ताऊ मेरा जबाब नहीं मिला?.. मतलब आपने रोका हुआ है... याने याने याने.. तुक्का लग गया..

    दोनों लग गये ताऊ.. अब जब तक सही पता न चले गलतफहमी में जी लेते है...

    ReplyDelete
  61. हाय सीमा आंटी,

    आपने मेरे सवाल का जवाब दे दिया अब तो पक्का है कि मैं स्कूल मे पि्टुंगी नही.

    और सबके लिये एक जरुरी सूचना है कि अबकि बार कोइ गडबड जरुर है. मुझे भी अभी तक समझ नही आया है.

    पहले ताऊ बता दिया करता था कि इतने लोग संदेह मे जांच के लिये रोक लिये गये हैं. पर आपने देखा कि अबकि बार ताऊ सूबह से यहां कुछ बताने आया ही नही है.

    अब मेरा दिल तो बहुत नर्म है इसलिये बता देती हूं, कि जो दिखता है वो है . और जो नही दिखता है वो नही है.

    पर मेरा नाम तो आप लेना मत. मैने चुपचाप झांक कर देखा था कि अल्पना आंटी ने बहुत सारे लोगों (टिपणीयों) को रोक रखा है, होंगे कोई दो दर्जन.

    और ताऊ के साथ क्या बात हुई ये तो मुझे सुनाई नही दी पर आप होशियार रहना अबकि बार. मुझे तो बहुत ही गडबड लग रही है.

    फ़िर मुझे दोष मत देना कि रामप्यारी तुम्हारे रहते ये क्या हो गया?

    अबकि बार सारा किया धरा अल्पना आंटी का है सो सोच समझ कर जवाब देना. क्योंकि वो पहेलियों कि नस नस से वाकिफ़ हैं.

    पर मेरा नाम हरगिज भी मत बताना.

    मेरा सवाल बहुत ज्यादा सीधा है इसलिये आपको टेढा लग रहा है. थोडा ध्यान से पढिये बस जवाब मिल जायेगा.

    और एक बात बताऊं? मेरा नाम तो नही बतायेंगे ना? मेरा सवाल भी अबकी बार अल्पना आंटी ने ही बनाया है. आपको विद्द्या माता की कसम..मेरा नाम मत बताना प्लिज.

    ReplyDelete
  62. रामप्यारी के सवाल का जवाब तो 7 डिब्बे होना चाहिए,जिनमें क्रमश: 1 से लेकर 7 तक लड्डू डाल के रख दिए जाएं........बाकी तो राम जाने या रामप्यारी या रामप्यारी की टीचर या अल्पना जी या फेर ताऊ.....

    ReplyDelete
  63. ओहो रामप्यारी तुम भी न..
    शाम हो गयी है..इस लिए यह बताना जरुरी है की जिनके जवाब रोके हुए हैं वे यह न समझें कि उनके जवाब सही ही होंगे...और जिन के जवाब बाहर हैं वे यह न समझें कि वे जवाब गलत हैं..
    है न गड़बड़!
    होली है न सब माफ़ है!
    अगली बार आसान पहेली लायेंगे.
    रामप्यारी तुम्हारा सवाल आसान है..बस ७ लड्डुओं को कम से कम डिब्बों में पैक करना है जिससे कोई बच्चा १ से ७ की संख्या में जितने लड्डू मांगे--कम या ज्यादा --मैं डिब्बे में ही दे सकूँ..चाहे २ मांगे या चार!या फिर ७!

