Powered by Blogger.

ताऊ की रविवारीय माथापच्ची

kids with sheeps

 

उपरोक्त चित्र आपके लिये हिन्ट है ! यह भेडों का झुंड है और इनका मालिक कार के आगे से इनको हटा कर रास्ता बना रहा है ! दो बच्चे कार से उतर कर इस झुंड के बीच चले गये हैं !

 

अब नीचे के चित्र को देखिये :-

 

गडरिये अपना सामान ढोने के लिये अपने रेवड के साथ गधे और ऊंट रखते हैं ! अब आपको सिर्फ़ इतना बताना है कि गधे की पीठ पर बंधी हुई पोटली मे क्या सामान है और ये पीछे वाला बच्चा इस पोटली मे हाथ डाल कर क्या निकाल रहा है ?

 

 

kids with donkey

 

है ना बिल्कुल आसान सवाल ? तो फ़टाफ़ट जवाब दिजिये ! और प्रथम तीन विजेताओ को भाटिया जी की तरफ़ से शानदार गिफ़्ट हैम्पर का वादा है !

 

 

 

 

इब खूंटे पै पढो :-

ताई : रात को तुम इतनी शराब पी गये कि तुमको गटर मे से निकलवा कर लाना पडा ?

ताऊ : अब क्या बताऊ डार्लिन्ग ? सब गलत संगत का असर है !

चिल्लाते हुए ताई बोली : गलत संगत को दोष मत दो ! तुम बहुत ज्यादा पीने लगे हो !

ताऊ : अब देखो ना , कल कितनी ना-इन्साफ़ी हुई कि हम चार दोस्त और हमारे बीच मे एक बोतल ! और वो तीनों ही कमबख्त शराब नही पीते थे !


32 comments:

  1. अब आपने भी "पहचान कौन?" शुरु कर दिया?
    हम तो प्रतिभागी नहीं है जी।
    गधे की पीठ पर धरे को चीन्हने में फ़ेल।

    ReplyDelete
  2. ताई ने लट्ठ भी तो नही जड़ा न ? ताऊ पर बोतल असर कर जाए ये मान नही सकता बोतल पर ताऊ का असर जरूर तारी हो गया होगा -जो भी हो ब्रांड को तो दाद देनी ही होगी ! और गधों का गट्ठर तो मुझे उन लागे है !

    ReplyDelete
  3. ताऊ जब थम ये फ़ोटो ले रे थे तब मै थारे पास ही खङा था । भूल गये मै आपका गांव वाळा ही हूं । ये भेङे भी मेरी सै हा हा हा हा मालिक सूं तो बता सकूं हू ना कि इसमे बच्चा क्या निकाल रहा है । यह लङका इसमे भेङ का बच्चा निकाल कर देखना चाहता था । इनाम दे या न दे ये आपकी मर्जी देगें तो पक्षपात का आरोप लगेगा ना देगे तो आप झूठे ह्जो जायेगें । फ़ंस गये ना ही ही ही

    ReplyDelete
  4. ताऊ आपकी संगत तो वाकई गलत है :)पहेली आपकी गिफ्ट बाँटें भाटिया जी ये तो वही बात हो गई कि ......

    ReplyDelete
  5. वाह ताऊ पहेली ख़ुद पूछ रहो हो और विजेताओं को गिफ्ट हेम्पर की नमाज भाटिया जी के गले में !

    ReplyDelete
  6. गठरी में भेड़ों के छौने हैं वह बच्चा उसको स्पर्श करने के लोभ को नही रोक पाया ! ऍम आई राईट ताऊ?

    ReplyDelete
  7. भाई साहब, यह सवाल तो घना आसान है -
    प्रश्न १. पोटली मे क्या सामान है
    उत्तर १: पोटली में वही सामान है जो बच्चा हाथ से निकाल रहा है.
    प्रश्न २. बच्चा इस पोटली मे हाथ डाल कर क्या निकाल रहा है ?
    उत्तर २: बच्चा इस पोटली में से वही निकाल रहा है जो पोटली में है.

    क्या कहा - मेरा उत्तर डिसक्वालिफाइड? चलिए, तो फ़िर एक और उत्तर है - मेमने
    इब इस उत्तर नै टाइगर मेमन न समझें!

    ReplyDelete
  8. इब खूंटे पै: इब संतों की संगत मैं तो इस किसिम के हादसे हुआ ही करें सें ताऊ!

