Powered by Blogger.

स्वर्ग में जाने की जरुरत क्या है ?

एक बार गाँव में एक समझदार बाबा  आ गया ! वो लोगो को अच्छी २ बातें बताता ! उनकी सब शंकाओं का समाधान करता ! उसकी काफी प्रसंशा सुन कर ताऊ भी एक दिन वहा पहुँच गया !

 

वहाँ जाकर ताऊ ने पूछा - स्वर्ग जाने के लिए क्या करना चाहिए ?


बाबा  बोला -

 

* दिमाग बिल्कुल ठंडा होना चाहिए !


** प्राणी मात्र से प्यार करना  चाहिए !


*** आँखों में शर्म रखना चाहिए !


**** दिल में रहम रखना चाहिए !


***** संतोष पूर्वक रहना चाहिए !


****** कभी गुस्सा नही करना चाहिए !

 

ताऊ बोला - बाबा बात समझ म्ह नही आई सै, ज़रा खुलकै बता !


बाबा  बोला - इंसान को कभी चोरी डकैती नही करनी चाहिए ! सीधी बात यह है की जीवन में जो भी मिल जाए उसे पाकर प्रशन्नता पूर्वक रहने से आदमी को स्वर्ग में जगह मिलती है !


अब चोरी डकैती का मना सुनके  ताऊ किम्मै छोह म्ह आकै बोल्या - अरे बावलीबूच .. जब ये सब कुछ इत ही मिल जावे तो स्वर्ग जाण की जरुरत के सै ?

19 comments:

  1. ताऊ स्वर्ग ओर नरक तो यही है, अगर आप संतुष्ट हो तो स्वर्ग है,चाहै एक झोपडे मै ही रहते हो, ओर अगर असंतुषट हो तो महलो मै भी नरक ही लगेगा.
    आप ने मजाक मजक मै बात बहुत पहुची हुयी कह दी.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. बडे बडे योगी और स्वयम्` ईश्वर भी धरा पर आये और सम्मोहित हो गये
    स्वर्ग भी यहीँ है और नर्क भी ..

    ReplyDelete
  3. सही कहा, ताऊ...बहुत सटीक!!!

    ReplyDelete
  4. स्वर्ग को भी ज़रूरत कहाँ है, ठीक?

    ReplyDelete
  5. तो यह लफडा है सरग नरक का -नरक तो फुल हो चुका और नही हुआ तो अकेले चीन वाले ही इसमें भेडिया धसान मचा देंगे -इससे अच्छा तो ताऊ तुम्हारा हरियाणा और मेरा जौनपुर ही है -महाराष्ट्र तो अब नरक बनने वाला ही है !

    ReplyDelete
  6. ताऊ जी,आज तो आपने असली बात कह दी-
    जीवन में जो भी मिल जाए उसे पाकर प्रशन्नता पूर्वक रहने से आदमी को स्वर्ग में जगह मिलती है!

    ReplyDelete
  7. जीवन आपके साथ हंसे तो स्वर्ग और जीवन आपके साथ रोये तो नरक। इसलिए स्वर्ग भी यहीं और नरक भी यहीं।

    ReplyDelete
  8. अब चोरी डकैती का मना सुनके ताऊ किम्मै छोह म्ह आकै बोल्या - अरे बावलीबूच .. जब ये सब कुछ इत ही मिल जावे तो स्वर्ग जाण की जरुरत के सै ?
    " ha ha ha ha ha ha well said, very true hell and heaven both are her only what we sow that only we reap..... great thought of the day"

    Regards

    visit this blog sometime..
    http://loveneverloves.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. बंदर का परिचय के ऊपर क्या यह सफ़ेद उल्लू का फोटो है?

    ReplyDelete
  10. मैं जानता था कि ताऊ बुद्धिमान है - जो कुछ लेना है, यहीं लेना है।
    चाहे उसे चोरी-डकैती से ले या सन्तई से, लेना यहीं है। जो है यहीं है।

    ReplyDelete
  11. वैसे भी ताऊ आज एक एस.एम एस आया था की तुम सारे दोस्त जहाँ मिलोगे वही मेरे लिए स्वर्ग होगा ओर तुम नर्क में मिलोगे ये तय है....फ़िर काहे की माथा पच्ची ....

    ReplyDelete
  12. झगड़ा नाहक है भैया...यहाँ भी पक्षपात होता है...सलेक्शन में...!!! कोई गारंटी नहीं है.

    ReplyDelete
  13. ताऊ ने ठीक ही कहा भाई। एक आदमी वैद्य के पास गया। बोला मुझे ऐसी दवा बता दें कि मैं सौ साल जिऊं। वैद्य जी ने पूछा- सुरा का सेवन करते हो। वह बोला-नहीं। वैद्य जी ने पूछा- परस्त्रीगमन का शौक रखते हो। वह बोला नहीं। और कोई नशा करते हो-वह बोला नहीं। वैद्य जी ने उसे डांट कर भगा दिया- मैं तुझे दवा नहीं देता। आखिर तू फिर सौ साल जी कर करेगा क्या?

    ReplyDelete
  14. क्या खुब कही ताउ जी खुश हो गया !!मजेदार

    ReplyDelete