    ReplyDelete
  64. मिल गया जवाब गुलमर्ग ही है

    ReplyDelete
  65. पूजा जी ने कहा की पटना में रहने के बाद भी राजगीर नहीं जा पाए.
    यहाँ हम नालंदा के होकर अभी तक सिर्फ दो बार गए है.
    उसपर भी रज्जुमार्ग की सवारी नहीं कर पाए.
    अब ताऊ ने जोश जगा दिया है, इस बार गर्मी की छुट्टियों में तो इस उड़न खटोले का मजा लेना ही है.
    नालंदा और राजगीर के बारे में कुछ जानकारी मेरे ब्लॉग पर भी उपलब्ध है. अगर जिज्ञासा हो तो देख सकते हैं.
    नालंदा - http://jnuindia.blogspot.com/2008/11/nalanda.html
    राजगीर - http://jnuindia.blogspot.com/2008/11/blog-post_13.html

    ReplyDelete
  66. ताऊ जी डिब्बे तो कम से कम ४ ही लगेंगे | :)

    ReplyDelete
  67. ताऊ जी डिब्बे तो कम से कम ४ ही लगेंगे |

    ReplyDelete
  68. शायद गुलमर्ग ही है! इस बार का सवाल कठिन लगता है हिंट भी बहुत ही सामान्य सी है - रोप वे कई जगहों पर है और ऐसी नदी के चित्र भी!

    ReplyDelete
  69. गुलमर्ग का गिंडोला....अबकि तो सही है ना ताऊ

    ReplyDelete
  70. अजी जब हम मसूरी गए थे तो वहाँ माल रोड के पास एक जगह भीड लगी थी कारण पूछा तो बताया कि उड्डन खटोला में घूमने वालो की भीड है। पर उड्डन खटोला देखा नही। बाकी तो हम पता नही। क्या पता ये वही का उड्डन खटोला हो। और हाँ जी सवाल जवाब सोचते-2 तो हमारे सिर में दर्द हो जाऐगा। ये हमारे वश की बात नही। और खूंटे पर योगेन्द्र जी ने बहुत ही बेहतरीन लिखा, मजा आ गया।

    ReplyDelete
  71. एक जरुरी सूचना :-


    कल रविवार सूबह ८.०० बजे के बाद आये हुये जवाब किसी भी तरह से
    मंजूर करना हमारे लिये संभव नही होगा. . आपसे नेवेदन है कि कल
    सूबह आठ बजे के पहले अपने जवाब देने की कृपा करें.


    रिजल्ट कल रविवार शाम तैयार होते ही घोषित कर दिया जायेगा.


    आभार

    ReplyDelete
  72. अरे ताऊ ये क्या किया...? अल्पना जी चीटिंग कर लेते थे उन्हें भी आपने
    अपनी चल में फसा लिया ये तो सरासर गलत है....पिछली बार आपने सीमा जी दिया जवाब भी नहीं छापा...?
    रामप्यारी तू तो बड़ी प्यारी प्यारी बातें करने लगी है अगली बार मैं तुझे जरुर दूध पिलाऊंगी .....समझ रही है न...?? और कुछ चाहिए हो तो वो भी बता देना.....अगली बार साडी बातें जरा ध्यान से सुनना ....ठीक ...?? मिआऊं ..मिआऊं मेरी सखी ..अच्छी अच्छी मेरी सखी...!!

    ReplyDelete
  73. काम तो ३ डिब्बों में भी हो सकता है, पहले डिब्बे में १, दूसरे में २ और तीसरे में ४ लड्डू रख दो। १ से लेकर ७ तक लड्डू इन तीन डिब्बों के संयोजन से दिये जा सकते हैं।

    ReplyDelete
  74. ताऊ हम जिंदगी मे एक बार ही इस उडनखटोले मे बैठे हैं और वो भी गुलमर्ग काश्मीर में. दिन मे हमको नाम याद नही आ रहा था सो हमने इसको मुर्गा गुल लिख दिया था.

    अब सुधार कर्लो ये मुर्गा गुल नही बल्कि गुलमुर्गा है, काश्मीर का.

    ReplyDelete
  75. पहेली का जवाब तो दे ही दिया है, गुलमर्ग से खिलनमर्ग का रोप वे.

    अब रामप्यारी के सवाल का जवाब.

    कम से कम ७ डब्बे चाहिये, ऐसा करने के लिये.