    ReplyDelete
  9. ताऊ! कहाँ गलत संगत में पड़ गए। जरा साथी ढंग के तलाश लो जो बोझा बांट सकें।

    ReplyDelete
  10. ताऊ जी देखने से तो लग रहा है कि भेड़ के बच्चे होंगे इस गठरी में लेकिन यह तो दृष्टि भ्रम है.
    भेड़ वाले का सामान उन वून होगी.या उसी से बना सामान.
    खैर,बच्चे तो बच्चे हैं..उन्हें नयी चीज़ को जानने की हमेशा curiosity रहती है बस उसी के चलते
    ताका-झांकी सी कर रहे हैं. और या तो मम्मी ने कहा होगा बेटा ऐसे पोज़ बनाओ.तो वैसे ही पोज़
    बना कर फोटू खिंचवा रहे हैं.वैसे जो भी हो गठरी में हमें क्या!
    बच्चे मुस्कराते हुए बडे अच्छे लग रहे हैं.

    [ संगत का असर--
    ताऊ जी ,ताई जी भी बड़ी भोली हैं खूब बनाते रहते हैं आप उनको!
    ये अच्छी बात नहीं है!]

    ReplyDelete

  11. देख भाया अरे.. सारी सारी सारी
    देख ताऊ, गधा तो मैं हूँ.. समझ्या के नहीं
    और उसके पीठ पर पोस्ट लदी पड़ी है
    पीछे बच्चे के वेष में तुम हो..
    जो मेरे पोस्ट पर आने से पहले ही..
    टिप्पणियाँ सरकाये लिये जा रहे हो !
    अब लाओ इनाम ?

    ReplyDelete
  12. अल्पना वर्मा जी विजेता, भाटिया जी गिफ्ट हैम्पर दें।

    ReplyDelete
  13. ताऊ क्यों बच्चो को बेवकूफ़ बना रहे हो ? गधे पर पोटली मे साफ़ ऊन भरी दीख रही है !

    जरा सी अक्ल की बात है कि गडरिये भेड ऊन के लिये पालते हैं तो पोटली मे ऊन ही रखेंगे ! पोटली मे आपको या मेरे को तो रखने से रहे ? :)

    ReplyDelete
  14. इस पोटली मे ऊन के गोले हैं इसमे पूछने जैसी कोई बात ही नही है !

    बस भाटिया जी से गिफ़्ट हैम्पर भिजवा दो आप तो !

    ReplyDelete
  15. गधे पे क्या है, अगर न पहचान पाये तो क्या खूंटे से बन्धना पड़ेगा!
    पर आप बता ही दीजिये।

    (रीता पाण्डेय की टीप - ऊन निकाल रहा है बच्चा।
    ताई : रात को तुम इतनी शराब पी गये कि तुमको गटर मे से निकलवा कर लाना पडा ? और ताई ने थुरा नहीं?)

    ReplyDelete
  16. naa ji.. hame to nahi maloom.. :)
    bahut dino se ye paheli dkeh raha tha, ab jaldi se uttar mil jave to majja aa jave.. ;)

    ReplyDelete
  17. गधे पर लदे बकरी के बच्चों से छेड़खानी हो रही है.

    ReplyDelete
  18. नगर निगम पर केस होना चाहिये। जगह-जगह गटर बना दिये हैं। भले आदमी खा-पी कर ढंग से घर भी नहीं पहुंच पाते।
    ऊपर से ठंड में नहाना पड़ता है, नहीं तो घरवाली अंदर ना घुसने दे।
    श्रीराम-श्रीराम, भले लोगों का तो जीना मुश्किल हो गया है।

    ReplyDelete
  19. ताउजी मैं तो ये सोच कर हैरान हूँ की ताई ने इस बार सिर्फ़ वार्निंग दी, लट्ठ क्यों नही जमाया !!!!!!!!!

    ReplyDelete
  20. मलूम तो हमें भी नहीं है .

    ReplyDelete
  21. गधों की पीठ पर बकरी के बच्चे हैं जिनके काले कान बाहर लटक रहे हैं. वह लडका शायद एक बकरी के कान को छुये खडा है.

    ReplyDelete
  22. क्या है पता नहीं पर ये फोटो साईड में टगें थे.. आज बीच में आ गये.. बस.