    ReplyDelete
  76. रामप्यारी के सवाल का जवाब:
    एक (a), दो (b), और तीन (c)
    1=a
    2=b
    3=c
    4=b+b
    5=b+c
    6=c+c
    7=a+c+c

    ReplyDelete
  77. ब्‍लाग खूंटे पर
    ब्‍लॉगर्स खूंटे पर
    और
    ब्‍लॉगरियां रखें
    सबको ठूंगे पर।

    ReplyDelete
  78. यदि सवाल को सही समझा है तो इसका हल है तीन समूहों में डिब्बे
    पहले समूह में - 1 लड्डू
    प्रति डब्बा
    दूसरे समूह में - 2 लड्डू प्रति डब्बा
    तीसरे समूह में - 4 लड्डू प्रति डब्बा
    इस प्रकार 1-7 तक की किसी संख्या को इनके भिन्न संयोजनों से निरूपित किया जा सकता है -

    यदि सही समझा है हमने तो यह पहेली इसी प्रकार की है जैसे कभी पहेलीबाज़ ने पूची थी - नारद जी की छड़ी के नाम से - यह रहा लिंक
    http://pahelee.wordpress.com/2006/05/12/narad-ji-ki-chhadee/

    पहले प्रश्न का उत्तर यदि समझ में आया तो दूसरी टिप्पणी में

    ReplyDelete
  79. शायद यह गुलमर्ग स्थित गुलमर्ग-खिलनमर्ग के बीच स्कीईंग स्लोप पर पहुँचाने वाली स्की-लिफ़्ट है

    ReplyDelete
  80. ताऊजी १००% बिहार वाला राजगिर ही है। यहॉ राजगिरी मे हमारा जैन तीर्थ भी है जहॉ ८ वर्ष पुर्व हम वहॉ गये थे जिसमे बोधगया, लच्छवाड, पावापुरी, सम्मेद शिखरजी ईसमे से कुछ स्थान झारखण्ड मे चले गये है। बाकी रात बहुत हो चुकी है सुबह महिला दिवस है जो इसका जवाब पत्नी से भी पुछ लुगा वो इस मामले मे अधिक याददास्त रखती है। :)(:

    ReplyDelete
  81. रामप्यारी तुम्हारे वहॉ क्या होली मे स्कुल खुले रहते है ?
    अरे बेटा, मुम्बई आजा, ये ताऊगुरु तो तेरा छोटे से मजग का बन्टा-धार करने के चक्कर मे है। तेरे से पहले ताऊ कि इस दुकान पर लालाजी व भाटीयाजी मिठाई के बक्से तैयार करते थे। एक दिन को वो तेरे इस ताऊ से पिछा छुडाकर रात कि ११ बजे भागे थे। अब तु पुछेगी, 'रात ११ बजे ?
    वो इसलिये आधीरात को ताऊ जाग जाता है और काम पर लग जाता है । रात कि ११ बजे ताऊ खरार्टे खिचता तभी भागने का मोका मिलता है।

    ReplyDelete
  82. भाईयों, बहणों,भतिजियो और भतीजों आप सबका घणा शु्क्रिया.

    कल की पहेली का संचालन अल्पना जी ने किया और उन्ही की बनाई गई प्रक्रिया को अपनाते हुये कल की टिपणियों का प्रकाशन हुआ.शेष रोकी गई टिपणियां अभी सूबह ८.१० AM प्रकाशित कर दी गई हैं.

    जवाब देने का समय समाप्त हो चुका है.

    रिजल्ट बनना शुरु हो गया है. जैसे ही तैयार होगा प्रकाशित कर दिया जायेगा.

    आपका पुन: आभार

    ReplyDelete
  83. राम राम,

    इमानदारी की बात कहें तो कल से खोज रहा हूँ.. पूरे हिन्दुस्तान के रोप वे खोज डाले पर आप वाला नहीं मिला.. थोडा़ मिलता जुलता बिहार वाला था.. पर आस पास के पेड ये उत्तर नकार रहे थे..

    और मुश्किल ये की आपने सारे कमेंट छाप दिये.. और मुझे तो उत्तर अब भी पता नहीं चला.. हाँ इतना जरुर है कि या तो ये राजगीर है या गुलमर्ग...

    अब सही क्या है ये तो बाद में ही पता चला.. शानदार पहेली (जो कम से कम मेरे लिये तो २४ घण्टों के बाद भी पहेली है..) के लिये आपको घणी बधाई..

    राम राम

    ReplyDelete
  84. पिछली पहेलियों में शुभम ने शिकायत की थी ,रामप्यारी का जवाब कॉपी कर के सभी अपना स्कोर एक सा कर लेते हैं ,इस लिए अब से रामप्यारी का जवाब गलत या सही कोई भी...निर्धारित समयावधि से पूर्व बाहर नहीं किया जायेगा.
    हाँ ,पहेली के जवाब मिले जुले बाहर आयेंगे या रोके जायेंगे.इस से रोचकता बनी रहेगी.[और परेशानी भी!]
    यह एक प्रयोग के तौर पर किया गया है..अगर आप इस से इत्तिफाक नहीं रखते तो अपने सुझाव दे सकते हैं.
    लेकिन ,इस से सभी को बराबर मौका मिल payega.
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  85. ताऊ जवाब देखने आये थे. अबकी बार सारे जवाब पढ डाले पर कुछ पक्का अभी भी नही है. लगता है ये वाकई सैकिंड राऊंड है. थोडा कठीन हो गया है. और होना भी चाहिये.

    रंजन जी सही कह रहे हैं कि ये तो अभी तक भी पहेली है. जवाब का इंतजार करते हैं.

    ReplyDelete
  86. अब रामप्यारी का जवाब देने से कुछ फ़ायदा नही है. समय सीमा समाप्त हो चुकी है. और ये अच्छा है कि समय सीमा रखी जाये.

    रामप्यारी का जवाब तो टिपणियों मे मिल गया पर मुख्य पहेली का नही मिला.

    ReplyDelete
  87. ये पहली बार हुआ है कि सारे जवाब प्रकाशित होने के बाद भी सस्पेंस बरकरार है. समय तो समाप्त हुआ पर मेरा अब भी कहना है कि ये राजगिर ही निकलेगा.

    जवाब का इन्तजार करते हैं.

    ReplyDelete
  88. इस प्हेली मे मजा आया. शादी और फ़ेरे हो गये और अभी तक ये भी नही पता चल पा रहा है कि दुल्हा कौन ? और बाराती कौन?

    जय हो ताऊ तेरी.

    ReplyDelete
  89. ताऊजी शायद आपने दुकान बन्द कर दीहै। पर कोई बात नही फिर भी जो पत्नी से पुछा वो लिख रहा हु

    वैसे हम राजगृह गये थे तो वो जापानी मन्दिर रोपवे से गये थे। पर शायद या तो अब लिप्ट नया लगा है या तो राजगृह मे ही दुसरा लिफ्ट है शान्ती स्टूपा । जपानी मदिर कि लिफ्ट को उपर सजा बना हुआ है और वहॉ ईतने लम्बे पेड नही है। पर शान्ती स्टूपा मे लिफ्ट नगी-भुन्गी है ना छत है ना पैक कुर्सी नुमा को आगे से बन्द कर दिया जाता है।

    वैसे लिप्ट तो हिन्दुस्थान मे बहुत जगह जैसे सापुतारा गुजरात, अम्बाजी गुजरात,

    Shanti Stupa: The Vishwa Shanti Stup is located on a 400 meter high hill. The stupa is built in marble and on the four corners of the stupa are four glimmering statues of Buddha. To reach the top of this hill one has to come through the “Ropeways”. This place is also called the GriddhKoot.

    ReplyDelete
  90. समस्त टिपणियों को ध्यान से पढने के बाद यह लगता है कि ६० प्रतिशत मुर्गा गुल है..अरे भाई गुलमुर्गा है और ४० प्रिशत मे राजगिर है.

    आज का रिजल्ट देखने के बेताबी रहेगी. ताऊ जरा जल्दी करो ना. रिजल्ट बनाते रहना आराम से. सिर्फ़ एक टिपणी ही कर दो कि ये जगह कौन सी है? जिससे दिमाग की खट खट तो मिटे.