    ReplyDelete
  23. मैं यद्यपि ऐसे ही परिवेश से आया हूं किन्‍तु फिर भी पहचान नहीं पा रहा हूं कि बच्‍चा पोटली में से क्‍या निकाल रहा है ।
    मुझे तो वह ऊन भी नहीं लग रही ।

    ReplyDelete
  24. ताऊ, बकरी के बच्चे तो हो नही सकते?? क्योकि सारी बकरियां सफ़ेद ( गोरी) है तो काले बच्चे कहा से आ गये.... हो ना हो यह जरुर कुछ है जो..
    मुझे तो लगता है शराबी ताऊ को ही लाद रखा है, ओर यह दोनो बच्चे तो १००% ताऊ के है ( २०, २५ साल ) पहले की फ़ोटो है,ओर पीछे पीछे ताई लठ्ठ ले कर आ रही है, ओर बच्चे अपने बाप की हालत देख कर उसे प्यार कर रहे है, उसे तस्स्ली दे रहे है.
    भाई कोई भी जीते, ईनाम जब ताऊ ने बोल दिया तो हम देगे, लेकिन जो भी जीता उसे ईनाम लेने हमारे यहां आना होगा.ईनाम है बबेरिया की सब से मशहुर बीयर का एक बडा पकेट( डाला) जिस मे २० बियर होती है, ओर वजन भी १५,२० किलो के आसपास होता है.

    ReplyDelete
  25. ताऊ! मणै तो गठरी मै भेडां/बकरियां की खाल दिखै सै.
    अर एक नसीहत दयूं के घणी दारू नी पिया करदे.
    नसेडियां वास्तै अपणे कानी कहावत बी है के.
    "भांग मांगै भूगड़ा, सुल्फा मांगै घी - दारू मांगै खोंसड़ा, थारी खुशी पड़ै तै पी"

    ReplyDelete
  26. आज रात को दस बजे रिजल्ट बता दिये जाय़ेंगे ! अब भी आपको अगर सन्देह है तो अपने उत्तर चेक कर लिजिये !

    ज्यादातर जवाब ऊन और भॆड का बच्चा के रुप मे आये हैं !

    अब स्पष्ट हिन्ट ये है कि पहला जो सही जवाब आया है उस ब्लागर भाई के गांव की ही ये तसवीरें हैं बस इससे ज्यादा कुछ नही कहना !

    तो इब मिलते हैं रात दस बजे ! तब तक राम राम !

    ReplyDelete
  27. "ताऊ जब थम ये फ़ोटो ले रे थे तब मै थारे पास ही खङा था । भूल गये मै आपका गांव वाळा ही हूं । ये भेङे भी मेरी सै हा हा हा हा मालिक सूं तो बता सकूं हू ना कि इसमे बच्चा क्या निकाल रहा है । यह लङका इसमे भेङ का बच्चा निकाल कर देखना चाहता था । इनाम दे या न दे ये आपकी मर्जी देगें तो पक्षपात का आरोप लगेगा ना देगे तो आप झूठे ह्जो जायेगें । फ़ंस गये ना ही ही ही"@नरेश सिह राठौङ


    ताऊ आपकी हिंट के हिसाब से ही फ़िर कहूँगा भेंड के बच्चे!!!!



    प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें

    ReplyDelete
  28. ताऊ जी राम राम
    ये तो नया रुप है आप भी पहेली पूछने लगे वैसे मुझे लगता है पहली फोटो में जो भेङे हैं वो सबकी सब टकली है जैसे कि उन्हें नाई की दुकान से लाया जा रहा हो और दूसरी फोटो में उन भेङों के बाल(ऊन)हैं जिन्हें गधे की पीठ पर लाद रखा है।

    ReplyDelete
  29. किसी ने इन्हें बकरी का बच्चा कह दिया। कैसे भाई? ‘भेंड़’ चराने वाले ‘बकरी’ का बच्चा कहाँ से पाएंगे? ऊन का गोला यहाँ कैसे आ सकता है? भेंड़ों के बाल जिन्हें ऊन या कम्बल बनाने वालों को बेचा जाएगा, गड़ेरियों के खाने-पीने व ठहरने का सामान और भेड़ो के नवजात बच्चे जो लम्बी दूरी तक चल पाने लायक अभी नहीं हुए हैं। यही सब तो ढोने के लिए गधे या खच्चर को पाल रखा होगा। चित्र में ये सभी आइटम हो सकते हैं।

    मैं देर से पहुँचा इसलिए ईनाम तो गया हाथ से। लेकिन सान्त्वना पुरस्कार जरूर मिलना चाहिए।

    ReplyDelete