    प्यारी रामप्यारी तू ही आकर कुछ बता जा. तुझे मैं १०० रुपये वाला डेरी मिल्क का चाकलेट का डिब्बा दूंगा.:)

    ReplyDelete
  91. समस्त टिपणियों को ध्यान से पढने के बाद यह लगता है कि ६० प्रतिशत मुर्गा गुल है..अरे भाई गुलमुर्गा है और ४० प्रिशत मे राजगिर है.

    आज का रिजल्ट देखने के बेताबी रहेगी. ताऊ जरा जल्दी करो ना. रिजल्ट बनाते रहना आराम से. सिर्फ़ एक टिपणी ही कर दो कि ये जगह कौन सी है? जिससे दिमाग की खट खट तो मिटे.

    प्यारी रामप्यारी तू ही आकर कुछ बता जा. तुझे मैं १०० रुपये वाला डेरी मिल्क का चाकलेट का डिब्बा दूंगा.:)

    ReplyDelete
  92. समस्त टिपणियों को ध्यान से पढने के बाद यह लगता है कि ६० प्रतिशत मुर्गा गुल है..अरे भाई गुलमुर्गा है और ४० प्रिशत मे राजगिर है.

    आज का रिजल्ट देखने के बेताबी रहेगी. ताऊ जरा जल्दी करो ना. रिजल्ट बनाते रहना आराम से. सिर्फ़ एक टिपणी ही कर दो कि ये जगह कौन सी है? जिससे दिमाग की खट खट तो मिटे.

    प्यारी रामप्यारी तू ही आकर कुछ बता जा. तुझे मैं १०० रुपये वाला डेरी मिल्क का चाकलेट का डिब्बा दूंगा.:)

    ReplyDelete
  93. ताऊ टेशन नही लेणा यह तो अन्दर कि बात है। छाप जरुर दियो। क्यो कि आज वुमन डे है हमे आज हमारी तक्कदीर वुमनस के हाथो मे देकर आजके दिन को ऐप्रिसिट करना है क्यो कि जवाब पत्नी ने सुझाया था सो बता दिया। ताऊ आज वुमन डे है क्यो न कोई तरिका इजाद कर पहेली का विजेता महिला को बना दिया जाये।

    जयजिनेन्द्र

    राम राम

    जय वुमन डे

    जय ताऊकी

    जय रामपियारीकी

    ReplyDelete
  94. ताऊ हम तो कल आफ़िस के चक्करों भाग लेना ही भूल गये थे. आज याद आई तो इधर देखा. ये तो अब भी एक पहेली ही है. समय सीमा तो समाप्त है खैर कोई बात नही पर सब टिपणियों का सार निकालने के बाद ये गुलमर्ग होने की संभावना ज्यादा है.

    ReplyDelete
  95. हैलो आंटियों और अंकलों नमस्ते. आज महिला दिवस है उसकी भी नमस्ते.

    बीनू फ़िरंगी भैया अपने कंप्युटर पर अभी आकर बैठ गये हैं और रिजल्ट बनाना शुरु कर दिया है. जैसे ही तैयार हो जायेगा वो ताऊ को मंजूरी के लिये दे देंगे.

    और तिवारी अंकल आपने मुझसे पूछा है तो सही मे मुझको मेरे सवाल का जवाब पता नही रहता तो इतने बडे सवाल का मुझे क्या पता? और मुझे लिखना पढना तो आता ही नही.

    पर आप चाकलेट तो भिजवा ही दो. मैं आपका दिल तोडना नही चाहती वर्ना लोग कहेंगे कि देखो रामप्यारी के भी नखरे बढ गये एक जरा सा बोनस सवाल पूछने मे ही..

    चाकलेट तो आप कभी भी बिना मुझसे पूछे भी भेज सकते हॊ. ठीक है ना अतिवारी अंकल?

    ReplyDelete
  96. अल्पनाजी नें जो प्रयोग किया है वही सही है. अन्यथा पहेली का कोई मतलब नहीं रह जायेगा.यही जारी रखें ये अनुरोध.

    ReplyDelete